2g 3g 4g 5g का क्या मतलब है

2g 3g 4g 5g का क्या मतलब है

आज इंटरनेट की दुनिया में एक नए मुकाम पर है जहां मोबाइल ने 1G से शुरुआत की थी और अब हम फिलहाल 4जी का इस्तेमाल कर रहे हैं तो अभी तक इंटरनेट ने बहुत से पड़ाव पार किये है जिसमें आपको पहले से बहुत ज्यादा इंटरनेट स्पीड देने का मौका दिया है. इसके अलावा 5G भी आ गया है. लेकिन अभी तक इंडिया में इसकी सर्विस लांच नहीं की गई है.

जिओ के आने के बाद में 4जी का ट्रेंड सा चल गया है. जहां पर पहले दूसरे कंपनियों के 3G डेटा के प्लान बहुत महंगे देती थी, वहां पर रिलायंस के जियो नेटवर्क ने सस्ते प्लान में और ज्यादा इंटरनेट डाटा देते हुए हमारे देश को सबसे सस्ता और सबसे तेज इंटरनेट मुहैया करवाना है.

अब आपको यह तो पता ही होगा कि 4G क्या है लेकिन आपको इसकी पूरी सच्चाई नहीं पता होगी तो आज इस आर्टिकल में हम आपको इन्हीं के बारे में सब कुछ बताएंगे कि इन की शुरुआत कब हुई थी और अभी तक इसकी स्पीड और इसके टेक्नोलॉजी में क्या-क्या बदलाव आए हैं.

2g 3g 4g 5g का क्या मतलब है

सबसे पहले आपको G का मतलब बता देते हैं कि जो इंटरनेट के साथ G का इस्तेमाल होता है उसका क्या मतलब है. यहां पर G का मतलब है Generation से. जैसे जैसे नई टेक्नोलॉजी आती है इसका वर्शन बढ़ा दिया जाता है, जैसे इसकी शुरवात 1G  से हुई थी और अब 5G भी आ गया है. इस टेक्नोलॉजी के बदलाव के साथ साथ नये आने वाले फ़ोन में भी बहुत ज्यादा बदलाव देखा जा रहा है. अभी तक 5G के नये स्मार्टफोन मार्किट में मिल रहे है.

1G क्या है

वायरलेस फोन की शुरुवात 1G से हुई थी. इस प्रकार के फोन में एनालॉग सिग्नल का इस्तेमाल किया जाता था. इसको सबसे पहले 1980 में पेश किया गया था. जिसकी स्पीड की लिमिट 2.4 Kbps थी. इस को सबसे पहले अमेरिका में लांच किया गया. इस फ़ोन में बैटरी की बहुत बड़ी कमी थी और इनकी वौइस् क्वालिटी और सिक्योरिटी भी बहुत कम थी. इस प्रकार के फोन की फोटो आप नीचे देख सकते हैं.

2G क्या है

यह तकनीक 1991 में लांच की गई थी और यह GSM पर आधारित थी. इस तकनीक में डिजिटल सिग्नल का इस्तेमाल किया जाता था और इसकी स्पीड लगभग 64 Kbps की थी. इससे पहले फिनलेंड में लांच किया गया था. इस फोन से मैसेज भेजना, कैमरा और ईमेल करने वाली सर्विस की शुरुआत हुई थी. उस प्रकार के फ़ोन की फोटो आप नीचे देख सकते हैं.

3G क्या है

यह तकनीक 2000 वर्ष की गई थी और इसके साथ साथ फोन का डिजाइन भी बहुत ज्यादा बदल गया है. इस तकनीक के जरिए आप अपने मोबाइल में हैवी गेम चला सकते हैं, बड़ी फाइल को कहीं पर भी ट्रांसफर कर सकते थे, किसी को भी वीडियो कॉलिंग कर सकते थे. इसके अलावा इसकी कॉल क्वालिटी और बैटरी लाइफ भी ज्यादा थी और इसके बाद इन सभी को स्मार्टफोन का नाम दिया. यह फोन आने के बाद में डाटा प्लान भी लागू किए गए थे और इन फोन की फोटो आप नीचे देख सकते हैं.

यह एक मोबाइल नेटवर्क टेक्नोलॉजी है जिसके जरिये हम मोबाइल में इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं और इसमें आप किसी को SMS कर सकते हैं, किसी को भी वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं ,और इससे पहले के मोबाइल technology से ज्यादा सही क्वालिटी की ऑडियो कॉलिंग कर सकते हैं. ऑनलाइन विडियो देख सकते है. लेकिन 3GP कुछ कमियां भी है जैसे की इसके डाटा प्लान बहुत महंगे है और इसके लिए ज्यादा बड़े बैंडविड्थ की आवश्यकता होती है और इसके फोन भी दूसरों के मुकाबले महंगा होता है.

4G क्या है

इस तकनीक को 2011 में लॉन्च किया गया था और इसके जरिए लोगों को काफी हाई स्पीड इंटरनेट चलाने का मौका दिया जाए. इस तकनीक में यूजर दुसरे टेक्नोलॉजी के मुकाबले ज्यादा इंटरनेट डाउनलोडिंग स्पीड का इस्तेमाल कर सकता था. शुरुवाती दौर में इसके इन्टरनेट प्लान सबसे ज्यादा महंगा थे. लेकिन जिओ के आने के बाद में यह आम आदमी की पहुंच में आ गया. 4G स्मार्टफोन और 3G स्मार्टफोन में कुछ ज्यादा अंतर नहीं था.  इस प्रकार के फोन की फोटो आप नीचे देख सकते हैं.

इसके ऊपर बार बार टेस्टिंग की जा रही थी जिसमें इसकी स्पीड और इसके सिक्योरिटी  को चेक किया,  खराब से खराब नेटवर्क वाली जगह पर भी इसकी टेस्टिंग की गयी वहां पर इसकी इन्टरनेट स्पीड का मुल्यांकन करने करने पर 54 Mbps की स्पीड पायी गयी.  4G के कई लाभ है जैसे मोबाइल में मल्टीमीडिया सपोर्ट करना, आपको ज्यादा से ज्यादा इंटरनेट स्पीड प्रोवाइड करवाना और लगभग सभी जगह पर सिग्नल स्ट्रेंथ का ज्यादा रहना. इसके अलावा इसकी कुछ खामियां भी है जिसमें अगर आप 4जी का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी बैटरी की लाइफ बहुत कम हो जाती है और इसके अलावा इसमें हार्डवेयर भी बहुत मुश्किल से मिलते हैं. आपने देखा होगा कि जितने भी नए स्मार्टफोन आ रहे हैं उनके पार्ट्स आपको लोकल दुकानों पर नहीं मिल पाएंगे तो यह किसके सबसे बड़ी खामी है.

एयरटेल वोडाफोन आईडिया सिम को Jio 4G में पोर्ट कैसे करे

Idea Vodafone Airtel की 3G Sim को फ्री में 4G कैसे बनवाए

5G क्या है

यह तकनीक 2020 तक इंडिया में लांच होने की संभावना है और ऐसा माना जा रहा है कि इसकी कनेक्टिविटी और स्पीड की कोई लिमिट नहीं होगी. भविष्य में यह तकनीक बहुत ही फ़ास्ट होगी और इसकी वौइस् क्वालिटी सबसे बेहतर और सिक्यूरिटी सबसे कड़ी होगी.  इस प्रकार के फोन की फोटो आप नीचे देख सकते हैं.

यह जानकारी है हमारे शुरुआती दौर से है जितने भी स्मार्टफोन शुरू हुए हैं और अभी तक जो स्मार्टफोन आए हैं उनके बारे में अगर आपको इसके बारे में कुछ और पूछना है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं.

3 Comments
  1. Devising Thakur says

    Idea कोjio में करने से जिओ के पूरी तरह से लाभ मिलेंगा जैसे: जिओ ऑफर, जिओ टीवी आदि

    1. Madan Verma says

      ha

  2. अनिल कुमार says

    GOOD KNOWLEDGE

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+