मासिक धर्म के दौरान तेज दर्द के कारण लक्षण बचाव व उपचार

मासिक धर्म के दौरान तेज दर्द के कारण लक्षण बचाव व उपचार

जैसा कि आप सभी जानते हैं मासिक धर्म आना एक सामान्य प्रक्रिया है और इस प्रक्रिया से लगभग सभी महिलाओ या लड़कियों को गुजरना पड़ता है लेकिन जब किसी महिला में मासिक धर्म आते हैं तब कई बार यह उनको इतनी ज्यादा तकलीफ देता है .

कि वह इस मासिक धर्म की प्रक्रिया को सहन भी नहीं कर पाती बहुत सारी महिलाओं में सामान्य मासिक धर्म होते हैं लेकिन कई महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान इतना ज्यादा दर्द होता है कि वह उनको सहन नहीं कर पाती तो इस ब्लॉग में हम मासिक धर्म में दर्द होने के कारण, लक्षण, बचाव व इसके उपाय आदि के बारे में बात करेंगे

मासिक धर्म में दर्द

मासिक धर्म के बारे में तो आप सभी जानते ही होंगे कि जब कोई लड़की 10 से 14 वर्ष की आयु की हो जाती है तब उसको मासिक धर्म आने शुरू हो जाते हैं और यह लगभग 40 से 45 वर्ष तक की आयु में नियमित रूप से आने आते रहते हैं लेकिन कई बार कई महिलाओं में मासिक धर्म से जुड़ी हुई बहुत सारी परेशानियां होने लगती है और इन्हीं परेशानियों में से एक मासिक धर्म में कठोर पीड़ा होना भी एक ऐसी ही समस्या है जिससे महिलाओं को हर महीने गुजरना पड़ता है सामान्य रूप से मासिक धर्म हर 28 दिन के अंदर आते रहते हैं और इस दौरान महिलाओं की योनि से खून का बहाव भी होता है.

और महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान पेट दर्द, कमर दर्द जैसे दर्द का भी सामना करना पड़ता है लेकिन मासिक धर्म दर्द होना आम बात है लेकिन कई महिलाओं में यह दर्द सामान्य महिलाओं के मुकाबले में ज्यादा होता है जिसको कई लड़की या महिलाएं सहन नहीं कर पाती और कई महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान पेट दर्द उल्टी और थकान जैसी समस्या भी दिखाई देती है महिलाओं को लगभग 2 दिन के मासिक धर्म के बाद दर्द कम होने लगता है और उनका रक्त भाव भी रुक जाता है

मासिक धर्म में पीड़ा के कारण

वैसे तो मासिक धर्म में दर्द होना आम बात है क्योंकि मासिक धर्म के दौरान महिलाओं की के शरीर से एक ऐसा हार्मोन निकलता है जो कि महिलाओं के शरीर में इंफेक्शन और संक्रमण जैसी समस्याओं का सामना करता है लेकिन कई बार बहुत सारी महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान ज्यादा खून निकल जाता है.

जिससे महिला की मांसपेशियों में कमजोरी हो जाती है और इसी के कारण बहुत सारी महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द पेट दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है कई महिलाओं में मासिक धर्म से एक-दो दिन पहले ही दर्द शुरू हो जाता है. इनका मुख्य कारण महिला का शारीरिक रूप से कमजोर होना महिला के शरीर में खून की कमी होना महिला का ज्यादा नशीली चीजों का सेवन करना

महिला का ज्यादा कठोर कार्य करना महिला के ऊपर काम का ज्यादा बोझ होना महिला का नियमित रूप से संभोग करना महिला का किसी बड़ी बीमारी से ग्रस्त होना आदि समस्या के मुख्य कारण होते हैं महिला के शरीर में इंफेक्शन या संक्रमण होना

मासिक धर्म में तेज दर्द के लक्षण

वैसे तो इस समस्या के लक्षणों के बारे में आपको ज्यादा बताने की जरूरत नहीं है क्योंकि जब भी किसी महिला को तेज दर्द होगा तो उसके शरीर में पेट कमर और पेट के निचले हिस्से में बहुत ज्यादा दर्द होने लगता है लेकिन इसके अलावा महिला के सिर में तेज दर्द रहना, महिला को थकान महसूस होना, महिला के शरीर में ऐंठन होना, महिला के शरीर में जकड़न होना, महिलाओं की योनि के आसपास सूजन होना,

महिला के सतनों में कठोरता आना, महिला को उठने बैठने में परेशानी होना, महिला के मासिक धर्म से 2 दिन पहले ही दर्द शुरू हो जाना, महिला को 5 दिन से अधिक दर्द रहना, महिला के मासिक धर्म की अवधि कम या ज्यादा होना आदि इस समस्या के मुख्य लक्षण होते हैं

बचाव

  • महिला को तले हुए वह मसालेदार भोजन से परहेज करना चाहिए
  • महिला को ज्यादा कठोर कार्य करने से परहेज करना चाहिए
  • महिला को अपने सिर के ऊपर वजन नहीं उठाना चाहिए
  • महिला को ज्यादा कठोर व्यायाम आदि नहीं करने चाहिए
  • महिला को बीड़ी सिगरेट तंबाकू शराब आदि से परहेज करना चाहिए
  • महिला को मासिक धर्म के दौरान चॉकलेट टॉफी कैंडी आदि से परहेज करना चाहिए
  • महिला को गर्म खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे अंडा मछली मांस आलू वह गरम मसाले आदि
  • महिला को फास्ट फूड से परहेज करना चाहिए जैसे समोसे पकोड़े बर्गर चिप्स कुरकुरे आदि

उपचार

वैसे तो मासिक धर्म में दर्द का कोई उपचार नहीं होता क्योंकि यह एक भगवान की देन है और इस प्रक्रिया से लगभग हर लड़की और हर महिला को गुजरना ही पड़ता है लेकिन यदि आपको अपनी जीवनशैली की कुछ आदतों और अपने भोजन के ऊपर नियंत्रण करते हैं तो आप इस समस्या से छुटकारा भी पा सकते हैं इसके अलावा आप कुछ घरेलू चीजों का भी इस्तेमाल करके इस समस्या में दर्द को कम करने की कोशिश कर सकते हैं जैसे

  • महिला को मासिक धर्म में दर्द को कम करने के लिए एक गिलास पानी में दो चम्मच जीरा व एक-एक चम्मच शहद को मिलाकर अच्छी तरह उबाल लें और फिर इसको दिन में दो या तीन बार पीना चाहिए इससे आप के दर्द में राहत मिलती है
  • महिला को दालचीनी दालचीनी का सेवन करना चाहिए इसके लिए आपको एक गिलास गर्म पानी में दालचीनी में एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो तीन बार पीना चाहिए इससे भी आप के दर्द में राहत मिलती है क्योंकि इसमें उचित मात्रा में कैल्शियम आयरन और फाइबर जैसे गुण पाए जाते हैं
  • महिला को मासिक धर्म के दौरान दर्द में राहत के लिए एक चम्मच हल्दी को एक गिलास हल्के गर्म दूध में मिलाकर पीना चाहिए
  • महिला को मासिक धर्म के दौरान सबसे ज्यादा पपीते का सेवन करना चाहिए यह आपके शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है इसमें उचित मात्रा में विटामिन ए कैरोटीन, आयरन और कैल्शियम जैसे फायदेमंद पोषक तत्व पाए जाते हैं
  • मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को गाजर की सब्जी, गाजर का हलवा, गाजर का सेवन करना चाहिए यह आपके शरीर के लिए बहुत फायदेमंद साबित होती है या आप गाजर का जूस भी पी सकते हैं
  • मासिक धर्म के दौरान महिला को तुलसी के पत्तों को उबालकर दिन में तीन चार बार पीना चाहिए यह भी आप के दर्द को कम करने में राहत प्रदान करती है इसके अलावा आप तुलसी के पत्तों का काढ़ा या चाय आदि बनाकर भी पी सकते हैं

लेकिन फिर भी अगर किसी महिला को मासिक धर्म के दौरान बहुत तेज दर्द महसूस होता है तब महिला को तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपनी टेस्ट आदि करवाने चाहिए क्योंकि कई बार यह समस्या महिलाओं के शरीर में इंफेक्शन या किसी अन्य बीमारी के कारण भी हो सकता है

मासिक धर्म बंद होने के लक्षण पीरियड में दर्द की टेबलेट पीरियड ज्यादा दिन तक आने के कारण और उपाय मासिक धर्म में पेट दर्द मासिक धर्म के समय दर्द की Homeopathic दवा पीरियड के टाइम दर्द मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव को कम करने के उपाय पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण

Leave a Comment