आलूबुखारा खाने के फायदे और नुकसान

आलूबुखारा खाने के फायदे और नुकसान

गर्मियां शुरु होने के बाद में आलूबुखारा का सीजन शुरु हो जाता है. आलूबुखारा खाने में खट्टा और मीठा होता है. इसमें हमारे body के लिए जरुरी पोषक तत्वों जैसे Fiber और विटामिन भरपूर मात्रा में होते हैं. इसके अलावा आलूबुखारा मे मिनरल भी बहुत ज्यादा मात्रा में होता हैं.   इसके अंदर पाए जाने वाले फाइबर जिसकी वजह से हमारा पाचन तंत्र सही ढंग से काम करने लगते हैं. (Plum benefit and side effect in hindi)

आलूबुखारा खाने से हमारे त्वचा का रंग भी सुधरने लगता है.  इसका इस्तेमाल करके आप बहुत अच्छे-अच्छे पकवान बना सकते हैं. तो आज इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि आलू बुखारा खाने के लिए क्या-क्या फायदे हैं और क्या क्या नुकसान है जिससे आपको इसको इस्तेमाल करने में मदद मिलेगी और आपको पता लग जायेगा कि अगर आप आलूबुखारा खाते हैं तो आपके स्वास्थ्य पर क्या-क्या प्रभाव पड़ सकते हैं.

आलूबुखारा के पेड़ का साइज लगभग 16 फीट तक होता है और यह मीडियम साइज रहता है. और इसके तने की मोटाइ लगभग 1 से 3 इंच होती है. जैसे दूसरों फल के अलग अलग variety होती है इसमें भी आपको अलग अलग रंग और वैरायटी देखने को मिलेगी. आलूबुखारा  से आप कई तरह की रेसिपी बना सकते हैं और इसके जूस का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.


आलूबुखारा में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Plum nutrition in hindi)

जैसा की हमने आपको पहले बताया की इसमें अच्छी मात्रा में विटामिन और मिनरल्स होते हैं जो कि ना सिर्फ आपके डाइजेशन को ठीक करते हैं, इसके साथ साथ में आपके इसका सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत बढ़िया होता है और यह आपके प्रतिरक्षा तंत्र को ठीक करने और फ्री रेडिकल से बचने में मदद करता है. तो सबसे पहले हम इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व के बारे में आपको नीचे लिस्ट दे रहे है की कौन सी चीज कितनी मात्रा में पाई जाती है.

एक कप आलूबुखारा:-

  • 76 calories
  • 0g fat
  • 19g carbohydrate
  • 2g dietary fiber
  • 16g  sugar
  • 1g protein
  • 15mg vitamin C
  • 10umg vitamin K
  • 569IU vitamin A
  • 0.4mg vitamin E
  • 0.01mg vitamin B6
  • 259mg potassium
  • 0.1mg copper
  • 0.1mg manganese
  • 11mg magnesium
  • 26mg phosphorus
  • 0.3mg iron

आलूबुखारा खाने के फायदे (Benefit of Plum)

1. Antioxidants की अच्छी मात्रा

हमने आपको ऊपर आलूबुखारा के बारे में बता दिया कि इसमें कौन कौन से पोषक तत्व है. आलूबुखारा में विटामिन सी अच्छी मात्रा में होता है, इसके साथ-साथ इसमें phytonutrients जैसे  lutein, cryptoxanthin, zeaxanthin, neochlorogenic और chlorogenic acid होता है जो एंटी ऑक्सीडेंट की तरह काम करते है.

आलूबुखारा में ज्यादा मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो कि आपके cell को खराब होने से बचाता है. जब आप सही मात्रा में एंटीआक्सीडेंट लेते हैं तो यह आपके बॉडी में से फ्री रेडिकल्स को भी हटाने में मदद करता है, जिससे आपकी बॉडी के टिश्यू खराब नहीं होते हैं और इसकी वजह से आपको कैंसर और उम्र से पहले बूढ़े होने वाली समस्याओं से निजात मिलती है. तो आलू बुखारा खाने का यह सबसे पहला फायदा है.

2. डाइजेशन सही करता है

जैसा कि हमने सबसे पहले आपको बताया था कि इसमें से अच्छी मात्रा में डाइटरी फाइबर होता है. जब आप सही मात्रा में और अच्छा डाइटरी फाइबर ले रहे हैं तो वह आपके डाइजेशन सिस्टम को ठीक करता है. अगर आप सूखे आलूबुखारा खा रहे हैं तो यह आपके डाइजेशन की प्रॉब्लम को दूर करता है. अगर मान लो आपको कब्ज की शिकायत है तो आप आलूबुखारा का सेवन कर सकते हैं.

एक यूनिवर्सिटी में इसके ऊपर रिसर्च भी किया गया था और उस रिसर्च के बाद में यह पता लगाया था कि किसी बच्चे को अगर कब्ज की शिकायत होती है तो उनको दिन में दो बार आलूबुखारा का सेवन करना चाहिए. जिसकी वजह से उनको कब्ज की प्रॉब्लम दूर हो जाएगी और धीरे-धीरे उनके डाइजेशन सिस्टम भी अच्छा हो जाएगा .आलूबुखारा में Soluble और Insoluble दोनों तरह के फाइबर होते हैं.

Soluble फाइबर जोकि आलूबुखारा के अन्दर पाया जाता है यह हमारी बॉडी में जाकर हमारी बॉडी से फैट, शुगर, बैक्टीरिया और टॉक्सिन को हमारी बॉडी से बाहर निकालने में मदद करता है. इसके साथ-साथ यह हमारी बॉडी में पहुंचने वाले कार्बोहाइड्रेट को तोड़कर उसे एनर्जी की तरह इस्तेमाल करता है. इसके अलावा यह हमारे बॉडी में केलोस्ट्रोल लेवल को भी कम करता है और यह हमारे कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ को भी बढ़ाने में मदद करता है.

Insoluble फाइबर जोकि आलूबुखारा के ऊपर की स्किन में पाया जाता है, Insoluble का मतलब है यह हमारी बॉडी में जाकर घुलता नहीं है, जिसकी वजह से यह हमारी बॉडी में नेचुरल तरीके से कब्ज को दूर करने में मदद करता है और इसके साथ साथ यह हमारे ब्लड शुगर लेवल को भी मेंटेन करने में मदद करता है.

3. Cholesterol को कम करता है.

अगर आप सूखे आलूबुखारा खाते हैं तो यह आपके बॉडी में Cholesterol लेवल को कम करने में मदद करता है, क्योंकि इसमें पाए जाने वाले Soluble और Insoluble फाइबर आपके LDL Cholesterol जोकि लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन Cholesterol होता है उसको कम करने में मदद करता है और आपके एचडीएल Cholesterol जिसका मतलब हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन Cholesterol होता है उसको बढ़ाने में मदद करता है.

4. Cardiovascular Health को improve करता है.

इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व जिसमें एंटी इंफ्लेमेटरी इफेक्ट्स होते हैं. यह हमारी बॉडी के सेल में वैसे पहले ही होते हैं लेकिन जब हम एंटी इंफ्लेमेटरी फूड का इस्तेमाल करते हैं तो इसकी मात्रा हमारे शरीर में बढ़ जाती है जिसकी वजह से यह हमारे कैलेस्ट्रोल को कम करने, डायबिटीज को कम करने और कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ को बढ़ाने में मदद करता है.

इसमें पाया जाने वाला विटामिन K भी हमारे कार्डियोवास्कुलर हेल्थ के लिए बहुत ही बढ़िया होता है. यह हमारी दिल की बीमारियों को दूर करने में मदद करता है. इसके अलावा यह हमारी धमनियों में जमा होने वाले पदार्थ को भी साथ साथ बाहर निकालने में मदद करता है. जिसकी वजह से हमें हार्ट अटैक जैसी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा.

5. Cognitive Health को सपोर्ट करता है.

इसकी मदद से आपको बहुत सी ऐसी बीमारियों से लड़ने में मदद मिलेगी जो कि आप हर रोज सामना करते हैं जैसे आपके शरीर में बार बार थकान होना, आप बार बार किसी चीज के लिए चिंतित होते हैं या आप बार-बार डिप्रेशन का शिकार होते हैं. तो यह फूड आपको इन चीजों से बचने में हेल्प करेगा.

इसके अलावा यह आपको अल्जाइमर और पारकिनसन जैसी बीमारियों से लड़ने में भी मदद करेगा. इसके ऊपर 2015 में एक रिसर्च की गई थी जिसमें बताया गया था कि अगर आप इस फ्रूट का लंबे समय तक इस्तेमाल करते हैं तो आपको उम्र से पहले बूढ़े होने जैसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा.

6. Skin Health के लिए फायदेमंद

2007 में एक रिसर्च की गई थी जिसमें यह पाया गया था कि अगर आप आलूबुखारा का लंबे समय तक सेवन करते हैं तो आपको जल्दी बूढ़े होने जैसी समस्या से छुटकारा मिल जाएगा और यह टेस्ट लगभग 4000 औरतों पर आजमाया गया था जिनकी उम्र 40 साल से लेकर 70 साल के बीच में थी.

इसमें पाए जाने वाले विटामिन सी की वजह से उनको चेहरे पर होने वाले रिंकल और चेहरे की स्किन पर ड्राईनेस को कम करने में मदद मिली. इसके अलावा उनके बुढापे की वजह से आने वाले लक्षणों को भी कम करने में मदद मिली थी.

इसमें पाए जाने वाले विटामिन C से Tendon, Ligament और Blood Vessel को भी बहुत ज्यादा फायदा पहुंचा. इसके अलावा अगर आलूबुखारा का लंबे समय तक सेवन किया जाए तो चोट को जल्दी ठीक करने और फटे हुए टिश्यू को जल्दी रिपेयर करने में भी मदद मिलती है.

7. प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करता है

आलू बुखारा खाने का सबसे बड़ा फायदा यही है कि यह आपके प्रतिरक्षा तंत्र को कमजोर नहीं होने देता. अगर आपका प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर हो जाता है तो इसकी वजह से आपको बहुत सी बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए हमारा प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होना चाहिए जिससे कि हम बाहर से होने वाली बीमारियों से बच सकें.

इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व आपको बाहर से होने वाली बीमारियों से भी बचाते हैं और आपके बॉडी में प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करने में मदद करते हैं.

8. Diabetes में मददगार

हमने आपको बताया था कि इसमें Soluble और Insoluble दोनों तरह के फाइबर होते हैं. जो आलूबुखारा में Insoluble फाइबर पाया जाता है उसकी वजह से आपको डायबिटीज की बीमारियों से बचने में मदद मिलेगी. क्योंकि यह आपके बॉडी में ब्लड शुगर लेवल को ज्यादा नहीं होने देता है. जिसकी वजह से यह आपके शरीर को डायबिटीज जैसी बीमारियों से दूर रखने में मदद करेगा.

आप इसका सेवन डायबिटीज में भी कर सकते हैं क्योंकि यह आपके ब्लड शुगर लेवल को स्पाइक नहीं करता है. जिससे आपको इस फ्रूट के खाने से कोई भी प्रॉब्लम नहीं होगी और ब्लड शुगर लेवल को नार्मल करने के लिए यह डायबिटीज में सबसे बढ़िया नेचुरल रेमेडी मानी जाती है.

9. Bone Health को बढाता है.

उम्र ढलने के साथ साथ हमारे Bones कमजोर होने लगते हैं, उनकी डेंसिटी कम होने लगती है. हमें अपने Bones को नुकसान से बचाने के लिए आलूबुखारा और जिन चीजों में ज्यादा पोटेशियम पाई जाती है उनका सेवन करना बहुत जरूरी है.

जिन लोगों को osteoporosis की बीमारी है उनको इसका सेवन जरूर करना चाहिए क्योंकि इन में पाए जाने वाला पोटेशियम आपको आपके Bones के कमजोर होने और किसी फैक्चर होने से बचाता है. जिससे आप ज्यादा जल्दी अपनी बोन डेंसिटी को दोबारा रिकवर कर सकते हैं.

अगर मान लो आपको कोई फैक्चर हो गया है तो आप अपनी डाइट में आलूबुखारा को ऐड कीजिए. क्योंकि यह आपकी बोन डेंसिटी को बढ़ाने में मदद करता है जिससे आपका फैक्चर जल्दी ठीक हो जाता है.

आलूबुखारा खाने के नुकसान (Side effect of plum in hindi)

कभी भी फ्रूट्स खाने से ज्यादा दिक्कत नहीं होती है लेकिन अगर आपको पहले ही कोई प्रॉब्लम है तो किसी भी फ्रूट खाने से पहले आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए. अगर आप अपनी डाइट में आलूबुखारा ऐड करना चाहते हैं तो आपको यह जानना बहुत जरूरी है कि अगर आपको किडनी में पथरी है तो आपको अपनी डाइट में आलूबुखारा को ऐड नहीं करना है क्योंकि इसकी वजह से आपको और ज्यादा प्रॉब्लम हो सकती है.

इसमें पाए जाने वाला Oxalate हमारे बॉडी में कैल्शियम को absorption को कम कर देता है जिसकी वजह से हमारी किडनी में कैल्शियम का लेवल बढ़ जाता है और कैल्शियम के लेवल बढ़ने की वजह से हमारे किडनी और ब्लैडर में पथरी बनने के चांसेस ज्यादा हो जाते हैं. तो जिन लोगों को इसकी समस्या है तो उनको इस चीज से दूर रहना चाहिए और इसके अलावा इसका कोई और साइड इफेक्ट नहीं है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+