महिलाओं में कामवासना की कमी होने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार

महिलाओं में कामवासना की कमी होने के कारण लक्षण बचाव में उपचार

जब भी किसी लड़की की आयु 12 वर्ष से ऊपर की हो जाती है तब उसमें संभोग करने की उत्तेजना उत्पन्न होने लगती है और वह लड़की संभोग से जुड़ी हुई बातों में दिलचस्पी लेने लगती है और कई लड़कियां ऐसी होती है जो कि बहुत ही कम आयु में संभोग के प्रति इतनी ज्यादा आकर्षित होने लगती है कि उनमें कामवासना की अधिकता हो जाती है

लेकिन बहुत सारी लड़कियां ऐसी होती है जिनमें कामवासना की उत्पत्ति नहीं होती और शादी के बाद भी वे अपने पार्टनर को संभोग का सुख नहीं दे पाती तो इस ब्लॉग में हम कामवासना की कमी के कारण लक्षण बचाव व उपचार आदि के बारे में ही बातें करने वाले हैं.

कामवासना की कमी

सामान्य तौर पर देखा जाए तो जब भी किसी लड़की की आयु 13 वर्ष से ऊपर की हो जाती है तब उस लड़की की हारमोंस में बदलाव आने लगते हैं और लड़की संभोग की तरफ आकर्षित होने लगती है क्योंकि उसके शरीर में संभोग की कामवासना उत्पन्न होने लगती है और बहुत सारी लड़कियां कम उम्र में संभोग का सुख भी प्राप्त करने लगती है लेकिन बहुत सारी लड़कियां ऐसी होती है जिनके शरीर में कामवासना बिल्कुल भी उत्पन्न नहीं होती और फिर उनकी शादी के बाद भी अपने पति को संभोग का सुख नहीं दे पाती

जिनसे उनके बीच में लड़ाई झगड़ा मनमुटाव आदि उत्पन्न होने लगते हैं यानी अगर कोई लड़की संभोग से जुड़ी बातें व संभोग करने की इच्छा नहीं रखती या वह संभोग करते समय खुश नहीं होती तब उस लड़की में कामवासना की कमी होती है स्थिति को लड़की में कामवासना के कमी से जाना जाता है वैसे तो कामवासना की कमी पुरुषों और महिलाओं दोनों में होती है लेकिन ज्यादातर यह समस्या महिलाओं में देखी जाती है क्योंकि जब भी हम संभोग करते हैं तब हमारे टेस्टोस्टेरोन के कारण हमारे शरीर में संभोग करने की तीव्रता उत्पन्न होती है जो कि पुरुषों में महिलाओं से लगभग 40 गुना अधिक होती है इसीलिए यह समस्या पुरुषों में कम देखी जाती है

कारण

अगर महिलाओं में कामवासना की कमी कारणों के बारे में बात की जाए तो की समस्या के उत्पन्न होने के पीछे महिलाओं में कई अलग-अलग प्रकार के कारणों का हाथ होता है जैसे ज्यादा मानसिक थकान रहना, महिलाओं के हार्मोन के स्तर में कमी आना, महिलाओं में रजोनिवृत्ति होना, महिलाओं के स्वास्थ्य से संबंधित समस्याएं उत्पन्न होना, महिलाओं के शरीर में यौन समस्याएं व बीमारियां उत्पन्न होना, महिलाओं को ज्यादा दवाई का सेवन करना, महिला को किसी सर्जरी आदि से गुजरना, महिला के गर्भाशय पर चोट लगना, महिला का यौन व्यवहार खराब होना,महिला में मनोवैज्ञानिक कारण उत्पन्न होना जैसे अवसाद, तनाव, लड़ाई, झगड़ा, चिंता, क्रोध, आत्मसम्मान की कमी, उत्पीड़न आदि, महिला का लंबे समय तक अपनी यौन इच्छाएं दबाए रखना, महिला के शरीर में उत्तेजना की कमी होना, महिला का शरीर कमजोर होना, महिला का संभोग के प्रति ज्यादा रुचि न रखना, महिला का संभोग करने का डर उत्पन्न होना आदि समस्या की कई अलग-अलग कारण हो सकते हैं

लक्षण

अगर किसी महिला में समस्या उत्पन्न हो जाती है तब इस समस्या के उत्पन्न होने पर महिलाओं ने अलग-अलग लक्षण भी दिखाई देते हैं जिनसे आप इस समस्या के को आसानी से पहचान सकते हैं जैसे महिला के शरीर में कोई यौन रोग उत्पन्न होना, महिला की योनि में विकार उत्पन्न होना, महिला की योनि में विकार उत्पन्न होना, महिला को संभोग के नाम से डर लगना, महिला को संभोग करते समय खुशी न मिलना, महिला को शारीरिक कमजोरी, थकान, आलस रहना, महिला में उत्तेजना की कमी,महिला के हार्मोनल में उतार चढ़ाव आना, महिला के मनोदशा में बदलाव होना, महिला का संभोग के दौरान दर्द का सामना करना, महिला में आत्मविश्वास की कमी होना, महिला का अपनी योनि दबाए रखना, महिला में टेस्टोस्टेरोन की कमी होना, महिला के मूत्र मार्ग संक्रमण, फोड़े फुंसी होना महिला के शरीर में बीमारी का उत्पन्न होना आदि इस समस्या के मुख्य लक्षण होते हैं इसके अलावा भी अलग-अलग महिलाओं में इस समस्या के अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं

बचाव

अगर किसी महिला के शरीर में यह समस्या उत्पन्न हो जाती है तब महिला को इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है जोगी उसके लिए फायदेमंद हो सकती है

  • महिला को ठंडी तासीर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए
  • महिला को ज्यादा आयुर्वेदिक में एलोपैथिक दवाओं का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए
  • महिला को संभोग से जुड़े हुए सप्लीमेंट का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए
  • महिला को अपनी हार्मोनल के बदलाव को समझने की कोशिश करनी चाहिए
  • महिला को चिंता, गुस्सा आदि बिल्कुल भी नहीं रखना चाहिए
  • महिला को हर रोज सुबह सुबह हल्के-फुल्के व्यायाम करने चाहिए
  • महिला को ज्यादा से ज्यादा हरी-भरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए
  • महिला को ज्यादा से ज्यादा फ्रूट जूस आदि का सेवन करना चाहिए
  • महिला को अपने शरीर में पानी की कमी बिल्कुल भी नहीं होने देनी चाहिए
  • महिला को इस समस्या के उत्पन्न होने पर तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए
  • महिला को अपने शरीर में किसी दूसरे योन रोग के उत्पन्न होने पर किसी अच्छे योन रोग विशेषज्ञ से जरूर मिलना चाहिए
  • महिला को अपने आप के ऊपर विश्वास रखना चाहिए
  • आपको ज्यादा से ज्यादा उत्तेजना उत्पन्न करने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए
  • आपको भरपूर मात्रा में नींद लेनी चाहिए
  • अगर किसी महिला में उत्तेजना की कमी आ जाती है तब उसके पति को संभोग करने से पहले महिला को अच्छी तरह से गर्म करना चाहिए

उपचार

अगर किसी महिला में समस्या उत्पन्न हो जाती है तब उसको किसी अच्छे डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए डॉक्टर आपके शरीर की कई अलग-अलग टेस्ट करते हैं और फिर आपको इस समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए उपचार देते हैं कई बार डॉक्टर आपको अलग-अलग प्रकार प्रकार की दवाइयां देते हैं जिनसे आपके शरीर में संभोग करने की उत्तेजना उत्पन्न होने लगती है

लेकिन फिर भी अगर किसी महिला में समस्या उत्पन्न हो जाती है तब महिलाएं कुछ घरेलू चीजों में आयुर्वेदिक दवाइयों और औषधियों के साथ भी अपनी समस्या से छुटकारा पा सकती है जिनके बारे में हमने आपको नीचे बताया है इन सभी को आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार इस्तेमाल करें

महिलाओं में कामवासना की कमी होने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कारण पुरुषों में कामेच्छा की कमी के कारण महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा पुरुषों में कामेच्छा की कमी के उपाय महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की एलोपैथिक दवा महिलाओं के लिए कामेच्छा बढ़ाने के घरेलू नुस्खे पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा

Leave a Comment