पेन का आविष्कार किसने किया

पेन का आविष्कार किसने किया – Who invented pen in hindi

हमने आपको पहले भी हमारी वेबसाइट के ऊपर बहुत सी रोचक जानकारी और बहुत सी ऐसी चीजों के आविष्कार के बारे में बताया है. जो कि शायद आप नहीं जानते थे या अगर उसके बारे में जानते थे तो शायद अच्छे से नहीं जानते थे और हमने आपको उन चीजों के बारे में पूरी और विस्तार से जानकारी हमारी वेबसाइट के ऊपर दी है. और आप सभी को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी बहुत पसंद आई है. इसी तरह कि आज एक और जानकारी मैं आपको आज इस पोस्ट में बताऊंगा आज हम आपको इस पोस्ट में पेन के आविष्कार के बारे में बताएंगे इससे पहले हमने आपको एक पोस्ट में पेंसिल के आविष्कार के बारे में बताया था अब हम आपको पेन के आविष्कार के बारे में पूरी जानकारी देंगे

 पेन क्या होता है

पैन एक ऐसी चीज होती है. जो कि हमें लिखने में बहुत मदद करती है. पैन के अंदर शाही होती है.. जब हम उसे किसी कागज के ऊपर चलाते हैं तो वह शाही पैन से निकलकर कागज के ऊपर लिखने में हमारी मदद करती है. और जिस तरह भी हम लिखना चाहते हैं उस तरह पेन से लिख सकते हैं पैन के आगे एक नोक होती है. जो कि किसी भी धातु की बनी होती है. जैसे पीतल लोहा आई से बनी होती है. और उसके अंदर में बहुत ही बारीक छेद होता है. जिसमें से बहुत ही धीरे-धीरे शाही निकल कर बाहर आती है.

किसी भी आदमी के जीवन में पेन का बहुत महत्व होता है. क्योंकि पेन के कारण ही पढ़ लिखकर आदमी बहुत बड़ा बनता है. पैन के कारण हम किसी भी तरह की चीजों को लिख सकते हैं अगर पेन नहीं होता तो शायद हम आज के समय में इतने ज्यादा पढ़े लिखे नहीं होते क्योंकि पैन हमें अच्छी तरह से लिख कर समझाने में बहुत काम आता है. हमने आपको पहले एक पोस्ट में बताया था कि पेंसिल के कारण हम पढ़ लिख सकते हैं लेकिन ऐसा नहीं है. कि सिर्फ पेंसिल के कारण ही पढ़ कर हम बड़े आदमी बन सकते हैं इसमें पेन का भी बहुत बड़ा हाथ होता है. और पेंसिल की अगर बात करें तो पेंसिल से लिखा हुआ ज्यादा लंबे समय तक नहीं चल पाता है. क्योंकि पेंसिल का लिखा हुआ जल्दी ही मिट जाता है. और यदि हम किसी ऐसी चीज के बारे में एक बार लिख देते कि आने वाले समय में बहुत लंबे समय तक चले या यह हमेशा के लिए ऐसे ही बनी रहे तो हम पेन से लिखते हैं क्योंकि पेन से लिखा हुआ मिटता नहीं है. और ना ही जल्दी ही खराब होता है.. आज के समय में हम जिस पेन का इस्तेमाल करते हैं वह बॉल पेन कहलाते हैं दूसरा पेन फाउन्टेन होता है., जिसमें रिफिल की जगह निब से लिखते हैं

 पेन का आविष्कार किसने किया – Who invented pen in hindi

वैसे तो किसी भी लिखे जाने वाली वस्तु आज से बहुत समय पहले आ चुकी थे लेकिन उस समय सिर्फ पेन की तरह किसी चीज का डिजाइन ही तैयार किया गया था लेकिन पैन बाद में आया था आज से लगभग 24000 साल पहले इस तरह की वस्तु का डिजाइन तैयार किया गया था जिससे कि किसी भी तरह की चीज को बनाने या लिखने में मदद मिले. आज से लगभग 24000 साल पहले समय के लोग अपनी खेती अपनी फसल और शिकार किए गए जानवरों के चित्र दीवार पर बनाने के लिए पत्थर से बनाए गए औजार का इस्तेमाल करते जिससे कि वह दीवार पर आसानी से उनके चित्र बना सकते थे. 4000 BC में इस मिस्र के लोगों ने जब तक पेड़ पौधे का इस्तेमाल कर के कागज बनाया तो इस पर लिखने के लिए बांस के पौधे का एक बंबू से पैन बनाया गया. कई सालों बाद, मिस्र ने मोटी कैलामास / बांस रीड्स को रोजगार के द्वारा पेन में आगे बढ़ाया. इसी तरह से रूम में मोम की टेबल के ऊपर लिखने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था 700 AD में परिंदे के पैर का इस्तेमाल करके लिखा जाता था इन तरीकों से लिखना तो बहुत ज्यादा मुश्किल था फिर इसके बाद अलग अलग तरीकों से पेन बनाने के लिए लिए बहुत से लोग इस काम में लग गए लेकिन अलग अलग तरीकों से बनाए जाने के बाद भी हर पैन में कुछ ना कुछ कमी जरूर होती थी.

फिर उसके बाद 1827 में Petrache Poenaru फाउंटेन पेन का आविष्कार किया इस फाउंटेन पैन में भी एक कमी थी और वह कमी यह थी कि जब पेन से किसी तरह लिखा जाता तो इसकी शाही बहुत देर बाद सूखती थी लेकिन इस दिक्कत को दूर करने के लिए 1888 में John J Loud.ने बॉल पेन को बनाया इस पेन में भी एक और दिक्कत थी और वह दिक्कत यह थी कि अगर इस पेन की स्याही पतली होती तो वह अपने आप लीक हो जाती और यदि इसके इसकी स्याही ज्यादा मोटी होती तो इसके अंदर ही अटक जाती .

इन दोनों आविष्कारों के बाद 50 साल बाद फिर एक हंगेरी के रहने वाले Laszlo Biro ने अपने भाई George के साथ मिलकर बॉल पेन को बनाना शुरु किया इस बॉल पेन को बनाने का तरीका प्रिंटिंग प्रेस में इस्तेमाल की जाने वाली स्याहीको देख कर आया क्योंकि प्रिंटिंग प्रेस में इस्तेमाल की जाने वाली स्याही बहुत जल्दी सूख जाती थी नजरों Laszlo Biro एक जर्नलिस्ट थे और उनको फाउंटेन पेन से लिखने में बहुत ज्यादा दिक्कत हो रही थी इसलिए उन्होंने बॉल पेन का आविष्कार किया और 1938 में बॉल पेन का पैटर्न Laszlo Biro को दिया गया और दूसरा विश्व युद्ध शुरू होने के पश्चात Laszlo Biro और उसके भाई अर्जेंटीना में चले गए

और फाउंटेन पेन से पायलट को ऊंचाई पर लिखना मुश्किल हो रहा था जब पायलट ने बॉल पेन से लिखना शुरू किया तो यह पेन फेमस हो गया उस समय में एक पेन की कीमत लगभग $13 थी जो आज के हिसाब से अगर देखा जाए तो $130 है. और उसके बाद धीरे-धीरे इसका रेट कम होने लगा. फिर उसके बाद1953 में माइकल बिच नामक एक और निर्माता ने “Bic pens” के साथ Marketing की गहराई से उभरा 1950 के दशक में उन्होंने अमेरिकन बाजार में नए बॉल पेन लगाए और 1960 के दशक में अपने “Bic pens” पेन बेचने में सफल हो गए, जब उन्होंने अपने अभियान के नारे, “द लिमिट्स द फर्स्ट टाइम, हर टाइम!” प्रकाशित किया। 1940 के दशक-1960 के युग का समय इस अवधि में पेन के प्रत्येक निर्माण विनिर्माण के लिए प्रतिस्पर्धी युग था।

फिर उसके बाद वर्ष 1962, वह समय था जब “मार्कर कलम” पर आधुनिक विकास हुआ था। आधुनिक मार्कर पेन का आविष्कार टोक्यो स्टेशनरी कंपनी (जिसे अब पेंटेल के रूप में जाना जाता है.) के जापानी युकियो हॉरी ने किया था। मार्कर पेन, हाइलाइटर आज के समय में मार्कर पेन बहुत ही लोकप्रिय हो चुके हैं कुछ समय बाद 1963 में, जापानी कंपनी, ओट्टो द्वारा 1963 में रोलरबॉल पेन को आम लोगो के लिए पेश किया गया था। 1990 में कंपनी द्वारा पेन के ऊपर रबड़ का कवर लगाया गया क्योंकि जब भी पेन को इस्तेमाल करने वाले लोग पेन से कुछ लिखते तो उनकी पकड़ के कारण उन्हें दिक्कत होती तो उसको देखते हुए कंपनी द्वारा बाद में पेन के ऊपर रबड़ का कवर लगाया गया.

अब आपको पता चल गया होगा कि हमारा पैन कितना पुराना है. और किस-किस बदलाव के साथ पेन बनाया गया है. और आज के समय में हमारे द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला पेन कौन सा पेन है. तो आज हमारे द्वारा बताई गई पेन के आविष्कार और इतिहास पेन का आविष्कार किसने किया – Who invented pen in hindi Khoj Kisne ki Avishkar kisne or kab kiya ise kab banya gaya sabse pahle iska istemal kisne kiya tha pen banane wale ka naam के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके हमें जरुर बताएं और यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

1 Comment
  1. Satish says

    अच्छा लेख है………

Leave A Reply

Your email address will not be published.