‘अनवर-ए-सुहैली’ ग्रंथ किसका अनुवाद है?

QuestionsCategory: Questions‘अनवर-ए-सुहैली’ ग्रंथ किसका अनुवाद है?
Questions Staff asked 2 months ago

‘अनवर-ए-सुहैली’ ग्रंथ किसका अनुवाद है?

1 Answers
hindigyanbook Staff answered 2 months ago

अकबर ने एक अनुवाद विभाग की स्थापना की थी। इस विभाग के अंतर्गत संस्कृत, तुर्की तथा अरबी आदि भाषाओं के अनेक ग्रंथों का फारसी अनुवाद हुआ। फैजी ने लीलावती का अनुवाद तथा बदायूँनी ने महाभारत का ‘फारसी अनुवाद ‘रज्मनामा’ तैयार किया। अबुल फजल ने भी अनेक संस्कृत ग्रंथों का फारसी अनुवाद किया। उसने संस्कृत ग्रंथ ‘पंचतंत्र’ का फारसी अनुवाद कर उसका नाम ‘अनवार-ए-सुहेली’ रखा। बदायूँनी और कुछ अन्य लेखकों ने मिलकर ‘रामायण’ का भी अनुवाद किया। ‘अयार-ए-दानिश’ नाम से मौलना हुसैन फैज ने भी ‘पंचतंत्र का भी फारसी अनुवाद किया था।