मधुमक्खी पालन करके कैसे पैसे कमाएं

मधुमक्खी पालन करके कैसे पैसे कमाएं

मधुमक्खियां शहद बनाती है इतना तो आप जानते ही हैं मधुमक्खी पालन कर के लोग शहद  का उत्पादन करते हैं मधुमक्खी पालन से ही देश में शहद की आपूर्ति होती है यह आप जानते हैं मधुमक्खी पालन एक अच्छा खासा पैसा कमाने का जरिया है शायद आप यह ना जानते हो मधुमक्खी पालन को बीकीपिंग beekeeping business पालन भी कहा जाता है। कई जगह मधुमक्खी पालन से ही रोजगार चलता है मधुमक्खी पालन में इतना पोटेंशियल होता है कि लोग इस बिजनेस को करने वाले कभी घाटा नहीं खाते क्योंकि शहर की मांग मार्केट में हमेशा बनी रहती है यह भी एक ऐसी चीज है।

असली शहद मिलना मुश्किल है मिलावटी मार्किट में ज्यादा शहद मिल रही है ओरिजनल जो व्यक्ति को मिल जाए तो बहुत बड़ी बात होती है । शहद मिलना बहुत मुश्किल है शहद का उपयोग बहुत चीजों में किया जाता है औषधीय गुण होने के कारण बहुत ही महत्वपूर्ण  मानी जाती है मधुमक्खी पालन करके पैसे कमाए जा सकते हैं यदि आप मधुमक्खी का बिजनेस शुरू कर दें तो आप एक मोटी रकम कमाने का बिज़नेस कर सकते हैं।

यदि आपको नहीं पता कि मधुमक्खी पालन करके कैसे पैसे कमाए जा सकते हैं या मधुमक्खी कैसे पाला जाता है इन सब की जानकारी नहीं है तो आज हम आपको बताने वाले हैं कि आप कैसे मधुमक्खी का पालन बिजनेस करके पैसे कमा सकते हैं वह भी कम इन्वेस्टमेंट में और एक जगह रह कर जानने के लिए बने रहे हमारे साथ आर्टिकल में चलिए शुरू करते हैं.

मधुमक्खी पालन बिजनेस प्लान

what is beekeeping business plan – मधुमक्खी पालन से शहद उत्पादन किया जाता है मधुमक्खी पालन बिजनेस शहद उत्पादन  करके मार्केट में शहद की आपूर्ति को पूरा करने के लिए किया जाता है। मधुमक्खी पालन से शहद का व्यापार होता है यह एक बिजनेस के तौर पर किया जाता है जिस प्रकार किसी भी प्रकार की शुरुआत की जाती है उसी प्रकार मधुमक्खी पालन की शुरुआत की जाती है मधुमक्खी पालना पड़ता है। मधुमक्खी शहद उत्पन्न होती है मधुमक्खी शहद का निर्माण करती है यही शहद मार्केट में अच्छे दामों में बेची जाती है मधुमक्खी पालन ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा किया जाता है।

क्योंकि यह भी एक प्रकार की खेती की तरह ही होता है इस बिजनेस को करने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ज्यादा अनुभव होता है। मधुमक्खी पालन भारतवर्ष में सदियों से चलता है या एक पारंपरिक बिजनेस के तौर पर भारत में किया जाता है मधुमक्खी पालन का काम बाहत सालो से चल रहा। है। शहद जरूरतों को इसी माध्यम से पूरा किया गया भारत में एक बिजनेस के बहुत  क्रेज है।

मधुमक्खी पालन से लाभ

शहद अपने सभी गुणों की वजह से भारत में ही नहीं विदेशों में भी बेची जाती है इसका उपयोग विदेशों में भी खूब मात्रा में किया जाता है ।आयुर्वेदिक दृष्टि से शहर औषधि के रूप में अमृत का काम करता है इसकी डिमांड 12 महीने बनी रहती है ।किसी ना किसी प्रकार से हर घर में शहद उपयोग होने वाला प्रोडक्ट है। भारत में बड़ी संख्या में इसका उत्पादन होता है ।यदि आप ऐसा बिजनेस करना चाहते हैं। जिसमें मुनाफा अधिक हो लागत कम लगे तो आपके लिए बिजनेस शानदार है बहुत ही इस किफायती बिजनेस हो सकता है।

जो आपको कम पैसे इन्वेस्ट में अच्छा रिटर्न देगा। मधुमक्खी पालन की वजह से केवल सहित कहीं उत्पादन नहीं होता ।इससे मोम रॉयल जेली पराग जैसे प्रोडक्ट की उत्पादन होती है। मधुमक्खी पालन से उत्पन्न होने वाले सारे पदार्थों को औषधि रूप में भी लिया जाता है उसे दीपू औषधि गुण से परिपूर्ण इस बिजनेस में कई तरह से लाभ होते हैं लोगों को शहर आप जानते हैं कि कितने प्रकार से काम में आती है।

शरीर की कई बीमारियों को ठीक करने में सहायता  महत्वपूर्ण रोल होता है इतना बताने की जरूरत नहीं शहद खांसी अस्थमा साथ जैसे रोगों में जुखाम में शरीर में किसी प्रकार की इन्फेक्शन में शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने में शरीर की ताकत बढ़ाने में कई प्रकार से और तरह के लाभ शहद से मिलते हैं। इसीलिए लोग मधुमक्खी पालन करते हैं कि फूलों की फूलों को सदुपयोग किया जा सके मधुमक्खी फूलों के जरिए ही शहद बनाती हैं इससे फूलों की खेती में भी लाभ होता है।

मधुमक्खी पालन में ध्यान देने वाली महत्वपूर्ण बातें

जो भी इच्छुक नागरिक व्यक्ति इस बिजनेस को करना चाहता है उसको कोई विशेष ध्यान देना चाहिए जैसा कि हम जानते हैं कि मधुमक्खी एक ऐसी मक्खी है जो इंसानों को काट भी लेती है उसका डंक थोड़ा सा पीड़ादायक होता है ।यदि मधुमक्खी इंसान को मधुमक्खी पालन करते समय काट ले तो एक-दो काटने से  ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। लेकिन ज्यादा मात्र में काट ले तो इंसान की जान पर भी बनाती है।

इसलिए बिजनेस को करने से पहले प्रशिक्षण की जरूरत पड़ती है। कि मधुमक्खियों के काटने से बचने के लिए क्या उपाय किए जाते हैं। कैसे मधुमक्खी पालन किया जाता है कि उसे किसी को हानि न पहुंचे जगह का निरीक्षण किया जाता है। जिस जगह पर आप का पालन कर रहे हैं यह सोच रहे हैं। करने की वहां का लोकेशन वहां का वातावरण आपको पहले जांच परख लेना चाहिए सबसे अच्छी बात यह होती है।

बिजनेस के लिए अनुभव प्राप्त करें

अभी आपको अनुभव नहीं है शुरुआत में तो आप उन लोगों से संपर्क करना चाहिए जो पहले थे इस बिजनेस को कर रहे हैं आप उनसे बात कर सकते हैं उनके साथ रहकर बिजनेस की जानकारी और प्रशिक्षण भी प्राप्त कर सकती हैं यह सबसे अच्छा शानदार तरीका होता है। यदि आप इसी बिजनेस की शुरुआत कर रहे हैं तो उसमें भी आपको बिजनेस में घाटा होने पर भरपाई करना मुश्किल पड़ जाता है। और शुरुआत में अनुभव ज्यादा पर ज्यादा ध्यान देना होता है अनुभव के लिए आप लोगों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

जो पहले से इस बिजनेस को कर रहे हैं और अच्छे मुकाम पर हैं। धीरे-धीरे आप अपने बिजनेस को बढ़ाएंगे तो आपको अनुभव भी आएगा और बिजनेस की समझ भी बड़े जिससे आप अपने बिजनेस को अच्छे लेवल पर ले जाने के लिए योग भी हो जाएंगे। यदि आपने पहले ही बिना सभी बिजनेस समझे उसमें ज्यादा इन्वेस्टमेंट कर दिया और आपको बिजनेस में घाटा हो गया । इस की भरपाई करना बहुत मुश्किल होता है ।इसलिए स्टार्ट आपको शुरुआत में छोटे लेवल पर करनी चाहिए।

कैसे शुरू करें मधुमक्खी पालन बिज़नेस

how to start  bee keeping business – मधुमक्खी पालन करने के लिए आपको थोड़े बहुत में निवेश की जरूरत पड़ती है जैसा कि आप जानते किसी भी बिजनेस में निवेश सबसे पहली मुख्य बात होती है। इसलिए इस बिजनेस को भी स्टार्ट करने के लिए आपके पास थोड़ा बहुत बजट होना चाहिए क्योंकि इस बिजनेस में स्टार्ट करने के लिए आपको कुछ सामान  मटेरियल की जरूरत पड़ती है। मधुमक्खी पालन के लिए आपको बॉक्स की जरूरत पड़ेगी जिसमें मधुमक्खी वाली जाएंगे । छत्ते की जरूरत पड़ेगी और कई तरह के सामान पर खर्च करना पड़ता है यह बिजनेस को शुरू करने से पहले इतना ही नहीं बिजनेस स्टार्ट करने के लिए आपको अनुभव की भी जरूरत पड़ती है।

  • आप ऐसे ही बिजनेस को शुरुआत नहीं कर सकते क्योंकि इसमें बिजनेस स्टार्ट करने के लिए आपको अनुभव की भी जरूरत पड़ती है।
  • आप ऐसे ही बिजनेस को शुरुआत नहीं कर सकते क्योंकि इसमें शारीरिक रूप से खतरा भी है यदि मधुमक्खी पालन में आपको कोई अनुभव नहीं है ।
  • तो आपको इसमें कई दिक्कतें आ सकती हैं ।जैसे मधुमक्खी के काटने से आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए आपको प्रशिक्षण की जरूरत है।
  • प्रशिक्षण यदि आपके पास है अनुभव है तभी आप इस बिजनेस को स्टार्ट करें नहीं तो आपको इस बिजनेस में लाख बाद मिलेगा नुकसान पहले हो जाएगा।

आपको मधुमक्खी पालन करने से पहले प्रशिक्षण ले लेना चाहिए

प्रशिक्षण लेने के लिए आपको किसी भी राज्य कि कृषि विभाग से या तो काम ही खादी ग्रामोद्योग केंद्र से प्रशिक्षण ले लेना चाहिए वैसे तो इसका कोर्स भी आता है यदि आप कोर्स करना चाहे तो 9 महीने का कोर्स भी आप करके सर्टिफाइड हो सकते हैं पूरी तरह से इस कि कोर्स को करने के बाद आपको किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आएगी। इस कोर्स को होबी कोर्स बोला जाता है जो 9 महीने के लिए होता है इसे करने के बाद आपके पास एक मजबूत सर्टिफिकेट हो जाएगा। और आपको अनुभव भी प्राप्त हो जाएगा साथ यदि आप संपर्क करना चाहते हैं तो उसके लिए पहले अपने बचाव के लिए प्रशिक्षण लेना आपको बहुत ही जरूरी है।

अनुभव प्राप्त करें

बिजनेस की शुरुआत करने के लिए आपको ऐसे लोगों के साथ मिलना जुलना या संपर्क करना चाहिए जो पहले से मधुमक्खी पालन का बिजनेस कर रहे हैं। इससे आपको या फायदा होगा कि आप को उनके साथ रहने पर बिजनेस की समझ भी बढ़ेगी और आपको फायदा नुकसान भी समझ आएगा साथ ही आपको यह भी जानने को मिलेगा कि आखिरी बिजनेस को किया कैसे जाता है।

मक्खियों की नस्ले

देखी जाती है बिजनेस को करने से पहले आपको भी मधुमक्खी पालन में यह समझना जरूरी होता है कि कौन सी नस्ल की मधुमक्खियां ज्यादा अच्छी होती वैसे तो चार प्रकार की मधुमक्खियां ज्यादा अच्छी मानी जाती हैं उनमें से

  • apeace flora
  • एपिस मेलीफेरा
  • एपिस डोरसता
  • एपिस सरना इंडिका

यह मधुमक्खियों की चार किस्म की नस्ले हैं जो कि भारत में मुख्य रूप से ज्यादा पाली जाती है इनसे उत्पादन क्षमता अधिक बढ़ जाती है यह मधुमक्खियों की नस को सबसे अच्छा माना जाता है क्योंकि यह खतरनाक होती है किंतु इतनी खतरनाक नहीं होती कि आपको परेशानी में डाल दी यह ज्यादा से ज्यादा शहद उत्पादन करने में आगे रहती हैं। मक्खियां दो प्रकार की होती हैं एक मेहनत करके उत्पादन करने का काम करती हैं एक हमलावर मक्खी होती है जो उत्पादन करने वाली मक्खियों की और अपने शहद की अपनी फसल की रक्षा करती है हमलावर मधुमक्खियां काटती हैं। जबकि उत्पादन करने वाली केवल शहद तथा अन्य पराग व मोम के उत्पादन करने का काम करती है।

मधुमक्खी पालन करने के लिए महत्वपूर्ण सामान

मधुमक्खी का पालन करने के लिए जो सामानों की आवश्यकता पड़ती है उन सामानों में सबसे पहले आपको मधुमक्खी पालन करने के लिए मधुमक्खी के बक्से खरीदने पड़ते हैं।

  • जिन पर मधुमक्खियां पाली जाती है ।
  • स्टील लेस स्मोकर
  • मधुमक्खी के छत्ते
  • को साफ करने के लिए ब्रश
  • स्टील की चाकू छुरी
  • मधुमक्खी के डंक को निकालने के टूल्स
  • व मेडिकल सामान
  • मधुमक्खी से खुद को बचाने के लिए आंतरिक कवर
  • शूज और ग्लव्स हाथों और पैरों में पहनने के लिए
  • मधुमक्खी पालन करने से उत्पन्न होने वाले शायद यह प्रोडक्ट को रखने के लिए कंटेनर

इत्यादि चीजों की जरूरत पड़ती है यदि आप इस बिजनेस को करना चाहते तो सबसे पहले आपको इन सब चीजों की व्यवस्था कर लेनी चाहिए जिससे कि आपको काम करने में रुकावट का सामना ना करना पड़े।

मधुमक्खी पालन में आने वाला खर्च

इस बिजनेस में आने वाले खर्च की बात करें तो सारा खर्च आपका मधुमक्खी पालन के सामानों पर लगने वाला है और आपको कहीं बाहर कोई खर्च नहीं होना जो भी सामान जरूरी सामान मधुमक्खी पालन में लगते हैं उन पर ही आपको खर्च करना पड़ता है ।इसके लिए आपके पास 20 से 25 हजार रुपए का बजट होना चाहिए ।जिसके अंतर्गत सारे सामानों को खरीदा जाता है ।हर एक समान का अलग-अलग रेट मार्केट में आपको मिल जाएगा आप मार्केट से ऑनलाइन भी पर चेक कर सकते हैं और ऑफलाइन भी और चेंज कर सकते हैं ।

कमाई आपको इससे पैदा होने वाले प्रोडक्ट शहद पराग मोम को बेचकर इनकम होगी।

मुझे उम्मीद है आप को यह आर्टिकल मधुमक्खी पालन बिजनेस प्लान  पढ़कर अच्छा लगा होगा यदि आपका बिजनेस प्लान पढ़कर अच्छा लगा है तो आप को भी इस बिजनेस में अपना हाथ आजमाना चाहिए किंतु पहले बिजनेस का प्रशिक्षण लेना फिर स्टार्ट करना।मधुमक्खी पालन से आमदनी मधुमक्खी पालन प्रशिक्षण केंद्र मधुमक्खी पालन की लागत मधुमक्खी पालन कांटेक्ट नंबर मधुमक्खी पालन के लाभ मधुमक्खी पालन उत्तर प्रदेश मधुमक्खी पालन बॉक्स प्राइस मधुमक्खी पालन रजिस्ट्रेशन

Leave A Reply

Your email address will not be published.