स्वपनदोष क्या है स्वप्नदोष के लक्षण स्वप्नदोष की रामबाण दवा

स्वपनदोष क्या है स्वप्नदोष के लक्षण स्वप्नदोष की रामबाण दवा

आजकल के युवाओं में ज्यादातर शारीरिक संबंधों से जुड़ी हुई समस्याएं उत्पन्न हो रही है क्योंकि आजकल का समय बिल्कुल बदल चुका है और हमारे रहन-सहन और बर्ताव का तरीका बिल्कुल बदल चुका है इसके साथ ही हमारे शरीर के अंदर उत्पन्न होने वाली समस्याएं भी बदल चुकी है और हमें बहुत ही अलग-अलग प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है वैसे तो कुछ ऐसी समस्याएं होती है जिनसे आसानी से पीछा छुड़ाया जा सकता है.

लेकिन कुछ ऐसी शारीरिक समस्या होती है जो कि आसानी से हमारा पीछा नहीं छोड़ती इसी तरह से एक समस्या स्वप्नदोष भी हैं स्वप्नदोष एक ऐसी समस्या है जो कि आजकल के युवाओं में कमजोरी का कारण बनती जा रही है और यह समस्या कोई आम समस्या नहीं है अगर एक बार यह समस्या किसी पुरुष को लग जाती है तब उससे छुटकारा पाना बहुत ही कठिन होता है और इस समस्या से शरीर में कई और समस्याएं भी पैदा हो जाती है तो आज इस ब्लॉग में हम बात करें कि स्वप्नदोष क्या होता है यह कैसे होता है और इसे कैसे छुटकारा पाया जा सकता है.

स्वप्नदोष क्या होता है

पहले हम बात करते हैं स्वप्नदोष क्या होता है स्वप्नदोष एक ऐसी समस्या है जो कि आमतौर पर 15 से 25 साल के युवा लड़के में उत्पन्न होती है ऐसा तब होता है जब आप किसी लड़की से शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा रखते हो और उसमें आप सफल नहीं हो पाते तब रात के समय में सोते समय आपके शरीर से वीर्य अपने आप निकल जाता है वैसे तो यह समस्या 1 महीने में 6-7 बार होना आम बात है लेकिन जब यह समस्या महीने में 15 से 20 बार होती है तब यह आपके लिए परेशानी पैदा कर सकती है.

ऐसा तब होता है जब आपके शरीर शुक्राशय, प्रोस्टेट और अन्य ग्रंथियों से निकलने वाला स्राव शरीर में जरूरत से ज्यादा इकट्ठा हो जाता है और फिर उसे आप संभोग या हस्तमैथुन के द्वारा बाहर नहीं निकलते तब निंद्रा अवस्था में आपके दिमाग में कामवासना या शारीरिक संबंध से जुड़े हुए दृश्य दिखाई देते हैं और जिसमें आप लड़की के साथ संबंध बना रहे होते हैं और फिर आप का वीर्य अपने आप निकल जाता है वैसे तो अगर यह आपके साथ 1 महीने में 5 से 6 बार होता है तो इससे आपके शरीर में कोई हानि नहीं होती बल्कि आप क्या मानसिक तनाव दूर हो जाता है और आपकी इंद्रियां बिल्कुल तरोताजा हो जाती है

स्वप्नदोष के कारण

आपके लिए जाना बहुत ही जरूरी है कि स्वप्नदोष के स्वप्नदोष समस्या उत्पन्न होने के क्या क्या कारण है होते हैं क्योंकि दो वैसे तो स्वप्नदोष के बहुत सारे कारण होते हैं लेकिन इनमें से कुछ मुख्य कारण है जैसे

  • दिन भर वासना के विचारों को मन में रखना
  • ज्यादा अश्लील बुक्स और स्टोरी पढ़ना
  • नग्न फोटो व बुक आदि देखना
  • ज्यादा रोमांटिक फिल्मी सॉन्ग देखना
  • किसी से ज्यादा कामवासना की बातें करना
  • लड़की को देखते ही उसके साथ संबंध बनाने की इच्छा रखना
  • लड़की को वासना की दृष्टि से देखना
  • युवतियों से ज्यादा निकट रहना या अश्लील बातें करना
  • ज्यादा हस्तमैथुन करना
  • अप्राकृतिक मैथुन में लिप्त होना
  • ज्यादा उत्तेजक पदार्थों का सेवन करना
  • जैसे मिर्च मसालेदार भोजन
  • चटपटी
  • खट्टी व मांस मछली अंडा आदि का सेवन करना ज्यादा नशे का सेवन करना जैसे शराब
  • तंबाकू
  • गुटखे खाना

तो ये ऐसे कारण होते हैं जो कि स्वप्नदोष समस्या को उत्पन्न करने में सहायक होते हैं

स्वप्नदोष के लक्षण

स्वप्नदोष एक ऐसी समस्या है जिसके उत्पन्न होने के बहुत सारे लक्षण होते हैं इनमें से कुछ ऐसे मुख्य लक्षणों है जैसे

  • इस समस्या के उत्पन्न होने से आंखों में अंधेरा रहने लगेगा
  • आंखों के चारों और कालापन आ जाएगा
  • शरीर में कमजोरी हो जाएगी
  • आपकी नजर कमजोर हो जाएगी
  • शरीर से सुस्ती गायब हो जाएगी
  • स्मरण शक्ति घट जाएगी
  • आपका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाएगा
  • आपके चेहरे की रौनक गायब हो जाएगी
  • आपको खुद से नफरत होने लगेगी
  • आपके सिर और जोड़ों में दर्द रहेगा
  • आपको जल्दी थकावट आएगी
  • हाथ पैर बिल्कुल ठंडे रहने लगेंगे
  • किसी से नजर मिलाकर बात करने की हिम्मत नहीं होगी आपको अकेला रहने की इच्छा होने लगेगी
  • शीघ्रपतन की समस्या बढ़ जाएगी
  • आपका पेशाब रसदार निकलने लगेगा

यह कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जोकि स्वप्नदोष की समस्या उत्पन्न होने पर शरीर में दिखाई देते हैं

क्या-क्या खाना चाहिए

स्वप्नदोष एक ऐसी समस्या है जिसको आप अपने खान-पान से भी कंट्रोल कर सकते हैं या इससे छुटकारा भी पा सकते हैं लेकिन अगर आप अपने खानपान के ऊपर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं तब यह समस्या और भी बढ़ सकती है

  • आपको हमेशा पौष्टिक व संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए
  • आपको हमेशा सोने से लगभग 2 से 3 घंटे पहले बहुत जने करना चाहिए
  • आपको ज्यादा से ज्यादा काजू, बादाम, पिस्ते, छुहारा और मुनक्का आदि का सेवन करना चाहिए
  • सफेद प्याज और अदरक के रस को एक एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर सुबह-शाम सेवन करना चाहिए
  • आपको एक कप दूध के साथ दो-दो केले सुबह शाम हर रोज खाने चाहिए
  • आपको मीठे फल और बेर, लहसुन, प्याज, शहद, रबड़ी, मलाई और मक्खन आदि का सेवन करना चाहिए
  • आपको हर रोज सुबह शाम आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए

क्या क्या नहीं खाना चाहिए

  • आपको ज्यादा मिर्च मसालेदार पर चटपटी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको तले भुने हुए खाने से परहेज करना चाहिए
  • आपको ज्यादा खटाई युक्त चीजें वह अचार, नींबू और अमचूर आदि का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ज्यादा उत्तेजक पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे कड़क चाय, शराब, तंबाकू, गुटका और भांग आदि
  • भोजन में ऊपर से नमक डालकर नहीं खाना चाहिए

क्या करना चाहिए

जिस तरह से आपको अपने खान-पान के ऊपर ध्यान देने की जरूरत है उसी तरह से आपको अपने कुछ काम या आदतों के ऊपर भी ध्यान देने की जरूरत होती है जैसे

  • आपको रात के समय में तांबे के बर्तन में पानी रखकर सुबह खाली पेट पीना चाहिए
  • आपको सोते समय धार्मिक व मनोरंजक पुस्तके पढ़नी चाहिए या वीडियो आदि देखनी चाहिए
  • आपको रात को सोते समय और सुबह उठते ही पेशाब करना चाहिए
  • आपको हमेशा ठंडे पानी से नहाना चाहिए
  • आपको हर रोज सुबह शाम खुली हवा में घूमने जाना चाहिए
  • सुबह सुबह हल्का व्यायाम करना चाहिए और शरीर की मालिश करनी चाहिए
  • आपको हमेशा जल्दी सोने और जल्दी उठने की आदत बनानी चाहिए

क्या न करें

  • अपने शरीर में कब्ज की शिकायत पैदा न होने देनी चाहिए
  • ज्यादा अश्लील, कामोत्तेजक साहित्य न पढ़ें
  • आपको ज्यादा अश्लील फिल्में, सांग व टी.वी. के कामोत्तेजक कार्यक्रम नहीं देखने चाहिए
  • आपको हस्तमैथुन, गुदा मैथुन, करने से बचना चाहिए
  • किसी लड़की को अश्लील, कामोत्तेजक दृष्टि से नहीं देखना चाहिए

स्वप्नदोष की आयुर्वेदिक दवा स्वप्नदोष की रामबाण दवा

लेकिन अगर फिर भी आपको स्वप्नदोष की समस्या होती है तब आप कुछ आयुर्वेदिक  दवाइयों का इतेमाल कर सकते है जिनके बारे में हमने आपको निचे बताया है. इनको आप ड्रॉक्टर की सलाह से ले सकते है.

  • हिमालया स्पीमेन प्लेन व फोर्ट – आवश्यकतानुसार 2-2 गोलियां दिन में 3 बार (सुबह, दोपहर, शाम) ताजा पानी के साथ महीना-15 दिन निरन्तर सेवन करायें।
  • डाबर स्वप्नहरी टेबलेट – 1-1 गोली दिन में 2 बार ठण्डे पानी से सेवन करें।
  • धन्वन्तरि स्वप्नोजित वटी – 1-2 गोली दिन में 2 बार दूध के साथ दें। इसके साथ कुशावलेह एवं चन्दनासव रोगी को सेवन कराना अधिक लाभकर है।
  • शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए ‘अश्वगन्धा चूर्ण’ 3-3 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम दूध के साथ रोगी को देना चाहिए।
  • मानसिक तनाव को दूर करने के लिए ‘ब्राह्मी रसायन’ 5 ग्राम सुबह के समय दूध के साथ या ‘सारस्वतारिष्ट’ 20-20 मिली० समान भाग पानी में मिलाकर दिन में 2 बार भोजनोपरान्त देना चाहिए।

यदि रोगी को कब्ज हो तो रात को सोते समय-त्रिफला चूर्ण 3 ग्राम (आधा चम्मच) पानी के साथ लेना चाहिए या पञ्च सकार चूर्ण 2-3 ग्राम मधू के अनुपान के साथ अथवा ईसबगोल की भूसी 3 ग्राम गर्म दूध के साथ या एरण्ड तेल (कैस्टर ऑयल) 5-10 बूंद 250 मिली० दूध में डालकर अथवा दूध में मुनक्का 5-7 नग डालकर व उबालकर सेवन करना चाहिए।

स्वप्नदोष के फायदे स्वप्नदोष का पतंजलि दवा पतंजलि स्वप्नदोष की दवा स्वप्नदोष की आयुर्वेदिक दवा स्वप्नदोष की टेबलेट पतंजलि स्वप्नदोष घरगुती उपाय

Leave A Reply

Your email address will not be published.