Answer for टोडरमल कौन था ?

राजा टोडरमल एक योद्धा, एक योग्य प्रशासक और एक अनुकरणीय वित्त मंत्री थे। वह अकबर के दरबार के ‘नवरत्न में’ से एक थे। उन्होंने एक उत्कृष्ट भूमि राजस्व प्रणाली की शुरुआत की थी। 1582 में, सम्राट ने उनको दिवान-ए-अशरफ की पदवी से नवाजा था।
उत्तर प्रदेश के एक खत्री परिवार में उनका जन्म हुआ, उन्होंने अकबर के दरबार में एक मुंशी के रूप में सेवा की। अकबर उनकी प्रशासनिक क्षमता से प्रभावित थे और उन्होंने टोडरमल को ‘वजीर’ का पद प्रदान किया। वित्त मंत्री के रूप में उन्होंने भू-राजस्व संग्रहण और मूल्यांकन को व्यवस्थित प्रक्रिया में बदल दिया। टोडरमल ने भूमि कर ढाँचे का पुनर्निर्माण किया और फसल की क्षति के लिए मुआवजे देने की शुरुआत की। उनकी व्यवस्था इतनी प्रभावी और आधुनिक थी कि अन्य शासक और यहाँ तक कि अंग्रेजों ने भी इसका अनुसरण किया।
शेरशाह के अधीन काम करते हुए टोडरमल का प्रशासनिक कौशल और तेज हो गया था। 1582 में, इनको सम्राट द्वारा दीवान-ए-अशरफ की पदवी दी गई थी। अपनी मंत्रीय प्रतिभा के अलावा, वह एक सक्षम सैनिक और सेनापति भी थे। वह बंगाल में अफगानी बगदादों को कुचलने के लिए राजा मान सिंह के साथ थे।
टोडरमल जाब्ता प्रणाली के वास्तविक जनक थे। उनकी इस प्रणाली का सर्वप्रथम प्रयोग शेरशाह ने किया, जो जाब्ता-हरसाला की तरह था। बाद में अकबर ने इसे आइने-दहसाला का रूप दिया। टोडरमल की ही सहायता से अकबर ने आइने-दहसाला को लाग किया था।