नरेंद्र मोदी जी का जीवन परिचय और उनका राजनीतिक सफर

नरेंद्र मोदी जी का जीवन परिचय और उनका राजनीतिक सफर

दुनिया में जितने भी महान इंसान पैदा हुए हैं वे जन्म से ही कभी महान नहीं थे उन्होंने कड़ी मेहनत और कड़े कठोर परिश्रम के कारण इतनी महानता हासिल की है उन्होंने अपने जीवन में बहुत कठिनाइयों का सामना भी किया है और वे इंसान ऐसे दूर से भी गुजरे हैं जिसमें उनको खाने पीने या रहने के लिए भी शायद जगह नहीं मिली होगी भारत में भी ऐसे बहुत सारे महान नेता, सैनिक व दूसरे ऐसे इंसान पैदा हुए हैं.

जिन्होंने अपने खुद के साथ भारत का भी नाम रोशन किया उन्होंने भारत के निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया जिनके बदौलत आज भारत दुनिया में प्रसिद्ध देश के रूप में जाना जाता है दुनिया आज के समय में भारत को सलाम करती है भारत के साथ हर देश संबंध बनाना चाहता है एक समय ऐसा था जब भारत के पास कुछ नहीं था.भारत को दूसरे देशों के ऊपर निर्भर रहना पड़ता था आज भारत तेजी से तरक्की की राह पर दौड़ रहा है.

ऐसा माना जाता है कि जब भारत आजाद हुआ तब भारत में सुई भी नहीं बनती थी लेकिन भारतीय लोगों की कड़ी मेहनत और लगन के कारण भारत में आजकल टूथपेस्ट से लेकर हर एक वह चीज बनती है जो कि हमारे लिए जरूरी है और भारत दुनिया के बहुत सारे देशों को ऐसी ऐसी चीजें भेज रहा है जो कि भारत की आय का जरिया है भारत की इसी तरीके के पीछे कुछ हाथ भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का भी है.

जिन्होंने जब से प्रधानमंत्री का पद संभाला है तब से भारत की सूरत बदल दी और इन्हीं के चलते आज दुनिया का हर देश भारत के साथ संबंध बनाना चाहता है.क्योंकि नरेंद्र मोदी जी की बातों में एक लक्ष्य दिखाई देता है और उनके भाषण दुनिया में प्रचलित है आप सभी नरेंद्र मोदी जी के बारे में जानते होंगे.

लेकिन नरेंद्र मोदी जी के बचपन से लेकर प्रधानमंत्री तक प्रधानमंत्री बनने तक के सफर में उनको बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा इस ब्लॉग में हम आपको उनके जीवन की इसी कहानी के बारे में बताएंगे इस ब्लॉग में हम आपको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के जीवन परिचय उनके राजनीतिक सफर और उनके राजनीतिक सफर में आने वाली कठिनाइयों के बारे में बताने वाले हैं.

नरेंद्र मोदी

वर्तमान समय में अगर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिया जाए तो शायद इस दुनिया में ऐसा कोई भी इंसान नहीं है जो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में जानने का इच्छुक नहीं होगा क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐसी ही एक शख्सियत हैं जो कि दुनिया में सबसे ज्यादा लोकप्रिय है वैसे तो दुनिया में बहुत बड़े-बड़े और महान शक्तिशाली प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति भी रहे हैं.

जो कि अपने काम अपने इरादों और अपनी शक्तिशाली शासन के लिए जाने जाते हैं लेकिन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कार्य करने का तरीका इतना सरल व आसान है जो कि सभी लोगों को पसंद आता है जब से नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने हैं.तब से भारत में तरक्की की राह पर तेजी से दौड़ना शुरू किया है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे ऐसे बड़े कार्य किए हैं.

जो कि भारत को विकसित करने में बहुत ज्यादा जरूरी थी हालांकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि पुराने प्रधानमंत्री या दूसरे नेताओं ने भारत की तरक्की में सहयोग नहीं दिया लेकिन नरेंद्र मोदी जी के कार्य करने की गति इतनी ज्यादा है कि वह कुछ ही समय में भारत को इतनी तेजी से निर्माण की ओर ले गए नरेंद्र मोदी 30 मई 2019 को दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में चुने गए यही कारण है.

कि दुनिया का हर देश भारत के साथ अच्छे संबंध बनाना चाहता है और इसीलिए हर महीने नरेंद्र मोदी जी किसी ना किसी देश का दौरा जरूर करते हैं.ताकि दूसरे देश के साथ अच्छे संबंध बनाए जा सके और एक दूसरे देश को मदद मिल सके पहले भारत में बहुत सारी चीजें आयात की जाती थी लेकिन अब पिछले कुछ समय से भारत एक बहुत बड़ा निर्यातक बन कर भी सामने आया है.

भारत में नरेंद्र मोदी सरकार का मुख्य लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा भारतीय लोगों को रोजगार देना है इसीलिए विदेशी कंपनियों को भारत में नई नई फैक्ट्री व औद्योगिक धंधे शुरू करने की अनुमति भी मिल रही है और भारत में हर साल अनेक प्रकार के नए नए औद्योगिक संस्थानों व इंजीनियरिंग संस्थानों का भी उद्घाटन किया जाता है ताकि भारतीय युवा तेजी से आगे बढ़ सके.

जीवन परिचय

भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडनगर में हुआ था उनके पिता का नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी था और उनकी माता का नाम हीराबेन मोदी है नरेंद्र मोदी बचपन से ही एक बहुत ही शांत स्वभाव के इंसान रहे हैं नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी है नरेंद्र मोदी एक साधारण परिवार में जन्मे इंसान था उनके पिता की कुल 6 संताने हैं .

जिनमें नरेंद्र मोदी जी तीसरे नंबर पर आते हैं नरेंद्र मोदी जी एक चाय वाले के बच्चे थे क्योंकि उनके पिता दामोदरदास मूलचंद मोदी रेलवे स्टेशन पर एक चाय की स्टाल लगाते थे नरेंद्र मोदी जी मैं अपनी जिंदगी शुरुआती शिक्षा अपने पास के ही स्कूल से प्राप्त की इसके बाद उन्होंने 1980 में ग्रेजुएशन के लिए गुजरात के विश्वविद्यालय में दाखिला लिया जहां से उन्होंने राजनीतिक विज्ञान में ग्रेजुएशन की शिक्षा पूरी की जब वे पूरी ग्रेजुएशन कर रहे थे.

तब RSS के प्रचारक भी थे.नरेंद्र मोदी जी ने अपने जीवन का ज्यादातर समय गरीबी में ही गुजारा था क्योंकि उनके पिता सिर्फ एक चाय की स्टॉल लगाते थे जिनके उनके घर का गुजारा होना बहुत मुश्किल था और उनकी माता दूसरों के घरों में बर्तन साफ करती थी ताकि उनका परिवार अच्छे से खाना खा सके है नरेंद्र मोदी जी ने अपने जीवन में बहुत सारी कठिनाइयों का सामना किया.

उनके जीवन में बहुत सारे उतार-चढ़ाव भी आए लेकिन नरेंद्र मोदी एक दृढ़ निश्चय कि इंसान हैं उन्होंने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी और वे लगातार मेहनत करते रहे नरेंद्र मोदी अपने बचपन से ही स्वामी विवेकानंद के विचारों से बहुत प्रभावित रहें.उनको स्वामी विवेकानंद जी की पुस्तकें व उनकी बातें पढ़ने का बहुत शौक था.

स्वामी विवेकानंद की बातों से ही प्रभावित होकर उन्होंने सिर्फ 17 वर्ष की आयु में ही घर छोड़ दिया और वे आश्रम और मठ में चले गए जहां पर उन्होंने वहां से बहुत सारी बातें सीखी कि जो कि इस समय में उनको काम आती है फिर भी लगभग 2 साल बाद अपने घर वापस आ गए लेकिन उन्होंने अपने जीवन की सभी उतार-चढ़ाव के साथ-साथ अपनी पढ़ाई को जारी रखा उन्होंने पॉलिटिक्स में डिग्री प्राप्त की

राजनीतिक सफर

नरेंद्र मोदी जी के जीवन में असली मोड उस समय आया तब नरेंद्र मोदी जी भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर दो तिहाई बहुमत से 1995 में अपनी सरकार बनाई इसके बाद शंकर सिंह वाघेला ने पार्टी से त्यागपत्र दे दिया और केशुभाई पटेल को गुजरात का नया मुख्यमंत्री बनाया गया और नरेंद्र मोदी को भारतीय जनता पार्टी के संगठन की देखरेख के लिए केंद्रीय मंत्री बनाया गया.

इसके बाद उनको 1998 में राष्ट्रीय महामंत्री संगठन का पद भी दिया गया जिसके ऊपर उन्होंने 2001 तक कार्य किया इसके बाद 2001 में ही केशुभाई पटेल को हटाकर नरेंद्र मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री बना दिया गया क्योंकि केशुभाई पटेल की तबीयत लंबे समय तक खराब चल रही थी इसीलिए नरेंद्र मोदी को भाजपा ने मुख्यमंत्री के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव में उतारा.

लेकिन नरेंद्र मोदी जी के राजनीतिक जीवन में को उनके बोलने के तरीके और उनके भाषण में बहुत ज्यादा आगे बढ़ने में योगदान दिया क्योंकि नरेंद्र मोदी जी के भाषण देने का तरीका एक ऐसा तरीका है जो कि हर इंसान के दिल तक पहुंचता है और दे हमेशा स्पष्ट और सच बोलते हैं इसी के चलते 18 जुलाई 2006 में नरेंद्र मोदी जी ने आतंकवाद के ऊपर भाषण देते हुए एक आतंक निरोधक अधिनियम लाया.

उस अधिनियम को विधानसभा में लाने के लिए उनकी नामंजूरी कर दी गई और इसीलिए उन्होंने उस समय के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की कड़ी आलोचना की तब से नरेंद्र मोदी जी अपने भाषणों के लिए जाने जाने लगे उनके ऊपर कई अलग-अलग आरोप भी लगाए गए क्योंकि 2002 में अयोध्या से गुजरात वापस लौटते समय गुजरात गोधरा स्टेशन पर खड़ी ट्रेन में मुसलमानों ने आग लगा दी.

जिनमें लगभग 60 कारसेवक मारे गए और इसी के चलते गुजरात में हिंदू मुस्लिम दंगे भड़क गए जिनमें कई लोगों की मौत हुई और बहुत सारी सरकारी प्रॉपर्टी को नुकसान भी पहुंचा और इसका सारा दोष नरेंद्र मोदी जी के ऊपर लगाया गया इसी के कारण नरेंद्र मोदी जी ने दसवीं विधानसभा के भंग होने पर अपना त्यागपत्र राज्यपाल को दे दिया और पूरे देश में राष्ट्रपति शासन लगाया गया.

दुबारा से चुनाव हुए जिसमें नरेंद्र मोदी सरकार को फिर से विजय प्राप्त हुई और धीरे-धीरे नरेंद्र मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए दूसरे क्षेत्रों में भी दौरे करने लगे उनकी लोकप्रियता भारत में बढ़ने लगी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे.तब उन्होंने कई दूसरे देशों का भी दौरा किया.

उनके भाषण देने का तरीका जबरदस्त था की 2014 में भाजपा पार्टी ने अपने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में नरेंद्र मोदी जी को चुनाव में उतारा और नरेंद्र मोदी जी की लोकप्रियता इतनी जबरदस्त थी कि उनको बहुत भारी मतों से विजय मिली और 26 मई 2014 को भी भारत के 15 प्रधानमंत्री के रूप में चुने गए उसके बाद में 30 मई 2019 को उनको फिर से भारत का प्रधानमंत्री चुना गया.

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा बताए गए नरेंद्र मोदी जी के जीवन परिचय के बारे में यह जानकारी आपको पसंद आई होगी तो यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है और आप ऐसी ही और जानकारियां पाना चाहता है तो आप हमारी वेबसाइट को जरूर विजिट करें.

Leave a Comment