बच्चों के दिमाग तेज करने वाले सुपर फूड

बच्चों के दिमाग तेज करने वाले सुपर फूड

आजकल बच्चों में कमजोर दिमाग की दिक्कतें बहुत पाई जा रही है बच्चों का शारीरिक विकास हो रहा है । लेकिन मानसिक विकास बहुत धीमा हो रहा है कई कई बच्चे छोटी उम्र में बड़ी बड़ी बातें करने लगते हैं।

वहीं कई बच्चे मानसिक कमजोरी की वजह से मानसिक विकास नहीं कर पाते और उन्हें चीजें समझने में बहुत दिक्कत आती है उनका शारीरिक विकास भी धीरे-धीरे रुकने लगता है आजकल के मां बाप के लिए बड़ी परेशानी का सबब बना हुआ है। मानसिक विकास ना होना बच्चों के लिए काफी खतरनाक साबित हो रहा है बच्चों को सही डाइट न मिल पाने की वजह से उनकी खुराक न मिल पाने की वजह से यह समस्या भी आ रही है।

आज हम अपनी आर्टिकल में बच्चों के दिमाग को तेज करने वाले सुपर फूड के बारे में बात करेंगे और बताएंगे कि आप अपने बच्चे के मानसिक विकास को कैसे तेजी से बढ़ा सकते हैं और आम बच्चों के जैसे भी आपका बच्चा कैसे जिज्ञासु सवाल और तर्क करने लगे। इसका उपाय बताएंगे ।

इस आर्टिकल में जानने के लिए बने रहे सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए चलिए शुरू करते हैं

क्या है बच्चों के दिमाग तेज करने वाली सुपर फूड

आजकल के बच्चों में कई तरह की गंभीर बीमारियां देखने को मिलते हैं छोटी उम्र में ही चश्मा लगने लगते हैं बच्चों की हाइट की समस्या होने लगती है। बच्चों में याददाश्त की समस्या होने लगती है बच्चे पेट की समस्या से छोटी उम्र में ही गुजरने लगते तरह-तरह की बीमारियां बच्चों में लगती ही रहती है। इसका कारण है उनकी गलत लाइफस्टाइल उनके लिए जो जरूरी है उन पोषक तत्वों की पूर्ति न कर पाना बच्चों में कोई भी दिक्कत होती है मां-बाप परेशान हो जाते हो और उन्हें तुरंत किसी बड़े डॉक्टर को दिखाने के चक्कर में लग जाते डॉक्टर बड़ी  लिस्ट में दवाइयों का इतना डोज कर देता है कि बच्चे पोषक तत्वों की कमी को पूरा कर पाए लेकिन दवा खाने के आदी जरूर हो जाते हैं।

और यहीं से शुरू हो जाती है उनके शारीरिक मानसिक विकास में रुकावट हमारे शरीर को दवाइयों की जरूरत नहीं है डाइट प्लान हमारा खाना सिंपल और साधारण होगा।

घर का बना होगा हम उतने ही स्वस्थ और लंबा जीवन जीने बच्चों में भी यही आदत हमें डलवाने चाहिए मानसिक कमजोरी दिमाग भेजना होना बहुत गंभीर समस्या है जिसका निदान जल्द से जल्द बच्चों के माता-पिता को कर लेना चाहिए। ताकि बड़े होने पर उनका शारीरिक मानसिक विकास ना रुके इसके लिए घरेलू उपाय बहुत कारगर साबित होती है।

 कमजोर दिमाग होने के क्या कारण है बच्चों के

  • कमजोर दिमाग के कारण उनके शरीर में पोषक तत्वों की कमी को माना जाता है।
  • बच्चे लापरवाह होते हैं लेकिन मां-बाप यदि लापरवाह होंगे तो बच्चों में कहीं ना कहीं से दिक्कतें होंगी वह चाहे शारीरिक विकास में मानसिक विकास हो।
  • यदि उसमें सिम्टम्स दिख रहे हैं बच्चे आम बच्चों की तरह व्यवहार नहीं कर रहे हैं तो इग्नोर करना भी बहुत बड़ा कारण होता है।
  • बच्चों को उनकी डाइट न मिल पाना बड़ा कारण होता है पोषक तत्वों की कमी बड़े कारण में से दूध संपूर्ण आहार होता है।

बच्चे दूध पीने में हमेशा दिक्कत करते हैं जिसकी वजह से उनमें मानसिक रोग शारीरिक अक्षमता जैसे रोग बचपन से ही बनने लगते हैं।

 तेज दिमाग करने के घरेलू उपाय

बच्चों के दिमाग को तेज करने के लिए घरेलू उपाय हमेशा कारगर होते हैं लेकिन मां बाप घर की तरफ ध्यान नहीं देते महंगे से महंगा इलाज कराने चक्कर में बच्चे की जिंदगी खराब कर देते हैं। मां बाप को बच्चे ठीक होने चाहिए पैसे की चिंता नहीं करते जबकि इलाज महंगे से महंगा होना जरूरी नहीं होता ।

बच्चे को सही इलाज मिले यह जरूरी होता है घर के खाने पीने की चीजों में बदलाव करके भी बड़े से बड़े रोगों को ठीक किया जा सकता है। शरीर को अच्छा आहार मिलने लग जाए तो शरीर अपने से  स्वता ही ठीक होने लगता है तेज दिमाग करने के लिए सुपर फूड में पहला है वेजिटेबल्स का सेवन

जी हां वेजिटेबल्स में हरी वेजिटेबल्स में वह सारी चीजें उपलब्ध होती हैं सारे विटामिन कैल्शियम मिनरल उपलब्ध होते हैं। जो आप दूसरे मार्केट से सप्लीमेंट को खरीदकर पूरा करना चाहते हैं। ग्रीन वेजिटेबल्स में कई गुना प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की अद्भुत क्षमता होती है। यदि आप अपने बच्चों को हरी सब्जी खिलाने की आदत डालें तो निश्चित तौर पर उनके मानसिक विकास में बहुत तेजी आएगी दिमाग तेज होगा शरीर निरोगी रहेगा ।

दूसरा उपाय दूध का सेवन

दूध को संपूर्ण आहार माना जाता है इसमें हर प्रकार के पोषक तत्व उपलब्ध होते हैं। यदि आप अपने बच्चों को सुबह शाम दूध पिलाने ज्यादा डालें तो उनमें किसी भी प्रकार की पोषक तत्वों की कमी कभी नहीं होगी। यदि शरीर में किसी चीज की कमी नहीं होगी तो आपके बच्चों का शारीरिक मानसिक विकास कभी भी नहीं रुकेगा और निरंतर वह मजबूती से आगे बढ़ पाएंगे।

तीसरा उपाय साबुत अनाज का सेवन मतलब बिना पिसे हुए अनाज इनका सेवन आपको अपने बच्चों को कराने की आदत डालनी चाहिए साबुत अनाज यदि आपके बच्चे खाएंगे। शरीर में किसी भी प्रकार की शरीर में गंदगी का घेराव नहीं होगा। साबुत अनाज मात्रा में फाइबर होता है इसमें कैल्शियम विटामिन मिनरल्स भरपूर मात्रा में होता है इनका सेवन करने से व्यक्ति कभी भी उसी चीज की कमी से बीमार नहीं होता बच्चों को भी बाजार की मार्केट की चीजों को कम से कम खिलाएं। जिससे कि परेशानी ज्यादा ना  बढ़ जाए।

बच्चों में जितना अच्छी खुराक देना जरूरी होता है उतना फिजिकल एक्टिविटी करना भी जरूरी होता है। यदि बच्चे एक जगह बैठकर ही सारी चीजें खाते रहेंगे उन में शारीरिक विकास कभी नहीं होगा।

जब तक बच्चे फिजिकल एक्टिविटी साथ में नहीं करेंगे खेलेंगे कूदेंगे नहीं   चलेंगे  फिरेंगे नहीं कंप्यूटर लैपटॉप के सामने ही बैठे रहेंगे तो उन्हें चाहे आप जो खिला लीजिए पोषक तत्वों की कमी नहीं होती ।

चौथा उपाय ओट्स का सेवन

हम सब जानते हैं ओट्स जई को बोला जाता है इसका सेवन कराने से आपके बच्चे के अंदर विटामिन बी विटामिन बी की कमी तेजी से पूरी होगी दिमाग में चीजों की आवश्यकता होती है आपके वोट के उपयोग से पूरी कर पाएंगे।

पांचवा उपाय ड्राई फ्रूट का सेवन बच्चों को ड्राई फ्रूट देना चाहिए जिसमें बादाम काजू छुहारा किसमिस मुख्य रूप से बच्चों को सुबह दूध के साथ दे देना चाहिए। इससे आपके बच्चों को दूसरी  मार्केट में सप्लीमेंट जो बिकते हैं उन्हें देने से बच जाएंगे क्योंकि ड्राई फ्रूट्स में शरीर को चाहने वाले सभी तत्वों की उपलब्धता होती है। इसकी वजह से आपका बच्चा बहुत जल्द मानसिक रोगों से छुटकारा पा जाएगा और शरीर के रोगों से मानसिक रोग से छुटकारा मिल जाएगा।

बच्चों के दिमाग तेज करने वाले सुपर फूड बच्चों के दिमाग तेज करने की दवा दिमाग तेज करने की आयुर्वेदिक दवा बच्चे की बुद्धि कैसे बढ़ाए दिमाग तेज करने के लिए पतंजलि की दवा दिमाग तेज करने के लिए कौन सा फल खाना चाहिए दिमाग तेज करने के लिए घरेलू उपाय दिमाग तेज करने के लिए दवा बच्चों का पढ़ाई में दिमाग तेज कैसे करें

Leave a Comment