ठीके के शोथ के कारण लक्षण बचाव व उपचार

ठीके के शोथ के कारण लक्षण बचाव व उपचार

जब भी हमें किसी प्रकार की बीमारी होती है तब हम उसके इलाज के लिए तो डॉक्टर के पास जाते हैं लेकिन कई बार डॉक्टर हमारे इलाज के दौरान ऐसी गलतियां कर देते हैं जिनसे हमें आगे चलकर कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है ऐसा ही तब होता है.

जब डॉक्टर हमारे इलाज के दौरान इंजेक्शन देते हैं क्योंकि कई बार डॉक्टर इंजेक्शन देते समय ऐसी गलतियां कर देते हैं जिनसे हमारे इंजेक्शन वाली जगह पर शोथ हो जाता है और इससे कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है तो इस ब्लॉग में हमें इसी समस्या के बारे में विस्तार से बातें करने वाले हैं इस ब्लॉग में हम समस्या के उत्पन्न होने के कारण लक्षण उपचार और बचाव के बारे में जानेंगे.

ठीके का शोथ

जब भी हमें किसी प्रकार की बीमारी होती है तब हम तुरंत किसी डॉक्टर के पास जाते हैं लेकिन कई बार किसी डॉक्टर की गलती या हमारी खुद की गलती के कारण हमारे इंजेक्शन वाली जगह पर शोथ हो जाता है जिससे हमें टीके वाली जगह पर लंबे समय तक दर्द का सामना करना पड़ता है और कई बार टीके वाली जगह पर सूजन लाली भी रहती है टीके वाली जगह पर सूजन होने से उठने बैठने में परेशानी होती है ऐसा तब होता है जब हम टीके लेते समय हिलने ढूंढने लगते हैं या कोई नया डॉक्टर होता है जिसका टीके लगाने का एक्सपीरियंस नहीं होता और इसका खामियाजा रोगी को भुगतना पड़ता है

कारण

जब किसी इंसान के पीछे वाली जगह पर इंफेक्शन सूजन आती है तब इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे ही टिका लगाते समय ऊंची नीची जगह पर लेटना, टीका लगाते समय हिलना डुलना, टीके लगाने वाले डॉक्टर का एक्सपीरियंस ने होना, टीका किसी अनजान डॉक्टर के द्वारा लगाना, टीका लगाते समय डॉक्टर का ध्यान इधर उधर होना, टीके वाली जगह पर ज्यादा दबाव डालना, टीके की दवाई कठोर होना, टीका लगाने के बाद मालिस न करना, टीका लगाने के तुरंत बाद एक जगह पर बैठे रहना, ठंड के मौसम में टीका लगवाना आदि की समस्या के मुख्य कारण होते हैं लेकिन इसके अलावा भी समस्या के बहुत सारे और कारण भी हो सकते हैं

लक्षण

अगर इस समस्या के लक्षणों के बारे में बात की जाए तो रोगी को टीका लगवाने के कुछ समय बाद ही इस समस्या के लक्षण दिखाई देने लगते हैं क्योंकि इस समस्या के होने पर रोगी के टीके वाली जगह पर सूजन आ जाती है वह गांठ बन जाती है जिसमें रोगी को तेज दर्द होता है और उसको उठने बैठने में भी परेशानी होने लगती है कई बार टीके वाली जगह पर दर्द कम लेकिन लालिमा आ जाती है और टीके वाली और टीके वाली जगह बिल्कुल कठोर हो जाती है कई बार इस समस्या के लंबे समय तक रहने पर रोगी के टीके वाली जगह पर इंफेक्शन भी हो सकता है और कई लोगों में इन्फेक्शन के कारण पीप निकलने लगती है इसके अलावा भी रोगी में इस समस्या के होने पर बहुत सारे और लक्षण दिखाई दे सकते हैं

बचाव

अगर आप इस समस्या से बचाना चाहती है तब इसके लिए आपको टीका लगवा दे समय कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है जो कि आप को इस समस्या से बता सकती है जैसे

  • आपको टीका लगाती समय हिलना डुलना नहीं चाहिए
  • टीका लगाते समय लेटने वाली जगह बिल्कुल समतल वह सीधी होनी चाहिए
  • आपको टीका लगाते समय अपने शरीर को टाइट नहीं करना चाहिए
  • आपको किसी अनजान डॉक्टर से टीका नहीं लगाना चाहिए
  • टीका लगवाने के तुरंत बाद आपको टीके वाली जगह को मसलना चाहिए
  • आपको टीके वाली जगह पर ज्यादा तेजी से दबाना नहीं चाहिए
  • आप को टीका लगाने के तुरंत बाद एक जगह पर नहीं बैठना चाहिए
  • टीके वाली जगह पर दर्द होने पर आपको बर्फ से सेकना चाहिए
  • टीका लगवाने के लिए आपको किसी अच्छे एक्सपीरियंस डॉक्टर के पास ही जाना चाहिए
  • अगर आपको टीके वाली जगह पर 2 दिन से ज्यादा दर्द या सूजन रह जाती है तब आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए
  • अगर टीके वाली जगह में जख्म हो जाता है और पीप निकलने लगती है तब आपको डॉक्टर से जाँच करवानी चाहिए
  • आपको इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि डॉक्टर आपके इंजेक्शन में नई सिरंज का इस्तेमाल कर रहे हैं
  • आपको किसी दूसरे इंसान के ऊपर इस्तेमाल की गई सिरंज व टीके का इस्तेमाल नहीं करवाना चाहिए

उपचार

अगर किसी इंसान के इंजेक्शन वाली जगह पर शोध हो जाता है तब इसके उपचार के लिए उसको किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना बहुत जरूरी है क्योंकि यह एक बहुत ही गंभीर और खतरनाक समस्या है इसमें कई बार रोगी के शोथ वाली जगह पीप निकलने लगती है और उसमें घाव हो जाता है इसलिए जब किसी को यह समस्या हो जाती हैतब डॉक्टर शुरू में आपको हल्की दवाइयां देते हैं लेकिन फिर भी अगर आपकी इस समस्या में राहत नहीं मिलती तब डॉक्टर आपकी समस्या को ऑपरेशन के द्वारा ही नियंत्रण में करते हैं ऑपरेशन के कुछ समय बाद अपने आप आपकी शोथ वाली जगह ठीक हो जाती है इसके लिए आपको किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना बहुत जरूरी है लेकिन आपको यह बात याद रखना बहुत जरूरी है कि आप किसी नव सीखिए डॉक्टर के पास न जाएं और झाड़-फूंक आदमी विश्वास न करें

लेकिन फिर भी अगर आपको इंजेक्शन वाली जगह पर शोथ हो जाता है तब आपको किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपनी शोथ वाली जगह की जांच करवानी चाहिए आपको देरी बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए क्योंकि जैसे-जैसे इस समस्या का समय बढ़ता है तब इस समस्या में पीप होने लगती है और इससे आपको बहुत दर्द का सामना करना पड़ सकता है

ठीके के शोथ के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार वात रोग की दवा पतंजलि वात, पित्त कफ के घरेलू उपाय वायु रोग की आयुर्वेदिक दवा वात रोग की होम्योपैथिक दवा शरीर की वायु या वात विकार या बादी हटाने की दवा वात रोग के लिए तेल वात रोग की पहचान हाथी पाँव का इलाज

Leave a Comment