बच्चे का उल्टी गिरना कारण लक्षण बचाव व उपचार

बच्चे का उल्टी गिरना कारण लक्षण बचाव व उपचार

जब हमारा बच्चा 1 से 5 वर्ष की आयु का होता है तब उसका सबसे ज्यादा ख्याल रखना पड़ता है क्योंकि हमें अपने बच्चे को बीमारियों के साथ-साथ मौसम के बदलाव और उसके खाने पीने की चीजों के ऊपर भी ध्यान देना होता है जब भी हमारे बच्चे में कोई परेशानी होती है तब उसको तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना बहुत जरूरी होता है क्योंकि इन छोटी परेशानियों की वजह से बच्चे में कई बार ऐसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है

जिससे कई बार बच्चे की मौत भी हो सकती है तो इस ब्लॉग में हम इसी से जुड़ी हुई एक समस्या के बारे में बात करने वाले हैं जो कि बहुत सारे बच्चों में उत्पन्न होती है इस ब्लॉग में हम बच्चे की उल्टी गिरने के बारे में बात करेंगे इसके साथ ही इस ब्लॉग में हम इस समस्या के उत्पन्न होने के कारण, लक्षण बचाव व उपचार के बारे में भी बताएंगे

बच्चे की उल्टी गिरना

आप सभी ने देखा होगा कि बहुत बार बच्चे दूध पिलाते ही अपना दूध वापस उल्टी के द्वारा निकाल देते हैं और ऐसा कई बार बच्चों को ज्यादा दूध पिलाने से होना आम बात है लेकिन कई बार बच्चों को यह समस्या बार-बार उत्पन्न होने लगती है इसके ऊपर ध्यान देना बहुत जरूरी होता है क्योंकि ऐसा बच्चे को पिलाये गए दूध में किसी मिलावट या फिर बच्चे में किसी अन्य रोग के उत्पन्न होने के कारण होता है

वैसे बच्चे की उल्टी गिरना कोई बीमारी नहीं होती जिसको हम नियंत्रण में भी कर सकते हैं क्योंकि कई बार हम बच्चे को गलत खानपान का सेवन करवा देते है या हमारे द्वारा ऊपर से पिलाये गए दूध में किसी मिलावट के चलते बच्चे के पेट में विकार उत्पन्न हो जाते हैं जिससे बच्चे को बार बार उल्टियां होने लगती है यह रोग बच्चे की अमाशय की पेशियों में संकोच उत्पन्न होने के कारण होता है

कारण

जब कोई जब किसी बच्चे को बार-बार उल्टी करने की समस्या उत्पन्न होती है तब इसके पीछे बहुत सारे कारण हो सकते हैं जैसे बच्चे को समय पर दूध पिलाना, बच्चे के दूध में मिलावट होना, बच्चे की अमाशय की मांसपेशियों में शोथ उत्पन्न होना बच्चे को खिलाएं गए भोजन से एलर्जी होना, बच्चे की आंत में कीड़े उत्पन्न होना, बच्चे को अन्य गंभीर बीमारी जैसे हर्निया या निमोनिया होना, बच्चे को भूख से ज्यादा दूध पिलाना, बच्चे के यकृत में शोध उत्पन्न होना, बच्चे के सिर में चोट लगना, बच्चे के कानों में शोथ उत्पन्न होना, बच्चे को ठंडा में गर्म खिलाना आदि इस समस्या के मुख्य कारण होते हैं इसके अलावा भी इस समस्या के कई और कारण हो सकते हैं

लक्षण

जब किसी बच्चे में यह समस्या उत्पन्न होती है तब इस समस्या के बहुत सारे लक्षण भी दिखाई देते हैं जो कि उल्टी से जुड़े हुए ही होते हैं जैसे बच्चे को हल्का बुखार रहना, बच्चे को दस्त लगना, बच्चे के शरीर में हर्निया व निमोनिया उत्पन्न होना, बच्चे को सांस लेने में परेशानी होना, बच्चे के मल में खून आना, बच्चे को बार बार उल्टी से कमजोरी होना,

बच्चे की उल्टी में खून आना, बच्चे का लगातार उल्टी करते रहना, बच्चे का न दूध पीना, बच्चे का लगातार रोते रहना, बच्चे का स्वभाव चिड़चिड़ा होना, बच्चे का पेट फूल जाना, या पेट में सूजन आना, बच्चे का वजन कम होना, बच्चे के आमाशय में ऐठन होना, बच्चे के शरीर में अपच  की समस्या उत्पन्न होना, बच्चे के पेट में दर्द होना आदि इस समस्या के मुख्य लक्षण होते हैं इसके अलावा भी इसके और बहुत सारे लक्षण दिखाई देते हैं

बचाव

जब आपका शिशु बार-बार उल्टियां करने लगता है तब आपको कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है जो कि आपके बच्चे को इस समस्या से बचाने में मदद करता है जैसे

  •  आपको अपने बच्चे को दूध पिलाते समय उसकी भूख का ध्यान जरूर रखना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को भूख से ज्यादा दूध नहीं पिलाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को असंतुलित भोजन नहीं देना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को मिलावट वाले दूध का सेवन नहीं करवाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को दूध पिलाने के बाद लगभग 20 से 30 मिनट तक सीधा खड़ा रखना चाहिए या उस को गोद में उठाकर रखना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को दूध पिलाते समय उसका सिर सीधा रखना चाहिए
  • अपने बच्चे को दूध पिलाने के बाद उसको डकार दिलाने की कोशिश करनी चाहिए इसके लिए आपको उसकी पीठ थपथपाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को एक बार में ज्यादा नहीं खिलाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को एलर्जी वाले भोजन का सेवन नहीं करवाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे के शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को गर्म या ठंडा खिलाने से बताना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को एकदम तेज धूप या एकदम तेज ठंड आदि में ले जाने से बचना चाहिए
  • आपके बच्चे में यह समस्या उत्पन्न होने के तुरंत बाद डॉक्टर से उसके अमास्या की जांच करवानी चाहिए
  • आपके बच्चे को सिर में चोट लग जाती है तब उसकी तुरंत डॉक्टर से जांच करवानी चाहिए
  • आपको यह समस्या उत्पन्न होने पर हर्निया और निमोनिया आदि की जांच करवानी चाहिए

उपचार

  • आप अपनी बच्चे को इस समस्या के उत्पन्न होने पर ओआरएस का घोल पिलाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को दूध पिलाने के पश्चात गर्म करके ठंडा किया हुआ पानी पिलाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को शुद्ध नारियल का पानी लस्सी, जो का पानी, नींबू का पानी पिलाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को अजवाइन और सौंफ आदि के पानी का सेवन करवाना चाहिए
  • आपको समय-समय पर अपने बच्चे की टेस्ट करवाते रहना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे में बुखार उल्टी दस्त और निमोनिया आदि की समस्या उत्पन्न होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए
  • आपको अपने डॉक्टर के द्वारा बताई गई बातों का ध्यान रखना चाहिए और उसके द्वारा दी गई दवाइयों को नियमित रूप से सेवन करवाना चाहिए

लेकिन फिर भी अगर आपके बच्चे को यह समस्या बार-बार पर हो रही है तब इसके पीछे किसी गंभीर बीमारी का हाथ हो सकता है इस समस्या को हल्के में लेना आपके लिए महंगा पड़ सकता है इसके लिए आपको अपने बच्चे को तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए और अपने बच्चे को नियमित रूप से दवाइयां दिलवाने चाहिए

बुखार और उल्टी का इलाज बच्चों को उल्टी दस्त के घरेलु उपाय 3 साल के बच्चे को उल्टी होना बच्चों को उल्टी की दवा 3 साल का बच्चा उल्टी खाने के बाद गर्मियों में बच्चे को उल्टी होना उल्टी रोकने के घरेलू उपाय 10 साल के बच्चे को उल्टी होना

Leave a Comment