आईये कुछ नया जाने

पासपोर्ट कितने प्रकार के होते हैं – How many types of passports In Hindi

पासपोर्ट कितने प्रकार के होते हैं – How many types of passports In Hindi

Passport kitne parkar ke hote hai ? आज हम आपको एक और बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी बताएंगे इस जानकारी से संबंधित कुछ बातें हमने आपको पहले भी दो पोस्टों में बता दी है. हमने आपको इससे पहले पोस्ट में बताया था. की ऑनलाइन पासपोर्ट के लिए कैसे अप्लाई कर सकते हैं. और वह कौन-कौन से देश हैं जहां पर आप सिर्फ भारतीय पासपोर्ट के साथ ही जा सकते हैं. तो जैसा की हमने आपको बताया था कि 59 ऐसे देश हैं जहां पर आप सिर्फ भारतीय पासपोर्ट के साथ जा सकते हैं. क्योंकि भारतीय पासपोर्ट अब दुनिया के  सबसे ताकतवर पासपोर्ट में शामिल हो चुका है. और इसीलिए भारत के लोग 59 देशों में बिना वीजा के जा सकते हैं.

जिनकी लिस्ट हमने आपको पिछली पोस्ट में दी है. और वैसे तो हमें आज कई देशों में आज भी वीजा के साथ ही जाना पड़ता है. लेकिन क्या आप जानते हैं. रंग के आधार पर भारत में 3 तरह के पासपोर्ट बनाए जाते हैं.जिनके बिना आपके देश में नहीं जा सकते हैं. और इन तीनो पासपोर्ट का अलग अलग महत्व होता है. तो आज हम आपको इन तीनों पासपोर्ट के बारे में पूरी और विस्तार से जानकारी देंगे. तो आप इस जानकारी को ध्यान से पढ़ें और शायद आपको इस तरह की जानकारी पहले नहीं मिली होगी और यह आपके लिए जानना बहुत ही जरूरी है.

पासपोर्ट कैसे बनवाए – पासपोर्ट बनवाने में कितना खर्चा होता है

1.भारत के पासपोर्ट

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया है भारतीय पासपोर्ट रंग के आधार पर 3 रंग के होते हैं.तो सबसे पहले हम बात करेंगे भारतीय पासपोर्ट के नीले रंग के पासपोर्ट के बारे में की है कैसा पासपोर्ट होता है और किन लोगों के लिए बनाया जाता है. और इसका क्या काम होता है.

2.नीला पासपोर्ट

नीले रंग का पासपोर्ट रेगुलर और तत्काल दोनों तरह से उपलब्ध है. यह पासपोर्ट भारत के साधारण लोगों के लिए बनाया जाता है. और यह इस पासपोर्ट का नीला रंग भारतीयता को दर्शाता है.और इसको आधिकारिक और राजनयिक से अलग रखने के लिए इसे पासपोर्ट का रंग नीला रखा गया है. और इस पासपोर्ट से विदेशों में कस्टम अधिकारी या दूसरे किसी भी अधिकारी को किसी भी तरह की जांच करने में  दिक्कत नहीं आती है. और उनको पासपोर्ट की जांच करने में बहुत ही आसानी होती है. नीले रंग के पासपोर्ट में पासपोर्ट धारक का नाम होता है. उसके साथ ही उसकी जन्मतिथि, उसका जन्म स्थान, उस के साइन, उसकी फोटो और उसके साथ-साथ पासपोर्ट धारक है से जुड़ी हुई कुछ और भी जानकारी पासपोर्ट में होती है.और इस पासपोर्ट को पासपोर्ट धारक की पहचान के रूप में भी देखा जाता है. और जब किसी भी आदमी को पासपोर्ट जारी कर दिया जाता है. या उसका पासपोर्ट बना दिया जाता है. तो वह आदमी पासपोर्ट के ऊपर वीजा लगवा कर कहीं पर भी जा सकता है.अब आपको पता चल गया होगा कि नीले रंग का पासपोर्ट भारतीय साधारण लोगों के लिए बनाया जाता है.

3.सफेद पासपोर्ट

सफेद पासपोर्ट दूसरी पासपोर्ट जैसे नीली पासपोर्ट से अलग तरह का होता है यह पासपोर्ट ऑफिशियल लोगों के लिए बनाया जाता है जो कि सरकारी कामकाज के लिए विदेश में जाते हैं और इस पासपोर्ट के सफेद रंग से यह सरकारी अधिकारियों को दर्शाता है और यह पासपोर्ट जो भी आदमी सरकारी कामकाज के लिए विदेश में जाता है. उनके लिए होता है.सफेद रंग का पासपोर्ट अधिकारी की पहचान के लिए बनाया जाता है. सफेद रंग के पासपोर्ट को बनवाने के लिए अलग से एक एप्लीकेशन देनी पड़ती है और उस एप्लीकेशन में उसको यह बताना पड़ता है. कि उस आदमी को सफेद पासपोर्ट की जरूरत किस लिए है.और वह इसे क्यों पाना चाहता है. और सफेद पासपोर्ट वाले आदमी को कुछ अलग से भी सुविधाएं मिलती हैं.

4.मैरून कलर

भारत के पासपोर्ट में तीसरा पासपोर्ट मैरून रंग का होता है.और इस पासपोर्ट को राजनयिक पासपोर्ट के नाम से भी जाना जाता है. और जैसे इसके नाम से ही आपको पता चलता है. यह पासपोर्ट भारतीय राजनीतिक और सीनियर सरकारी अधिकारियों के लिए इस पासपोर्ट को बनाया जाता है. यह भारतीय राजनीतिक और सीनियर सरकारी अधिकारी जैसे IPS और IAAS जैसे उच्च अधिकारियों को मैरून कलर रंग का पासपोर्ट जारी किया जाता है. और इस पासपोर्ट से उन उच्च अधिकारियों को विदेशों में यात्रा से लेकर सभी प्रकार की सुविधाएं दी जाती है. और इस पासपोर्ट होने इस पासपोर्ट को पाने के बाद विदेश में जाने के लिए वीजा लगवाने की जरूरत नहीं होती है. और इस पासपोर्ट के कारण उन लोगों को सामान्य लोगों से जल्दी ही इमीग्रेशन मिल जाता है. राजनयिक पासपोर्ट उन लोगों को जारी किया जाता है. जो कि उच्च आयोग के अधिकारी होते हैं. या फिर सरकार के प्रतिनिधि होते हैं.इस पासपोर्ट का रंग उन दोनों पासपोर्ट के रंग से अलग इसलिए होता है.

क्योंकि इस पासपोर्ट की पहचान अलग से की जा सके.और किसी भी जांच अधिकारी को जांच करने में परेशानी ना हो वैसे तो इस तरह के पासपोर्ट धारक यह बहुत कम ही जांच की जाती है. इस पासपोर्ट को बनवा ना वैसे तो बहुत ही मुश्किल होता है. लेकिन इसके लिए एक अलग से एप्लीकेशन लगानी पड़ती है.जिसमें आपको यह बताना होता है. कि आखिर आपको डिप्लोमेटिक पासपोर्ट की जरूरत क्यों है. और आप इसे क्यों पाना चाहते हैं. और इस पासपोर्ट के धारक को विदेश में किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होती है. और इस तरह के पासपोर्ट के धारक के खिलाफ विदेशों में केस भी करना बहुत ही मुश्किल होता है. और आसानी से इस तरह के लोगों के खिलाफ मुकदमा नहीं किया जा सकता है.लेकिन इस पासपोर्ट को साधारण लोगों के लिए नहीं बनाया जाता है. और ना ही साधारण आदमी के लिए आवेदन कर सकते हैं.

पासपोर्ट में अपना नाम , पता और जन्म तिथि कैसे बदलवाए

5.अवधि के आधार पर पासपोर्ट

ऊपर हमने आपको बताया है. कि पासपोर्ट रंग के आधार पर कितने प्रकार के होते हैं. लेकिन अब हम आपको नीचे बताएंगे की अवधि के आधार पर पासपोर्ट कितने प्रकार के होते हैं.

अवधि के आधार पर पासपोर्ट दो तरह के होते हैं. सामान्य पासपोर्ट जो कि 10 से 20 दिनों के अंदर बनवाया जाता है. और दूसरा तत्काल पासपोर्ट होता है. जो कि आप 3 से 7 दिनों के अंदर बनवा सकते हैं. लेकिन तत्काल पासपोर्ट का खर्चा सामान्य पासपोर्ट से कुछ ज्यादा होता है. जैसे कि अगर मान लीजिए सामान्य पासपोर्ट का खर्चा 1 हजार रुपए है. तो तत्काल पासपोर्ट का खर्चा ₹3000 होगा क्योंकि तत्काल पासपोर्ट बहुत जल्दी बनाया जाता है. इसमें आप की सभी तरह की जानकारी को बहुत जल्दी वेरिफिकेशन करना होता है. इसलिए इस पासपोर्ट का खर्चा थोड़ा ज्यादा होता है. और यदि आपको बहुत जल्दी ही पासपोर्ट की जरूरत है. तो आप तत्काल पासपोर्ट के लिए आवेदन कर सकते हैं. और यह पासपोर्ट रेगुलर पासपोर्ट की तरह ही होता है. इसमें भी सभी जानकारियां होती है.पासपोर्ट आवेदक को एक अनुबंध लिखना होता है.

जिसमें वह अपने बारे में सभी जानकारी भरता है और इसके अलावा एक प्रथम श्रेणी के राजपत्रित अधिकारी को अपनी तरफ से एक वेरिफिकेशन देना होता है. कि वह आवेदक को जानता है. तत्काल पासपोर्ट अप्लाई करने के 3 से 7 दिन के अंदर ही आपका पासपोर्ट बनाकर डाक के द्वारा आपके घर तक पहुंचा दिया जाता है. और इसके अलावा सामान्य पासपोर्ट को बनवा दे समय 10 से 20 दिन के अंदर लग जाते हैं. और कई बार तो इस पासपोर्ट को बनवाने में एक महीना भी लग जाता है. इसके बनने के बाद भी इस पासपोर्ट को आवेदक के घर तक पहुंचा दिया जाता है.

6.पेज के आधार पर पासपोर्ट

जैसे पासपोर्ट सामान्य और तत्काल दो तरह के होते ही तरह से पेज के आधार पर भी पासपोर्ट दो तरह के होते हैं. एक पासपोर्ट 36 पेज का होता है और दूसरा पासपोर्ट 60 पेज का होता है. बच्चों के पासपोर्ट की 36 पेज की ही बुक दी जाती है. और इसके अलावा बड़े आदमी जैसे 18 साल से ऊपर के 36 पेज की बुक भी ले सकते हैं और 60 पेज की बुक भी ले सकते हैं.

7.वैधता के आधार पर पासपोर्ट

वैद्यता के आधार पर भी पासपोर्ट दो तरह के होते हैं. एक पासपोर्ट होता है.10 साल की अवधी का जो सामान्य लोगों के लिए बनवाया जाता है. सामान्य लोग जब भी पासपोर्ट बनवाने के लिए अप्लाई करते हैं. तो उनको 10 साल तक के लिए पासपोर्ट मिलता है. एक होता है वयस्क पासपोर्ट यह बच्चे के होते हैं. यानी 5 साल से लेकर 18 साल तक के बच्चों के लिए यह पासपोर्ट बनाया जाता है 15 साल का बच्चा भी 10 साल के सामान्य पासपोर्ट के लिए अप्लाई कर सकता है.

ECR और NON ECR पासपोर्ट में क्या अंतर होता है

पासपोर्ट कौन कौन बनवा सकते हैं

भारत का कोई भी आदमी पासपोर्ट बनवा सकता है यह 1 दिन की उम्र के बच्चे से लेकर और किसी भी उम्र के आदमी काया पासपोर्ट बन सकता है और जिसके माता-पिता का पासपोर्ट होता है वह बच्चे अपने एक सर्टिफिकेट के आधार पर ही पासपोर्ट बनवा सकते हैं. पासपोर्ट बनवाने के लिए आपको अपनी जन्म की तारीख का सबूत देना होता है. इसमें आप अपना जन्म प्रमाण पत्र या दसवीं क्लास की मार्कशीट की कॉपी दे सकते हैं. उसके बाद आपको अपने एड्रेस का सबूत देना होता है.

उसमें आप अपने इसमें आप अपना आधार कार्ड, पैन कार्ड ,राशन कार्ड, वोटर ID कार्ड यह सभी चीजें लगा सकते हैं. इसके अलावा आपको एक अपना Id का भी सबूत देना होता है. इसमें आप अपने पैन कार्ड आधार कार्ड वोटर ID कार्ड यह सभी चीजें दे सकते हैं. और इसके अलावा आपका एक फोटो भी लिया जाता है जो कि पासपोर्ट केंद्र में ही लिया जाता है.

तो आज हमने आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी बताई है. यह जानकारी आपको पसंद आई होगी तो यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

3 Comments
  1. ARPIT MUKATI says

    jankari dene ke liye dhanyawad

  2. Devendra says

    Dhanyawad Sir

  3. SK says

    Sir agar janm parman patr na ho to passport nahi banega?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+