भारत में 7 स्थानों पर आते है एलियंस

भारत में 7 स्थानों पर आते है एलियंस

धरती के ऊपर ऐसी बहुत सी जगह है जिसके ऊपर आज भी एलियंस आते हैं यह एक देश के अंदर तो है नहीं यह दुनिया के अलग-अलग देशों के अलग अलग कोनों में है और उन देशो के अंदर एक हमारा देश भी शामिल है हमारे देश में भी ऐसी बहुत सी जगह है जिसके ऊपर आज भी एलियंस आते हैं और लोगों का मानना है कि यहां पर सच में एलियन आते हैं आपने भी एलियंस के बारे में बहुत सी मूवी में देखा होगा या सुना होगा या किसी TV सीरियल में देखा होगा या सुना होगा या किसी किताब में भी पढ़ा होगा लेकिन यह बात बिल्कुल सच है तो धरती के ऊपर आते हैं एलियंस के बारे में ज्यादा जानकारी दो किसी को आज तक मेल नहीं पाई है यह अंदाजे के आधार पर बताया जाता है कि धरती के ऊपर एलियन आते हैं

हमारे देश में भी ऐसी जगह है जिसके ऊपर आते हैं तो आज हम आपको इस पोस्ट के अंदर हमारे देश के बारे में ऐसी जानकारी देने जहां पर एलियन आते हैं हमारे देश के अंदर हम आपको आज ऐसी 7 जगहों के बारे में बताएंगे जहां पर भी जाते हो रहे हम आपको उनके बारे में पूरी जानकारी दें तो आप इस पोस्ट को अच्छी तरह से पढ़े और आप उन जगहों के ऊपर जाकर भी देख सकते हैं और वहां पर घूम सकते हैं क्योंकि यह हमारे देश में ही अंदर है जिसके अंदर आप को अगर जाना हो तो मुस्किल नहीं होता है. हमारे देश के अंदर भी ऐसे ही बहुत जगह है जहां पर एलियंस का आना माना जाता है तो आप वहां पर जा कर देख सकते हैं लेकिन यह एक जगह पर नहीं है यह वाक्य अलग-अलग राज्यों के अंदर मौजूद है लेकिन हमारे देश के अंदर आप आराम से घूम सकते हैं और देख भी सकते हैं तो आप हमारी दी गई जानकारी को अच्छी तरह से पढ़ो और ध्यान से उनके बारे में देखें फिर आप उसके अंदर घूम भी सकते हैं

एलियंस  का नाम सुनते ही हमारे मन में एक ही बात  एक दूसरे ग्रह के लोग हमने एलियंस के बारे में पढ़ा तो बहुत है और बहुत सी किताबों में एलियन के बारे में बहुत लिखा है और बहुत सारे चित्र भी दिखाए गए हैं पर किसी के पास अब तक कोई पुख्ता सबूत नहीं है कि एलियन कैसा होता है और किस प्रकार का होता है कुछ का कहना है कि यह हमारी भविष्य की प्रजाति है और कुछ कहते हैं क्या दूसरे ग्रह के लोग हैं

इस आधुनिक युग में धरती के बहार इंसान के लिए धरती के बाहर इंसान के लिए एक जिज्ञासा का विषय रहा है वह पता करना चाहता था कि धरती बार है क्या इसके लिए विज्ञान विज्ञान में बहुत बड़ा काम किया है और इंसान धरती के बाहर जा पा रहा है इस अपनी जिज्ञासा को मिटाने के लिए दूसरे ग्रह पर पर यदि इंसान दूसरे ग्रह पर जा सकता है तो कहा जाता है कि दूसरे ग्रह के लोग भी धरती के ऊपर नजर रखते हैं और वह धरती के ऊपर आते भी हैं जिन्हें हम एलियंस कहते हैं इस विषय में वैज्ञानिकों ने शोध करना चालू शुरू कर दिया है और कहा जाता है कि भारत में भी कुछ ऐसे स्थान है जहां पर एलियंस आते हैं और पहले भी आए हैं तो दोस्तों मैं आज आपको भारतीय कुछ ऐसे स्थानों के नाम बताऊंगा बारे में बताऊंगा जहां पर एलियंस आते हैं और उन्हें एलियंस का घर भी कहा जाता है तो देखिये|

1. हिमालय

संसार की अधिकांश ऊँची पर्वत चोटियाँ हिमालय में ही स्थित हैं। संसार के 100 सबसे  शिखरों में हिमालय की अनेक चोटियाँ हैं और कुछ स्थान यहा ऐसे है जहा कोई नही जाता है और कहा जाता की  हिमालय के इन्ही पर्वतों के अंदर भी एलियंस का अंडरग्राउंड  क्षेत्र बताया जाता है सन 2010 में भारतीय सेना के यूनिट में हिम्मत जम्मू एंड कश्मीर के के लद्दाख क्षेत्र में कुछ अनजान चीज यूएफओ जैसी उड़ती दिखाई देती और स्थानीय लोगों ने भी कई बार यहां से ऐसी चीजें उड़ती और उधर दिखाई देती है और उनका कहना है कि यहां पर एलियंस का अंडरग्राउंड क्षेत्र है और यह जगह एकदम अनजान होने के कारण कहा जाता है कि यहां लगभग 100 सालों से एलियंस रहते हैं पर अभी तक कोई पुख्ता सबूत नहीं है और वैज्ञानिक भी इस बात को नहीं मानते है |

2 . नयागढ़ (ओडिशा)

नयागढ़ ओडिशा का एक छोटा सा जिला है और यहा कुछ इलाका ऐसा है जहा कम ही लोग जाते है यह जिला उस समय चेर्चा में आया जब 31 मई 1947 को यह कुछ स्थानीय लोगो ने यहा एक प्लेट के समान एक यान को उड़ते देखा और वह बिलकुल यूफो यानि की एलियंस का यान के जेसा था और कहा जाता है कि कुछ दिन बाद अमेरिका की वायु सेना ने एक उड़नतश्तरी यान के जैसी एक चीज को बरामद करने का दावा किया था पर बाद में उन्होंने दावा झूठा करार कर दिया और वायु सेना ने एक उड़नतश्तरी यान के जैसी एक चीज को बरामद करने का दावा किया था पर बाद में उन्होंने दावा झूठा करार कर दिया और पर कहा जाता है कि पर कहा जाता है कि यह स्थान एलियंस का पुराने समय में घर हुआ करता था वह अपने यहां नहीं उतारते थे और इस बारे में यहां एक लेखक ने चित्र छापे पर हुए हैं|

3 . नर्मदा घाटी ( मध्य प्रदेश)

नर्मदा घाटी मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले मैं स्थित है और कहा जाता है कि यह जगह दुनिया की कुछ विचित्र जगह में से एक है वह जगह सदा ही चर्चित रही है तुम किस जगह पर डायनासोर के अंडे भी मिले थे और बड़े-बड़े जीवो पर कंगाल भी पाए जाते हैं कुछ लोगों का दावा है कि यहां एलियंस आते हैं और उनके कुछ सबूत भी मिले हैं क्योंकि यहां के आदिवासियों ने एलियन की यूएफओ की तस्वीरें बनाकर यानी को वह दिखाइए और इसलिए यहां एक प्रयोगशाला बनाई गई है ताकि यहां एलियंस होने का पता लगाया जा सके और कुछ विज्ञानिकों ने और कुछ वैज्ञानिकों ने यहां एलियंस होने की संभावना भी जताई है पर इसके अब तक कोई पुख्ता सबूत नहीं मिले|

4 . बस्तर की कुटुमसर गुफाएं (छत्तीसगढ़)

बस्तर की गुफाएं छोटी छत्तीसगढ़ राज्य  में स्थित है और यह गुफाएं बहुत ही पुराने समय की है वह इन गुफाओं को वैज्ञानिकों ने एलियंस का घर ही करार दे दिया था क्योंकि इन गुफाओं के अंदर कुछ ऐसे चित्रकारी है जो करीब 10000 साल पुरानी है और उनके अंदर साफ-साफ दिख रहा है एलियंस यूफो से उतरते हुए और उनके ऊपर सर के ऊपर हेलमेट और एंटीना भी थे इसलिए यह गुफाएं और दुनिया भर में प्रसिद्ध है और वैज्ञानिकों ने यहां बहुत सी रिसर्च की है और भी एलियंस होने का कुछ सबूत ढूंढे है पर पक्का दावा तो विज्ञानिकों ने कभी नहीं किया|

5 . अजंता और एलोरा की गुफाएं

इन गुफाओ के बारे में तो हमने किताबो में बहुत जानकारी प्राप्त करी है और ये दुनिया की प्रसिद्ध है  यहां कुल 29 गुफाएं अजंता की गुफाएं यह कोई आम गुफाएं नहीं है यह करीब आज से 4000 साल पहले बनाई हुई और इन गुफाओं को देखने बहुत ज्यादा पर्यटक आते हैं और यह बहुत ही सुख देखने लायक गुफाएं हैं क्योंकि इनके अंदर अच्छे-अच्छे कलाकारी की गई है और यह प्राचीन सभ्यता की एक बहुत ही महत्वपूर्ण निशानी है गुफाएं और इनको तो एलियंस का घर कहा जाता है और कहा जाता है कि इन गुफाओं के अंदर नीचे अंडरग्राउंड एलियंस के रहने की व्यवस्था भी है और इन गुफाओं को हमारी आज की विज्ञान भी नहीं बना सकती या  बनाने में सक्षम नहीं है क्योंकि इन गुफाओं के अंदर करीब 40 लाख टन पत्थर पर कलाकारी की गई है यह गुफाएं इतनी सुंदर और भवति थी इन गुफाओं के अंदर एक मंदिर कैलाश मंदिर भी है जिसको बनाने में कहा जाता है कि एलियंस का हाथ  था क्योंकि 4000 साल पहले ऐसी कलाकारी शायद उस टाइम की सभ्यता नहीं बना सकती थी तो खुद सोचिए कि आज से करीब 4000 साल पहले उस सभ्यता को विज्ञान का ज्ञान ही नहीं था तो उन्होंने 40 लाख टन पत्थर पर इंजीनियरिंग कैसे करें इस बात को मानते हुए भी यह अंदाजा लगाया जाता है कि यहां एलियंस आए थे और शायद यह एलियंस का उस समय में घर हुआ करता था |

6 . शोर टेम्पल महाबलीपुरम (तमिल नाडु)

शोर मंदिर महाबलीपुरम तमिल नाडु में स्थित है या मंदिर गणेश भगवान का मंदिर है और यह समुंदर के किनारे स्थित है और यह बहुत ही भव्य मंदिर है जो बहुत ही पुराना है इस मंदिर की चोटी रॉकेट के अकार की बनाई गई है  कि इस मंदिर के बीच के अंदर एक होल  बनाया गया है और यह और इतना परफेक्ट है कहा जाता है कि इस मंदिर को बनाने में एलियंस कहा था क्योंकि इसके ऊपर जो आकृति बनाई  गई आकर राकेट प्रकार की उसी से ही वैज्ञानिक अंदाजा लगाते हैं कि उस समय में ऐसा आकृति नहीं बनाई जा सकती और जो बीच के अंदर एक मेनहोल बनाया गया वह बिल्कुल परफेक्ट  है कहा जाता है कि वही से ही सीरियल रॉकेट लॉन्च करते थे|

7 . द्वारका  (गुजरात)

द्वारका के गुजरात में स्थित एक नगर है और ये एक हिन्दू तीर्थस्थल है द्वारका द्वारका समुंदर के किनारे बसा हुआ है और अब यह एक आधुनिक शहर कहा जाता है पर बहुत समय पहले कहा जाता है कि यह शहर बिल्कुल पानी में डूबा हुआ था और इसको एलियंस ने बसाया था एलियंस ने जाते समय किस शहर को नष्ट कर दिया था कुछ वैज्ञानिकों एलियंस के बारे में रिसर्च उन्हें यहां को अवशेष मिले और उन्होंने बताया कि बाद में से कृषण  जी के आने के बाद इस शहर का दुबारा से निर्माण हुआ पहले एलियंस ने जाते समय किस शहर को नष्ट कर दिया था

इस शहर को इसलिए क्योंकि इसमें जो मंदिर बनाए गए हैं उनकी कलाकारी और चित्रकारी इतनी अलग और सुंदर है कि उसे आज का विज्ञान भी शायद ना बना सके और उस सभ्यता में किस कलाकारी को बनाना आसान नहीं था इसलिए वैज्ञानिकों ने कहा था कि जहां एलियंस का वास होता था और उन्होंने ही शहर को बसाया था|

तो आज इस पोस्ट में हमने आपको भारत की कुछ ऐसे राज्यों के बारे में बताया जहां पर एलियंस के आने के प्रमाण मिलते हैं आज तक भी यहीं पर प्रमाण आप देख सकते हो और आपको हमने जानकारी बताएं किस जगह के ऊपर आपलें तो हमारे द्वारा बताई गई है एलियंस के बारे में जानकारी यदि आपको पसंद आए तो शेयर करना ना भूले और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुजाव हो तो निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.