टॉप 15 आविष्कार जिन्होंने दुनिया बदल दी

टॉप 15 आविष्कार जिन्होंने दुनिया बदल दी

आज के आधुनिक युग बहुत से आविष्कार और खोज की जा रही है लेकिन प्राचीन समय के कुछ ऐसे अविष्कार भी है जिन्होंने दुनिया बदल दी और मानव जीवन को एकदम सरल बना दिया मानव की शुरू से ही यह सोच रही है कि वह ऐसे ऐसे आविष्कार करें जिससे वह भौतिक दुनिया को अपने वश में कर सके इसी सोच से प्राचीन समय में बहुत से ऐसे आविष्कार हुए जो आज तक मानव जीवन में अपनी भूमिका बनाए हुए हैं और मानव जीवन उनके बिना सरल नहीं होगा

प्राचीन समय में आविष्कार तो बहुत किए गए लेकिन उनमें से कुछ आविष्कार ऐसे थे जो ना तो लुप्त हुए और वह आगे सदियों तक मानव जीवन में अपनी पहचान बनाए रखेंगे और मानव उनका इस्तेमाल करता रहेगा आज की आधुनिक पीढ़ी ने उन अविष्कारों के अंदर बहुत से बदलाव करके उनको और सरल बनाने की कोशिश की है ताकि उनका उपयोग लंबे समय तक किया जा सके तो आज हम आपको 15 ऐसे ही आविष्कार के बारे में बताएंगे |

पहिए का अविष्कार(wheel)

पहिए का आविष्कार मानव विज्ञान के इतिहास में महत्वपूर्ण उपलब्धि थी सबसे पहले  मिट्टी के बर्तनों के निर्माण में इस्तेमाल किया जा सकता है सबसे पुराना पहिए बरामद नमूना एक लकड़ी का स्लोवेनियाई मॉडल है जो 5,100 से 5,350 साल पहले बना था कहा जाता है हमारे पश्‍चिमी विद्वान पहिए के आविष्कार का श्रेय इराक को देते हैं, लेकिन कहा जाता है कि  पहिए का अविष्कार भारत में हुआ था

पश्‍चिमी विद्वान का कहना  सबसे पहले पहिए काआविष्कार  3500 वर्ष पूर्व मोसोपोटामिया (इराक) में हुआ था लेकिन इराक में रेतीले मैदान हैं, और इराक के लोग 19वीं सदी तक रेगिस्तान में ऊंटों की सवारी करते रहे और सच तो यह है की पहिया का आविष्कार आज से लगभग 5000 साल पहले यानी महाभारत काल युग में भारत में ही हुआ था  अधिक जानकारी यहा ;पहिए का आविष्कार किसने किया

 कील का अविष्कार (nail)

कील  के अविष्कार ने प्राचीन सभ्यता निश्चित रूप से  जोड़ा रखा प्राचीन रोम की अवधि में 2,000 से अधिक वर्षों की तारीखें हैं जब धातु को ढलाई और आकार देने की क्षमता विकसित हुई तब से पहले से कील, लकड़ी  से बनाई जाती  थी और  कील-बनाने वाली मशीनें सन  , 17 90 और 1800 के दशक के बीच शुरु हुई  उसके बाद इनका इस्तेमाल भी बढ़ गया |

compass का अविष्कार

प्राचीन नाविकों ने सितारों के द्वारा नेविगेट किया, लेकिन उस पद्धति ने दिन या बादलों की रात पर काम नहीं किया, और इसलिए यह जमीन से बहुत दूर तक यात्रा करने में असुरक्षित थी चाइना के लोगो  ने 9 वें और 11 वीं शताब्दी के बीच कुछ समय पहले कम्पास का आविष्कार किया  सबसे पहले compass का आविष्कार चीन के हान राजवंश ने किया था यह लॉन्स्टस्टोन, एक स्वाभाविक रूप से चुंबकीय लौह अयस्क का बना था, जो आकर्षक गुण हैं जो वे सदियों से पढ़ रहे थे

इसके तुरंत बाद, तकनीक यूरोपीय संपर्कों के माध्यम से यूरोपीय और अरबों के देशो को पार कर गई compass सक्षम नाविकों को भूमि से दूर सुरक्षित रूप से नेविगेट करने के लिए, समुद्र के व्यापार में वृद्धि और डिस्कवरी में योगदान देता है कंपास के अविष्कार से पहले बहुत से नाविक समुंदर में खो जाते थे जिससे समुद्र व्यापार पर बहुत प्रभाव पड़ा लेकिन compass के आविष्कार के बाद दिशा का अच्छे से पता चलने लगा और नाविकों के खोने की संभावनाएं कम हो गई |

पेपर  का अविष्कार(paper)

कागज हमें लिखने और हमारे विचारों को साझा करने के काम आता है काग़ज़ की उपलब्धि ने ज्ञान-विज्ञान और संस्कृति के विकास में बहुत योगदान दिया है कागज का इस्तेमाल और भी बहुत जगह किया जाता है जैसे मुद्रा के रूप में कागज का इस्तेमाल किया जाता हैयदि कागज बनना बंद हो जाए तो मुद्रा का भी कार्य बंद हो जाएगा काग़ज़ के आविष्कार का श्रेय वहाँ के त्साइ-लुन नामक व्यक्ति को दिया जाता है। वह प्राचीन चीन के पूर्वी हान वंश (20-220 ई.) के राजदरबार में वस्तुओं के उत्पादन का अधिकारी था।

पता चलता है कि त्साइ-लुन ने पेड़ों की छाल, सन के चिथड़ों और मछली पकड़ने के जालों से काग़ज़ बनाने के तरीक़े की 105 ई. में राजदरबार को जानकारी दी थी और यूरोप में  काग़ज़ निर्माण की कला को 1150 ई. के आसपास स्पेन में पहुँचाया और चौदहवीं सदी में यह फ़्राँस और जर्मनी में पहुँची और भारत में काग़ज़ का प्रवेश  ईसा की सातवीं सदी में हुआ इस तरह काग़ज़ दुनिया में पहुंच गया |

बारूद का अविष्कार (Gun powder)

बारूद गंधक, कोयला एवं शोरा पोटैसिअम नाइट्रेट या साल्टपीटर का मिश्रण होता है और यह मानव इतिहास का सर्वप्रथम निर्मित विस्फोटक था बारूद का इस्तेमाल  पटाखों एवं  प्रोपेलन्ट  के रूप में अग्निशस्त्रों  में किया जाता है बारूद चिंगारी पाकर तेजी से जलता है जिससे भारी मात्रा में गैस एवं गरम ठोस पैदा होता है

इसका आविष्कार कब हुआ, इसका आज तक सही से पता नही है लेकिन कहा जाता है की यह रासायनिक विस्फोटक 9वीं शताब्दी में चीन में आविष्कार किया गया और  रौजर बेकन 1214-1294  के लेखों में बारूद का उल्लेख मिलता है लेकिन सही से आज तक किसी को  नही पता बारूद का   इस्तेमाल प्राचीन समय के युधो में तोपों में डालकर किया जाता था और यह सैन्य प्रौद्योगिकी का एक प्रमुख कारक रहा है |

प्रिंटिंग प्रेस का अविष्कार ( printing press)

प्रिंटिंग प्रेस एक ऐसा उपकरण है जो दाब डालकर कागज, कपड़े आदि पर प्रिन्ट करने के काम आती है इसके अंदर जब कपड़ा या कागज आदि पर एक स्याही-युक्त सतह रखकर उसपर दाब डाला जाता है जिससे स्याहीयुक्त सतह पर बनी छवि उल्टे रूप में कागज या कपड़े पर छप जाती है प्रिंटिंग प्रेस ने हमारी आधुनिक युग की नींव रखी क्योंकि प्रिंटिंग प्रेस आज के आधुनिक युग में बहुत जरूरी है क्योंकि सूचना देने के लिए जैसी न्यूज़ पेपर छपने  और बैनर बनाने बहुत सी जगह प्रिंटिंग प्रेस का इस्तेमाल किया जाता है

और जर्मन जोहान्स गुटेनबर्ग ने 1440 के आसपास प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार किया प्रिंटिंग प्रेस के आविष्कार से सूचना एवं ज्ञान के प्रसार में एक क्रान्ति आ गयी इसलिये प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार एक महान आविष्कार माना जाता है और  करीब सौ वर्ष पहले से ही चीन में लकड़ी के ठप्पों  एवं मूवेबल टाइप से छपाई की तकनीक थी और गुटनबर्ग के प्रेस पर आधारित छपाई की  तकनीक पुरे यरोप में बड़ी तेजी से फैली इसके बाद वह सारे संसार में फैल गयी और इस महान अविष्कार का इस्तेमाल दुनिया आज भी कर रही है |

बिजली का अविष्कार(Electricity)

बिजली का अविष्कार दुनिया के कुछ महानतम आविष्कारों में से एक है क्योंकि यदि बिजली का आविष्कार नहीं होता तो मानव जीवन इतना आसान नहीं होता बिजली का उपयोग एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें कई दिमागों ने हजारों वर्षों में योगदान दिया है हम कह सकते हैं कि बिजली की खोज हुई थी और इसका अविष्कार भी  हुआ था क्योंकि इलेक्ट्रिसिटी प्रकृति में पहले से ही मौजूद थी इसकी खोज करने का श्रेय Benjamin Franklin को दिया जाता है सन, 1752 में   Benjamin Franklin ने किया था

पूरी जानकारी यहा देखे ;बिजली Electricity की खोज किसने की थी

आंतरिक COMBUSTION इंजन का अविष्कार ( INTERNAL COMBUSTION ENGINE )

आंतरिक दहन इंजन रासायनिक ऊर्जा को यांत्रिक कार्य में परिवर्तित करते हैं  और आधुनिक कारों और विमानों में उपयोग किया जाता है  एक डीज़ल ईंजन एक अंतर्दहन इंजन है और पेट्रोल ईंजन एक अंतर्दहन इंजन है दोनों ही दोनों ही  बन्द स्थान में वायु को संपीडित करने से उत्पन्न ऊष्मा का उपयोग करके ईंधन में ज्वलन (इग्नीशन) उत्पन्न करता है।

कई वैज्ञानिकों द्वारा इंजीनियरिंग के दशकों ने आंतरिक दहन इंजन को डिजाइन करने में काम किया, जिसने 1 9वीं शताब्दी में आधुनिक रूप ले लिया सन ,185 9 में एटिनी लेनोयर द्वारा निर्मित किया गया और सन ,1876 में निकोलस ओटो द्वारा सुधार किया गया और अंतर्दहन इंजनों में ईधन के रूप में डीजल (गाढ़े मिट्टी के तेल), पेट्रोल, ऐल्कोहल अथवा प्राकृतिक या कृत्रिम गैस इत्यादि का प्रयोग होता है। लेकिन साधारणत: पेट्रोल और डीजल का ही उपयोग होता है और इस इंजन के आविष्कार ने आधुनिक दुनिया की नींव रखी थी और आज इस इंजन से पूरी दुनिया चल रही है |

पेनिसिलिन का अविष्कार (Penicillin)

पेनिसिलिन एक एंटीबायोटिक  एंटीबायोटिक दवाई है पेनिसलिन के नाम की आज हर व्यक्ति जानकारी रखते है एक समय था जब इस दवा को भी संक्रामक रोगों में प्रयोग किया जाता रथा  शरीर में हुए घावो को ठीक करने और संक्रमण को ठीक करने के लिए इस दवा का प्रयोग किया जाता था | यह पहली एंटीबायोटिक औषधि थी जिसे बहुत लम्बे समय तक प्रयोग किया जाता रहा

यह इतिहास में सबसे प्रसिद्ध खोज में से एक है और इस जादू भरी औषधि को खोजने का श्रेय अलेक्जेंडर फ्लेमिंग (Alexander Fleming) को दिया जाता है सन ,1 9 28 में, स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने अपने प्रयोगशाला में इसका  पता लगाया |

टीकाकरण का अविष्कार (vaccination)

किसी बीमारी के विरुद्ध प्रतिरोधात्मक क्षमता विकसित करने के लिये जो दवा खिलायी उस क्रिया को टीकाकरण कहते  है संक्रामक रोगों से बचाने के लिए और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सरकार दवारा टीकाकरण योजनाएं चलाई गयी थी और टीकाकरण सबसे प्रभावी एवं सबसे सस्ती विधि माना जाता है

पहली टीका (चेचक के लिए) को सन , 17 9 6 में एडवर्ड जेनर द्वारा विकसित किया गया था। एक रेबीज वैक्सीन फ्रांसीसी रसायनज्ञ और जीवविज्ञानी लुई पाश्चर द्वारा  सन ,1885 में विकसित किया गया था, जिसे आज की दवा का प्रमुख हिस्सा टीकाकरण करने का श्रेय दिया जाता है

इन्टरनेट का अविष्कार

दोस्तों हम सभी जानते हैं कि इंटरनेट हमारे लिए आज के समय में कितना महत्वपूर्ण है.इस आधुनिक युग में हर किसी के पास एक अपना स्मार्टफोन या PC जरूर मिल जाएगा उस स्मार्ट फोन या पीसी में आपके पास इंटरनेट नहीं है तो आप उसके साथ कुछ भी नहीं कर सकती इंटरनेट के माध्यम से आज हम दुनिया भर के दोस्तों और रिश्तेदारों से जुड़ सकते हैं और उनसे एक जगह से दूसरी जगह पर बातें कर सकते हैं और इंटरनेट हमारे लिए एक बहुत बड़ा वरदान साबित हुआ है.

इंटरनेट एक ऐसी चीज है जो कि दुनिया के करोड़ों कंप्यूटरों को एक साथ जोड़े रखता है इंटरनेट सूचना के आदान प्रदान के लिए जाना जाता है सबसे पहले इंटरनेट का आविष्कार1969 में DOD (डिपार्टमेंट ऑफ़ डिफेन्स) द्वारा किया गया था. जब 29 अक्टूबर 1969 को रात के 10:30 ULCA प्रोग्रामर चार्ली क्लीन ने लगभग 350 किलोमीटर दूर मेंलो पार्क, कैलिफ़ोर्निया में दो शब्द “I और “O” इलेक्ट्रिकल भेजें और उसके बाद उनका सारा सिस्टम बंद हो गया था .इस नेटवर्क को ARPN (एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट इन एजेंसी ) ने बाद में इसको करीब 1980 में लंच किया भारत में इन्टरनेट पहली बार 15 अगस्त 1995 में बिदेश संचार निगम लिमिटेड (vsnl) द्वारा किया गया था

राकेट का अविष्कार

रॉकेट एक ऐसा वायुयान है जो की किसी भी प्रकार की मौसम में उड़ सकता है वैसे तो रॉकेट का अविष्कार बहुत पुराना माना जाता है लगभग 1232 में चीन और मंगोलों के युद्ध में राकेट का सबसे पहले इस्तेमाल किया गया था यह उस समय का सबसे शक्तिशाली हथियार था पहले से हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जाता था और दुनिया का पहला टर्मिनल रॉकेट 1926 में रॉबर्ट गोल्ड द्वारा शुरू किया गया और 16 मार्च 1926 को आबर्न मैसाचूसेट्स पर इसका परीक्षण किया गया.

ऑप्टिकल lenses का अविष्कार

ऑप्टिकल lenses का प्राचीन इतिहास रहा है , प्राचीन मिस्र और मेसोपोटामिया में इसका आविष्कार हुआ था, चश्मा से दूरबीन और सूक्ष्मदर्शी तक, ऑप्टिकल लेंस का इस्तेमाल किया जाता है. जो की हमारते किसी भी चीज़ को आसानी से देखने में मदत करता है.

एरोप्लेन का आविष्कार

एरोप्लेन का आविष्कार सबसे पहले वाइट ब्रदर्स ने किया था राइट ब्रदर्स दो भाई थे उन्होंने सबसे पहले एरोप्लेन बना कर उड़ाया उन्होंने 17 दिसंबर 1930 को अमेरिका के करोली ना समुद्र तट से पहला जहाज उड़ाया जो कि सिर्फ 112 फीट ही उड़ चुका और उसके बाद वह नीचे गिर गया लेकिन अभी पुराने दस्तावेजों के हिसाब से यह पता चला है कि 1931 से पहले 18 95 में भारत के एक बहुत बड़े वैज्ञानिक हवाई जहाज बनाया और मुंबई के चौपाटी समुद्र तट से उड़ाया विमान 1500 फीट ऊपर उठा और उसके बाद नीचे गिर गया लेकिन यह बहुत बड़ी कहानी है यह सिर्फ दस्तावेज के हिसाब से ही पता चलता है.लेकिन जब वास्तव में एरोप्लेन का आविष्कार की बात आती है तो सिर्फ वाइट ब्रदर्स का ही नाम लिया जाता है.

 कंप्यूटर का आविष्कार.

दोस्तों हम सभी जानते हैं कि आज के समय में दुनिया का हर काम लगभग कंप्यूटर के ऊपर ही टिका हुआ है कंप्यूटर दुनिया का एकमात्र ऐसा साधन है जो दुनिया के बहुत से लोगों को आपस में एक साथ जोड़े रखता है लेकिन जब यह बात आती है कि कंप्यूटर का आविष्कार किसने और कब किया तो हम सभी सोचने लगते हैं कि शायद कंप्यूटर का आविष्कार अभी हुआ है लेकिन कंप्यूटर का आविष्कार बहुत पुराना है 1970 के दशक में पर्सनल कंप्यूटर पहली बार विकसित किया गया, 1974 में माइक्रो इंस्ट्रुमेंटेशन एंड टेलीमेट्री सिस्टम (MIST) ने mail-order computer kit का प्रदर्शन किया जिसे उन्होंने अल्टेयर का नाम दिया, व्यक्तिगत कंप्यूटरों ने मानव क्षमताओं का बहुत विस्तार किया

कुछ और अविष्कार 

यह भी देखें

इस पोस्ट में हमने आपको बताया कि दुनिया के 15 अविष्कार जिन्होंने दुनिया बदल कर रख दी इसमें हमने आपको इंटरनेट कंप्यूटर और पेपर पहिया बारुद वह इसी तरह के और भी बहुत से अविष्कारों के बारे में जानकारी हिंदी मे जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरुर बताएं अगर आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना हो और यदि आप इस जानकारी के बारे में कुछ पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.