MRI स्कैन क्या होता है और यह कैसे होता है

MRI स्कैन क्या होता है और यह कैसे होता है

मृ स्कैन क्या है :आज हम आपको एक बहुत ही अलग तरह की और नई जानकारी आपको इस पोस्ट में देंगे हम आपको आज इसमें पोस्ट में MRI स्कैन क्या होता है और यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है और यह हमारे शरीर में क्या काम करता है उसके बारे में कुछ ऐसी जानकारी मैं आपको बताऊंगा जो कि शायद आपको पहले नहीं पता होगी. एम आई आर टेस्ट के बारे में पहले तो लोग बहुत कम जानते थे क्योंकि पहले सीटी स्कैन या एक्स-रे को जाना जाता है.

लेकिन MRI स्कैन सिस्टम के आने के बाद डॉक्टरों को जानकारी बीमारी के बारे में पता लगाना बहुत आसान हो गया है और वह बहुत ही आसान तरीके से पूरी बॉडी का एम आई आर टेस्ट करके आसानी से उतार कर सकते हैं. तो डॉक्टर आसानी से इन बीमारियों का पता लगाकर उपचार कर सकते हैं तो मैं आपको नीचे एम आर आई स्कैन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी बता रहा हूं तो देखिए.

MRI स्कैन क्या होता है और यह कैसे होता है

MRI (Magnetic resonance imaging) जिससे हिंदी में चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग कहा जाता है.शरीर के चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (MRI) एक शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र रेडियो तरंगों और कंप्यूटर से आपके शरीर के अंदर के अंगो का फोटो लेते है यह हमारे शरीर में मौजूद छोटे-छोटे प्रोटॉन को एक साथ मिलाकर उनका फोटो लेता है. जब किसी भी आदमी का MRI स्कैन किया जाता है और उस स्कैन को करने के लिए डॉक्टर उस आदमी के सभी कपड़े उतरवाकर और उसे अपना एक अलग किस्म का कपड़ा देते हैं और MRI स्कैन किया जाता है तो उस समय में उसके सभी धातुएं चीज निकलवा दी जाती है जैसे घड़ी, चेन, अंगूठी या किसी तरह के गले के गहने यह सब चीजें उतरवा दी जाती है और उसके बाद उस आदमी को MRI स्कैन मशीन की एक टेबल होती है उसके ऊपर लिटाया जाता है और फिर उसको उस टेबल को उस मशीन के अंदर भेज दिया जाता है जिसके बाद वह मशीन शक्तिशाली मैगनेट रेडियो तरंगों और कंप्यूटर से उस इंसान की बॉडी का भीतर विस्तृत चित्र है जो कि इंसान की बॉडी में छोटे-छोटे प्रोटॉन होते हैं उनका चित्र होता है और उस स्कैन के होने के बाद डॉक्टर आसानी से पता लगा सकते हैं कि इंसान की बॉडी में कौन सी बीमारी है और यह कितनी पुरानी हो सकती है.

अगर हम आपको आसान भाषा में बताएं की MRI स्कैन क्या होता है तो MRI स्कैन का सीधा मतलब यह होता है कि यह एक ऐसी मशीन होती है जो कि हमारे शरीर के भीतरी भागों का फोटो लेती है. यह हमारे शरीर में सूक्ष्म से सूक्ष्म चीजों का पता लगा लेती है महिलाओं को अपने चिकित्सक या टेक्नोलॉजिस्ट को हमेशा बताना चाहिए. कि मै गर्भावस्था में है. MRI का इस्तेमाल 1980 के दशक के बाद से मरीजों को स्कैन करने के लिए किया गया है ताकि गर्भवती महिलाओं या उनके अजन्मे बच्चे पर कोई बुरा प्रभाव न हो

यदि आप चाहते हैं कि हम पूरी बॉडी का MRI स्कैन नहीं करवाना चाहते हैं और हमारी जिस जगह पर चोट लगी है जिस जगह बीमारी है उसका MRI स्कैन कराना चाहते हैं तो आप अपने शरीर के अलग-अलग भागों का भी MRI स्कैन करा सकते हैं इसमें आप अपनी बॉडी के मस्तिष्क छाती पर किसी भी तरह की हड्डी ,कंधे,घुटने आदि शरीर के अलग-अलग भागो का MRI स्कैन करवा सकते हैं और यदि आप अपनी बॉडी का पूरा स्कैन करवाना चाहते हैं तो वह भी करवा सकते हैं इससे यह फायदा होता है कि अगर आपके शरीर में दूसरी कोई बीमारी है वह भी पता लगाया जाता है और यदि आप किसी एक भाग का MRI स्कैन कराते हैं तो उससे बॉडी की दूसरी भागों की बीमारी का पता नहीं लगाया जाता. जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया यह अलग-अलग तरह से भी करवाया जा सकता है जैसे

मस्तिष्क और रीढ़ – यह मस्तिष्क के भीतर होने वाली चयापचय संबंधी परिवर्तनों को मापता है। इसका उपयोग मस्तिष्क की शारीरिक रचना की जांच करने के लिए किया जाता है और यह निर्धारित कर सकता है कि मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में महत्वपूर्ण कार्यों का संचालन किया जा रहा है। सिर की चोट से या अल्जाइमर रोग जैसे विकारों से होने वाली क्षति का अंदाजा करने के लिए MRI का भी उपयोग किया जाता है.

छाती – और पेट के अंग- दिल, यकृत, पित्त पथ, गुर्दे, प्लीहा, आंत्र, अग्न्याशय, और अधिवृक्क ग्रंथियों इन सभी बीमारियों के लिए छाती का MRI स्कैन किया जाता है.

हृदय हृदय का MRI स्कैन तब कराया जाता है हृदय की जन्मजात हृदय रोग रक्त वाहिकाओं और जहाजों की सूजन (vasculitis) की विकृति जैसे समस्याएं होती है.

MRI स्कैन

  1. जब आप MRI स्कैन कराते हैं तो उस समय आपको डॉक्टर को अपनी पूरी जानकारी दे देनी चाहिए जैसे कि यदि आपने कही पर टैटू बनवाया है क्या आपने अपने दांत या कान में किसी तरह की चीज डलवाई है तो उसके बारे में बता देना चाहिए
  2. यदि या आपकी किसी हड्डी में किसी तरह की लोहे या दूसरी धातु की कोई चीज़ डाली हुई है तो उसके बारे में भी बता देना चाहिए यदि आपको पहले किसी तरह की एलर्जी है.या किसी तरह की सर्जरी करवा रखी है तो उसके बारे में भी अपने डॉक्टर को बता देना चाहिए.
  3. यदि आप पहले किसी दवाई का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसके बारे में अपने डॉक्टर को जरूर बताएं
  4. MRI कमरे में कोई भी धातु की अनुमति नहीं है, क्योंकि मशीन में चुंबकीय क्षेत्र धातु को आकर्षित कर सकते हैं। अपने चिकित्सक को बताएं कि क्या आपके पास कोई धातु-आधारित उपकरण हैं जो परीक्षण के दौरान समस्याएं पैदा कर सकते हैं.
  5. आपको स्कैन से पहले चार घंटे तक कुछ भी खाने या पीने के लिए नहीं कहा जा सकता है, और कभी-कभी आपको पहले से बहुत अधिक मात्रा में पानी पीने के लिए कहा जा सकता है यह स्कैन होने वाले क्षेत्र पर निर्भर करता है
  6. जिन रोगियों में धातु के कुछ भागों में उनके ऑब्जेक्ट होते हैं उनमें MRI से पहले एक्स-रे की आवश्यकता हो सकती है। आप किसी भी छर्रे, गोलियों या धातु के अन्य टुकड़ों के टेक्नोलॉजिस्ट या रेडियोलॉजिस्ट को सूचित कर सकते हैं

वैसे तो इस MRI स्कैन में किसी भी तरह का दर्द नहीं होता है लेकिन यदि Contrast की आवश्यकता होती है तो थोड़ा दर्द जरूर होता है और इसके लिए Contrast IV भी दिया जाता है और इस टेस्ट को करने में वैसे तो बहुत टाइम लगता है क्योंकि यह एक लंबा टेस्ट होता है वह इसमें आपको 30 मिनट से 90 मिनट तक का समय लग सकता है. MRI स्कैन के दौरान, चुंबक का आंतरिक हिस्सा दोहरावपूर्ण टैपिंग, प्रचंड और अन्य शोर पैदा करता है। शोर को ब्लॉक करने में सहायता के लिए इयरप्लग या संगीत प्रदान किया जा सकता है. अगर किसी आदमी को दमे जैसी दिक्कत है तो उसके लिए ओपन MRI किया जाता है

आज मैंने आपको इस पोस्ट में मृ स्कैन मृ स्कैन क्या है मृ मशीन मृ स्कैन कॉस्ट m.r.i क्या है मृ फुल फॉर्म व्हाट इस मृ एमआरआई price से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी आप को दी है इस पोस्ट में हमने आपको MRI स्कैन क्या होता है उसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां बताइए है. इस जानकारी के बारे में जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी था क्योंकि कई बार आपको या आपके किसी दोस्त रिश्तेदार या आपके किसी नजदीकी को कई बार MRI स्कैन करवाने की जरूरत पड़ती है.

2 Comments
  1. Suraj jadhav says

    Nice …thanks

  2. KAMDEW VERMA says

    Testise ka MRI hota h kya

Leave A Reply

Your email address will not be published.