Z+ सिक्योरिटी क्या होती है Z plus Security in Hindi

Z+ सिक्योरिटी क्या होती है Z plus Security in Hindi

हम सभी जानते हैं जब भी किसी भी तरह की सुरक्षा की बात आती है. तो हमें अलग-अलग तरह की सुरक्षा कंपनी का नाम सुनने को मिलता है. अगर देश की सुरक्षा की बात है तो हमारे देश में BSF,CRPF, एयर फोर्स इस तरह के नाम सुनने को मिलते है. और इसी तरह से अगर किसी साधारण व्यक्ति की सुरक्षा की बात आती है तो उसके लिए पुलिस होती है और इसी तरह से अगर किसी नेता या अभिनेता हो उसकी सुरक्षा की बात आती है तो उसके लिए आपने बहुत सी कैटेगरी का नाम सुना होगा जैसे Z सिक्योरिटी, Z+ सिक्योरिटी, Y सिक्योरिटी, x सिक्योरिटी आदि.

तो आज हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे कि Z सिक्योरिटी, Z+ सिक्योरिटी, Y सिक्योरिटी, x सिक्योरिटी क्या होती है यह किन किन लोगों को दी जाती है और यह किस तरह की सिक्योरिटी होती है और यह अपनी भूमिका किस तरह से निभाती है इन सभी चीजों के बारे में हम आपको पूरी जानकारी विस्तार से देंगे तो यदि आपको भी नहीं पता है कि जेड प्लस सिक्योरिटी किसको दी जाती है या यह कैसी होती है. आप हमारी इस पोस्ट को पूरा और अंत तक जरूर पढ़े.

सिक्योरिटी

यदि किसी फेमस आदमी या किसी नेता को अपनी जान का खतरा हो तो उसे सिक्योरिटी दी जाती है. यह सिक्योरिटी मंत्रियों को मिलने वाली सिक्योरिटी ही अलग होती है. इसके लिए पहले जिस आदमी को अपनी जान का खतरा है.वह सरकार को आवेदन करेगा और सरकार ख़ुफ़िया तरीके से यह पता लगाएगी कि क्या सच में ही उस आदमी को जान का खतरा है.और यह बात अगर सच पाई जाती है कि उस आदमी को जान का खतरा है तो फिर उस इंसान को सिक्योरिटी प्रोवाइड कराई जाती है. गृह सचिव, महा निदेशक और मुख्य सचिव की समिति यह निर्णय लेती है. उस इंसान को किस तरह की या किस कैटेगरी की सिक्योरिटी की आवश्यकता है.लेकिन राष्ट्रपति प्रधानमंत्री उपराष्ट्रपति सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के जज राज्यों के गवर्नर मुख्यमंत्री कैबिनेट मंत्री अपने आप ही सुरक्षा के पात्र हो जाते हैं.

सुरक्षा कौन करता है

पुलिस के साथ-साथ ऐसी और भी बहुत सी सुरक्षा कंपनियां हैं. जो VIPल VIP सिक्योरिटी उपलब्ध कराती है जैसे NPG, NSG, ITBP CRPF वैसे तो अगर किसी इंसान को जान का खतरा है तो उसकी सुरक्षा का जिम्मा NSG के ऊपर ही होता है. लेकिन जिस तरह से जेड प्लस सिक्योरिटी लेने वालों की तादाद बढ़ी है. उसको देखते हुए CISF को भी यह काम दिया जा रहा है. आज के समय में NSG 15 लोगों को Z + सुरक्षा दे रही है और इसके साथ CISF भी कुछ लोगों को Z+ सुरक्षा दे रही है.

Z+ सिक्योरिटी

Z+ सिक्योरिटी देश की सबसे बड़ी डबल VIP सिक्योरिटी है. इस सिक्योरिटी केटेगरी के अंदर डबल VIP के साथ 36 सुरक्षाकर्मी होते हैं और इसके साथ 10 एनएसजी कमांडो भी हर पल इनके साथ होते हैं और ऐसा कहा जाता है कि इस सिक्योरिटी को भेदना किसी की बस की बात नहीं है

Z और Y केटेगरी क्या है.

Z कैटेगरी के अंदर 22 सुरक्षाकर्मी होते हैं और इनके साथ पांच NSG कमांडो भी शामिल होते हैं. और Y केटेगरी के अंदर 11 पुलिसकर्मी और दो NSG कमांडो की तैनाती की जाती है. और इसके अलावा X कैटेगरी की सुरक्षा में 5 या 2 सुरक्षा पुलिस वालों की तैनाती की जाती है.

प्रधानमंत्री के सुरक्षा किस एजेंसी के पास होती है

प्रधानमंत्री के सुरक्षा स्पेशल ग्रुप प्रोडक्शन यानी SPG के हाथों में होती है और पूर्व प्रधानमंत्री को भी यह सुरक्षा मिलती है. लेकिन यह सुरक्षा सिर्फ 1 साल के लिए ही मिलती है. लेकिन कुछ विशेष कानूनों के तहत यह सुरक्षा राजीव गांधी और उसके परिवार वालों को अनिश्चित काल के लिए दि गई है.

आज आपको इस पोस्ट में  ज़ प्लस सिक्योरिटी लिस्ट ज़ प्लस सिक्योरिटी इन हिंदी z सुरक्षा व्यक्तियों सूची लिस्ट ऑफ ज़ प्लस सिक्योरिटी होल्डर्स इन इंडिया z सुरक्षा व्यक्तियों भारत 2017 में सूची z श्रेणी सुरक्षा क्या है व्यक्तियों की जेड प्लस सुरक्षा सूची के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से दी है तो यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो लाइक और शेयर जरूर करें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं.

2 Comments
  1. कैलाश चंद्र says

    जेड सिक्योरिटी में भर्ती होने के लिए क्या करना पड़ता है क्या योग्यता चाहिए

    1. SANDEEP says

      Z plus secorty

Leave A Reply

Your email address will not be published.