Answer for रामानुजाचार्य किससे संबंधित है ?

‘श्री’ सम्प्रदाय के प्रवर्तक रामानुजाचार्य ने 11वीं शताब्दी में वेदों की परम्परा को भक्ति से जोड़ने का प्रयत्न किया। इसी दर्शन को विशिष्टाद्वैतवाद कहा गया। इन्होंने भक्ति पर आधारित लोकप्रिय आन्दोलनों और वेदों पर आधारित उच्चवर्गीय आन्दोलन के बीच महत्वपूर्ण कड़ी का काम किया। रामानुजाचार्य, शेषनाग के अवतार, समझे जाते हैं। वे अलवार भक्तों की शिष्य परम्परा में थे। वे मर्यादा के सबसे बड़े समर्थक थे। प्रमुख भक्ति संतों में रामानन्द प्रमुख थे। द्वैतवाद मत के प्रवर्तक मध्वाचार्य थे।
अन्य प्रमुख मतों के प्रवर्तक इस प्रकार हैं
1. शुद्ध अद्वैतवाद मत-बल्लभाचार्य
2. अद्वैतवाद शंकराचार्य
3. वारकरी सम्प्रदाय तुकाराम
4. धारकरी सम्प्रदाय-रामदास
5. सनक सम्प्रदाय-निम्बार्काचार्य