Tips

बच्चों के खाना ना पचने के लिए घरेलू उपाय

बच्चों के खाना ना पचने के लिए घरेलू उपाय

हमारे द्वारा खाए गए भोजन में यदि पाचन   नहीं होते तो सारा दिन हमारा उदासी में गुजरता है खाना ना पचना आजकल की आम समस्या होती जा रही है चाहे युवा हो चाहे बच्चा हो जाए बुरा हो हर एक में ऐसी समस्या देखने को मिल रही है। खाना ना पचने की वजह से लोगों में भूख में कमी आ रही है

जिससे शारीरिक विकास भी रुक रहा है ।बच्चों में आज खास देखा गया है कि बच्चे खाना कभी नही खाते हैं। जिसकी मुख्य वजह है खाना ठीक ढंग से पच नहीं रहा है जो पहले से खाना पड़ा है पेट में वह पचा नहीं है इसीलिए वह दूसरा खाना खाने के लिए मना कर देते है। भोजन ना पचने की वजह से बच्चों की ग्रोथ रुक जाती है शारीरिक मानसिक विकास में भी कई तरह से कमी आ जाती है।

यदि आपके बच्चे भी भोजन करने के लिए आनाकानी करते हैं जबरदस्ती खिलाना पड़ता है तो आज हम आर्टिकल मे आपको बताएंगे कि आप कैसे अपने बच्चों को बिना किसी समस्या के भोजन खिला पाए। और बच्चे आपके स्वस्थ रहें भोजन करने में आनाकानी न करें जानने के लिए बने रहे हमारे साथ चलिए शुरू करते  हैं ….

क्या है बच्चों के खाना ना पचने के लिए घरेलू उपाय

What are the home remedies for children not being able to digest food? in Hindi – हर मां-बाप की यही समस्या होती है कि उनका बच्चा भोजन करने में घर का खाना खाने में बहुत दिक्कतें पैदा करता है बड़ी मुश्किल से भोजन जबरदस्ती खिलाना पड़ता है यह बच्चा 1 लोगों के लिए ज्यादासे ज्यादा मां-बाप इसी समस्या से परेशान रहते हैं।

कि उनके  बच्चे भोजन करने में बहुत दिक्कत करते हैं। घर का भोजन तो देखते ही रोने लगते हैं इस समस्या की वजह से बच्चे शारीरिक विकास नहीं कर पाते उनमें कई तरह के पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। बच्चों को संतुलित आहार ना मिले तो बच्चे समझते ना तो बढ़ेंगे और ना हीसामान्य रूप से रहेंगे

जो बच्चे खाने पीने में परेशानी करते हैं। उनकी क्षमता भी बहुत कम होती है जबरदस्ती करने से बच्चे और भी दिक्कत में आ जाते है। जबरदस्ती भोजन किसी को भी नहीं खिलाया जाता जब तक व्यक्ति को भूख नहीं लगती तब तक कोई भी भोजन नहीं कर सकता इसलिए बच्चे खाना नहीं खा रहे इसका मतलब है भूख नहीं लग रही है।

 क्या कारण है बच्चों के भोजन ना करने  के

  • आमतौर पर देखा गया कि बच्चे घर का भोजन करने में बहुत आनाकानी करते हैं इसका कारण है पहले से खाया हुआ भोजन पचा ही नहीं है तो भूख कैसे लगेगी ।
  • बच्चे फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते टीवी मोबाइल लैपटॉप के आगे खेलकूद फिजिकल एक्टिविटी ना करना भी एक बड़ा कारण होता है।
  • मार्केट की चीज है जिसमें पैकेट बंद बिस्किट टॉफी चॉकलेट जो मैदा तथा शुगर के काफी प्रयोग से बनाए जाते हैं।
  • वह आंत में चिपक जाने की वजह से बच्चे का पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है। बच्चों के शरीर में फाइबर की कमी से भी खाना हजम करने में दिक्कत आती है।।
  • जिसकी वजह से बच्चों में पाचक रस बहुत कम बनता है और उनका भोजन देर से पाचन होता है।
  • प्रतिरोधक क्षमता कम होने की वजह से बच्चे खाना खाने की समस्या उत्पन्न करते हैं।

बच्चों के खाना ना पचने के घरेलू उपाय

Home remedies for children not being able to digest food in Hindi – बच्चे घर का बोल कभी नहीं पसंद है जिसकी वजह से उन्हें गलत चीजों का आदि बना देना मार्केट की चीजें खाने की छूट दे देना ऐसी चीजें खाते रहते हैं । मैदा  शुगर की अधिक मात्र से बनी रहती है। इसलिए उनकी पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है और भूख लगने कम हो जाती है।

 खाना ना पचने के लिए पहला उपाय है सौफ का पानी

Fennel water is the first remedy for indigestion. in Hindi – जी हां बच्चों में यदि खाना पकने की समस्या है तो आप उनको सौफ का पानी पिला कर उनके पाचन तंत्र को ठीक कर सकते हैं ।सौफ में ऐसे बहुत से पाचक रस तत्व उपलब्ध होते हैं जो बच्चों के भोजन को पचाने में मदद करते हैं खाना हजम होने की समस्या ठीक करते हैं।

दूसरा उपाय हल्दी वाला दूध

Second solution: Turmeric milk in Hindi – बच्चों में खाना ना हजम होने के की समस्या के लिए उन्हें रात को हल्दी वाला दूध सोने से पहले देना चाहिए। इससे उनके शरीर में पेट में पहले से जमा गंदगी बाहर निकलने लगती है । हल्दी इम्यूनिटी बूस्ट करने में सहायता करता है पेट की गंदगी बाहर हुए से बच्चों में भूख की गुंजाइश बढ़ने लगेगी। और बच्चे का भोजन भी पचने लगेगा।

 तीसरा उपाय एलोवेरा का सेवन

Third solution: Consumption of aloe vera in Hindi – एलोवेरा में ऐसे बहुत से एग्जाइम होते  हैं। जो बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में उनकी मदद करेंगे बच्चों की आंतो में जमा चॉकलेट मैदे से बने प्रोडक्ट बाहर निकालने में एलोवेरा तेजी से मदद करता है। आंतों की शक्ति एलोवेरा की वजह से बढ़ जाती है।

पेट बिल्कुल साफ होने लगता है हालांकि एलोवेरा खाने में कड़वा होता है। इसलिए आपको एलोवेरा जूस का सेवन बच्चों को रोज सुबह एक से दो ढक्कन  पिलाना चाहिए।

गिलोय का सेवन

Consumption of giloy in Hindi – गिलोय हजारों की एक दवा है बच्चों का खाना यदि पच नहीं रहा भूख नहीं लग रही बच्चे बार-बार बीमार हो रहे हैं। तो उनकी प्रतिरोधक क्षमता निश्चित तौर पर यह कमजोर है और उसकी एक ही दवा है की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जाए। इसके लिए आप बच्चों को प्रतिरोधक क्षमता बनाने पर ध्यान दें।

इसके लिए आपको गिलोय का सेवन बच्चों को कराना चाहिए गिलोय प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सबसे ज्यादा उपयोगी साबित होता है। किसी भी ब्रांड का एलोवेरा बच्चों को पिलाने के लिए उपयोगी आप ला सकते हैं। इससे बहुत अधिक असर देखने को मिलेगा बच्चों में भूख भी बढ़ेगी खाना भी पचेगा और बच्चे भोजन करने में दिक्कत भी नहीं पैदा करेंगे।

बच्चों के खाना ना पचने के लिए घरेलू उपाय  गैस और बदहजमी के उपाय पेट में खाना न पचने के कारण अपच के घरेलू उपाय अपच के लक्षण व उपचार लिखिए अपच में आहार खाना हजम करने के घरेलू उपाय पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय पुरानी अपच के लिए आयुर्वेदिक दवा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button