Email में CC और BCC क्या होता है इसके क्या फायदे है

Email में CC और BCC क्या होता है इसके क्या फायदे है

अगर आप ईमेल का उपयोग हर रोज करते तो आपको Cc या Bcc के बारे में पता होना जरूरी है क्योकि इसी से ही आप अच्छी तरह ईमेल भेज सकते है और जीमेल, याहू, माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक और मोजिला थंडरबर्ड सहित अधिकांश ईमेल सेवा आपको इस बात की सुविधा देती है की आप एक साथ कई लोगो को ईमेल भेज सकते है.अगर आप भी जानना चाहते है की cc and bcc meaning in hindi cc ka full form bcc full form in email तो आज इस पोस्ट में आपको इसके बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी .

इसके लिए आपको  Cc या Bcc के बारे में पता होना चाइये यह दोनों बहुत काम की चीज है यदि हम किसी के पास ईमेल भेज रहे है तो उसका ईमेल एड्रेस लिखना पड़ता है और कई बारी आपको एक साथ कई लोगो के पास ईमेल भेजनी हो तो आप कोमा का उपयोग करके आप एक साथ कई ईमेल एड्रेस डाल सकते हो  इस से आप एक से ज्‍यादा लोगो भेज सकते हो पर CC और BCC में अंतर होता है देखिये क्या क्या अंतर होते है |

Email में CC और BCC क्या होता है इसके क्या फायदे है

CC(Carbon Copy)

CC का पूरा नाम कार्बन कॉपी होता है तो इसका कम ये होता है की यदि आप चार लोगो के पास ईमेल भेज रहे हो और आप एक पास भेज दी और आप चाहते है की इसकी कॉपी सभी के पास पहुचे और आप चाहते हो की चारो को पता चले की किस किस का पास ईमेल भेजी गयी है तो आप चारो के ईमेल एड्रेस CC में डाल सकते है जिस से सभी को पता चल जायेगा

की किस किस के पास ईमेल भेजी गयी है उनके ईमेल पे और और उन सबके ईमेल एड्रेस भी एक दूसरे को दिख जायेगे CC का उपयोग कंपनी में बहुत ज्यादा किया जाता है क्योकि कंपनी में कई काम पर कई लोग एक  साथ काम करते है और ईमेल एक साथ सभी की मिलनी चाहिए तो उनके CC बहुत कम आती है और इसका उपयोग आप तब करते है जब आप किसी और को भी अपने भेजे गये ईमेल की copy भेजना चाहते हो

और आप चाहते है कि सबको पता रहे कि किस-किस को Email गया है इसमें आप to का प्रयोग तो कर सकते है पर पर To करने से चारों में से किसी काे भी ये पता नही पायेगा कि बाकी 3 कौन है जिनको ये यही ईमेल गया है।

BCC (Blind Carbon Copy)

BCC का मतलब Blind Carbon Copy है जब हम कई लोगो के पास ईमेल भेजते है और आप चाहते है की ईमेल लिस्ट का पता न चले यानि जिस जिस के पास उनको आपस में पता न चले की किस किस पास ईमेल की कॉपी भेजी गयी ही तो BCC  का उपयोग कर सकते है और  CC में list को reply का भी पता चलता रहता है लेकिन BCC list में reply छुप जाता है।

BCC तब करे जब आप चाहते है कि जिसकों आपने Email भेजा है उसे ये ना पता चल सके कि ये ईमेल किसी और को भी गया है और लिस्ट छुपाने के लिए  आपको To या CC फिल्ड का प्रयोग करने की जगह उनके ईमेल ऐड्रेस को BCC फिल्ड में डालना होगा जिस से किसी को पता नही चलेगा की किस किस को ईमेल कॉपी की गयी है |

इस पोस्ट में हमने बताया की cc and bcc meaning in hindi cc ka full form bcc full form in email अगर ये जानकारी पसंद आये तो शेयर करे और अगर इसके बारे में कोई भी सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट करे .

Leave A Reply

Your email address will not be published.

7 Comments
  1. ajeet kumar says

    Bcc full form

    1. nitish barnwal says

      blind carbon copy

  2. Pushpendra says

    Kya hum bcc me email msg send karte hain to unka email address cc wale ko bhi pta chal jata hai

  3. Pushpendra says

    Kya hum bcc me email message send karte hain to unka email address cc wale ko bhi pta chal jata hai

  4. onlinehelp2019 says

    Very nice & useful post

  5. ashu says

    और आप चाहते है कि सबको पता रहे कि किस-किस को Email गया है इसमें आप to का प्रयोग तो कर सकते है पर पर To करने से चारों में से किसी काे भी ये पता नही पायेगा कि बाकी 3 कौन है जिनको ये यही ईमेल गया है। ye wrong h . to me sbko dikhega. u can chek also.

  6. sagar says

    mast he yarr i like it

Leave A Reply

Your email address will not be published.