सैटेलाइट का आविष्कार किसने किया

सैटेलाइट का आविष्कार किसने किया

सैटेलाइट के बारे में तो आपने पढ़ा ही होगा यह स्पेस में होती है और इन्हें कृत्रिम उपग्रह भी कहा जाता है  आमतौर पर, शब्द “उपग्रह” एक ऐसी मशीन  है जिसे अंतरिक्ष में लॉन्च किया जाता है और पृथ्वी के चारों ओर घुमती रहती  है  जिसे यह पूरी अंतरिक्ष की जानकारी धरती तक पहुंचाती है और यह धरती के मौसम के बारे में भी सारी जानकारी विज्ञानिकों को देती है.

पृथ्वी और चंद्रमा प्राकृतिक उपग्रहों के उदाहरण हैं पृथ्वी के हजारों कृत्रिम, या मानवनिर्मित, उपग्रह कक्षाएं  कक्षा में चक्कर लगाते हैं और वैज्ञानिक इन  कृत्रिम उपग्रह की सहायता से अंतरिक्ष पृथ्वी की तस्वीरें लेते हैं जिससे वह मौसम की भविष्यवाणी करते हैं और तूफानों को भी ट्रैक करते हैं जिससे हमें किसी भी तूफान या भूकंप की पहले से जानकारी मिल जाती है और इन उपग्रह से  कुछ अन्य ग्रहों, सूर्य, ब्लैक होल काले पदार्थ या दूर आकाशगंगाओं की तस्वीरें लेते हैं इन तस्वीरों से वैज्ञानिक सौर मंडल और ब्रह्मांड को बेहतर ढंग से समझ पाते  हैं  उपग्रह मुख्य रूप से संचार के लिए उपयोग किए जाते हैं, जैसे कि दुनिया भर में टीवी सिग्नल और फ़ोन कॉलों के सिगनल में इस्तेमाल किया जाता है.

सैटेलाइट का इतिहास

सबसे पहला कृत्रिम उपग्रह का नाम  स्पुतनिक 1  था और इसको सोवियत संघ द्वारा 4 अक्टूबर 1957 को लॉन्च किया गया था और पहले सेटेलाइट के डिज़ाइनर  सेर्गेई कोरोलेव (Sergei Korolev) थे उन्होंने पहली कृत्रिम उपग्रह का डिजाइन तेयार किया था और पहले कृत्रिम उपग्रह स्पुतनिक 1 ने अपनी कक्षा के परिवर्तन के माप से वायुमंडलीय परतों (atmospheric layers) के उच्च घनत्व की पहचान करने में मदद की और उसने  रेडियोतरंगो के वितरण का विवरण पृथ्वी तक पहुंचाया |

और पहला कृत्रिम उपग्रह स्पुतनिक 1 की सफलता वह देखकर अमेरिका ने भी अपने अभियान तेज कर दिए लेकिन सोवियत संघ ने 3 नवंबर ,1957 को स्पुतनिक 2 शुरू किया गया था और लैका नाम का एक कुत्ता ) प्रथम जीवित यात्री के रूप में  अंतरिक्ष में भेजा गया और यह प्रोजेक्ट भी काफी हद तक सफल रहा |

और सोवियत संघ की इस क्षेत्र में सफलता देख कर अमरीका भी पीछे नही रहा और अमेरिकी में रॉकेट सोसायटी , राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन और अंतर्राष्ट्रीय भूभौतिकीय वर्ष  के दबाव के चलते,हुए  सैन्य ने कदम  उठाया और जल्दी 1955 को वायु सेना और नौसेना परियोजना ऑर्बिटर  जो एक उपग्रह प्रक्षेपण करने के लिए एक ज्यूपिटर सी रॉकेट  का उपयोग  किया और फिर जनवरी 31, 1958 को संयुक्त राज्य अमेरिका का पहला उपग्रह बना जिसका नाम  एक्स्प्लोरर 1 था

और नवम्बर 1967 में, ऑस्ट्रेलिया ने अपना पहला कृत्रिम उपग्रह प्रोजेक्ट चलू कर दिया और कुछ दिन में अपना पहला  कृत्रिम उपग्रह अंतरिक्ष में सेट कर दिया ऑस्ट्रेलिया ने अपना पहला कृत्रिम उपग्रह नवम्बर 1967 में,डबल्यूआरइएसऐटी (WRESAT) सेट किया |

इसके बाद  बहुत से देश ने  अपने अलग अलग कृत्रिम उपग्रह प्रक्षेपण करने चलू कर दिए कृत्रिम उपग्रह पर  प्रक्षेपण तो बहुत देशों ने किए लेकिन उनमें से कुछ ही देश  सफल प्रक्षेपण कर पाए जिनकी सूची नीचे दी गई है |
देश का सबसे पहला प्रक्षेपण

देश पहले प्रक्षेपण का साल पहला उपग्रह
साँचा:देश आँकड़े Soviet Union 1957 स्पुतनिक 1 (Sputnik 1)
 United States 1958 एक्स्प्लोरर 1 (Explorer 1)
 France 1965 एसस्टेरिक्स (Astérix)
 Japan 1970 ओसुमी (Osumi)
 China 1970 डॉन्ग फेंग हांग I (Dong Fang Hong I)
 United Kingdom 1971 प्रोस्पेरो X-3 (Prospero X-3)
 India 1980 रोहिणी (Rohini)
 Israel 1988 ओफेक 1 (Ofeq 1)

और कृत्रिम उपग्रह अपने काम के हिसाब से बहुत प्रकार के हैं सभी कृत्रिम उपग्रह अपने काम के हिसाब से अंतरीक्ष में सेट किये गये है और सभी कृत्रिम उपग्रह के अपने अलग अलग काम है वैज्ञानिकों ने इन कृत्रिम उपग्रह को काम के हिसाब से डिजाइन किया गया है और अंतरिक्ष में सेट किया गया है |

कृत्रिम उपग्रह के प्रकार

  1.  उपग्रह विरोधी हथियार/”किलर उपग्रह” (Anti-Satellite weapons/”Killer Satellites”)
  2. मौसम उपग्रह (Weather satellite)
  3. टिथर उपग्रह (Tether satellite)
  4. अंतरिक्ष स्टेशन (Space station)
  5. आविक्षण उपग्रह (Reconnaissance satellite)
  6. पृथ्वी अवलोकन उपग्रह (Earth observation satellite)
  7. नेवीगेशन उपग्रह (Navigational satellites)
  8. छोटे उपग्रह (Miniaturized satellites)
  9. संचार उपग्रह (Communications satellite)
  10. जैवीय उपग्रह (Biosatellite)
  11. खगोलीय उपग्रह (Astronomical satellite)

तो यही वह उपग्रह है जो अंतरिक्ष में सेट किए गए हैं  और बहुत से देशों ने अपने अलग-अलग कृत्रिम उपग्रह सेट किए हुए हैं लेकिन सभी उपग्रह की निगरानी के लिए अमेरिका ने संयुक्त राज्य अमेरिका अंतरिक्ष निगरानी नेटवर्क Network) (एसएसएन) 1957 से, जब से सोवियत संघ ने स्पुतनिक के प्रक्षेपण के साथ अंतरिक्ष युग को खोला है

यह भी देखे

इस पोस्ट में आपको  सैटेलाइट क्या है उपग्रह के उपयोग कृत्रिम उपग्रह के उपयोग satellite in hindi सेटेलाइट के जरिए उपग्रह का अर्थ उपग्रह किसे कहते है भारत के उपग्रह के बारे में बताया गया है अगर इसके अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें. और इस पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि दूसरे भी इस जानकारी को जान सकें.

Avishkar
Comments (19)
Add Comment
  • Vinodkumar

    Chalsh baibaj ka blood group kya that
    Vinodkumar 7755086626

  • Vinodkumar

    Chalsh baibaj ka blood group kya that
    Vinodkumar 7755086626

  • Vinodkumar

    Chalsh baibaj ka blood group kya that
    Vinodkumar 7755086626

  • Ankita kumari

    Artificial satellites kaise bnaye jate h?

  • Deepak Barskar

    वर्तमान समय में जो सिटीलाइट घूम रहा है पृथ्वी के चारों ओर कौन से देश का है बनाया हुआ

  • Deepak Barskar

    वर्तमान समय में जो सिटीलाइट घूम रहा है पृथ्वी के चारों ओर कौन से देश का है बनाया हुआ

  • Deepak Barskar

    वर्तमान समय में जो सिटीलाइट घूम रहा है पृथ्वी के चारों ओर कौन से देश का है बनाया हुआ

  • jagdish dilip mirge

    information is gerat

  • jagdish dilip mirge

    information is gerat

  • jagdish dilip mirge

    information is gerat

  • kishan rajbhar

    sir kalamsat ke bare me bhi sabhi information upload kar do

  • kishan rajbhar

    sir kalamsat ke bare me bhi sabhi information upload kar do

  • kishan rajbhar

    sir kalamsat ke bare me bhi sabhi information upload kar do

  • kishan rajbhar

    sir kalamsat ke bare me bhi sabhi information upload kar do aur kya real me high school ke students ne isko banaya hai

  • kishan rajbhar

    sir kalamsat ke bare me bhi sabhi information upload kar do aur kya real me high school ke students ne isko banaya hai

  • Amit

    Thank you so much Sir

  • Amit

    Thank you so much Sir

  • Kishan Bhardwaj, satna

    Great sir, aur alag banao, ab toh yaad h….. Thanks??????

  • Kishan Bhardwaj, satna

    Great sir, aur alag banao, ab toh yaad h….. Thanks??????