काजू की खेती बिजनेस प्लान Cashew Farming Business Plan

काजू की खेती बिजनेस प्लान Cashew Farming Business Plan

कैसेव फार्मिंग की बात करें तो हम सब जानते हैं कि कैसेव काजू को कहा जाता है काजू महत्वपूर्ण ड्राइ फ्रूट  में सबसे ज्यादा फायदेमंद होने की वजह से घर घर की जरूरत होता है। हर व्यक्ति अपने को स्वस्थ रखने के लिए काजू खाना पसंद करता है काजू का उपयोग कई प्रकार के पकवानों को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है। यदि किसी भी पकवान को स्वादिष्ट बनाना है तो उसमें काजू का प्रयोग ग्रेवी में किया ही जाता है काजू हर घर की जरूरत है हर व्यक्ति से खाना पसंद करता है। जितना यह खाने में स्वादिष्ट है उतना सेहत से भी भरपूर है।

इसीलिए 12 महीने मार्केट में इसकी डिमांड बनी रहती है और बड़ी मात्रा में पूरे भारत में तथा विश्व में इसकी खपत होती है इसका बिजनेस करना सोने पर सुहागा साबित होता है ।

यदि काजू के अंदर और सब तत्वों की बात करें तो यह हमारे स्किन को ग्लो करने में हिमोग्लोबिन बढ़ाने में पाचन संबंधी रोगों को दूर करने में तथा शरीर में कमजोरी को दूर करने में शरीर की इम्युनिटी पावर को बढ़ाने में मदद करता है। यदि हम किसी ऐसे बिजनेस प्लान की तलाश में है जिससे 12 महीने इनकम के चांस से बने रहें और थोड़े इन्वेस्टमेंट में अच्छी खासी कमाई मोटी कमाई होने लगे थोड़ी सी जगह खाली जगह का उपयोग करके आप अच्छी कमाई करने की सोच रहे हैं।

तो यह बिजनेस प्लान आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है यदि आपको काजू कैसेव फार्मिंग बिजनेस प्लान के बारे में कोई जानकारी नहीं है। तो आज हम अपने इस आर्टिकल में आपको फार्मिंग की सारी बारीकियां तथा फार्मिंग के बारे में सारी जानकारियां निवेश मुनाफा फार्मिंग की शुरुआत कैसे करें सारी जानकारियां इस आर्टिकल में आपको देने वाले हैं। जानने के लिए बने रहे हमारे साथ चलिए शुरू करते हैं …..

क्या है कैसेव फार्मिंग बिजनेस प्लान

What is Cashew Farming Business Plan – यदि हम कैसेव यानी कि काजू की फार्मी करने की बात करें तो काजू हर घर की जरूरत होता है यह सेहतमंद होने की वजह से विशेष प्रकार का ड्राई फ्रूट होता है। इसकी जरूरत हर घर को दिए जो भी शादी विवाह में जो भी अच्छे पकवान बनाए जाते हैं उनमें ग्रेवी बनाने के लिए काजू का उपयोग होता है। काजू की बर्फी बनती है जो की बहुत ही प्रसिद्ध है और खाने में बहुत टेस्टी होती है जिसे काजू कतली बोला जाता है। मार्केट में 12 महीने इसकी मांग बनी रहती है। काजू से शराब भी बनाई जाती है। इसलिए कि मार्केट में डिमांड बहुत ज्यादा रहती है काजू के छिलके से लुब्रिकेशन पैदा करने के लिए पेंट भी बनाया जाता है।

काजू के पेड़ मुश्किल से 14 से 15 मीटर के ही होते हैं इसलिए इसमें से आपको ज्यादा परेशानी भी नहीं होगी। केवल 3 वर्ष में काजू के पेड़ तैयार हो जाते हैं फल देने के लिए बाद आप कमाई करना शुरू कर सकते हो।

तरह-तरह के पकवान में इसका प्रयोग किया जाता है काजू के हर रिश्ते का प्रयोग मार्केट में है इसलिए की डिमांड मार्केट में हमेशा बनी रहती है। और 800-900 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मार्केट में से बेचा जाता है यदि कोई किसान यह जिसके पास खाली जगह है वह इस बिजनेस को शुरू कर दे तो बैठे-बिठाए अच्छे खासे बिजनेस के रूप में वह इसे कर सकता है और मोटी रकम कमा सकता है। इसमें निवेश भी ज्यादा नहीं करना पड़ता और थोड़ी बहुत देखभाल के साथ आप इसे तैयार होने के बाद मार्केट में अच्छी खासी की रकम हासिल कर सकते हैं। यदि आपने अच्छे से बिजनेस किया और पैदावार अच्छी हुई तो आप लाख से करोड़पति भी बन सकते हैं जितना इसमें कमाई इस हिसाब से होती है ।जितना आप इसमें इन्वेस्ट करेंगे जितनी जगह पर आप फार्मिंग करेंगे उतना लाभ आपको काजू की फसल से होने वाला है। इसलिए सारा कुछ आप पर निर्भर करता है कि आप कितना कमाना चाहते हैं।

कैसे शुरू करें कैसेव फार्मिंग बिजनेस प्लान

How to start Cashew Farming Business Plan

  • यदि काजू की खेती करने की शुरुआत के बारे में बात करें यदि आप पैसे से एक किसान ने तो यह सोने में सुहागा साबित होगा।
  • क्योंकि काजू एक फार्मिंग बिजनेस है ऐसे काम किसान बड़ी जिम्मेदारी से करते हैं और उन्हें ऊंच-नीच का सब पता रहता है।
  • फिर भी अभी आप आम इंसान हैं और आपके पास जगह है तो आप प्रशिक्षण लेकर भी फार्मिंग शुरू कर सकते हैं और तगड़ा मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।

इसके लिए आपको बिजनेस प्लान तैयार करना होता है।

हर बिजनेस को करने के लिए बिजनेस प्लान की जरूरत होती है ताकि भविष्य में घाटा ना हो आपको भी खेती कहां करनी चाहिए खेती से कितना लाभ होने वाला जो बिजनेस आप कर रहे हैं।

मार्केट में कितनी है कितना निवेश होगा कितना मुनाफा होगा खेती के लिए कैसी जमीन चाहिए कहां पर पैदावार ज्यादा कर हो सकती है। सभी चीजों को आपको बिजनेस करने से पहले सोच समझ लेना चाहिए जरूरी क्या चीज होती है क्या चीज उपयोग में होनी चाहिए। खेती करने के लिए विशेष रूप से किन चीजों की जरूरत पड़ती है सारी जानकारी आपको होनी चाहिए। यदि आपको इनकी जानकारी नहीं है तो आप इसके बारे में प्रशिक्षण भी प्राप्त कर सकते हैं परीक्षण केंद्र से वहां आपको सारी जानकारियां बारीकी से समझा दी  जाएंगी।

कैसे करें खेती

यह महत्वपूर्ण प्रश्न है यदि आप काजू की खेती करना चाहते हैं तो इसे करना बेहद आसान है जो कि इसके पौधे 14 से 15 मीटर के होते हैं।

तथा फसल भी 3 वर्ष में तैयार हो जाती है 3 वर्ष के बाद आप आसानी से कमाई करना भी शुरू कर सकते हैं इसमें किसी भी प्रकार की झंझट नहीं होती।

छोटे पेड़ होते हैं इसे आसानी से कर सकते हैं और फसल तैयार होने के बाद 3 साल के बाद आपकी पूरी फसल तैयार हो जाएगी।

 यदि खेती में  मिट्टी की बात करें

  • जैसा कि हम सब जानते हैं किसी भी फसल को उगाने के लिए हमें वातावरण अनुकूलित मिट्टी चाहिए होती। जिससे गेम ज्यादा ज्यादा पैदावार कर सके।
  • फसल से ज्यादा से ज्यादा कीमत वसूल कर सकें यदि काजू की खेती करने के बारे में बात करें तो इसके लिए उष्ण कटिबंध जगह चाहिए होती है।
  • मतलब इसके लिए ऐसी जगह चाहिए जहां का वातावरण एकदम सामान्य जैसे समुद्र की समुद्री स्थल हो या लेटराइट मिट्टी हो जिसके लिए अच्छी मानी जाती है।
  • ऐसी जगह पर पैदावार उम्मीद से ज्यादा होती है और इनकम भी आपको आपकी उम्मीद से ज्यादा होगी किसी भी फसल को उगाने के लिए उसके हिसाब से वातावरण तथा उसके हिसाब की मिट्टी होना बेहद जरूरी है।

काजू की फसल को समुद्र के एक 750 मीटर ऊंचाई वाले तल पर करनी चाहिए इसे नमी तथा ठंडी से बचाना चाहिए। नमी और ठंडी यदि रहेगी तो फसल की पैदावार में प्रभाव पड़ेगा और फसल की पैदावार कम भी हो सकती है इसलिए इसे नमी से बचाना बेहद जरूरी होता है।

काजू की खेती के लिए मौसम जलवायु

यदि काजू की खेती के लिए मौसम की बात करें तो इसके लिए वह संकट भी उष्णकटिबंधीय जलवायु  मौसम होना चाहिए ये अच्छा माना जाता है।

जहां पर 600 से 700  मिनी की बारिश के लिए लाभदायक होती है ज्यादा सर्दी व नमी इसके लिए खतरनाक साबित हो सकती है।

काजू की फसल के लिए गर्म तथा आंध्र जलवायु अच्छी मानी जाती है और यही ऐसी जलवायु पर पैदावार उम्मीद से ज्यादा की जा सकती है देखरेख ज्यादा अच्छी के करेंगे तो हर मिट्टी में काजू की फसल अच्छी पैदावार देती है। काजू की फसल को ना तो ज्यादा गर्मी भाती है और ना ही ज्यादा ठंडी भाती है जब सर्दी में पाले  पड़ते हैं तो काजू की फसल के लिए बेहद नुकसानदायक होता है। इससे काजू की फसल को बचाना चाहिए तभी अच्छी पैदावार होती है इसके लिए आपके पास अनुभव भी होना चाहिए।

खेती करने की प्रक्रिया

यदि काजू की खेती करने की प्रक्रिया की बात करें तो जहां भी इसे स्थान आपने चुन लिया है और स्थान में तिरछी जुताई की जाती है।

और एक पेड़ के बीच में 4 मीटर का फासला होना जरूरी होता है। यदि आप इतने लंबे लेवल पर करना चाहते हैं यदि आपके पास खेती की पर्याप्त जगह है।

और लंबा फायदा आप प्राप्त करना चाहते हैं तो आप बड़े लेवल पर भी खेती कर सकते हैं इसके लिए आपको इस स्पेस की जरूरत पड़ेगी।

यदि पहली बार आप खेती कर रहे हैं तो आपको इस बात का सहारा जरूर लेना चाहिए यदि आप एकड़ के हिसाब से खेती करेंगे तो 1 एकड़ में आप डेढ़ सौ पेड़ लगा पाएंगे।

और यदि आप हेक्टेयर के हिसाब से खेती करेंगे तो 1 हेक्टेयर में आप 500 पर लगा पाएंगे काजू के आप ऊपर निर्भर है।

कि आपके पास कितना जगह अवेलेबल है खेती करने के लिए और अब कितना इन्वेस्ट करना चाहते हैं। शुरुआत में आपको सोच समझकर ही इन्वेस्ट करना चाहिए ताकि घाटे की उम्मीद ज्यादा ना रहे यदि घाटा हो भी तो आप संभालने लायक रह पाए। यदि आप इस पद की सहायता से खेती करेंगे तो आपके घाटे की उम्मीद बेहद कम होती है।

काजू की खेती करने के लिए आप काजू के बीज बोकर भी पौधे तैयार कर सकते हैं किंतु यदि आप मार्केट चलाएंगे तो यह आपको समय की बचत कराएगा। खेती की बात करें तो 1 महीने पहले से काजू के पेड़ को लगाने के लिए गड्ढे खोदने पड़ते हैं।

और उसमें निराई गुड़ाई करनी होती है। एक महीने में गुजर जाने के बाद एक में काजू के पेड़ अच्छे से रोपण किए जाते हैं। और इसकी देखरेख करने के लिए आपको पूरी जिम्मेदारी लेनी होती।

यदि आप अच्छी फसल चाहते  हैं तो इसकी देखरेख भी आपको ही करनी पड़ेगी। काजू के पेड़ को देखभाल करने के लिए इसमें ना तो आपको ज्यादा सिंचाई के चक्कर में पढ़ना पड़ता है। और ना ही किसी दूसरे के चक्कर में पड़ना पड़ता है इसके लिए थोड़ी बहुत जल्दी बारिश हो जाती है तो उसकी सिंचाई भी पर्याप्त होती है आपको अलग से सिंचाई करने की कोई आवश्यकता नहीं पड़ती।

कैसे होती है कमाई

यह भी आपने फसल तैयार कर लिया और तीन साल का पीरियड भी पूरा कर लिया पर फसल अच्छे से तैयार हो गई फल देने लायक हो गई तो आप मान के चलिए आपको फायदे से कोई नहीं रोक सकता। यदि एक पेड़ तैयार होता है तो उसमें 20 किलो काजू का फल लगता है। यदि आपने एक ट्रक में 500 पेड़ लगाए हैं तो आपको सभी पेड़ों को मिलाकर 10 टन का जो तैयार होंगे मार्केट मार्केट रेट की बात करें। तो काजू का दाम मार्केट में 800 से ₹900 प्रति किलो के हिसाब से बिकता है। अब आप अंदाजा लगा दीजिए यदि आप प्रति किलो काजू की हो भेजेंगे तो आपको लागत हटाकर कितना मुनाफा मिलेगा यह आपको पसंद पैदा होने के बाद बाजार में फसल बेचने के बाद पता हो जाएगा। इसमें आपको धैर्य रखना होगा।

मुझे उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल कैसेव फार्मिंग बिजनेस प्लान को पढ़कर आर्टिकल में दी गई सारी जानकारियां होंगी यदि आपको यह बिजनेस अच्छा लगा। यदि इस बिजनेस प्लान में आपको फायदा समझ में आ रहा है और आप करना चाहते हैं तो  निर्भीक होकर छोटे से इन्वेस्टमेंट में आप इस बिजनेस की शुरुआत करें जैसे ही आपको फायदा दिखे बिजनेस में उस प्रकार अपने बिजनेस को आप बढ़ाइए। उसी प्रकार बिजनेस का लेवल बढ़ाकर आप कमाई करिए लेकिन शुरुआत छोटे से ही करिए ताकि आपको यदि खाता हो तो सहने की क्षमता भी हो आपके पास और आगे बढ़े।

Leave A Reply

Your email address will not be published.