Answer for रेगुलेटिंग एक्ट कब पारित किया गया?

रेगुलेटिंग एक्ट 1773 में पारित किया गया | बंगाल के गवर्नर वारेन हेस्टिंग्स के समय ब्रिटिश संसद द्वारा कम्पनी की गतिविधियों, ब्रिटिश सरकार को निगरानी में लाने, कम्पनी की संचालन समिति में आमूल-चूल परिवर्तन करने तथा कम्पनी के राजनीतिक अस्तित्व को स्वीकार कर उसके व्यापारिक ढाँचे को राजनीतिक कार्यों के संचालन योग्य बनाने हेतु रेग्यूलेटिंग एक्ट 1773 पारित किया। 1774 में लागू किए गए इस एक्ट के प्रमुख प्रावधान निम्नलिखित थे –
(1) कोर्ट ऑफ डायरेक्टर का कार्यकाल 1 वर्ष से बढ़ाकर 4 वर्ष किया गया
(2) बंगाल प्रेसीडेंसी के गवर्नर को अंग्रेजी क्षेत्रों का गवर्नर जनरल कहा जाने लगा तथा मद्रास व बम्बई के गवर्नर उसके अधीन हो गए
(3) कलकत्ता में एक सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना की गई जिसमें एक मुख्य न्यायाधीश व तीन अन्य न्यायाधीश रखे गए। सर्वोच्च न्यायालय का कार्यक्षेत्र बंगाल, बिहार एवं उड़ीसा तक सीमित था
(4) बिना लाइसेंस के कम्पनी कर्मचारियों के निजी व्यापार को प्रतिबंधित कर दिया गया
(5) गवर्नर जनरल को अध्यादेश जारी करने का अधिकार दिया गया। 1784 में पारित ‘पिट्स इण्डिया एक्ट’ के द्वारा ‘बोर्ड ऑफ कंट्रोल’ की स्थापना की गई तथा कम्पनी के व्यापारिक एवं राजनीतिक कार्यों को अलगअलग किया गया।