पेट में जलन सूजन गैस्ट्राइटिस का घरेलू उपाय

पेट में जलन सूजन गैस्ट्राइटिस का घरेलू उपाय

आजकल के खानपान में इतना तब्दीली हो चुकी है कि लोग खाना खाने के बाद से बीमार पड़ने लगते हैं जिसमें पेट में जलन सूजन की समस्या आम होती जा रही है आजकल के तेल मसाले से बने लजीज भोजन लोगों को ज्यादा पसंद आते हैं। जिसकी वजह से उनके पेट का इन्वायरमेंट पूरी तरह से खराब हो जाता है।

तरह-तरह की बीमारियां होने लगती है उसमें से एक है गैस्ट्राइटिस यह बीमारी अल्सर को पैदा करने वाले बैक्टीरिया से पेट में उत्पन्न होती है।यह समस्या जाने पर पेट फूला फूला रहता है भूख नहीं लगती तथा सारा दिन बेचैनी रहती है लोग खाने के लिए तरसते हैं एक बार यह समस्या हो जाने पर लोग तरह-तरह की इलाज भी करते हैं।

लेकिन उसका दुष्प्रभाव ज्यादा होता है लाभ कम होता है लेकिन आपको यदि ऐसी दिक्कत है हम तो चिंता करने की कोई बात नहीं क्योंकि हम अपने इस आर्टिकल में आपको बताने वाले कि आप कैसे पेट में जलन और सूजन गैस्ट्राइटिस की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। वह भी बिना किसी खर्च के जानने के लिए बने रहें हमारे साथ चलिए शुरू करते हैं.

 

  क्या है पेट में जलन और सूजन गैस्ट्राइटिस का घरेलू उपाय

कभी-कभी खाने में अपच की समस्या हो जाए तो यह आम बात होती है लेकिन यह समस्या परमानेंट रहने लग जाए पेट में सूजन पेट में जलन बार बार डकार आना गैस पासून एक हद से ज्यादा तो फिर यह दिक्कतें पैदा करने लगता है। इसका प्रॉपर इलाज करना भैया जरूरी होता है समय से पहले इलाज कर लिया जाए तो बीमारी अधिक नहीं परेशान कर पाती गैस्ट्राइटिस एक ऐसी समस्या है।

जो ज्यादा समय बीत जाने पर अल्सर की समस्या में बदल जाती है यह अल्सर के बैक्टीरिया से उत्पन्न होने वाली बीमारी है।

बीमारी के लक्षण इसमें रोगी को बार बार डकार आना, पेट में सूजन रहना, पेट फुला फुला रहना, कब्ज रहना भूख ना लगना मल काला होना, खून की उल्टी होना, मल से ब्लड आना मुंह से बदबू आना, तथा शारीरिक समस्याएं बने रहना इसमें  लक्षण पाए जाते हैं।

 क्या कारण होते हैं पेट में जलन सूजन गैस्ट्राइटिस के होने की

  • गैस्ट्राइटिस होने की सबसे बड़ी समस्या का कारण है हमारी खराब लाइफस्टाइल हमारे लापरवाही भरे भोजन के प्रति रवैया भोजन करने का गलत तरीका।
  • तेल मसाले का ज्यादा उपयोग करना हरे फल फूल सब्जियों से दूरिन बनाना।
  • ऐसी चीजों का सेवन करना जो पचने में बहुत देर लगाती हैं। मैदे से बने बेकरी फूड्स शुगर का ज्यादा सेवनधूम्रपान करना मदिरापान करना तंबाकू गुटके का सेवन अत्यधिक करना।

यही सारी चीजेंगैस्ट्राइटिस की समस्या का कारण बनती है।

पेट में जलन और सूजन गैस्ट्राइटिस का घरेलू उपाय

हमारा पेट हमारे शरीर का इंजन होता है यदि अगर पेट में दिक्कत है तो हम कभी भी स्वस्थ जीवन नहीं जी सकते इसलिए विशेष तौर पर पेट का बहुत बारीकी से ध्यान देना चाहिए।

गैस्ट्राइटिस का पहला उपाय है प्रोबायोटिक्स का सेवन करना

प्रोबायोटिक्स ऐसी चीजों को बोला जाता है जिनमें अच्छे बैक्टीरिया गुड बैक्टीरिया पाए जाते हैं। शरीर में दो प्रकार के बैक्टीरिया होते हैं एक बैड बैक्टीरिया गुड बैक्टीरिया जब हमारे शरीर में गुड बैक्टीरिया की कमी हो जाती है। तो हमें गैस्ट्राइटिस जैसी  समस्या होने लगती है। ठीक करने के लिए अपने डाइट प्लान में प्रोबायोटिक्स शामिल करने चाहिए जिनका स्रोत होता है सेब का सिरका, दही, छाछ, पनीर इनमें प्रोबायोटिक्स के अच्छे स्रोत होते हैं आपको अपनी डाइट प्लान में इनका सेवन करना चाहिए ।

दूसरा उपाय हल्का भोजन खाएं

जी हां जब आपको ऐसी समस्या हो जब आपका पेट बिल्कुल से जवाब दे रहा हो । पाचन क्रिया एकदम कमजोर हो तो ऐसे मैं आपको भोजन बिल्कुल हल्का करना चाहिए जो आसानी से सुपाच्य हो सके जिससे कि नहीं भर को ज्यादा मेहनत न करनी पड़े तभी आप गैस्ट्राइटिस की समस्या से छुटकारा पा  सकते हैं।

 तीसरा उपाय हरी सब्जियों का भरपूर प्रयोग

जी हां ऐसे में जब हमारा पेट मुश्किल के दौर से गुजर रहा है तो हमें अपने खाने में हरी सब्जियां फल को ज्यादा से ज्यादा शामिल करना चाहिए। ताकि जो भी पोषक तत्वों की कमी है वह पेट में पहुंचती है और इसकी पूर्ति जल्दी से होती रहे इससे बीमारी को ठीक करने में सहायता मिलती है। हरे पत्तेदार सब्जियां किसी भी बीमारी को रिवर्स करने में बेहद सहायक होती अपनी डाइट प्लान में इनका सेवन करना दूसरे भोजन से ज्यादा जरूरी है।

 चौथा उपाय ग्रीन टी और शहद का सेवन

ग्रीन टी स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक होता है यह हर्बल पतियों द्वारा निर्मित चाय होती है। जिसको हम उबालकर सुबह शाम स्वास्थ्य ठीक करने के लिए पीते हैं यदि इसमें हम तहे का मिश्रण कर लें तो यह कई गुना और फायदे देने में सहायक होगा ग्रीन टी के साथ आपको शहद का सेवन करना चाहिए इससे पेट में प्रोबायोटिक्स की मात्रा प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है । और बीमारी को  रिवर्स करने में सहायता मिलती है वह शहद में हजारों औषधि गुण होते हैं। इसे ग्रीन टी के साथ मिश्रण करके सुबह शाम दोपहर पीने से गैस्ट्राइटिस की समस्या से बहुत जल्द लाभ होगा।

पेट में जलन सूजन गैस्ट्राइटिस का घरेलू उपाय पेट में भारीपन के लक्षण पेट की सूजन कैसे कम करें घरेलू उपाय पेट की सूजन के लक्षण पेट की सूजन के लिए आयुर्वेदिक दवा पेट में सूजन के लक्षण और उपाय पेट की सूजन कम करने के उपाय पेट में सूजन की टेबलेट आंतों में सूजन के घरेलू उपाय

Leave a Comment