आयुर्वेदिक कैप्सूल बनाने का बिजनेस Ayurvedic Capsule Making Unit Business

आयुर्वेदिक कैप्सूल बनाने का बिजनेस Ayurvedic Capsule Making Unit Business

छोटा निवेश करके घर बैठे कमाए लाखों रुपए इस बिजनेस को करने के बाद तगड़ा मुनाफा – आयुर्वेद हमेशा से लोगों के विश्वास में खरा उतरा है लोग एलोपैथी भले ही करते हो लेकिन आयुर्वेद में विश्वास करते हैं आयुर्वेद पर विश्वास भारतीय लोगों का ही नहीं अपितु पूरे संसार में आयुर्वेद की ताकत का अंदाजा है विदेशी आयुर्वेदिक पर विश्वास करने लगे है अब इसीलिए योग प्राणायाम और आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों पर रिसर्च करने लगे है बड़ी-बड़ी अमेरिका यूरोप की कंपनियां आयुर्वेदिक जड़ी पर रिसर्च कर रहे हैं। जो कि सही साबित हो रही है ।इसलिए वो भी  एलोपैथ में आयुर्वेद का मिश्रण होने लगा।

देश में बहुत सी कंपनियां हैं जो अपने प्रोडक्ट में आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का उपयोग बताकर इंडिया में अच्छा बिजनेस कर रही हालांकि विशेषज्ञों द्वारा मजाक उड़ाया जाता था आयुर्वेद का आयुर्वेदिक इलाज पद्धति का मजाक विदेशी हमेशा मजाक उड़ाते थे जब उन्हें  आयुर्वेदिक के बारे में पता चला तो विदेशीयो ने भी आयुर्वेद जुड़ना शुरु किया । आयुर्वेदिक को बढ़ावा देने के लिए भारत में सरकार द्वारा आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का इस्तेमाल बढ़ाया जाए।

इस इसलिए तमाम तरह की योजनाएं और स्टार्टअप शुरू  हुए हैं और कैप्सूल बनाने की विधि इसमें आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का उपयोग शामिल है इसे कोई भी बनाकर स्टार्ट कर सकता है और अच्छे खासे पैसे कमा सकता है यदि आपको इस बारे में कोई जानकारी नहीं है तो आज हम आपको बताएंगे कि आप कैसे आयुर्वेदिक कैप्सूल बनाने का बिजनेस स्टार्ट कर के अच्छे खासे पैसे कमा सकते हैं जानने के लिए बने रहे हमारे साथ चलिए शुरू करते हैं…

क्या है आयुर्वेदिक कैप्सूल मेकिंग यूनिट बिजनेस प्लान

what is Ayurvedic capsule making unit business plan – आयुर्वेदिक कैप्सूल मेकिंग  बिजनेस आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को पीसकर कैप्सूल के रूप में बनाने का एक प्रोसेस होता है। जिससे कि लोग आसानी से कैप्सूल के रुप आयुर्वेदिक दवाई खा सकें और पैकेजिंग के रूप में जड़ी बूटियां मिले ताकि असुविधा ना हो दवाइयां खाने और खरीदने रखने में आयुर्वेदिक कैप्सूल में जड़ी बूटियो को पीसकर के कैप्सूल के पिल्स में भरा जाता है।

और पैकेजिंग की जाती है जोकि आयुर्वैदिक स्टोर में भेज कर मार्केट में बेची जाती है यह ठीक वैसे ही है जैसे एलोपैथ की कैप्सूल आती हैं। उनमें एलोपैथ की दवाएं भरी रहती है उसी प्रकार आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों आयुर्वेदिक कैप्सूल में भरी रहती हैं।

बड़ी-बड़ी कंपनियों को अपने प्रोडक्ट आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां इस्तेमाल करना शुरू कर दिया और मार्केट में जड़ी बूटियों का मिश्रण बताकर अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग करके अच्छे कैसे पैसे कमा रही है। आयुर्वेदिक कैप्सूल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाकर रामदेव बाबा आज पूरे विश्व में योग का आयुर्वेद का प्रचार कर रहे हैं और एक अच्छा कंसंट्रस बना लिया कोरोना काल चल रहा है ।

डॉक्टर के संभाल नहीं पा रहे किस बिगड़ते जा रहे हैं एलोपैथ दवाइयां काम नहीं कर रही है लोग आयुर्वेदिक की तरफ देख रहे हैं आयुर्वेद की एकमात्र रास्ता है। जो करोना जैसी गंभीर बीमारी से लोगों को सुरक्षित कर पा रहा है। आयुर्वेद कैप्सूल मेकिंग यूनिट लगाकर यदि कोई बिजनेस स्टार्ट करें तो आज के दौर में वह बिजनेस सक्सेस  आता है क्योंकि लोगों का विश्वास आयुर्वेदिक  के प्रति पहले से 100 गुना बढ़ गया है।

क्यों करें आयुर्वेदिक कैप्सूल मेकिंग यूनिट बिजनेस

why we do ayurvedic capsule making business – क्योंकि आज ही एक मात्र साधन है जो गंभीर समस्याओं से लोगों को बचा रहा है ऐसे में यदि आप आयुर्वेदिक कैप्सूल बनाना का बिजनेस स्टार्ट करें इसमें बहुत ज्यादा न इन्वेस्टमेंट लगता है। और ना ही कोई झंझट होती है यह बिजनेस करना बहुत ही आसान है लोग कर रहे हैं और अच्छे पैसे कमा रहे हैं इस बिजनेस को करने का कारण है। कि हम अपने स्वदेशी पद्यति को आगे लेकर आते हैं। और स्वदेशी को बढ़ावा देते हैं आयुर्वेदिक में कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है ।इसलिए इसमें जोखिम कम होता है और अप्रूवल भी जल्दी मिल जाता है बनाने के लिए कोई भी इशू नहीं आता ।  आप किसी कंपनी के साथ जुड़कर भी बिजनेस कर सकते हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें आपको सरकार भी करने में मदद करेगी। और इसे आप घर से भी कर सकते हैं यदि आपके पास बड़ी जमीन  नहीं है। तो आप इसे छोटी सी जगह पर भी स्टार्ट कर सकते हैं।

कैसे शुरू करें आयुर्वेदिक कैप्सूल मेकिंग  बिजनेस

how to start Ayurvedic capsule making business – शुरू में आप बिजनेस को स्टार्ट छोटे इन्वेस्टमेंट से करें और बाद में इसी बिजनेस का पैसा इसी में लगाकर इसको बड़े लेवल पर करें इससे फायदा यह होगा कि आपको बिजनेस की चमक भी होगी और फायदा नुकसान भी आपको किसी से पूछने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपका अनुभव और बढ़ेगा तो आप कितना बड़ा भी अपना बिजनेस कर सकते हैं। इस बिजनेस में कंपटीशन 0% है और मांग मार्केट में बहुत है पहले से कर रहे लोगों ने बताया कि हमने बहुत छोटे से इन्वेस्टमेंट से यह बिजनेस शुरू किया था और आज अच्छे खासे पैसे इनकम इस बिजनेस में हमको मिल रहा है।

कितना करना होगा निवेश

how much investment – निवेश की बात ना की जाए तो बिजनेस अधूरा ऐसा लगता है किसी भी बिजनेस को करने के लिए बजट की जरूरत पड़ती है। इसलिए इस बिजनेस को भी करने के लिए हमें सबसे पहले निवेश पर ध्यान देना होता है इस बिजनेस में सबसे अच्छी बात यह है।कि यदि आप इस बिजनेस को स्टार्ट करेंगे जिसमें सरकार द्वारा लोन का भी प्रावधान है। यदि आपके पास बिजनेस करने के पैसे की कमी है तो आप लोन भी ले सकते हैं सरकार से।

इस बिजनेस में आपके पास यदि ₹100000 हैं। तो बाकी के पैसे आप सरकार से लोन के तौर पर ले सकते हैं। बिजनेस में पूरा सेटअप करने में रॉ मैटेरियल में खर्च होने का सारा हिसाब यदि किया जाए तो 4 से ₹500000 का खर्च लगता है। यदि आपके पास ₹100000 है। तो आप लोन के लिए अप्लाई कर के बाकी के पैसे सरकार से ले सकते हैं। यह लोन आसानी से हो जाता है इस प्रक्रिया को बढ़ावा देने के लिए सरकार युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान कर रही है।

कैसे  मिलेगा लोन

how to get loan – सरकार युवाओं को स्वरोजगार करने के लिए प्रेरित कर रही है  और स्टार्टअप करने के लिए प्रोत्साहित भी कर रही है। इसलिए उन्होंने लोन का भी प्रावधान किया है। कि जो व्यक्ति स्वरोजगार शुरू करना चाहे वह सरकार की मदद लेकर अपना स्वरोजगार स्टार्ट कर सकता है। अपना स्वरोजगार स्टार्ट कर सकता है। सरकार द्वारा मुद्रा लोन योजना के तहत आपको स्टार्टअप करने के लिए लोन दिया जाएगा जिसे आपको कम ब्याज दर पर सरकार को वापस भी करना होता है लोन लेने के लिए आपको किसी नजदीकी बैंक सहज जन सेवा संस्थान में जाना होगा और वहां आवेदन फार्म को भरकर बैंक के लिए अप्लाई करना होगा।

लोन लेने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

important documents for take loan

  • आपके पास महत्वपूर्ण डाक्यूमेंट्स होने चाहिए
  • जैसे आप का आईडी कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बिजनेस कार्ड
  • आपके फर्म का एड्रेस नंबर
  • जीएसटी नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो कॉपी
  • जिस जगह पर बिजनेस कर रहे हैं उसका एग्रीमेंट
  • बैंक पासबुक
  • आपको कितना लोन चाहिए इसकी जानकारी
  • कैसा बिजनेस है इसकी जानकारी एप्लीकेशन
  • कांटेक्ट नंबर या ईमेल नंबर जैसे डाक्यूमेंट्स आपको लोन लेने के पहले जमा करने पड़ते हैं।

कितना होगा मुनाफा कैसे होगी कमाई

how much income and how to income – इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सारा कुछ मिलाकर 400000 से ₹500000 का खर्च आता है जिसमें 1 महीने की capsule making रॉ मैटेरियल और इक्विपमेंट  और वर्किंग कैपिटल का खर्च  तथा दूसरे चीजों पर खर्च शामिल है । इतनी लागत में आपको 20,000 कैप्सूल बनकर तैयार होगी। जिसका मैन्युफैक्चरिंग रेट है। 11 लाख के तकरीबन होगा।  जिसकी मार्केट में बिक्री होने पर रिटर्न 14.5 से 1500000 रुपए आता है। मुनाफे की बात करें तो आपको 3 lakh से साडे ₹300000 का मुनाफा रहता है इसमें कोई कांटे वाली बात नहीं है आपको सारी लागत और मेहनताना निकालकर तीन साढे ₹300000 यदि मिल रहा है। जिसमें कोई घाटे वाला काम नहीं है यह बहुत ही बिजनेस मुनाफे वाला साबित हो सकता है यदि आप इसे करना चाहे तो कर सकते हैं।

मुझे उम्मीद है कि आप को  यह आर्टिकल आयुर्वेदिक कैप्सूल मेकिंग यूनिट बिजनेस प्लान को पढ़कर एक अच्छे बिजनेस आइडिया की जानकारी अच्छी लगी होगी। यदि आपको या बिजनेस करना है जानकारी अच्छी लगी है तो आप भी इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं। और सरकार की मदद भी ले सकते हैं सरकार युवाओं को रोजगार देने के लिए लोन भी देती है ।इसका फायदा आप घर बैठे उठा सकते हैं।

यदि आपको या बिजनेस करना है तो समय गवाये बगैर आप स्टार्ट करिए और पैसे कमाना शुरू करें। बाकी यदि आपको यह पसंद है  अपने यार दोस्तों के साथ भी सोशल मीडिया पर शेयर करें ताकि उन्हें भी बिजनेस आइडिया से लाभ मिल सके और यदि आपकी कोई समस्या या प्रश्न डाउट है इस आर्टिकल संबंधित उसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.