Web Hosting की पूरी जानकारी

Web Hosting की पूरी जानकारी

वेब होस्टिंग क्या होती है इससे पहले आर्टिकल में हमने आपको बताया था कि ब्लॉग और WordPress में कौन से प्लेटफार्म पर वेबसाइट बनाना सही है तो उसमें हमने आपको बताया था कि इस अगर आप wordpress पर हो वेबसाइट बनाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको Web Hosting की जरूरत पड़ेगी। तो आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि Web Hosting क्या होती है उसके लिए आपको क्या क्या जरूरत होगी और कितने पैसे में आप इसको खरीद सकते हैं और इसको कैसे सेट अप करते हैं। इसके बारे में एक वीडियो भी हम इस आर्टिकल में आपको दिखाएंगे ताकि आप अपनी खुद की वेबसाइट कुछ चंद मिनटों में तैयार कर पाएं।

किसी भी वेबसाइट को बनाने के लिए सबसे पहले आपके पास एक domain होना बहुत जरूरी है। इस के लिए सबसे पहले आपको Domain रजिस्ट्रेशन करना होगा और उसके बाद आपको वेब होस्टिंग की जरूरत पड़ती है तो आज इस आर्टिकल में Web Hosting की बात करते हैं

Domain नाम क्या होता है और Domain रजिस्ट्रेशन क्या होता है

उदाहरण के तौर पर जब आप हमारी वेबसाइट पर आते हैं तो आप www.hindigyanbook.com सर्च करके हमारी वेबसाइट पर डायरेक्ट आते हैं तो वह एक वेबसाइट Domain name है जो कि addressके तौर पर इस्तेमाल किया जाता है जिससे कि आप direct हमारी वेबसाइट पर आ सके। तो सबसे पहले कोई वेबसाइट बनाने के लिए आपके पास Domain नाम होना बहुत जरूरी है।

 Domain Name कहां से खरीदें

Domain Name खरीदने के लिए सबसे पहले आपके पास आइडिया होना चाहिए कि आप किस तरह की वेबसाइट बना रहे हैं और आप अपनी वेबसाइट का क्या नाम रखना चाहते हैं तो उससे संबंधित ही Domain खरीदने की कोशिश करें। Domain साधारणता 1 साल के लिए या 2 साल के लिए खरीदे जा सकते हैं। जब भी आप पहली बार किसी Domain Seller से अपना Domain name खरीदते हैं तो आपको 99 रूपय से लेकर ₹800 तक की पेमेंट 1 साल के लिए करनी होती है। नया Domain name खरीदने के लिए आपको ऑनलाइन पेमेंट करनी होती है और हर साल इसको Renew करवाना पड़ता है। इसके लिए कुछ वेबसाइट है जिनसे आप Domain खरीद सकते हैं।

  • Godaddy.com
  • Bigrock.com
  • Whois.com
  • Namecheap
  • Name.com
  • Cosmotown
  • 1and1.com
  • Dotster

इसके अलावा भी बहुत सारी वेबसाइट है जिनसे आप अपना Domain name रजिस्टर कर सकते हैं।

Godaddy Se Domain Kaise Kharide

Web Hosting क्या होती है और इसको कैसे रजिस्टर किया जाता है

Web Hosting का मतलब होता है कि जब भी आप कोई वेबसाइट ओपन करते है तो उसका सारा डाटा दिखाने के लिए ऑनलाइन एक दूसरे कंप्यूटर पर स्टोर रखे जा सके इसी को Web Hosting कहा जाता है। ऐसी जगह जो हर समय ON रहे जहां पर आप की वेबसाइट का डाटा और इंफॉर्मेशन store किए जा सके। जब आपका कंप्यूटर कोई पब्लिक नेटवर्क से जुड़ जाता है तो वह भी इंटरनेट का एक हिस्सा बन जाता है। जिसको आप web server और host भी कह सकते हैं।

अगर आप यह सोच रहे हैं कि आपका कंप्यूटर भी एक वेब सर्वर है तो दूसरे लोग इसको क्यों नहीं देख पाते हैं। तो इसका जवाब दिया कि हर कंप्यूटर और मोबाइल में प्राइवेसी और सिक्योरिटी रहती है जिससे कि दूसरे लोग इसको access नहीं कर पाते हैं। अगर आप सभी सिक्योरिटी को हटा देते हैं तो उसके बाद दूसरे लोग इसको एक्सेस कर सकते हैं और हर कोई आपके कंप्यूटर में रखे हुए डाटा को देख सकता है।

Web Hosting आपके वेबसाइट को इंटरनेट में जगह देने की सेवा प्रदान करता है जिसकी वजह से कोई भी व्यक्ति, कोई भी कंपनी आपकी वेबसाइट को ऑनलाइन देख सकती है। आप अपनी वेबसाइट पर जितनी भी file, फोटो, वीडियो और इस तरह की चीज लगाते हैं वह आपके कंप्यूटर में वेब सर्वर में स्टोर हो जाती है जिसको की Web Hosting कहा जाता है और यह कंप्यूटर से हर समय कनेक्ट रहता है।

वेब होस्टिंग बेचने वाली कंपनी

Web Hosting बहुत सी कंपनियां देती है जैसे की godaddy, Bluehost, Hostgartor। यह कुछ पॉपुलर Web Hosting देने वाली वेबसाइट के नाम है जो कि आपको वेबसाइट provide करवाती है। एक तरह से हम यह कह सकते हैं कि हमारा ऑनलाइन इंटरनेट पर रखने के लिए जो server इस्तेमाल होता है उसका हम किराया देते हैं। जब हम अपनी वेबसाइट बनाते हैं तो हम अपनी knowledge और इंफॉर्मेशन ज्यादा लोगों में बांटने की कोशिश करते हैं और उसके लिए हमें हमारी फ़ाइल इंटरनेट पर अपलोड करनी होती है। जिसके लिए हमें Web Hosting की जरूरत पड़ती है।

मान लीजिए जब भी आपको ही इंटरनेट वेबसाइट खोलते हैं या अब आप ने हमारी वेबसाइट ओपन की हुई है तो जब भी आप इसका एड्रेस ओपन करते हैं तो यह आपको एक Web server से जोड़ देता है जिससे कि Web Hosting में save हुई सभी फाइलें और उससे जुड़ी इंफॉर्मेशन आप को दिखाई जाती है तो इस तरह से Web Hosting काम करती है।

दुनियाभर में बहुत सारी कंपनियां है जो की Web Hosting  प्रोवाइड करवाती है। अगर आप चाहते हैं कि आपके सारे विजिटर भारत से ही हो तो आपको भारत  से Web Hosting  खरीदना ज्यादा अच्छा रहेगा। यह आपको दूसरे कंपनी से सस्ती भी रहेगी। आपकी Web Hosting आपके देश से जितना ज्यादा दूर होगा उसको एक्सेस करने के लिए उतना ही ज्यादा टाइम लगेगा। तो जब भी आप किसी वेबसाइट से होस्टिंग  खरीदते हैं तो यह ध्यान रखना जरूर रखें कि आप उसी देश की कंपनी से Web Hosting खरीदे जिस देश से आपकी वेबसाइट पर ज्यादा विजिटर आते है .

अगर आप किसी बाहर के देश से Web Hosting खरीदते हैं तो आपको क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करना पड़ता है लेकिन अगर आप अपने ही देश से Web Hosting खरीदेंगे तो आपको ATM कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग के जरिए भी आप Web Hosting खरीद सकते हैं और आसानी से डोमेन का नाम अपनी वेबसाइट से जोड़ सकते हैं। अगर आप इंडिया से है तो आप हो Hostgator India, Godaddy, और bluehost इस तरह की कंपनियों से Web Hosting खरीद सकते हैं।

Resellerclub की Hosting पर वेबसाइट कैसे बनाये

वेबसाइट के लिए Web Hosting खरीदते वक्त क्या क्या चीजें ध्यान रखनी चाहिए

इससे ऊपर हमने आपको बताया कि Web Hosting क्या होती है और जब भी आप Web Hosting खरीदे हैं तो यह नीचे बताए गई कुछ बातें जरूर ध्यान में रखें क्योंकि यह बहुत ही जरूरी पहलू है जो आपको किसी भी वेबसाइट बनाने के लिए ध्यान रखना होता है।

Storage

सबसे पहले आप Web Hosting के स्टोरेज कैपेसिटी का ध्यान में रखते हुए कोई भी होस्टिंग खरीदें जिसको के डिस्ट स्पेस के नाम से जाना जाता है जैसे आपके कंप्यूटर में इंटरनल स्टोरेज होता है जो आपके हार्ड डिस्क का साइज होता है। उसी तरह Web Hosting में भी स्टोरेज साइज होता है। जितना ज्यादा हो सके आप अनलिमिटेड डिस्क स्पेस वाली Web Hosting खरीदें। जिस से कि आपकी डिस्क फुल होने का खतरा नहीं रहेगा।

Bandwidth

बैंड व्यर्थ इसका मतलब है कि आपकी वेबसाइट एक सेकंड में कितना डेटा एक्सेस कर सकती है इसको हम Web Hosting की Bandit कहते हैं। जब कोई आपकी वेबसाइट एक्सेस करता है तो आपकी server कुछ डाटा इस्तेमाल करके उस इंफॉर्मेशन शेयर करता है अगर आपका बैंड वेट कम है तो आपके वेबसाइट की ज्यादा visitor आ रहे हैं तो आपकी वेबसाइट धीमी होगी।

Up-time

अब टाइम आपकी वेबसाइट जितने टाइम तक ऑनलाइन और अवलेबल रहती है उसे up टाइम कहते हैं। कभी-कभी कुछ प्रॉब्लम के कारण आपका वेबसाइट बंद हो जाता है मतलब खुल नहीं पाता है तो उसे हम डाउन टाइम कहते हैं। आजकल हर कंपनी 99.99 % टाइम देने की गारंटी देती है। लेकिन कई बार इस तरह कई तरह की प्रॉब्लम आ जाती है जिससे वह बंद हो जाती है।

Support

अगर सर्विस कस्टमर सर्विस हर Web Hosting कंपनी से कहती है कि वह आपको हर समय चाहे दिन हो या रात आपको कस्टमर सर्विस प्रोवाइड करवाएगी पर आखिर में ऐसा हो नहीं होता है। हमें इस बात का बहुत ज्यादा ध्यान रखते हुए की कौन सी कंपनी का सपोर्ट सिस्टम अच्छा है या किस कंपनी का सपोर्ट सिस्टम अच्छा नहीं है तो उसी हिसाब से हमें किसी भी वेबसाइट होस्टिंग खरीदनी चाहिए। इसके लिए आप इंटरनेट पर उस कंपनी का Review पढ़ सकते हैं Web Hosting  और सर्विस से जुड़ी जानकारी लेने के लिए आपको इस बात का जरूर ध्यान रखना होगा।

Web Hosting के प्रकार

अब Web Hosting कितने प्रकार की होती है अगर ऑपरेटिंग सिस्टम और प्लेटफार्म के हिसाब से देखें तो Web Hosting दो प्रकार की होती है जिनमें की एक linux होस्टिंग होती है और दूसरी window hosting होती है।

Linux Web Hosting एक एसी Web Hosting है जहां पर आपको web-Space उस कंप्यूटर पर मिले जिस पर Linux ऑपरेटिंग सिस्टम इन्स्टाल हो उसको Linux Web Hosting कहते हैं। इस तरह के Web Hosting सामान्य तौर पर सिर्फ php के जितने भी वेब पेज है उनको अच्छी सपोर्ट करती है और इस Web Hosting को खरीदने का खर्चा भी बहुत कम होता है।

Window hosting ऐसी hosting जहां पर आपको web-Space उस कंप्यूटर पर मिले जिस पर विंडो इनस्टॉल है। तो ऐसी होस्टिंग को window hosting कहा जाता है। ऐसी होस्टिंग पर सामान्य तौर पर सभी वेबसाइट कों अच्छा सपोर्ट करते हैं। Linux Web Hosting के तुलना में window hosting ज्यादा खर्चीली है।

Web Hosting खरीदते समय आपके पास 2 ऑप्शन रहते हैं। Linux Web Hosting और Window Hosting,। आपने कभी यह सोचा है कि इन दोनों में क्या फर्क होता है। दोनों में आप कौन सी Web Hosting का इस्तेमाल कर सकते हैं। Window Hosting Linux Web Hosting से महंगी पड़ती है ऐसा क्यों है?

Linux Web Hosting एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है इसलिए इसका इस्तेमाल करने के लिए Web Hosting कंपनी को पैसे नहीं देने पड़ते हैं इसलिए यह Window Hosting से थोड़ा सस्ता होता है। Window Hosting के लाइसेंस के लिए कंपनी को पैसे देने पड़ते हैं इसलिए यह महंगा है दोनों को सर्वर बहुत ही बढ़िया है पर Window Hosting को  Linux Web Hosting से ज्यादा सिक्योर माना जाता है।

Sharing के हिसाब से Web Hosting के प्रकार

अब वेब होस्टिंग में भी कई प्रकार होते हैं। जिनके बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं। जो 4 तरह के होते हैं।

  • Shared Web Hosting (वेबसाइट शुरू करने के लिए )
  • Reseller Web Hosting (Hosting को बेच कर पैसे कमाने के लिए )
  • VPS Web Hosting (वेबसाइट पर ज्यादा विजिटर होने पर ये होस्टिंग ले )
  • Dedicated Web Hostingवेबसाइट पर बहुत ज्यादा विजिटर होने पर ये होस्टिंग ले )

Web Hosting को अपने Domain Name से कैसे कनेक्ट करें

Web Hosting से अपने Domain Name को कनेक्ट करने के लिए हमने इसकी एक वीडियो बनाई है जिसको देखकर आप अपने ही किसी भी Domain Name को किसी भी Web Hosting के साथ कनेक्ट कर सकते हैं।

तो यह जानकारी थी कि Web Hosting क्या होती है, Domain Name क्या होते हैं, इसको कहां से खरीदा जाना चाहिए, इसको के कितने प्रकार हैं और किस तरह की Web Hostingआप खरीद सकते  हैं और Web Hosting पर अपने Domain Name को कैसे कनेक्ट करें और इसके अलावा अगर आपको इसके बारे में कुछ और जानना है तो आप नीचे हमारे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं।

1 Comment
  1. अनवार खान says

    डोमेन नेम खरीदने के बाद आगे की प्रक्रिया क्या होती है
    ब्लॉग पर कैसे कनेक्ट करें

Leave A Reply

Your email address will not be published.