एंटीवायरस आविष्कार किसने किया

एंटीवायरस आविष्कार किसने किया – Who invented antivirus in Hindi

आज हम आपको एक ऐसी रोचक और महत्वपूर्ण जानकारी बताएंगे यह जानकारी आपके लिए बहुत ही आवश्यक है शायद आप अपने इस तरह की जानकारी पहले नहीं सुनी होगी ना ही देखी होगी क्योंकि इस जानकारी से हमें लगभग हर रोज रूबरू होना पड़ता है क्योंकि यह एक ऐसी चीज है जो कि हमारे आम जिंदगी में बहुत महत्वपूर्ण होती है. हम बात कर रहे हैं एंटीवायरस सॉफ्टवेयर कि हमने आपको इससे पहले एक पोस्ट में कंप्यूटर वायरस के बारे में बताया था और कंप्यूटर वायरस का आविष्कार किस तरह किया गया और क्यों किया गया उनके बारे में बताया था  अब हम आपको एंटीवायरस के बारे में बताएंगे एंटीवायरस क्या होता है इसका आविष्कार किस लिए किया गया.

एंटीवायरस क्या होता है

क्योंकि यदि एंटीवायरस का आविष्कार नहीं किया जाता है तो शायद आज के समय के लैपटॉप और कंप्यूटर इतने तेजी से चलने वाले नहीं होते क्योंकि एंटीवायरस के आने से कंप्यूटर और लैपटॉप के सभी वायरस को बहुत ही तेजी से साफ कर दिया गया और इस को कंप्यूटर और लैपटॉप में डालने के बाद  जब हम हमारे कंप्यूटर में या लैपटॉप में जब हम किसी भी तरह की साइट या कुछ ऐसी चीज ओपन करते हैं जिसमें की वायरस होते हैं. तो हमें डर नहीं रहता.  क्योंकि उस समय में हमारे कंप्यूटर की सुरक्षा एंटीवायरस करता है क्योंकि इंटरनेट पर कई वेबसाइटों के ऊपर बहुत ज्यादा वायरस होता है जो कि हमारे कंप्यूटर या लैपटॉप में से हमारी जानकारी या हमारे डाटा को वायरस चुरा सकता है और इससे हमें बहुत बड़ी दिक्कत भी हो सकती है

वह हमारे कंप्यूटर में इतनी तेजी से फैलता है इसका कोई अंदाजा नहीं है और हमारे कंप्यूटर खराब होने का भी डर रहता है क्योंकि यह वायरस खतरनाक होते हैं कि कुछ ही समय में हमारे लैपटॉप या कंप्यूटर को खत्म कर सकते हैं  वायरस हमारे कंप्यूटर में सीधा यूआरएल, स्पैम, घोटालों और फिशिंग हमलों में ब्राउज़र सहायक ऑब्जेक्ट (बीएचओ), ब्राउज़र अपहर्ताओं, रैनसमवेयर, कीलॉगर्स, बैकडोडोर, रूटरकिट, ट्रोजन हॉर्स, वर्म्स, एलएसपी, डायलर, फ्रॉड, एडवेयर और स्पाइवेयर , ऑनलाइन पहचान ,गोपनीयता , ऑनलाइन बैंकिंग, सामाजिक इंजीनियरिंग तकनीक, आदि चीजों में दिक्कत करता है और यह हमारे कोमुटर की स्पीड को कम कर देते हैं और कई बार यह हमारे कंप्यूटर  खत्म भी कर देते हैं. तो इनसे बचने के लिए एंटीवायरस का अविष्कार हुआ था .

एंटीवायरस एक ऐसी चीज होती है जो कि हमारे कंप्यूटर के अंदर वायरस को डिलीट करके हमारे कंप्यूटर की रक्षा करता है और जो वायरस हमारे कंप्यूटर के अंदर आते हैं उनको डिलीट कर देता है. और आज भी एंटीवायरस बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है तो हम आपको आज इस पोस्ट में एंटीवायरस के आविष्कार और उस का आविष्कार सबसे पहले किसने किया उसके बारे में जानकारी नीचे दे रहे हैं आप इस जानकारी को अच्छी तरह से और ध्यान से पढ़ें क्योंकि आपके लिए यह जानकारी बहुत जरूरी है.

एंटीवायरस से संबंधित जानकारी

एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का नाम:- Avast , MCAfee , Norton , AVG
एंटीवायरस फ्री डाउनलोड :- Free Download Anti-Virus
एंटीवायरस एप्स :- Clean Master– Space Cleaner & Antivirus , AVG AntiVirus for Android 2018 , 360 Security – Free Antivirus,Booster,Space Cleaner , Avast Antivirus 2018 , Kaspersky Mobile Antivirus: AppLock & Web Security  , Antivirus Free – Virus Cleaner – NQ Security Lab.

एंटीवायरस का आविष्कार

कंप्यूटर के आने से हमारे जीवन में बहुत काम आसान हुए हैं और कंप्यूटर के आने से हमें इतना ज्यादा काम भी नहीं करना पड़ता कुछ ही पल में हम बहुत सारा काम कर सकते हैं लेकिन कई बार इसी तरह का काम करते हुए हमारे सामने बहुत बड़ी दिक्कत आ जाती है क्योंकि कई बार हमारे सामने इतने ज्यादा वायरस हमारे कंप्यूटर में आ जाते हैं जो कि हमारी सभी जानकारी को चुरा सकता है और हमारे कंप्यूटर को खत्म कर सकता है इसलिए एंटीवायरस हमारे कंप्यूटर में होना बहुत ही जरूरी है .

क्योंकि यह सभी तरह की सुरक्षा प्रदान करता है. तो  जब इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ा तो उसके बाद हमारे कंप्यूटर में वायरस का खतरा और भी ज्यादा बढ़ गया 1983 में कंप्यूटर के साइंटिस्ट Fred Cohen पहली बार कंप्यूटर वायरस का इस्तेमाल किया था और 1987 में Fred Cohen ने कहा कि इस तरह का एंटीवायरस बनाना नामुमकिन है. जो कि सभी तरह के वायरस को और डिलीट कर सके 1971 में Creeper virus को बनाया गया था और उस वायरस को डिलीट करने के लिए Raper program को बनाया गया था जो कि खुद एक वायरस था यहां से एंटीवायरस बनाने का concept शुरू हुआ था कुछ लोगों का मानना यह है कि एंटीवायरस बनाने वाली कंपनी खुद वायरस को बनाती है और  इस वायरस को डिलीट करने के लिए खुद एंटीवायरस को तैयार करती है.

पहला कंप्यूटर वायरस मस्तिष्क वायरस के रूप में जाना जाता था. और 1986 में पाकिस्तान में बनाया गया था। ब्रेन एक बूट सेक्टर वायरस था और केवल 360k फ्लॉपी डिस्क संक्रमित था।1986 में IBM PC के लिए ब्रेन वायरस को बनाया गया था यह वायरस दुनियाभर में फैल गया था इस वायरस के बाद 1980 में बहुत सारे प्रोग्रामर कंप्यूटर वायरस को लिखना शुरू किया था. उस समय में कंप्यूटर वायरस कंप्यूटर को इतना ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाते थे या कंप्यूटर को खत्म नहीं करते थे.

लेकिन जैसे-जैसे समय बीता वैसे आगे ऐसे बहुत से कंप्यूटर वायरस बनाए गए जो कि कंप्यूटर को बहुत ही जल्दी खत्म कर देते थे या कंप्यूटर मैं बहुत जल्दी डाटा चुरा लेते थे 1987 में Bernd Fix ने , Vienna  वायरस के लिए  केलिए एंटीवायरस बनाया लेकिन कुछ लोग Bernd Fix को नहीं मानते हैं. एंटीवायरस को बनाए जाने के बाद बहुत से ऐसे कंप्यूटर यूजर्स को इससे फायदा में मिला जोकि अपने कंप्यूटर में वायरस आने के कारण परेशान थे और वह उसका हल ढूंढ रहे थे और लेकिन सबसे ज्यादा राहत उन्हें तब मिली जब 1991 में नॉर्टन एंटीवायरस आया. फिर  इसी तरह G Data Software, Ultimate Virus Killer को बनाया गया था

यहां से एंटीवायरस बनाने की शुरुआत की गई और उसके बाद बहुत से बढ़िया बढ़िया एंटीवायरस से बढ़िया बढ़िया कंपनियों द्वारा तैयार किए जाने लगे और आज के समय में बहुत ही अच्छे अच्छे एंटीवायरस आपको मिल सकते हैं

तो आज हमने आपको इस पोस्ट में कंप्यूटर वायरस से लड़ने के लिए बनाए गए एंटीवायरस के आविष्कार एंटीवायरस सॉफ्टवेयर
एंटीवायरस फ्री डाउनलोड एंटीवायरस एप्स  एंटीवायरस क्या है एंटीवायरस क्लीनर  एंटीवायरस के प्रकार  एंटीवायरस डाउनलोड 2018 एंटीवायरस ऐप  एंटीवायरस डाउनलोडिंग  एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का नाम के बारे में बताया और उसके बारे में बहुत सी और भी जानकारी दी और हमारे द्वारा बताई गई यह जानकारी आपको बहुत अच्छी लगी होगी तो यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.