पेशाब में खून आने के कारण लक्षण बचाव व उपचार

पेशाब में खून आने के कारण लक्षण बचाव व उपचार

जब भी हमारे शरीर में कोई बीमारी दस्तक देती है उसके हमारे शरीर के किसी ना किसी भाग या हमारी किसी गतिविधि के ऊपर जरूर लक्षण दिखाई देते हैं जिनसे हम उस बीमारी के बारे में पहचान पाते हैं इसी तरह से बहुत बार हमारे पेशाब में दिक्क्त होने लगती है जिसके बारे में हमें अपने पेशाब के जरिए ही पता लगता है तो इसी तरह से कई बार हमारे पेशाब में खून आने लगता है जो कि एक बहुत खतरनाक समस्या है अगर इस समस्या के ऊपर समय रहते नियंत्रण में पाया जाए तो यह रोगी के लिए जानलेवा साबित हो सकती है तो इस ब्लॉग में हम पेशाब में खून आने के कारण लक्षण बचाव उपचार आदि के बारे में बात करने वाले हैं.

पेशाब में खून आना

हमारे शरीर में बहुत सारी ऐसी बीमारियां उत्पन्न होती है जो कि अपने आप में कोई बीमारी नहीं होती बल्कि यह समस्या होती है जो कि आगे चलकर किसी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है तो इसी तरह से पेशाब में भी खून आना कोई बीमारी नहीं है बल्कि हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाली एक समस्या है लेकिन लेकिन डॉक्टर ने इस समस्या को ग्रॉस हेमट्यूरिया का नाम दिया है जब भी किसी इंसान के शरीर में यह समस्या उत्पन्न आती है तब रोगी के पेशाब में रक्त निकलने लगता है जिसको हम आसानी से देख सकते हैं कई बार यह भूरे रंग का भी होता है हालांकि पेशाब में खून आना सामान्य होता है और यह अपने आप ठीक भी हो जाता है

लेकिन कई बार हमारे पेशाब में खून आने के पीछे किसी बड़ी बीमारी का हाथ होता है इसलिए जब भी हमारे शरीर में ऐसी कोई भी परेशानी होती है तब हम इससे पहले अच्छे डॉक्टर के पास जाकर चेकअप जरूर करवाना चाहिए डॉक्टर आपके पेशाब के सैंपल से यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि आपके शरीर में कोई बड़ी बीमारी या यह एक आम समस्या है क्योंकि बहुत सारी रोगियों के पेशाब में तो खून को साफ देखा जा सकता है लेकिन कई रोगियों की पेशाब में हम खून को नहीं देख पाते उनके पेशाब के सैंपल को डॉक्टर द्वारा माइक्रोस्कोप के द्वारा जांच करते हैं

कारण

अगर पेशाब में खून आने की समस्या के कारणों के बारे में बात की जाए तो किस समस्या के पीछे कई अलग-अलग कारण हो सकते हैं जैसे रोगी के मूत्राशय में संक्रमण होना, जिससे रोगी के पेशाब में दर्द व जलन की समस्या होती है इसके अलावा रोगी के गुर्दे में संक्रमण होना, रोगी की किडनी खराब होना, रोगी के गुर्दे में पथरी होना, रोगी को रोगी के मुख्य मार्ग की ट्यूब में सूजन व संक्रमण होना, रोगी की पौरुष ग्रंथि बढ़ जाना, रोगी की पौरुष ग्रंथि में कैंसर होना, रोगी के मूत्राशय मार्ग में कैंसर होना, रोगी को गुर्दे का कैंसर होना, रोगी को यूरिनरी होना, कुछ ऐसी खतरनाक दवाई देना जिससे रोगी के शरीर में खून की कमी या रोगी का खून पतला हो जाता है, ज्यादा कठोर परिश्रम व मेहनत करना, लंबे समय तक काम करते रहना, बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण से ग्रस्त होना, रोगी को गुर्दे संबंधित बीमारी होना, महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान पेशाब के साथ खून का मिलकर आना आदि इस समस्या के मुख्य कारण होते हैं इसके अलावा भी इस समस्या के अलग-अलग रोगियों में अलग-अलग हो सकते हैं

लक्षण

अगर इस समस्या के लक्षणों के बारे में बात की जाए तो इस समस्या का सबसे बड़ा और इसका सबसे मुख्य कारण तो रोगी की पेशाब में खून आना है जिसको हम आसानी से पहचान सकते हैं लेकिन कई बार इस समस्या को डॉक्टरों के द्वारा ही पहचाना जाता है इसके अलावा रोगी की पीठ में कमर में दर्द होना, रोगी के पेट के निचले हिस्से में दर्द होना, रोगी का अचानक बार बार पेशाब आना, रोगी के पेशाब में दर्द व जलन होना, रोगी का पेशाब भूरे रंग का आना, रोगी के पेशाब में खून का थक्का बनाना, रोगी को गुर्दे की पथरी की समस्या होने पर तेज दर्द होना, धीरे-धीरे पेशाब में खून की मात्रा पडना, रोगी की पैरों में घुटनों में सूजन आना, रोगी को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होना, रोगी की शरीर में किसी प्रकार का कैंसर उत्पन्न होना, रोगी को उल्टी, पेट दर्द, सिरदर्द जैसी बीमारी होना जैसी समस्याएं होना इसके अलावा भी इस समस्या की कई और लक्षण हो सकते हैं

बचाव

अगर आप के पेशाब में खून आ रहा है तब आपको इस समस्या को नियंत्रण में करने के लिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना चाहिए जो कि आपके लिए फायदेमंद हो सकती है जैसे

  • आपको ज्यादा कठोर परिश्रम नहीं करना चाहिए
  • आपको लगातार लंबे समय तक काम नहीं करना चाहिए
  • आपको अपने शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी चाहिए
  • आपको हर रोज 10 से 12 गिलास पानी पीना चाहिए
  • आपको ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए
  • आपको अपने भोजन में नमक की मात्रा को कम कर देना चाहिए
  • आपको पालक का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको संभोग करने से पहले व संभोग करने के तुरंत बाद पेशाब जरूर करना चाहिए
  • आपको ज्यादा रासायनिक चीजों के संपर्क में नहीं आना चाहिए
  • आपको कच्ची सब्जियों व फलों आदि का सेवन करना चाहिए
  • आप को नियमित रूप से भोजन के साथ लस्सी, दही, दूध आदि का सेवन करना चाहिए
  • आपको इस समस्या के किसी भी प्रकार की कोई लक्षण दिखाई देते ही तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए
  • आपको समय-समय पर अपने पेशाब की जांच करवाते रहना चाहिए
  • आपको अधिक मिर्च मसालेदार में तले हुए भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ज्यादा चीनी से बने हुए खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको मिलावटी भोजन के सेवन से बचना चाहिए
  • आपको ज्यादा कठोर व्यायाम, प्रणाम, एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए
  • आपको शराब सिगरेट तंबाकू जैसी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए

उपचार

अगर आप के पेशाब में खून आ रहा है तब आपको तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए और झाड़-फूंक आदि में विश्वास नहीं करना चाहिए डॉक्टर सबसे पहले आपके पेशाब के सैंपल को माइक्रोस्कोप के द्वारा टेस्ट करेंगे और फिर उसके आधार पर ही आपके शरीर में बीमारी के बारे में पता लगाया जाता है अगर आपके शरीर में किसी प्रकार का कोई बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण है तब आपको एंटीबायोटिक दवाई दी जाती है या अगर आपके शरीर में किसी प्रकार की ओर बीमारी है तब उस बीमारी से संबंधित दवाई दी जाती है

अगर आपके पेशाब में खून आने के शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं तब आपको इसका तुरंत इलाज करवाना चाहिए क्योंकि अगर यह समस्या आपके शरीर में लंबे समय तक रह जाती है तब आपके शरीर में कई अन्य बीमारियां उत्पन्न हो सकती है इसलिए इस बीमारी को हल्के में बिल्कुल भी नहीं लेना चाहिए

पेशाब में खून आने के कारण लक्षण बचाव व उपचार पेशाब में खून आने का होम्योपैथिक इलाज पेशाब में खून आने पर क्या करें पेशाब में खून आना का कारण महिलाओं के पेशाब में खून आने का कारण गाय के पेशाब में खून आने का देसी इलाज लाल पेशाब आने के कारण बच्चे के पेशाब में खून आना गाय के पेशाब में खून आना

Leave a Comment