फोड़ा निकलने के कारण लक्षण बचाव है इसके आयुर्वेदिक उपचार

फोड़ा निकलने के कारण लक्षण बचाव है इसके आयुर्वेदिक उपचार

बारिश के मौसम में हमारे आसपास पानी जमा होने के कारण हमारे शरीर में अनेक बीमारियां उत्पन्न होने लगती है जिनमें से खाज, खुजली,फुंसी, दाद ये सभी बीमारियां आम होती हैं लेकिन कई बार हमारे शरीर में अपने आप फोड़ा निकलने लगता है जिससे हमें बहुत दर्द भी होता है और कई बार यह फोड़ा किसी ऐसी जगह पर निकल जाता है.

जिससे हमें काम करने में भी परेशानी होती है तो आज के इस ब्लॉग में हम फोड़ा के ही बारे में विस्तार से बातें करने वाले हैं इस ब्लॉग में हम फोड़ा निकलने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार आदि के बारे में बातें करेंगे.

फोड़ा क्या है

वैसे तो फोडे के बारे में आप सभी जानते ही हैं इसके बारे में आपको इतना ज्यादा बताने की जरूरत नहीं है क्योंकि आपके भी जीवन में कभी ना कभी फोड़ा फुंसी जरूर हुआ होगा थोड़ा होने पर रोगी की त्वचा के ऊपर एक ऐसी गांठ बनती है जिससे रोगी की त्वचा के ऊपर बहुत तेज दर्द होता है और यह लाल रंग की गांठ होती है और यह गांठ विशेष तौर पर हमारी त्वचा के वाली जगह पर उत्पन्न होती है और इसके अंदर एक बिल्कुल छोटा छेद होता है जोकि त्वचा के ऊपर से बाल के उखड़ने के कारण बना होता है और उसी जगह पर यह फोड़ा निकलता है शुरू में फोड़ा हल्के लाल रंग का होता है लेकिन धीरे-धीरे इसके अंदर मवाद या पीप भरने लगती है फिर फोड़ा बड़ा हो जाता है और कुछ समय बाद यह अपने आप फट जाता है और मवाद बाहर निकल जाती है इसके बाद यह अपने आप ठीक हो जाता है लेकिन कई लोगों में यह समस्या बार-बार उत्पन्न होने लगती है जिससे रोगी को बहुत सारी परेशानियां आती है वैसे तो यह अपने आप दो से 3 सप्ताह में ठीक हो जाता है

कारण

अगर किसी इंसान की त्वचा के ऊपर फोड़ा निकलने के कारणों के बारे में बात की जाए तो इस समस्या के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे किसी सूक्ष्म जीवाणु के काटना, आपके आसपास बारिश का पानी इकट्ठा होना जिनमें अलग-अलग प्रकार के मक्खी और मच्छर पैदा होते हैं स्टेफाइलो कोक्कस या किसी अन्य जीवाणुओं का ज्यादा प्रकोप होना, शरीर की साफ-सफाई न करना, लंबे समय तक स्नान न करना किसी प्रकार के केमिकल या दवाई से एलर्जी होना, दूषित पानी का सेवन करना व दूषित पानी , स्नान करना से स्नान करना ज्यादा, अधिक उत्तेजित पदार्थों का सेवन करना जैसे शराब बीड़ी सिगरेट तंबाकू आदि, ज्यादा समय तक एलोपैथिक दवाओं का सेवन करना ज्यादा, ज्यादा तले भुनी हुई भोजन का सेवन करना, ज्यादा मिठाइयों का सेवन करना, ज्यादा गंदगी वाले इलाके में रहना, किसी कबाड़ या किसी केमिकल की फैक्ट्री में काम करना शिवर नाली की सफाई का काम करना यह कुछ ऐसे कारण होते हैं जिनसे किसी भी इंसान को यह समस्या हो सकती है

लक्षण

अगर फोड़े निकलने के लक्षणों के बारे में बात की जाए तो वैसे तो इस समस्या में इतने ज्यादा लक्षण दिखाई नहीं देते लेकिन आप इसके कुछ शुरुआती लक्षणों को जरूर पहचान सकते हैं जैसे रोगी की त्वचा पर ऊपर लाल रंग का निशान होना रोगी की त्वचा पर फोड़े वाली जगह पर हल्की खुजली आना, रोगी की त्वचा के ऊपर गांठ बनना, रोगी की त्वचा की गांठ से पानी निकलना, रोगी की त्वचा के ऊपर फोड़े वाली फोड़े वाली जगह से पर सूजन आना, रोगी के फोड़े का रंग लाल से सफेद होना, रोगी के फोड़े से मवाद निकलना, रोगी को तेज दर्द होना, रोगी को बार-बार फोड़ा निकलना, आदि इस समस्या के लक्षण होते हैं ज्यादातर यह समस्या रोगी की गर्दन, चेहरा जांघें और हाथों आदि के ऊपर होती है

बचाव

फोड़ा से बचने के लिए आपको कुछ ऐसी बातों को ध्यान रखना बहुत जरूरी है जो कि आपके लिए बहुत फायदेमंद होती है जैसे

  • आपको ज्यादा मीठे व मिठाइयों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ज्यादा मिर्च मसालेदार भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको तले भुनी हुई चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे कुरकुरे चिप्स फास्ट फूड और सूखी सब्जी आदि
  • आपको बीड़ी सिगरेट तंबाकू आदि से परहेज करना चाहिए
  • आपको कभी भी एक ही कपड़े बार-बार नहीं पहने चाहिए
  • आपको गर्मी के मौसम में ऊनी बिस्तर व कपड़े नहीं पहनने चाहिए
  • आपको हर रोज स्नान करना चाहिए
  • आपको ज्यादा गंदे पानी वाली जगह पर जाने से बताना चाहिए
  • आपको किसी एलर्जी वाली चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए
  • आपको एलर्जी वाली केमिकल या दवाइयां आदि से बच कर रहना चाहिए
  • आपको लगातार एलोपैथिक दवाओं का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ज्यादा उत्तेजक पदार्थ जैसे जैसे कड़क कॉफी चाय आदि का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको गर्म तासीर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको बारिश के समय में अपने घर के आसपास बारिश का पानी इकट्ठा नहीं होने देना चाहिए
  • आपको अपनी त्वचा के ऊपर अलग-अलग प्रकार की साबुन करीम व तेल आदि का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए

उपचार

वैसे तो किसी इंसान की त्वचा के ऊपर फोड़ा निकलने पर वह लगभग 2 से 3 सप्ताह में अपने आप ही ठीक हो जाता है लेकिन फिर भी अगर आपकी त्वचा पर फोड़ा हो जाता है तब आप कुछ घरेलू चीजों का इस्तेमाल करके भी इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं जैसे

  • आपको नीम की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बनाकर अपनी फोड़े वाली जगह पर लगाना चाहिए  क्योंकि नीम में एंटी फंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जिससे यह आपके शरीर की फोड़े फुंसियों को तुरंत ठीक कर देता है
  • आपको एक चम्मच बेकिंग सोडा और आधा चम्मच मिलाकर अपनी फोड़े वाली जगह पर लगाना चाहिए और इसको लगभग 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ देना चाहिए ऐसा करने से आपका फोड़ा लगभग 2 से 3 दिन में अपने आप सूख जाता है
  • आपको हर रोज मेथी के कुछ दानों को पानी में भिगोकर रखना चाहिए और फिर इसका पेस्ट बनाकर अपने फोड़े फुंसी वाली जगह पर लगाना चाहिए
  • आपको नीम की पत्तियों को उबालकर अपने फोड़े वाली जगह को दिन में 3 से 5 बार साफ करना चाहिए
  • आपको हर रोज एक चम्मच नारियल के तेल को एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर अपने फोड़े को दिन में तीन से पांच बार धोना चाहिए अगर आपके फोड़े में तेज दर्द हो रहा है तब आपको आधा चम्मच हल्दी पाउडर और एक चम्मच दूध का पेस्ट बनाकर अपने फोड़े वाली जगह पर लगाना चाहिए ऐसा करने से आपके फोड़े में दर्द से राहत मिलती है और आपका फोड़ा बहुत ही जल्द ठीक हो जाता है

लेकिन फिर भी अगर आपकी त्वचा के ऊपर बार-बार थोड़ी निकल रही है तब आपको किसी अच्छे स्किन डॉक्टर से मिलकर अपनी त्वचा की जांच करवानी चाहिए और नियमित रूप से दवाइयां लेनी चाहिए क्योंकि कई बार यह समस्या कई लोगों में इतनी ज्यादा बढ़ जाती है कि उनका पूरा शरीर और चेहरा खराब हो जाता है

फोड़ा निकलने के कारण लक्षण बचाव है इसके आयुर्वेदिक उपचार फोड़े फुंसी की टेबलेट आयुर्वेदिक फोड़े फुंसी का घरेलू उपचार फोड़े की अंग्रेजी दवा cream कूल्हे पर फुंसी का इलाज सिर में फुंसी होने के कारण बच्चों के फोड़े फुंसी की दवा शरीर में फुंसी होने का कारण बिना मुँह वाले फोड़े का इलाज

Leave a Comment