सफेद दाग के प्रारंभिक लक्षण सफेद दाग की आयुर्वेदिक दवा

सफेद दाग के प्रारंभिक लक्षण सफेद दाग की आयुर्वेदिक दवा

वैसे तो कहा जाता है कि दुनिया में इंसानों में सिर्फ दो ही रंग होते है या तो आपको कोई इंसान सफेद या फिर काले रंग का दिखाई देगा लेकिन फिर भी कई बार किसी इंसान को त्वचा के रोग होने के कारण उसका रंग अलग हो जाता है कई बार आपने देखा होगा कि सफेद इंसानों के शरीर पर आपको काले रंग के धब्बे दिखाई देंगे जबकि काले रंग के इंसानों के ऊपर आपको सफेद रंग के धब्बे देखने को मिलेंगे .

यह धब्बे एक स्वस्थ और साफ-सुथरे इंसान का शरीर बिल्कुल खराब कर देते हैं और कई बार यह धब्बे इतने ज्यादा हो जाते हैं कि लोग उस इंसान को देखने से नफरत करते हैं और वह इंसान मन ही मन में अपने आप को बहुत कोसता है लेकिन ऐसा नहीं है कि ये धब्बे ठीक नहीं हो सकते या आप उनसे छुटकारा नहीं पा सकते क्योंकि ये धब्बे हमारे शरीर में कुछ कमी होने के कारण होते हैं तो आज किस ब्लॉक में हम बात करेंगे सफेद धब्बों के बारे में कि यह कैसे होते हैं उन से कैसे बचा जा सकता है और इनके होने पर क्या-क्या करना चाहिए.

सफेद धब्बे क्या है

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया जब किसी इंसान को उसके शरीर के ऊपर सफेद रंग के दबे होने लगते हैं तब हमारे शरीर का प्राकृतिक रंग बदल जाता है और उसकी जगह पर सफेद रंग के धब्बे दिखाई देने लगते हैं और जब शरीर पर सफेद धब्बे होते हैं तब इसको शिवत्र भी कहा जाता है वैसे तो यह शरीर के किसी एक हिस्से पर होता है लेकिन लेकिन धीरे-धीरे पूरे शरीर पर फैल जाता है

एक समय ऐसा आता है जब पूरा शरीर सफेद हो जाता है वैसे तो यह संक्रामक रोग नहीं होता और ना ही इस रोग के होने पर किसी भी तरह की पीड़ा होती लेकिन जब सफेद धब्बों की समस्या होती है तब यह शरीर की त्वचा के ऊपर मेलेनिन नामक रंजक द्रव पदार्थ को दूर कर देता है जोकि हमारी त्वचा को प्राकृतिक रंग प्रदान करता है और जब वह दूर हो जाता है तब हमारे शरीर पर अलग-अलग प्रकार के दबे होने लगते हैं

सफेद धब्बों के कारण

वैसे तो किसी भी इंसान के शरीर पर सफेद धब्बे होने के बहुत सारे कारण होते हैं जैसे शरीर के अंदर कमी उत्पन्न होना, जब हमारी त्वचा में मिलोनोसाइट्स सेल्स द्वारा उत्पादित मेलेनिन की कमी आना, इसके अलावा पेट में बारीक कीड़ों की उपस्थिति या खाने में तांबे के तत्वों की कमी से दाग बढ़ना शुरू हो जाते हैं कई बार यह पैतृक या वंशानुगत भी होते हैं बड़ी या अप्रिय नारी के साथ संबंध बनाने, बेमौसम भोजन खाने से, अधिक भोजन के बाद व्यायाम करने से, अधपके भोजन को खाने से, ज्यादा मांस खाने से, बिना पचे हुए भोजन के ऊपर दोबारा भोजन करने से, ज्यादा कठोर भोजन करने से, कब्ज की समस्या रहने से ,यकृत का कमजोर होने से, पीलिया होने पर, कमर पर ज्यादा टाइट पैंट या बेल्ट आदि बांधने से, आपको इस तरह के दबे हो सकते हैं

सफेद धब्बों के लक्षण

जिस तरह से किसी भी इंसान के शरीर पर सफेद धब्बे होने के कई कारण होते हैं उसी तरह से जब किसी इंसान के शरीर पर सफेद धब्बे उत्पन्न होते हैं तब उसके शरीर के अंदर कई प्रकार के लक्षण देखने को मिलते हैं जैसे जब किसी भी इंशान के शरीर पर सफेद धब्बे दस्तक देते हैं तो सबसे पहले यह उसके हाथों या गर्दन के ऊपर होते हैं इसके अलावा यह कोहनी, चेहरे, टखने, पैर, कमर आदि के ऊपर भी हो सकते हैं जब यह डब्बे होते हैं तब पहले आपको बिल्कुल कमजोर सफेद दिखाई देते हैं लेकिन धीरे-धीरे बिल्कुल सफेद हो जाते हैं और धीरे-धीरे यह पूरे शरीर पर फैल जाते हैं जब किसी को सफेद धब्बे होते हैं तब उस इंसान को किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होती और ना ही किसी भी तरह का कोई दर्द होता

क्या क्या खाएं

जब किसी इंसान को सफेद धब्बों की समस्या उत्पन्न होती है तब उसको खान-पान के ऊपर ध्यान देना बहुत जरूरी होता है क्योंकि अगर यह धब्बे शुरू में कंट्रोल नहीं किए जाते हैं तो यह धब्बे पूरे शरीर के ऊपर फैल सकते हैं

  • आपको बिना नमक की गेहूं, बाजरा, ज्वार और जो आदि की रोटी का सेवन करना चाहिए
  • इसके अलावा आपको जो का दलिया, पुराने चावल, मूंग, मसूर की दाल आदि को भोजन में शामिल करना चाहिए
  • आपको ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जी जैसी पालक, मेथी, बथुआ, परवल, अदरक और लहसुन आदि का सेवन करना चाहिए
  • फलों में आपको आंवला, मौसमी, खजूर, अखरोट, अनार और पपीते आदि का सेवन करना चाहिए
  • आपको हर रोज सुबह-सुबह लस्सी या गाजर के रस का सेवन करना चाहिए
  • आपको चने की दाल या चने के आटे से बनी हुई रोटी का सेवन करना चाहिए

क्या क्या नहीं खाना चाहिए

  • आपको नए अनाज का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ज्यादा तली भुनी हुई मसालेदार चीजों का सेवन भी नहीं करना चाहिए
  • कम से कम सिरका, दही, अमचूर, इमली और नींबू का सेवन करना चाहिए
  • आपको शराब, तमाखू और मांस अंडे आदि से परहेज करना चाहिए
  • आपको कम से कम आलू, उड़द, गन्ना, प्याज, मक्खन, जामुन, मिठाई और केले आदि का सेवन करना चाहिए
  • आपको कभी भी दूध और मछली या दूध और मांस का सेवन एक साथ नहीं करना चाहिए
  • आपको तिल, गुड़ और दूध का सेवन भी एक साथ कभी भी नहीं करना चाहिए

क्या-क्या करना चाहिए

अगर किसी इंसान को सफेद धब्बो की समस्या हो जाती है तब उसको उससे छुटकारा पाने के लिए किन-किन चीजों को करना चाहिए और किन किन चीजों को नहीं करना चाहिए इस बार के ऊपर ध्यान देना भी बहुत ही जरूरी है क्योंकि अगर वह इंसान इन सभी चीजों के ऊपर ध्यान नहीं देता तो आपके शरीर पर धब्बे बहुत ही तेजी से बढ़ सकते हैं

  • आपको ज्यादा से ज्यादा धूप में धूप में बैठना चाहिए
  • आपको हमेशा अपने शरीर से कब्ज की शिकायत दूर करनी चाहिए
  • बेशरम बेहया विलायती आकड़ा का दूध होंठ और आंखों के आसपास छोड़कर शरीर के अन्य हिस्सों के दागों पर सुबह-शाम कुछ महीने नियमित लगाएं
  • आपको हरड़ पीसकर लहसुन के रस में मिलाकर सफेद धब्बो के ऊपर लगानी चाहिए
  • आपको हमेशा सोने से दो-तीन घंटे पहले भोजन करना चाहिए

क्या क्या नहीं करना चाहिए

  • आपको ज्यादा कठोर भोजन करने के बाद व्यायाम नहीं करना चाहती
  • आपको ज्यादा आग तापने नहीं चाहिए
  • दिन भर धूप में काम नहीं करना चाहिए
  • खाने पीने की सफेद  चीजों से परहेज करना चाहिए
  • आपको अपने मल मुत्तर, शुक्राणु आदि के वेगों को नहीं रुकना चाहिए
  • आपको हमेशा जल्दी सोना चाहिए और आपको दिन में कम से कम सोना चाहिए

सफेद दाग की आयुर्वेदिक दवा

लेकिन फिर भी अगर आपको सफेद धब्बे हो जाते हैं या आपको पहले से ही सफेद धब्बों की समस्या है तब आप कुछ आयुर्वेदिक आयुर्वेदिक दवाइयां का इस्तेमाल करके भी इससे छुटकारा पा सकते हैं जिनके बारे में हमने आपको नीचे बताया है. इन सभी को आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं.

Jyotishmati / Malkangni Taila – मालकांगनी/ज्योतिष्मती का उपयोग सफेद दाग के उपचार के लिए किया जाता है।

सफेद दाग का इलाज पतंजलि – पतंजलि Bakuchi Churna – बाकुची  उपयोग सफेद दाग के उपचार के लिए किया जाता है।

अखरोट सफेद दाग में काफी फायदेमंद है। अखरोट रोज खायें। यह सफेद पड़ चुकी त्वचा को काली करने में मदद करेगी।नीम के पत्ती को पीसकर उसका पेस्ट बनाये और उसे दाग वाले जगह में एक महीने तक लगायें।अदरक सफेद दाग के लिए बहुत ही बेहतरीन सामग्री है। अदरक शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और मेलेनिन के उत्पादन को बढ़ाता है।सफेद दाग को ठीक करने के लिए कम से कम चार से छः महीने तक तुलसी की पत्तियों को रोजाना जरूर खाएं।आप एक कप पानी में इन पत्तियों को डालकर भी तुलसी की चाय पी सकते हैं।

सफेद दाग की क्रीम पतंजलि सफेद दाग की होम्योपैथिक दवा सफेद दाग में दूध पीना चाहिए कि नहीं सफेद दाग के टोटके सफेद दाग का इलाज पतंजलि सफेद दाग हटाने की क्रीम सफेद दाग की टेबलेट

Leave A Reply

Your email address will not be published.