कंप्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया

कंप्यूटर वायरस का आविष्कार किसने किया – Who invented computer virus In Hindi

हमने आपको हमारी वेबसाइट के ऊपर बहुत अच्छी अच्छी अच्छी और बढ़िया बढ़िया जानकारी के बारे में बताया है उस जानकारी से आप पैसे भी कमा सकते हैं और आप बहुत सी ऐसी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जो कि शायद आपको नहीं पता होगी तो इसी तरह कि आज एक और जानकारी यहां मैं आपको इस पोस्ट में बताने वाला हु. यह जानकारी आपके लिए जानना बहुत ही जरूरी है क्योंकि इस जानकारी में जो हम आपको बता रहे हैं वह लगभग आपके साथ हर रोज होता ही होगा हम आपको इस पोस्ट में कंप्यूटर के वायरस के बारे में बताएंगे क्योंकि आज के समय में लगभग ऐसा कोई ही युवा बचा होगा. जो कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल नहीं करता होगा तो क्योंकि आज के समय में हर किसी के पास अपना एक पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप होता है. तो उस कंप्यूटर या लैपटॉप में कई बार हमारे सामने एक ऐसी दिक्कत आ जाती है.

जो हमारे कंप्यूटर में जो डेटा होता है उसको कंप्यूटर वायरस नष्ट कर देते हैं या हमारे डेटा को नुकसान पहुंचाता है या हमारे कंप्यूटर को धीमा कर देते हैं जिससे कि हमारा काम सही से नहीं हो पाता या हमारे कंप्यूटर प्रोग्राम में कुछ और दिक्कत है कर देता है तो सीधे तौर पर हम कह सकते हैं कि वायरस का काम सिर्फ हमारे कंप्यूटर को या हमारे काम को नुकसान पहुंचाना ही होता है तो इसके बारे में जानकारी लेना आपके लिए बहुत ही आवश्यक है .हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे कंप्यूटर वायरस क्या होता है और इसका आविष्कार किसने किया जब शुरूआत कंप्यूटर बना था तो इसके में कोई भी वायरस नहीं था लेकिन इसके वायरस का आविष्कार किया गया था और उसके बाद से आज यह दुनिया में बहुत बड़ी समस्या बनी हुई है और इससे छुटकारा पाने के लिए बहुत ही तरह के अलग-अलग एंटीवायरस को भी बनाया जा रहा है कंप्यूटर वायरस बहुत तरह के होते हैं तो नीचे हम आपको कंप्यूटर वायरस के बारे में बता रहे हैं .किसने इसका आविष्कार किया.

कंप्यूटर वायरस क्या है

जब आप किसी भी तरह की जानकारी के बारे में पढ़ रहे होते हैं तो सबसे पहले उस जानकारी के बारे में आप को जानना बहुत जरूरी होता है कि जो जानकारी हम पढ़ रहे हैं यह किसके बारे में है और वह क्या चीज होती है तो हम आपको सबसे पहले बताएंगे कंप्यूटर वायरस क्या होता है.

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया है कम्प्यूटर वायरस एक प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक कोड है. कंप्यूटर में वायरस एक ऐसा कीड़ा या जीवाणु होता है जो कि सिर्फ कंप्यूटर के नुकसान के अलावा उसमें कुछ नहीं करता है और यह हमारे कंप्यूटर को जल्दी से जल्दी खत्म करने के बारे में सोचता है वही है अगर इसे कंट्रोल नहीं किया जाता है तो बहुत ही जल्द हमारे कंप्यूटर को नष्ट भी कर देता है. और क्रेडिट कार्ड डिटेल्स डेबिट कार्ड डिटेल्स चुराता है. कंप्यूटर वायरस का सीधा हमला आपके सॉफ्टवेर पर होता है और कभी कभी ये वायरस हार्डवेयर को भी नुकसान पंहुचा देते है और इस जीवाणु को भी वायरस कहा जाता है कंप्यूटर वायरस कई प्रकार के होते हैं जिनके बारे में आगे हम आपको नीचे बताएंगे

अब आप को अच्छी तरह से समझ में आ गया होगा कि कंप्यूटर वायरस क्या होते हैं तो अब आगे हम आपको कंप्यूटर वायरस के इतिहास के बारे में बताएंगे

कंप्यूटर वायरस के इतिहास

who invented the first computer virus in the world in Hindi ? जब कंप्यूटर वायरस की शुरुआत हुई तो सबसे पहले कंप्यूटर वायरस जो बनाया गया था 1949 में सबसे पहली बार गणितज्ञ जॉन वॉन न्यूमैन ने Self Replicating Program बनाया था जो कि कंप्यूटर के अंदर अपने आप बढ़ता चला जाता है इसे दुनिया का सबसे पहला वायरस माना जाता है फिर 1970 में वह Bob Thomas ने इसी Self Replicating Program का इस्तेमाल करके क्रीपर वायरस को बनाया था और वह I am the creeper Catch Me If You Can मैसेज को दिखाता था और इस मैसेज को डिलीट करने के लिए रीपर प्रोग्राम को बनाया गया था 1982 में नौवीं कक्षा में पढ़ने वाले  Richard Skrenta ने elk cloner वायरस को बनाया था जो कि वह सिर्फ अपने दोस्तों के साथ मजाक करने के लिए बनाया था Richard Skrenta ने अपने Apple टू कंप्यूटर में कंप्यूटर पर कोड लिखा और गेम के फ्लॉपी डिस्क के जरिए वायरस को फैलाया गया. जब भी कोई Richard Skrenta का दोस्त इस को 85 बार ओपन करता तो यह वायरस एक्टिवेट हो जाता था .

कंप्यूटर की स्क्रीन के ऊपर एक कहानी को दिखाता था फिर इसके बाद पाकिस्तान के बासित अमजद नाम के दो भाइयों ने IBM के लिए ब्रेन वायरस को बनाया बासित और अमजद ने एक ऐसे मेडिकल सॉफ्टवेयर को बनाया था इस सॉफ्टवेयर की चोरी रोकने के लिए वायरस को बनाया गया था जब कोई भी अवैध तरीके से इस सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल करता था तो उनको एक चेतावनी दिखाई देती थी और वह मैसेज के साथ दिखाई देती थी और उस मैसेज में उसका फोन नंबर भी दिखाई देता था फिर लोग जब भी इस वायरस का शिकार होते थे तो उस स्क्रीन के ऊपर दिखाए गए फोन नंबर के ऊपर फोन करके बात करते थे और अपनी दिक्कत के बारे में बताते थे. और उसको हल पाते थे. इन फोन कॉल के जरिए बासित और अमजद को पता चल जाता कि इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल दुनिया में कहां पर एकली खड़ी हो रहा है यह वायरस कंप्यूटर के बूट सेक्टर प्रभावित करता कंप्यूटर को स्लो भी कर देता.

कंप्यूटर में जो डाटा या कंप्यूटर के सिस्टम को नष्ट करने वाले वायरस होता है मैलवेयर (Malware) कम्प्यूटर मे होने वाले वायरस का नाम है,  यह एक बीमारी की तरह होता है जो कि एक बार अगर किसी कंप्यूटर के अंदर आ जाता है तो delete बहुत ही मुश्किल हो जाता है

कंप्यूटर वायरस के प्रकार

उन्होंने आपको कंप्यूटर वायरस क्या होता है और कंप्यूटर वायरस के इतिहास के बारे में बताया है तो अब हम आपको कंप्यूटर वायरस के प्रकार बताएंगे. कितने प्रकार का कंप्यूटर वायरस होता है और यह क्या-क्या चीजें प्रवाहित करते हैं.

  1. Resident Virus – कंप्यूटर की रैम के ऊपर प्रभाव डालता है इस वायरस के कारण कंप्यूटर मे सिस्टम को अपडेट करने या शूट डाउन करने या डाटा कॉपी ,पेस्ट करने मे दिक्कत पैदा करता है.
  2. Overwrite Virus-  यह वायरस से इन्फेक्टेड फाइल होती है, जोकि फाइल के ओरिजिनल डाटा को नष्ट कर देती है|,
  3. Direct Action Virus – अगर यह वर्ष आपके कंप्यूटर में आता है तो इस वायरस के कारण कंप्यूटर में फाइल फोल्डर डिलीट होने लग जाते हैं.
  4. File Infectors – यह वायरसबहुत ही खतरनाक वायरस होता है इस वायरस को खतरनाक इसलिए माना जाता है क्योंकि यह  प्रभाव रनिंग फाइल के ऊपर डालता है और उसको नष्ट कर देता है
  5. Boot Virus – यह वायरस सबसे ज्यादा फ्लॉपी डिस्क और हार्ड ड्राइव को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है इन दोनों चीजों को चलने में यह बहुत ज्यादा दिक्कत करता है  ठीक से इनको चलने नहीं देता है.
  6. Directory Virus – हम बात करें इस वायरस की तो यह एक बहुत ही उल्टी किस्म का वायरस है और यह एक अजीब वायरस भी है क्योंकि यह फाइलों को उत्तल पुथल कर देता है उन फाइलों की लोकेशन को चेंज कर देता है किसी और फाइल में डाल देता है.
  7. Macro Virus – इस वायरस का प्रभाव ज्यादातर पर्टिक्युलर प्रोग्राम और एप्लीकेशन पर होता है यह उनकी स्पीड  मैं दिक्कत करता है उनको ज्यादा स्पीड से नहीं चलने देता है उनकी स्पीड को स्लो कर देता है.
  8. Browser Highjack Virus – आज के समय में जो वायरस फैला हुआ है वह यही वायरस है यह वायरस आज के समय में बहुत ज्यादा फैल चुका है और बढ़ते हुए इंटरनेट के साथ-साथ यह इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि कोई इसका अंदाजा भी नहीं लगा सकता है और यह ज्यादातर वेबसाइट. गेम .फाइल आदि के जरिए हमारे कंप्यूटर सिस्टम में दाखिल हो जाता है और यह सभी तरह की फाइलों को स्लो कर देता है उनकी सपीड के ऊपर यह कंट्रोल करता है और यह धीरे-धीरे हमारी फाइलों को भी नष्ट करने लगता है.

तो यह सभी वायरस होते हैं जो कि हमारे कंप्यूटर सिस्टम को नष्ट करने में लगे रहते हैं और यह तेजी से बढ़ते भी रहते हैं तो अब हम आपको कंप्यूटर वायरस किस कारण से हमारे कंप्यूटर में आते हैं . उनके बारे में हम आपको नीचे बताएंगे.

कंप्यूटर वायरस के कारण

आप सभी जानते हैं कि इंटरनेट का इस्तेमाल आजकल सभी तरह के लोग करते हैं चाहे बूढ़ा हो बच्चा हो जवान हो चाहे किसी भी तरह का आदमी हो इंटरनेट का इस्तेमाल जरूर करता है उस इंटरनेट के कारण हमारे कंप्यूटर सिस्टम में बहुत से ऐसे वायरस आ जाते हैं जो कि हमारे सभी डेटा को नष्ट कर देते हैं एक ऐसा वायरस भी होता है जो कि ईमेल के जरिए हमारे सिस्टम में आता है इसे हम ईमेल वायरस भी कह सकते हैं.

ईमेल वायरस वायरस ईमेल के अटैचमेंट फाइल के साथ आता है जैसे ही अनजान ईमेल फाइल के अटैचमेंटको ओपन करते है तो यह वायरस आपके मेल को बॉक्स कई मेलो से भर देता है तो किस तरह से हमारे  कंप्यूटर डिवाइस में वायरस आते हैं उनके बारे में कुछ नीचे होने सूची ने बताया है उनको आप ध्यान से देखें

  • पैन ड्राइव को स्कैन किये बिना Use करना|
  • ऑनलाइन गेम, मूवी देखना|
  • कोई भी प्रोग्राम, फाइल, डाटा ऑनलाइन डाउनलोड करना|
  • मोबाईल और अन्य डिवाइस से सिस्टम को जोड़ना|
  • LAN मे कई सिस्टम को चलाना|
  • सिस्टम मे Anti-virus का आउटडेट होजाना

यह कुछ ऐसे तरीके होते हैं जिनके कारण हमारे कंप्यूटर सिस्टम में बहुत ही जल्दी वायरस आ जाते हैं तो यदि आप इन चीजों का ध्यान रखें यह तो आप वायरस से बच सकते हैं.

तो आज हमने आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही बढ़िया और रोचक जानकारी बताइए यह जानकारी शायद आप जानकर बहुत खुश होंगे क्योंकि इस पोस्ट में हमने आपको कंप्यूटर वायरस के बारे में पूरी विस्तार से जानकारी दी है यह जानकारी आपके लिए बहुत ही आवश्यक है क्योंकि कई बार इस तरह की दिक्कत का सामना आपको भी करना पड़ता है तो हमने आपको कुछ ऐसे तरीके बताए हैं जो कि आप ध्यान में रखकर बच भी सकते हैं तो यदि आपको यह हमारे द्वारा बताई गई कंप्यूटर के वायरस के बारे में जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

2 Comments
  1. subodh kumar says

    बहुत ही अच्छी जानकारी मिली इस पोस्ट से,यह मेरी फेवरेट वेबसाइट है

  2. Vinay kumar mukherjee says

    Your Comment*-Sabse khatrnak virus kon sa hota he ?

Leave A Reply

Your email address will not be published.