RTI का ऑनलाइन फॉर्म कैसे अप्लाई करें

RTI का ऑनलाइन फॉर्म कैसे अप्लाई करें

आज हम आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी देंगे. यह जानकारी आपके लिए जानना बहुत ही जरूरी है. और आप इस जानकारी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं. और अगर आप इस जानकारी का इस्तेमाल अपने किसी काम के लिए करते हैं. तो आपको बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा हम आपको इस पोस्ट में आज RTI के बारे में बताएंगे RTI क्या होती है. RTI कैसे लगाई जाती है. और RTI का फार्म ऑनलाइन अप्लाई करने के बारे में पूरी और विस्तार से जानकारी देंगे आपने RTI का नाम तो सुना होगा लेकिन आप RTI के बारे में अच्छे से नहीं जान पाए होंगे. 

आप भी RTI लगाने के लिए कई बार सोच रहे होंगे लेकिन आपको अच्छी जानकारी नहीं मिलने के कारण आप RTI नहीं लगा पाए होंगे लेकिन आज के समय में इंटरनेट के चलते सब कुछ ऑनलाइन कर दिया गया है. इस फाइल को भी ऑनलाइन लागू कर दिया गया है. इससे अब आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है. आप अपने घर पर ही ऑनलाइन RTI सबमिट कर सकते हैं.और अपने किसी भी समस्या का हल बड़ी ही आसानी से जान सकते हैं. तो नीचे हम आपको RTI के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं.आप इसको अच्छी तरह से और ध्यान से पढ़ें तो देखिए

RTI क्या होती है

What is RTI in Hindi ? RTI kya hoti hai ? आप सभी ने RTI का नाम तो सुना ही होगा लेकिन RTI के बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी बता रहे हैं. RTI एक ऐसा कानून है. जिसको 2005 में लागू किया गया था और इस का मतलब होता है सूचना का अधिकार यानी भारत के हर नागरिक को सूचना का अधिकार  है यानि वह किसी भी चीज के बारे में जानकारी ले सकता है. उसका हक है. चाहे वह किसी भी तरह की जानकारी हो किसी सरकारी कामकाज से जुड़ी हो या नगर निगम से जुड़ी हो या किसी भी तरह की जानकारी हो कोई भी आदमी RTI यानी सूचना के अधिकार की एक फाइल होती है उसको सबमिट करके उन चीजों के बारे में जानकारी ले सकता है.

सूचना के अधिकार के कानून को इसलिए लागू किया गया था. क्योंकि हमारे देश का पैसा हमारे देश के लोगों का है.और हमारे देश के लोगों को अपने पैसे के बारे में जानना जरूरी है. कि उसका पैसा कहां पर और किस काम के लिए कितना पैसा और  कैसे इस्तेमाल किया जा रहा है. क्योंकि जब भी कोई इंसान अगर ₹5 का बिस्किट का पैकेट लेता है. तो उसके ऊपर भी टैक्स देता है. वह टेक्स्ट सभी को एक समान लगता चाहे. वह एक गरीब से गरीब मजदूर हो चाहे वह एक बड़े से बड़ा बिजनेसमैन हो उसके लिए बिस्किट का पैकेट की कीमत ₹5 ही रहेगी. इसलिए सभी लोग समान टैक्स देते हैं. और सभी को अपने टैक्स के दिए हुए पैसे के बारे में जानने का अधिकार है. यानी जो हम टैक्स देते हैं.

वह हमारी सरकार के पास जमा होता है.और सरकार उस पैसे से हमारे देश में होने वाले काम जैसे बिजली, पानी, परिवहन, सड़क, स्कूल, कॉलेज ,अस्पताल और सभी सरकारी अधिकारियों की सैलरी हमारे टेक्स्ट के दिए हुए पैसों से ही देती है, इसलिए सरकार ने 2005 में एक ऐसा नियम लागू किया था. जिससे कि हमारे देश का हर वह नागरिक जो हमारे देश में रहता है, उसको अपने टैक्स के दिए हुए पैसों को जानने का हक है, कि उसका पैसा सही इस्तेमाल हो रहा है.

या गलत इसलिए वह सिर्फ एक पत्र से किसी भी काम की जानकारी ले सकता है. और वह उस काम के बारे में पूरी जानकारी ले सकता है.सरकार ने कितना पैसा इस काम के लिए दिया है. और कितना पैसा इसके ऊपर लगाया गया है. किस क्वालिटी का माल काम में लगाया गया है. और कितना पैसा बाकी बचा है. और यह काम कितने दिन में करवाने के लिए दिया गया था यह सभी जानकारी आप उसे एक पत्र को लिखकर सरकार से ले सकते हैं. और इसके लिए सरकार आपको सभी जानकारी पूरी और विस्तार से देगी. RTI पत्र से आप किसी भी विभाग के किसी भी काम के बारे में जानकारी ले सकते हैं. तो अब आपको पता चल गया होगा कि RTI क्या होती है. तो नीचे मैं आपको बताऊंगा कि आरटीआई फार्म को आप ऑनलाइन किस तरह से अप्लाई कर सकते हैं.

ऑनलाइन आरटीआई फाइल कैसे सबमिट करें

How to Submit RTI Online ? Online RTI kaise Lagaye ? आप सभी जानते हैं कि सभी काम आज के समय में इंटरनेट के द्वारा किया जाता है पहले हमें आरटीआई फाइल को डालने के लिए एक पत्र लिखना पड़ता था और उसको जमा करवाना पड़ता था. लेकिन अब आप अपने घर बैठे ही इंटरनेट से ऑनलाइन आरटीआई फाइल डाल सकते है. तो नीचे मैं आपको बता रहा हूं कि किस तरह से आप ऑनलाइन आरटीआई फाइल डाल सकते हैं. तो देखिए

1. ऑनलाइन आरटीआई फाइल डालने के लिए सबसे पहले आपको अपने Google Chrome में एक वेबसाइट ओपन करनी है. जिसका नाम है.  RTIOnline.gov.in 

2. पर  दो ऑप्शन मिलेंगे. पहला आप submit request पर क्लिक करके वहां से  RTI फाइल को सबमिट कर सकते हैं. दूसरा आप अपना एक नया अकाउंट बना सकते हैं. और वहां पर अकाउंट बनाने के बाद आप अपने अकाउंट से  RTI फाइल डाल सकते हैं.

3.नया अकाउंट बनाने के लिए सबसे पहले आपको Sign up here पर क्लिक करना है. और क्लिक करने के बाद आपके सामने एक फार्म दिखाई देगा. इसमें आपको अपना Username, Password, Email ID, Name ,Gender or address डाल कर भरना है. और फिर आपको सबमिट करना है. और जैसे ही आप इस को सबमिट करते हैं. तो आपका Username और आपका Password एक्टिवेट हो जाएगा और उसके बाद आप जब भी दोबारा कभी  RTI की फाइल डालना चाहें तो आप अपने यूजर नेम और पासवर्ड डालकर अपने अकाउंट को लॉगइन कर सकते हैं.

4.और यदि आप अपना अकाउंट नहीं बनाना चाहते हैं. तो आप बिना अकाउंट के भी  RTI फाइल को सबमिट कर सकते हैं. उसके लिए आपको submit request के ऊपर क्लिक करना है. और उसके ऊपर क्लिक करते ही आपको कुछ नियम दिखाई देंगे उनको आप पढ़ सकते हैं. और पढ़ने के बाद उन नियमों को एक्सेप्ट करते हैं. एक्सेप्ट करने के बाद आपको सब्मिट के ऊपर क्लिक करना है. वह सबमिट करने के बाद आपको आगे एक नया फार्म दिखाई देगा.आपको उस फॉर्म को भरना है.

5.यह आपको इंग्लिश भाषा भी दिखाई देगा और यदि आप शिकायत को इंग्लिश भाषा में लिखना चाहते हैं. तो आप इंग्लिश भाषा में भी लिख सकते हैं. और यदि आप हिंदी में लिखना चाहते हैं. तो आपको ऊपर साइड कोने में भाषा बदलने का ऑप्शन मिलेगा. जहां पर आप हिंदीभाषा चुन सकते हैं. जैसे यहां पर आप हिंदी भाषा को चुनेंगे तो चुनने के बाद यह पूरा फॉर्म हिंदी में बदल जाएगा. तो यदि आप इंग्लिश में लिखना चाहते हैं. तो उसमें लिख सकते हैं. और यदि आप हिंदी में लिखना चाहते है. तो हिंदी में लिख सकते हैं. लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है. कि आप अगर हिंदी में लिखते हैं. तो सभी चीजें अपना नाम, पता और आपकी शिकायत सभी चीज हिंदी में ही लिखनी होगी. और यदि इंग्लिश भाषा सुनते हैं तो आपको सभी चीजें इंग्लिश भाषा नहीं लिखनी होगी आपकी शिकायत भी आपको इंग्लिश भाषा में ही लिखनी पड़ेगी.

6.सबसे पहले आपको विभाग चुनना पड़ेगा कि आप कौन से विभाग से जानकारी पाना चाहते हैं. यहां पर आपको लगभग सभी विभागों की एक सूची दिखाई देगी. उसमें से आपको जिस भी विभाग से RTI के द्वारा जानकारी लेनी है. उसको आप सिलेक्ट करेंगे उसके बाद दूसरा ऑप्शन आपको दिखाई देगा उसमें आप को यह चुनना है. कि आप उस विभाग की कौन सी प्राधिकारी से जानकारी लेना चाहते हैं. और आपको यहां भी एक लिस्ट दिखाई देगी .उसमें से आप किसी को चुन सकते हैं.

7.नीचे आपको अपना नाम लिखना है. यहां पर आप सीधे हिंदी में नहीं लिख सकते .हैं तो इसके लिए आपको अपने कंप्यूटर में गूगल टूल इनपुट सॉफ्टवेयर होता है. उस को इंस्टॉल करना है. उससे आप हिंदी में लिख सकते हैं. फिर उसके बाद आप यहां पर अपना नाम हिंदी में लिख सकते हैं. नीचे आपको लिंग सुनना है. आप महिला हो या पुरुष है. फिर उसके नीचे आपको अपना पता डालना है.

8. यह सब करने के बाद नीचे आपको अपने क्षेत्र का पिन कोड भरना है. उसके नीचे आपको अपना राज्य भरना है. फिर नीचे आपसे पूछा जाएगा आप ग्रामीण है या शहरी है तो आप अगर ग्रामीण है. तो ग्रामीण सेलेक्ट करें और अगर आप शहर में रहते हैं. तो आप इस शहरी सिलेक्ट करें. फिर आप से पूछा जाएगा कि आप अनपढ़ हैं या शिक्षित हैं. तो यदि आप शिक्षित हैं. तो शिक्षित को चुने और यदि आप अनपढ़ हैं. तो अनपढ़ को चुने और उसमें आपने जितनी शिक्षा प्राप्त की है दसवीं क्लास तक बारहवीं क्लास तक है. वह डाल दें. फिर नीचे आपको अपना फोन नंबर डालना है. इसके लिए आपको कोई जरूरी भी नहीं है और यदि आप डालते हैं. तो यह अच्छी बात है. क्योंकि आपकी RTI एप्लीकेशन के बारे में आप को समय पर सूचना मिलती रहेगी और आप इसको खाली भी छोड़ सकते हैं.

9. फिर नीचे आपको अपनी ईमेल ID डालनी होगी और फिर उसको दोबारा से पुष्टि करने के लिए दोबारा ईमेल ID डालनी होगी. फिर आपको पूछा जाएगा कि क्या आप नीचे क्या आप गरीबी रेखा के नीचे आते हैं. तो यदि आप गरीबी रेखा के नीचे आते हैं. तो आप हां पर क्लिक कर दें. और आपको BPL कार्ड संख्या भी डालनी पड़ेगी और अपने BPL कार्ड को स्कैन करके नीचे अपलोड भी करना होगा. और यदि आप गरीबी रेखा के नीचे नहीं है. तो सिंपल ही आपको नहीं पर क्लिक करना है. लेकिन गरीबी रेखा के नीचे आने वाले लोगों के लिए यह फायदा है. कि उनको आरटीआई के इस फॉर्म की फीस नहीं देनी पड़ती .है और यदि आप नहीं चुनते हैं. तो आपको RTI की फीस देनी पड़ेगी और उसके बाद नीचे आपको खाली बॉक्स दिखाई देगा जिनमें आप 3,000 शब्दों तक अपनी शिकायत लिख सकते हैं. या जो भी जानकारी आप जानना चाहते हैं. उसके बारे में लिख सकते हैं जहां पर आप सीधे भी लिख सकते हैं. और यदि आपने पहले साइड में अपने वर्डपैड में अपनी एप्लीकेशन पहले से ही लिख रखी है. तो आप वहां से उठाकर इसको पेस्ट भी कर सकते हैं.

10. नीचे आपको सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट का आप्शन मिलता है. अगर आप चाहते हैं. कि अपनी एप्लीकेशन को PDF फाइल में अपलोड भी कर सकते हैं. नीचे आपको एक कैप्चा कोड दिखाई देगा उस कैप्चा कोड को भरना है. और कैप्चा कोड भरने के बाद फिर आपको भुगतान राशि के ऊपर क्लिक करना है. और जैसे ही आप भुगतान राशि के ऊपर क्लिक करेंगे तो आप अगले पेज पर जाएंगे और वहां पर आपको दो ऑप्शन दिखाई देंगे उसमें आपको एक तो इंटरनेट बैंकिंग का ऑप्शन दिखाई देगा और दूसरा क्रेडिट, डेबिट या ATM कार्ड का ऑप्शन दिखाई देगा तो आप यदि इंटरनेट बैंकिंग से करना चाहते हैं तो इंटरनेट बैंकिंग से अपनी पेमेंट कर सकते हैं और यदि आप चाहते हैं कि मैं ATM कार्ड या क्रेडिट कार्ड कर सकता हूं तो आप उनसे भी कर सकते हैं.

11. मान लीजिए अगर आप क्रेडिट कार्ड से अपनी पेमेंट करना चाहते हैं. क्रेडिट कार्ड को सेलेक्ट करिए और नीचे भुगतान के ऊपर क्लिक करिए क्लिक करते ही आप अगले पेज पर जाएंगे और वहां पर आपको एक फॉर्म दिखाई देगा जो कि एक पेमेंट भुगतान करने का फॉर्म होता है. वहां पर आपको सबसे पहले यह चुनना होगा कि आपके पास कौन सा कार्ड है. जिसमें आपको सभी कार्ड की लिस्ट दिखाई देगी फिर आपको नीचे आपको अपना कार्ड नंबर डालना होगा. फिर आपको समाप्ति तिथि डालनी होगी या जो कि कार्ड के ऊपर लिखी हुई होती है.

12.फिर नीचे आपको सीवीवी डालना होता है जो कि आपको कार्ड के ऊपर पिछली साइड 3 अंको का होता है. फिर उसके बाद आपको अपने कार्ड का नाम डालना है. और फिर नीचे आपको कैप्चा कोड डालना है. फिर आपको नीचे भुगतान के ऊपर क्लिक कर देना है. और जैसे ही आप भुगतान के ऊपर क्लिक करते हैं. तो वह राशि आपकी सफलता पूर्वक भुगतान की जा चुकी होगी.और जैसे ही आप राशि को सफलतापूर्वक दे देते हैं. उसके साथ ही आपका आरटीआई का फॉर्म भी सफलतापूर्वक सबमिट हो जाता है.  और फाइल सबमिट होने के 30 दिन के अंदर ही आपको जो आपने जानकारी मांगी है. वह मिल जाएगी और यदि आप चाहे तो अपनी शिकायत का या जो जानकारी आप ने मांगी है. उसका सटेटस भी जान सकते हैं.

13.स्टेटस चेक करने के लिए आपको स्थिति सटेटस के ऊपर क्लिक करना है. और इसके ऊपर क्लिक करते हैं. फिर आपको अपना रजिस्ट्रेशन नंबर और ईमेल एड्रेस ईमेल ID डालनी होगी जो कि आपके फाइल सबमिट होने के दो या तुरंत बाद भेज दिया जाता है. फिर आपको नीचे ईमेल ID डालनी है. और फिर आपको कैप्चा कोड डालकर सबमिट के ऊपर क्लिक करना है. इसके बाद आप अपनी जानकारी का जो भी स्टेटस है. वह आपको नीचे मिल जाएगा यदि आप 30 दिन के अंदर आपने जो जानकारी मांगी है

14.यदि आपने जो जानकारी मांगी है उसके बारे में आपको कोई भी प्रतिक्रिया 30 दिन के अंदर नहीं मिलती है. तो आप आप प्रथम अपील कर सकते हैं. प्रथम अपील करने के लिए उसके ऊपर जैसे ही आप प्रथम अपील क्लिक करेंगे. तो नीचे आपको कुछ नियम दिखाई देंगे उनको पढ़कर आप एक्सेप्ट करें और फिर सबमिट पर क्लिक कर दें सबमिट करने के बाद आपको फिर से वैसे ही रजिस्ट्रेशन नंबर और ईमेल id और कैप्चा कोड डालना है. जिस तरह से आपने स्टेटस देखने के लिए डाला था. रजिस्ट्रेशन नंबर आपकी ईमेल ID पर आता है. और यदि आपने वहां पर मोबाइल नंबर डाला होगा तो उस मोबाइल नंबर पर आ जाता है. जैसे आप सबमिट पर क्लिक करते हैं. तो आपकी  प्रथम अपील प्रक्रिया पूरी हो जाएगी और यदि प्रथम अपील करने के बाद भी आप की जानकारी नहीं मिल पाती है तो आप दूसरी अपील कर सकते हैं. दूसरी अपील करने के लिए आपको सूचना आयोग के ऑफिस में जाना होगा और सूचना आयोग के अधिकारी से मिलने के बाद आपको वह अधिकारी आपकी शिकायत या आपकी जानकारी के बारे में पूरी जानकारी आपको दे देगा.इस दौरान आपको सभी जानकारी बिल्कुल सही दी जाएगी चाहे उस जानकारी से किसी चीज के बारे में कोई नुकसान हो या किसी चीज का फायदा हो आपको पूरी और सच जानकारी दी जाएगी.

अब आपको पता चल गया होगा कि आप किस तरह से आरटीआई का फार्म ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं.  और अपनी समस्या का हल करते हैं,

तो आज हमने आपको एक बहुत ही महत्वपूर्ण और फायदेमंद जानकारी आपको इस पोस्ट में बताई है. हमने आपको इस पोस्ट में RTI क्या होती है. और आरटीआई से जुड़ी कुछ और भी महत्वपूर्ण और बढ़िया बातें बताई हैं. जिससे कि आप अपनी समस्या का हल आसानी से पा सकते हैं. और घर बैठकर आप इंटरनेट से भी अपनी समस्या का हल पा सकते हैं. तो यह जानकारी आपको बहुत पसंद आई होगी तो यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं.

1 Comment
  1. chanchlesh patel says

    rti ka fees charge kya rehta hai kisi bhi bhivaag ka

Leave A Reply

Your email address will not be published.