सीमेंट की खोज किसने की

सीमेंट की खोज किसने की

घर बनाने के लिए जो सबसे महत्वपूर्ण सामग्री है वह सिमट ही होती है सीमेंट के बगैर घर बनाना बहुत मुश्किल है पुराने समय में घर बनाने के लिए मिट्टी का इस्तेमाल किया जाता था और आज भी मिट्टी का कहीं-कहीं पर इस्तेमाल किया जाता है लेकिन मुख्यतः सीमेंट का ही इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है क्योंकि सीमेंट सबसे मजबूत सामग्री है.घर बनाने के लिए सीमेंट का इस्तेमाल सिर्फ ईंटों को और कंक्रीट को मजबूती देने के लिए किया जाता है.अगर सीमेंट को पानी के साथ मिलाया जाए तो वह कुछ समय के लिए उपयोगी रहेगा उसके बाद में वह जमकर मजबूत हो जाएगा और अगर आप कंक्रीट और इंटर के साथ सीमेंट को लगा देते हैं तो वह उन्हें भी मजबूत बना देता है.

सीमेंट का इतिहास
सीमेंट कैसे बनता है
सीमेंट के प्रकार

सीमेंट का असली नाम पोर्टल सीमेंट है और पोर्टल कोई ब्रांड या कंपनी का नाम नहीं है यह सिर्फ पोर्टलैंड की भाषा में इसे पोर्टल सीमेंट कहा जाता है.

सीमेंट का इतिहास

सीमेंट का इतिहास बहुत पुराना है क्योंकि प्राचीन सभ्यताओं ने भवन निर्माण में  पहले से ही ऐसी सामग्री का इस्तेमाल करते थे लेकिन अठारहवीं शताब्दी में ब्रिटेन,  में, जहाजों के नुकसान को रोकने के लिए  चट्टानों पर लाइटहाउस बनाने की ज़रूरत थी उस समय सीमेंट का  इस्तेमाल उजागर हुआ

सबसे पहले सन ,1824 में यूसुफ असपदीन ने पोर्टलैंड सीमेंट”  को पेटेंट करवाया  उन्होंने इसे मिट्टी और चूना पत्थर से बनाया इसे कंक्रीट से बनाया था इसलिए इसे पोर्टलैंड सीमेंट कहा क्योकि पोर्टलैंड चुना पत्थर की तरह दिखता है, और सन 1845 में एशेज जॉनसन  ने पोर्टलैंड सीमेंट को आधुनिक उपयोग के लिए बनाया

जॉनसन ने पोर्टलैंड सीमेंट बनाने के लिए उसी सामग्री का इस्तेमाल किया था, जो  अब हम उपयोग करते हैं, आज तो अलग अलग क्वालिटी की सीमेंट बनाई जाती है और बहुत सी कंपनी अलग अलग नाम से सीमेंट का उत्पादन करती है

सीमेंट कैसे बनता है

सबसे पहले सीमेंट को बनाने के लिए उपयोग होने वाला कच्चा माल  कैल्शियम, सिलिकॉन, लोहा और एल्यूमिनियम खदानों से निकालकर फैक्ट्रियों तक लाया जाता है जब कच्चा माल फैक्ट्री के अंदर लाया जाता है तो वह शुद्ध नहीं होता चूना पत्थर के अंदर कैल्शियम होता है और सिलिकॉन लोहा और एलुमिनियम रेत के अंदर होता है

फिर इनको साफ करके और अच्छी तरह पीसा जाता है और एक पाउडर तैयार किया जाता है आम तौर पर, चूना पत्थर 80% है और शेष 20% मिट्टी  होती है फिर इस कच्चे माल को मशीनों द्वारा पीसकर एक पाउडर तैयार किया जाता है और इसको  1500 डिग्री सेल्सियस पर गर्म किया जाता है

और फिर  कैल्शियम और सिलिकॉन डाइऑक्साइड के यौगिकों के बीच रासायनिक प्रतिक्रिया होती है तब सीमेंट बनती है और फिर सीमेंट को बाहर निकाल कर ठंडा किया जाता है और फिर दोबारा उसको मशीन के अंदर एक बार फिर गर्म किया जाता है और फिर उसको बाहर निकाल कर ठंडा करके पैक किया जाता है , यह लगभग 20-40 किलो बैग तक पैक किया जाता है।और आपके पास पहुंचाई जाती है

सीमेंट के प्रकार

सीमेंट कोई एक प्रकार की नहीं होती इसके अंदर इस्तेमाल होने वाले कच्चा माल और क्वालिटी उपयोग और क्षमता के हिसाब से बहुत सी प्रकार की होती है सभी जगह एक प्रकार के सीमेंट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता कई जगह तो अच्छी क्वालिटी की और अच्छी क्षमता वाली सीमेंट का इस्तेमाल करना पड़ता है जैसे पुलों के निर्माण और बड़ी-बड़ी बिल्डिंगों के निर्माण में अच्छी क्वालिटी की सीमेंट जरूरी होती है लेकिन कई छोटी जगह पर कम क्षमता वाली सीमेंट का इस्तेमाल भी किया जाता है जिनकी ग्रेड थोड़ी सी कम होती है इसलिए इनके इस्तेमाल के आधार पर ही सीमेंट अलग-अलग क्वालिटी की बनाई जाती है

  1. Portland Blast Furnace slag cement (PBFSC)
  2. Sulphate Resisting Portland Cement
  3. Ordinary Portland Cement (OPC)
  4. Rapid Hardening Portland Cement
  5. Portland Pozolona Cement (PPC)
  6. Oil Well Cement
  7. White cement

सीमेंट बनाने वाली कंपनियां इंडिया में

1. ACC
2. J.K.( Shakti Laxmi)
3. Birla ( Chetak Mehar ,Uttam, Khauraho, Manglam)
4. Shree
5. Prism
6. Dig Vijay
7. Ambuja
8. CCI
9. Vikram
10. Jay Pee Rewa
11. Binani
12. Shri Ultra
13. L. & T.

इस पोस्ट में आपको सीमेंट का इतिहास सीमेंट विनिर्माण प्रक्रिया सीमेंट के घटक सबसे अच्छा सीमेंट सीमेंट के ग्रेड पीपीसी सीमेंट सीमेंट बनाने की विधि सीमेंट के नाम सीमेंट कैसे बनती है के बारे में बताया गया है अगर इसके अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें. और इस पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि दूसरे भी इस जानकारी को जान सकें.

11 Comments

Leave a Comment