सरसों के तेल के फायदे और नुकसान और विदेशों में सरसों का तेल क्यों बैन है

सरसों के तेल के फायदे और नुकसान और विदेशों में सरसों का तेल क्यों बैन है

Mustard oil in hindi ? जैसा कि आप सभी जानते हैं कि सरसों का तेल एक आम तेल है. इस तेल को लगभग हम सभी के घर में इस्तेमाल किया जाता है. यह तेल बहुत ही फायदेमंद तेल है. इस तेल को हमारे घरों में लगभग सबसे ज्यादा खाना बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. कुछ जगहों पर यह समोसे पकोड़े जैसी चीजों को बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है.और बहुत से रेस्टोरेंट में भी रिफाइंड तेल के साथ है. इसका इस्तेमाल किया जाता है. हम सभी इसे लगभग सरसों के तेल के नाम से ही जानते हैं.

लेकिन कई जगहों पर इसे कड़वा तेल के नाम से भी जाना जाता है. लेकिन नाम चाहे कितने भी हो चीज सिर्फ एक ही है. सरसों का तेल सेहत और सुंदरता दोनों के लिए बहुत फायदेमंद है सरसों के तेल में बहुत से ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर में घाव भरने ,जोड़ों के दर्द या कान दर्द जैसी चीजों में बहुत मदद करते हैं. यह एक तरह की आयुर्वेदिक दवा के जैसी चीज है.और सरसों का तेल लगभग सबसे पुराना तेल है जिसका इस्तेमाल बहुत पुराने समय से होता आ रहा है.नीचे हम इस महत्वपूर्ण घटकों के बारे में बता रहे हैं.

विदेशों में सरसों का तेल क्यों बैन है

अमेरिका कनाडा और यूरोप में सरसों के तेल पर पिछले 20 सालों से बैन लगाया हुआ है. हालांकि यह बैन भारत में नहीं लगाया गया है. बल्कि दूसरी बड़ी कंट्री में लगा हुआ है. और यदि वहां पर यह तेल मिलता है. तो सिर्फ एक्सटर्नल यूज़ के लिए मिलता है. यानी कि आप इस तेल का अपने बॉडी के ऊपर किसी भी तरह इस्तेमाल कर सकते हैं. चाहे आप को बालों में लगाना हो या आपको किसी दवाई के साथ मिलाकर इसको लगाना हो. अगर आप इस तेल का इस्तेमाल अपने खाना बनाने के लिए करना चाहते है. तो इन कंट्री में इसके ऊपर बैन है आप इस तेल का इस्तेमाल खाने के लिए नहीं कर सकते हैं. बॉडी के ऊपर चाहे आप किसी भी तरह की प्रोसेस से इस तेल से कर सकते हैं. और यह बैन इन कंट्री में क्यों लगाया गया है. इसके लिए हम आप को नीचे बताएंगे. 

उसमें से जो 50% फैट आती है वह Erucic acid से आ रही है. Erucic acid हाई टॉक्सिन और जहरीले एसिड है.जो कि किसी भी आदमी के स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता है यह बहुत हानिकारक है. जहरीला एसिड होता है. इसीलिए FBA  ने इस तेल को बैन किया है. Erucic acid का इस्तेमाल घरों में जब पेंट किया जाता है तो उस पेंट में मिलाने के लिए किया जाता है. और वही तेल सरसों के बीजों में होता है. इसीलिए इन बड़ी बड़ी कंट्री ने सरसों के तेल को अपने देश में खाने के लिए यूज करने से बैन किया है. क्योंकि इससे आपकी बॉडी के ऊपर लगाने से कोई भी नुकसान नहीं होगा.

यदि आप इस से बना खाना खाते हैं. तो आपको नुकसान बहुत ज्यादा होता है.यह जहरीला एसिड सीधे आपके दिल के ऊपर हमला करता है जिससे कि आपके आपको हर्ट अटैक जैसी समस्याएं हो सकती है. लेकिन इन देशों में सिर्फ इसी चीज को देखते हुए इस तेल को बैन किया गया है लेकिन भारत में इस तेल को अभी तक भी बयान नहीं किया गया है. और इसके फायदे भी बहुत ज्यादा है. यह हमें बहुत बड़ी-बड़ी बीमारियों से बचाने में मदद करता है.

सरसों के तेल में फैट

अब हम आपको नीचे सरसों के तेल में घटक की मात्रा बता रहे हैं वह मात्रा सिर्फ 2 ग्राम सरसों के तेल में आप को मिलती है इसके अलावा जितना आप ज्यादा तेल इस्तेमाल करते हैं उसमें इस हिसाब से उसकी मात्रा बढ़ जाएगी तो देखिए

  • प्रति 100 ग्राम राशि
  • कैलोरी 884
  • संतृप्त वसा 12 जी 60%
  • कुल वसा 100 ग्राम 153%
  • मोनोअनस्यूटेटेड वसा 59 ग्राम
  • विटामिन बी -6 0% विटामिन बी -12 0%
  • पॉलीअनसेचुरेटेड वसा 21 ग्राम
  • कैल्शियम 0% लौह 0%
  • मैग्नीशियम 0%
  • सोडियम 0 मिलीग्राम 0%
  • कुल कार्बोहाइड्रेट 0 ग्रा 0%
  • आहार फाइबर 0 जी 0%
  • प्रोटीन 0 जी 0%
  • विटामिन ए 0% विटामिन सी 0%

सरसों के तेल के फायदे

Mustard oil benefits in hindi ? सरसों के तेल के बहुत फायदे होते हैं. चाहे आप सरसों के तेल को किसी भी तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं. सरसों का तेल एक ऐसा ओएल है. जो कि आप किसी भी खाना बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. या इसके अलावा आप हैं. दूसरी चीजों के लिए भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. आप अपने बालों में लगा सकते हैं. अपनी त्वचा पर लगा सकते हैं. इन चीजों पर सरसों के तेल को लगाने से आपको बहुत फायदा मिलता है. तो नीचे हम आपको सरसों के तेल के लाभ या फायदे के बारे में बता रहे हैं. जिनके बारे में शायद आप पहले नहीं जानते थे तो आप इन फायदों को ध्यान से देखिए और फिर आप सरसों के तेल का इस्तेमाल अच्छी तरह से कर सकते हैं.

1. सरसों के तेल लगातार मालिश करने से आपके जोड़ों का दर्द ठीक हो जाता है और घटिया रोग में भी इसका इलाज बहुत ही आसानी से किया जा सकता है वह सरसों के तेल को थोड़ा सा गर्म करके अगर अब अपनी मांसपेशियों पर मालिश करते हैं तो आपके शरीर की जकड़न को भी फायदा मिलता है आप की जकड़न बहुत जल्दी ठीक हो जाएगी.

2.अगर सरसों के तेल में नमक मिलाकर सुबह अपने दांतो पर मलने से मसूड़ों में आने वाली सूजन दांतों का दर्द और दातों में खून बहने की समस्याओं से बहुत जल्द राहत मिलती है. और इस तरीके से दांतो की मालिश करने से आपके दांत चमकीले व मजबूत भी बनते हैं.

3.सरसों के तेल का इस्तेमाल फंगल संक्रमण के लिए भी किया जाता है. सरसों के तेल में  एलिल आइसोथियोसाइनेट नामक एक तत्व पाया जाता है. जो अपनी एंटी फंगल गुणों के कारण कवक के विकास को रोकता है. इस प्रकार यह हमारी त्वचा के रूखेपन सुस्ती. खुजली और इसके साथ-साथ आपकी त्वचा को दूसरे कवक और अन्य रोगाणुओं से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है. जबकि त्वचा पर मालिश के रूप में यह बैक्टीरिया के संक्रमण से लड़ता है।

4.इसके अलावा अगर आप सरसों के तेल का सेवन करते हैं. तो यह हमारे पेट, आंतों, पाचन तंत्र और मूत्रमार्ग के साथ-साथ खांसी जुकाम है. दूसरे रोगों के जीवाणुओं से लड़ने में भी मदद करता है.

5.सरसों का तेल हमारे शरीर के वजन को घटाने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान देता है क्योंकि सरसों के बीजो में बी काम्प्लेक्स विटामिन जैसे फोलेट, थायमिन, नियासिन, रिबोफ्लाविन पाए जाते हैं। सरसों का तेल हमारे शरीर का मेटाबोलिज्म रेट बढ़ा देता हैं, जिससे वजन कम करने में मदद मिलती हैं.

6.यदि आपके होंठ फट जाते हैं. और आप दूसरी लिप क्रीम का इस्तेमाल करते हैं. और वह आपके होठों को ठीक करने में मदद नहीं कर पा रही है. तो उस स्थिति में आप अगर अपने सूखे फटे हुए होठों पर लगाते हैं. तो यह बहुत जल्द ही आपके होठों को ठीक करने में मदद करता है.

7.सरसों का तेल हमें  कैंसर को पैदा करने वाले गुणों के लिए बचाता है. क्योंकि सरसों के तेल में ग्लूकोसिनोलेट नामक तत्व होता है, जो एंटी-कार्सिनजेनिक गुणों के लिए जाना जाता है और कैंसर को शरीर में बनने से रोकता है.सरसों के तेल से आप अपनी किसी भी तरह की सूजन को कम कर सकते हैं यह सूजन को कम करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि सरसों के तेल में सूजन को कम करने के कुछ ऐसे तत्व होते हैं. जो सूजन से राहत दिलाते हैं.

8.मच्छरों से बचने के लिए भी सरसों का तेल एक बहुत ही बढ़िया उपाय है क्योंकि इसकी सुगंध इतनी तेज है.कि यह मच्छरों या और छोटे कीड़ों को अपने पास आने से रोक देता है इसलिए यह तेल अगर आप अपनी बॉडी पर लगाते हैं. तो आपको मलेरिया के मच्छर वह दूसरे बीमारियों के जीवाणु से भी सुरक्षा मिलती है.सरसों के बीजो में सेलेनियम और मैग्नीशियम पाए जाते है. जो की एंटी-इन्फ्लेमेट्री हैं. सरसों के तेल को खाने से अस्थमा, सर्दी-जुकाम और ब्रेस्ट में होने वाली परेशानियों से राहत मिलती.

9.सरसों का तेल खांसी नाक बंद होना या छाती बंद होना इन समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है. आप एक चम्मच पहले और कपूर से मिश्रण बनाएं फिर उसको अपनी छाती के ऊपर मालिश करें इससे आपको निश्चित रुप से राहत मिलेगी.जिन लोगो के बाल भूरे रंग के होते हैं, उन्हें सरसों का तेल लगाना चाहिए. इससे बालों का रंग काला हो जाता हैं. रात को सोने से पहले सरसों का तेल लगाने से कुछ ही दिनों में बाल काले हो जाते हैं.

10.यदि आपको भूख कम लगती है. तो आप सरसों के तेल से बना खाना खाना शुरु कर दें.अगर आप सरसों के तेल का खाना खाना शुरु करते हैं तो निश्चित रूप से आप की भूख में बढ़ोतरी होगी सरसों के तेल से पाचन और रक्त वाहिका संबंधी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है यह प्लीहा और यकृत जैसे रोगों से लड़ने में भी सहायक होता है अगर आप अपने शरीर पर सरसों के तेल से मालिश करते हैं तो यह आपके रक्त परिसंचरण और पसीने की ग्रंथियों को उत्तेजित करता है.

सरसों के तेल का नुकसान

Mustard oil side effects in hindi ? वैसे तो इस तेल के ज्यादा कुछ नुकसान नहीं है. लेकिन ऐसी कोई भी चीज नहीं है. जिसके फायदे ही फायदे हो और नुकसान ना हो तो  हम आपको अब निचे इसके कुछ नुकसान के बारे में बता रहे हैं. जो कि आप को साधारण रुप से देखने को मिल सकते हैं.

1.जैसा की हमने आपको ऊपर भी बताया है कि यह तेल अमेरिका कनाडा और यूरोप में बहन है लेकिन वहां पर सिर्फ आप इस तेल का इस्तेमाल अपनी बॉडी के ऊपर लगाने के लिए कर सकते हैं क्योंकि उसमें से जो 50% फैट आती है. वह Erucic acid से आ रही है. Erucic acid हाई टॉक्सिन और जहरीले एसिड है.जो कि किसी भी आदमी के स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता है. यह बहुत हानिकारक है. यह जहरीला एसिड होता है.जहरीले एसिड के कारण हमें दस्त हृदय रोग व एनीमिया जैसी बड़ी बीमारी भी हो सकती है.

2. अगर आप इस तेल से लगातार अपने शरीर पर मालिश करते हैं. या अपने शरीर पर लगाते हैं. तो इससे आपकी त्वचा का रंग काला होना शुरू हो जाता है और आप के शरीर पर फफोले भी होने शुरू हो जाते हैं. इसलिए हमें इस का लगातार इस्तेमाल अपने त्वचा के ऊपर नहीं करना चाहिए.

3.अगर आप किसी भी तरह से सरसों के तेल का ज्यादा सेवन करना शुरू कर देते हैं तो इससे आपके शरीर में  राइनाइटिस हो सकता है जिसमें बलग़म की झिल्ली में सूजन हो जाती है. खांसना, छींकना, भरी हुई नाक, नाक से पानी बहाना आदि.समस्याएं आपको हो सकती है. तो यह समस्या अगर आपको सरसों के तेल के इस्तेमाल करने से दिखती है. तो आप इसका सेवन तुरंत बंद कर दें.

4. कई लोगों को सरसों के तेल से एलर्जी होनी शुरू हो जाती है. तो यदि आप को भी इस तरह की एलर्जी होती है. तो आप इसका सेवन बंद कर दें और इससे आपकी त्वचा पर लालिमा खुजली और त्वचा का सूखापन जैसे लक्षण पाए जाते हैं.

5. Erucic एसिड से भरपूर सरसों के तेल का नियमित रूप से बड़ी मात्रा में सेवन ब्लड प्लेटलेट्स में अचानक और बड़ी गिरावट का कारण बनता है। जिससे एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है.सरसों के तेल में इरुसिक एसिड की सामग्री का उच्च स्तर हमारे दिल के स्वास्थ्य को काफी नुकसान पहुंचा सकता है. यह हृदय की मांसपेशियों को बुरी तरह से नुकसान और कभी कभी इससे हृदय घात भी हो जाता है.

6.गर्भवती महिलाओं को सरसों के तेल का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि सरसों के तेल में  कुछ ऐसे रासायनिक यौगिक होते हैं जो पूरी तरह से शिशु के ऊपर प्रभाव डालते. हैं जिससे कि गर्भपात होने का कारण भी बढ़ जाता है.

7. यदि आप सरसों के तेल का अपनी खपत के अनुसार करते हैं. वह फिर भी आपको इसका कोई दुष्परिणाम देखने को मिलता है. तो आप अपने डॉक्टर से इसकी जानकारी ले सकते हैं. कि यह आपके लिए कितना फायदा कर रहा है. और कितना नुकसान कर रहा है उसके बाद आप इसका सेवन शुरू या बंद कर सकते हैं.

8. इसके अंदर मौजूद Erucic एसिड से कैंसर होने का खतरा रहता है. क्योंकि सरसों के तेल में हाई मात्रा में Erucic एसिड पाया जाता है. जो कि मुख्य रूप से कैंसर और कोमा जैसी बीमारियों को बढ़ावा देता है. तो आप इसका सेवन ज्यादा मात्रा में ना करें.

9.अगर आप सोचते हैं. कि किसी अच्छी कंपनी का या पतंजलि जैसी आयुर्वेद कंपनी के सरसों का तेल इस्तेमाल कर रहे हैं. और वह आपके लिए फायदा कर सकता है. तो ऐसा कुछ भी नहीं है. क्योंकि सरसों का तेल सिर्फ सरसों के बीज से ही निकाल कर तैयार किया जाता है. और उस तेल पर किसी कंपनी का logo लगाने या किसी कंपनी कि ऐड करने से वह तेल Erucic एसिड मुक्त नहीं होता है. वह इस तेल में मुख्य रुप से होता ही है. तो आप इसका इस्तेमाल सोच-समझकर करें.

तो आज हमने आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही महत्वपूर्ण और फायदेमंद जानकारी आपको बताई इस पोस्ट में हमने आपको mustard oil benefits & side effects in hindi ? सरसों तेल के नुकसान सरसों का तेल बालों के लिए सरसों का तेल पीने के फायदे सरसों के फायदे सरसों का तेल खाने के फायदे नाक में तेल डालने के फायदे सरसों का तेल चेहरे के लिए के बारे में इतनी जानकारी नहीं होगी क्योंकि सिर्फ आप इसका इस्तेमाल साधारण तरीके से करते हैं. तो सरसों के तेल के नुकसान भी बहुत ज्यादा है. और फायदे भी बहुत हैं. तो इसका इस्तेमाल आप या तो अपने डॉक्टर की राय से करें या आप इसका इस्तेमाल सीमित रुप से करें तो अगर हमारे द्वारा बताइ यह जानकारी आपको पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+