महिलाओं की योनि के बाहर निकलने के कारण, लक्षण, बचाव

महिलाओं की योनि के बाहर निकलने के कारण, लक्षण, बचाव

जब भी कोई लड़की किशोरावस्था से गुजरती है तो उसके शरीर में कई बदलाव आते हैं लेकिन इसी बदलाव में लड़कियां कुछ ऐसी गलतियां कर देती है जिनसे उनके शरीर में कई यौन समस्याएं उत्पन्न हो जाती है तो इससे ब्लॉग में आपको महिलाओं की योनि के ढिल्ली होने के बारे में बताया था.

लेकिन इस ब्लॉग में हम बात करने वाले हैं महिलाओं की योनि का बाहर की तरफ निकल जाने के बार इस ब्लॉग में हम आपको महिलाओं की योनि के बाहर निकलने के कारण, लक्षण, बचाव के बारे में विस्तार से बताएंगे.

योनि का बाहर निकल जाना

इससे पिछले ब्लॉग में हमने आपको महिलाओं की योनि के ढीले होने के बारे में बताया था लेकिन यह समस्या भी उसी से जुड़ी हुई समस्या है और इस समस्या में भी ज्यादातर कारण, लक्षण उसी के जैसे देखने को मिलते हैं लेकिन इस समस्या के होने पर महिलाओं में कुछ अलग परेशानी होती है जब भी किसी महिला में यह समस्या उत्पन्न होती है तब उसकी योनि के अंदर की श्लेष्मिककला बाहर की तरफ निकल जाती है और कई बार योनि का कुछ भाग अपनी जगह से ढीला होकर बाहर की तरफ निकल जाता है

जिससे महिलाओं की योनि की संरचना बिगड़ जाती है महिलाओं में यह समस्या ज्यादा बढ़ जाने पर उनकी पूरी योनि की श्लेष्मिककला बाहर आ जाती है अगर किसी महिला में समस्या उत्पन्न हो रही है उसको तुरंत इस समस्या का इलाज करवाना चाहिए क्योंकि इससे महिला के शरीर में इंफेक्शन, घाव व यौन बीमारियां उत्पन्न होने का खतरा बढ़ जाता है ज्यादातर यह समस्या 35 से 40 वर्ष की आयु की उम्र की महिलाओं में उत्पन्न होती है हालांकि कुछ महिलाओं में यह समस्या कम उम्र में भी उत्पन्न हो सकती है वह उस महिला की किसी गलती के कारण उत्पन्न होगी

कारण

अगर महिलाओं में इस समस्या के उत्पन्न होने के कारणों के बारे में बात की जाए तो जब भी किसी महिला में समस्या उत्पन्न होती है तब इसके पीछे कई अलग-अलग कारणों का हाथ होता है जिनमें से इसके इस समस्या के कई मुख्य कारण भी हैं जैसे महिला का ज्यादा संभोग करना, महिला का एक बार में कई मर्दों के साथ संभोग करना, महिला का अपनी योनि में किसी चीज का डाल लेना, महिला का ज्यादा संभोग के प्रति उत्तेजक रहना, महिला का ज्यादा से सप्लीमेंट का सेवन करना, महिला का कम उम्र में बच्चे को जन्म देना, महिला का कम उम्र में ज्यादा संभोग करना,

महिला की योनि में संक्रमण, इंफेक्शन, घाव व अन्य बीमारियां उत्पन्न होना, महिला की योनि से ज्यादा बच्चों का जन्म लेना, महिला का प्रसव के दौरान गलतियां कर देना, महिला की योनि से ज्यादा सफेद प्रदर निकलना, महिला को लगातार कई सालों तक कब्ज रहना, महिला के शरीर में कमजोरी आना, महिला का अपने मल मूत्र के वेगो को रोकना, महिला का ज्यादा योनि मैथुन करना ,महिला की योनि भी चोट लगना, आदि इस समस्या के मुख्य कारण होते हैं इसके अलावा भी इस समस्या के और कारण हो सकते हैं

लक्षण

अगर इस समस्या के लक्षणों के बारे में बात की जाए तो जब भी किसी महिला में यह समस्या उत्पन्न होती है समस्या के महीना में कई अलग-अलग प्रकार के लक्षणों के दिखाई देते है लेकिन इसकी कुछ मुख्य लक्षण होते हैं जो कि आपको इस बीमारी के उत्पन्न होने पर सभी महिलाओं में दिखाई देते हैं जैसे महिला की योनि कि श्लेष्मिककला अंदर से खींच जाना, महिला की योनि बाहर की तरफ लटकना, महिला की पूरी योनि बाहर आना, महिला की योनि में दर्द होना, महिला को चलने फिरने व उठने बैठने में परेशानी होना, महिला को मल मूत्र करते समय कठिनाई होना, महिला की योनि अंदर से गुलाबी व लाल हो जाना, महिला की योनि में गोल

आकार की फंसी हुई चीज दिखाई देना, महिला की पूरी योनि की संरचना बाहर निकल जाना, कई बार महिला की योनि के साथ कांच भी बाहर आ जाती है महिला की योनि और गुदा दोनों की बीच की जगह फ़टना, महिला की योनि से चिपचिपा पदार्थ निकलना, महिला की योनि में संक्रमण, इन्फेक्शन होना, महिला की मासिक धर्म में गड़बड़ी आना, महिला का मूत्राशय में खिँचाव आना, महिला के जांघों और पिंडलियों में अकड़न होना आदि की समस्या के मुख्य लक्षण होते हैं इसके अलावा भी इस समस्या के अलग-अलग महिलाओं में अलग-अलग लक्षण दिखाई देते हैं

बचाव

अगर किसी महिला मैं यह समस्या कम उम्र में उत्पन्न हो रही है और आपको इस समस्या की कोई भी लक्षण दिखाई देने लगते हैं तब आप इस समस्या से बचाव के लिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रख सकते हैं जो कि आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगी जैसे

  • महिला को लगातार संभोग करने की आदत छोड़ देनी चाहिए
  • महिला को कभी भी एक से ज्यादा मर्द के साथ संबंध नहीं बनाने चाहिए
  • महिला को हस्तमैथुन की आदत छोड़ देनी चाहिए
  • महिला को अपनी योनि में उत्तेजित होकर कोई भी चीज डालने की कोशिश नहीं करनी चाहिए
  • महिला को सेक्स सप्लीमेंट का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए
  • महिला को दो बच्चों के बीच लगभग 2 से 3 साल का फासला जरूर रखना चाहिए
  • महिला को ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों व फ्रूट आदि का सेवन करना चाहिए
  • महिला को दूध दही लस्सी जूस घी मक्खन आदि भरपूर मात्रा में खानी चाहिए
  • महिला को हर रोज सुबह सुबह हल्के-फुल्के व्यायाम प्राणायाम योग आदि करने चाहिए
  • महिला को अपने शरीर में पानी की कमी बिल्कुल भी नहीं होने देनी चाहिए
  • महिला को इस समस्या के ऊपर होने पर तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर के पास जरूर जाना चाहिए

उपचार

लेकिन फिर भी अगर किसी महिला में यह समस्या उत्पन्न हो जाती है तब उसको किसी अच्छे योन रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए क्योंकि कई बार यह समस्या आपके शरीर में दूसरी यौन बीमारियों के उत्पन्न होने के कारण भी हो जाते हैं और डॉक्टर सबसे पहले आपके शरीर के अलग-अलग प्रकार के टेस्ट करते हैं और फिर उसी के आधार पर आपको इलाज दिया जाता है इसलिए इस समस्या के उत्पन्न होने पर आपको किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए और झाड़-फूंक आदि में बिल्कुल भी विश्वास नहीं करना चाहिए

लेकिन यदि आपकी शरीर में यह समस्या शुरुआती दिनों में है तब आप कुछ ऐसी आयुर्वेदिक औषधियों में दवाइयों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं जिनसे आप अपनी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं जिनके बारे में अपने आपको नीचे बताया है इन सभी को आप डॉक्टरों की सलाह के अनुसार इस्तेमाल करें

महिलाओं की योनि के बाहर निकलने के कारण, लक्षण, बचाव बच्चेदानी का बाहर आना उपाय भैंस का गर्भाशय बाहर आना प्रेगनेंसी में बच्चेदानी का बाहर आना बच्चेदानी में इन्फेक्शन के लक्षण बच्चेदानी निकालने से क्या परेशानी होती है बच्चेदानी बाहर आने का आयुर्वेदिक इलाज बच्चेदानी में इन्फेक्शन के घरेलू उपाय गर्भाशय मजबूत करने के उपाय

Leave a Comment