खुजली के लक्षण कारण घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक दवा

खुजली के लक्षण कारण घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक दवा

दुनिया भर में अलग-अलग खतरनाक और भयानक बीमारियां होने के बावजूद भी खाज खुजली एक ऐसी बीमारी है जो कि हर इंसान को किसी न किसी रूप में उत्पन्न जरूर होती है वैसे तो खाज खुजली बहुत प्रकार की होती है जो कि किसी इंसान के शरीर की अलग-अलग जगह पर अलग-अलग प्रकार से उत्पन्न होती है .

इससे इंसान कई बार इतना परेशान होता है कि वह चैन की नींद सो भी नहीं पाते और कई बार मौसम के साथ साथ खाज खुजली आना आम बात होती है तो आज के इस ब्लॉग में हम खुजली के बारे में ही बात करने वाले हैं इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे की खुजली क्या होती है यह कितने प्रकार की होती है इससे बचने के लिए क्या-क्या करना चाहिए और इस से कैसे छुटकारा पाएं.

खुजली क्या होती है

सबसे पहले हम बात करते हैं खुजली क्या होती है खुजली एक ऐसी समस्या है जो कि ज्यादातर त्वचा के ऊपर उत्पन्न होती है लेकिन कई बार खुजली हमारे खून के अंदर भी होती है जिससे हमारी त्वचा के ऊपर निकलने लगती है और जब किसी इंसान को खुजली की समस्या होती है उसकी त्वचा के ऊपर खुजलाहट होने लगती है और यह समस्या बार-बार उत्पन्न होती है जिससे उस इंसान की त्वचा ऊपर से बिल्कुल खराब हो जाती है या उसकी त्वचा के अंदर झुरियां निकलने लगती है और कई बार तो खुजली बढ़ जाने पर पीपी आदि की समस्या उत्पन्न हो जाती है लेकिन खुजली अपने आप उत्पन्न नहीं होती है इसके होने के पीछे दूसरे कई रोगों का होता है हमारे गलत भोजन करने से उत्पन्न होती है

खुजली के कारण

जब किसी इंसान को पगड़ी की जब किसी इंसान को खुजली की समस्या उत्पन्न होती है तब उसके पीछे बहुत सारे कारण होते हैं जैसे कई दिनों तक त्वचा को साफ न करना, गंदी जगह पर काम करना, गटर आदि में काम करना, गंदे कपड़े पहनना, गर्मी में ऊनी वस्त्र पहनना, कई दिनों तक स्नान नहीं करना, विषैले तत्वों के संपर्क में त्वचा का आना, शरीर की सफाई की ओर ध्यान न देना, खतरनाक दवाइयों के संपर्क में आना, ज्यादा धूप में काम करना और फिर शरीर को साफ न करना, गंदे पानी से स्नान करना, तो ऐसे बहुत सारे कारण होते हैं जिनसे किसी भी इंसान के शरीर में खुजली की समस्या उत्पन्न हो सकती हैं

खुजली के लक्षण

जब किसी इंसान को खुजली उत्पन्न होती है तब उसके अंदर आपको कई प्रकार के लक्षण भी देखने को मिलते हैं जैसे त्वचा के ऊपर बार-बार खुजलाने की इच्छा होना आग या गर्म जगह पर जाने पर जलन महसूस होना, दिन की बजाय रात में खुजली ज्यादा आना, खुजली लगातार बढ़ती रहेगी, खुजली वाली जगह पर पीप या खून निकलना, नींद कमाने लगेगी, धूप में निकलने का मन नहीं करेगा, कई बार इंसान को खून की खुजली होती है जो कि खून की सफाई न होने के कारण उत्पन्न होती है और कई बार मौसम के साथ-साथ भी खुजली आती जाती रहती है इसके अलावा खुजली शरीर के किसी भी अंग पर हो सकती है लेकिन मुख्य तौर पर खुजली उंगलियों के बीच, जांघों के बीच, कमर, यौन अंगों के आसपास और जोड़ो आदि पर होती है

क्या खाना चाहिए

किसी इंसान को खुजली की समस्या हो जाती है अब उसको खानपान की ऊपर ध्यान देने की बहुत जरूरत होती है क्योंकि खान-पान पर ध्यान ना दिया जाए तो आपके खुजली बढ़ भी सकती है इससे आपको बाद में बहुत समस्या का सामना करना पड़ेगा और कुछ अच्छी चीजों का सेवन करने से आप खुजली से छुटकारा भी पा सकते

  • आपको लगातार कुछ महीनों तक चने के आटे से बनी रोटियां बिना नमक मिलाएं खानी चाहिए
  • आपको जिमीकंद, पलवल, बथुआ, मूंग की दाल और टमाटर आदि का सेवन करना चाहिए
  • कच्चे हरे चने मिल सके तो उनको हर रोज खाना चाहिए
  • दिन में तीन चार बार एक एक कप दूध पीना चाहिए

क्या नहीं खाना चाहिए

  • आपको कम से कम मिर्च-मसालेदार और तले हुए भोजन सेवन करना चाहिए
  • आपको अचार, पापड़, दही व मूंगफली आदि से परहेज करना चाहिए
  • आपको कम से कम गुड चीनी से बनी हुई चीजों का सेवन करना चाहिए व मिठाई चॉकलेट नहीं खानी चाहिए
  • आपको ज्यादा शराब, नमक, मांस आदि का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ठंडा में होटल का खाना नहीं खाना चाहिए

क्या-क्या करना चाहिए

  • आपको कब्ज की समस्या उत्पन्न नहीं होने देनी चाहिए इसके लिए एनिमा लगाना चाहिए
  • खुजली होने पर नींबू के रस में नारियल का तेल मिलाकर त्वचा पर लगाना चाहिए
  • अगर खुजली यौन अंगों और उनके आसपास की तकलीफ में फिटकरी गर्म पानी में घोलकर रोजाना सफाई करें
  • ज्यादा खुजली होने लगी तब बर्फ लगानी चाहिए
  • आपको नाखून काट लेना चाहिए ताकि खुजली होने पर त्वचा छील न सके
  • नीम का तेल या लैवेंडर आइल पीड़ित अंग में 3-4 बार लगाकर मलें

क्या नहीं करना चाहिए

  • आपको गंदे कपड़े नहीं पहने चाहिए
  • आपको अपना तोलिया अलग रखना चाहिए
  • आपको पर रोज सुबह शाम स्नान करना चाहिए
  • आपको गर्म मौसम आने पर उनकी वस्त्र नहीं पहननी चाहिए
  • आपको नायलोन के मोजे, पोलिस्टर के कपड़े का इस्तेमाल करना चाहिए
  • आपको गंदी जगह पर नहीं जाना चाहिए और बाहर से आते ही अपने हाथों को धोना चाहिए
  • आपको रासायनिक व जहरीले पदार्थों के संपर्क में आने से बचना चाहिए

खुजली की आयुर्वेदिक दवा

लेकिन फिर भी अगर आपको खुजली की समस्या उत्पन्न हो जाती है तब डॉक्टर के पास जाना और डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए इसके अलावा आप कुछ आयुर्वेदिक औषधियों व आयुर्वेदिक दवाइयों का इस्तेमाल करके भी खुजली से छुटकारा पा सकते हैं जिनके बारे में हमें आपको नीचे बताया है. इन सभी को आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • नवशक्ति क्लीनरैड टेबलेट- वयस्क 1-2 गोली दिन में 2/3 बार। बालक-1 गोली दिन में 2 बार। यह एलर्जी, पित्ती, खुजली, पायजन्स बाइट तथा स्किन इन्फैक्शन में भी उपयोगी है।
  • डा०जैन टी टोक्स – चम्मच पाउडर 1 कप पानी में (पानी को गर्म करके ठण्डा कर लें तथा शक्कर मिला लें।) प्रातः समय नाश्ते के उपरान्त निरन्तर 3 माह सेवन करायें। यह श्रेष्ठ रक्तशोधक (Blood Purifier) है।
  • वान डर्माफेक्स कैपसूल – वयस्क 1-2 कैपसूल दिन में 3 बार दूध के साथ दें। यह पूराईटिस तथा स्किन एजर्ली में भी हितकर है।
  • मार्तण्डब्लड पायोरेक्स टेबलेट – 2-2 गोली दिन में 3 बार सेवन करायें। 
  • उपकरण डर्मिना टेबलेट -वयस्क 2-2 गोली तथा बच्चों को 1-1 गोली दिन में 3 बार सेवन करायें। 
  • धन्वन्तरि गन्धक मिश्रण टेबलेट – 1-2 गोली दिन में 3 बार दें। 
  • चरक पुरीला लिक्विड – वयस्क 20 मिली० तथा बच्चे 10 मिली० औषधि पानी के साथ दिन में 3 बार दें। यह खुजली तथा एलर्जिक स्किन डिजीज में अत्यन्त उपयोगी है।

खुजली का घरेलू उपचार

आक का दूध 10 ग्राम लेकर 50 मिली० सरसों के तेल में पकायें। दूध के जल जाने पर औषधि शीशी में भरकर सुरक्षित रख लें। इसको दिन में 2-3 बार खाज, पामा, छाजन आदि रोगों में लगायें। यदि खुजली सम्पूर्ण शरीर में हो तो इसकी सम्पूर्ण शरीर पर मालिश करें। अतिशय लाभप्रद है।

कपूर 1 भाग और यशद भस्म भाग इन दोनों को एकत्र कर चमेली के अथवा नारियल के तेल साथ खरल करके सुरक्षित रख लें। इसको लगाते रहने से स्त्रियों के योनि (वैजाइना) स्थान की खुजली, पामा तथा अन्य चर्म रोगों में लाभ होता है।

पित्त पापड़ा और हल्दी समान मात्रा में लें पीस कर शरीर पर मालिश करने से गीली तथा सूखी खुजली दूर हो जाती है। इसे गाय के मक्खन में मिलाकर मालिश करने से खुजली में लाभ होता है।

खुजली को जड़ से इलाज खुजली वाला कीड़ा लाल खुजली की दवा खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम पतंजलि खुजली की दवा एलर्जी खुजली की दवा सूखी खुजली की दवा पूरे शरीर में खुजली की दवा

Leave A Reply

Your email address will not be published.