दांतों में कीड़े (कैविटी) को कैसे हटाये

दांतों में कीड़े (कैविटी) को कैसे हटाये

सफेद और खुबसूरत दांत किसी भी व्यक्ति की खूबसूरती में चार चाँद लगते है क्योकि यदि बात करते है तो दन्त नजर आ ही जाते है और ऐसे बहुत सुन्दर है और दांत खराब हो तो बहुत बुरा लगता है और यदि दांत अच्छे न है तो खाने में भी मज़े नही आते है इसलिए दांतों की देखभाल करना बहुत जरुरी है लेकिन कुछ गलत खाने पीने से बहुत से लोग अपने दांतों को खराब कर लेते है दांतों में कीड़े हो जाते है  दांतों में कीड़े होने की बीमारी को कैविटी कहते है और यह बीमारी आज छोटी सी उम्र से लेकर बुढ़ापे तक सभी लोगो के मिल जाएगी और सभी के लिए एक समस्या है लेकिन यदि थोडा बहुत ध्यान रखा जाये तो दांतों को सदा के लिए अच्छा रखा जा सकता है आज हम पोस्ट में आपको बतायेंगे की दांतों में कीड़े कैसे होते है और इन से कैसे बचा जा सकता है |

दांतों में कीड़े (कैविटी) क्या होती है

जब दांतों की  उपर की सतह नष्ट हो जाये और दांत उपर से काले नजर आये और धीरे धीरे दांतों में छिद्र होने लगते है इसे कैविटी कहते है और कैविटी होने के बहुत से कारण हो सकते है और बड़ा कारण खाना पीना होता है क्योकि जब हम  कार्बोहायड्रेट युक्त कुछ भी खाना खाते है जैसे कि ब्रेड, अनाज, दूध, पेप्सी या कोक जैसी सॉफ्ट ड्रिंक्स, फल, केक या टॉफ़ी और वो हमारे दांतों में रह जातें हैं हमारे मुँह में मौजूद बैक्टीरिया उसे एसिड में बदल देते हैं।

और इस एसिड से धीरे धीरे हमारे दांतों के उपर एक परत बना लेता है जिस से धीरे धीरे दांत खराब हो जाते है और कैविटी और दांतों की सड़न दुनिया की सबसे आम स्वास्थय समस्याओं में से एक हैं। यह खासतौर पर छोटे बच्चों, किशोरों  सभी में पाई जाती है

दांतों में कैविटी के प्रकार

कैविटी को चार कारको के आधार पर वर्गित किया जाता हैं यह दांत खराब होने के हिसाब से अलग अलग किया जाता है जैसेः

 कैविटी की जगह के अनुसार

प्राइमरी कैविटी  

  • स्मूथ कैविटी   – इसमें दांतों को कीड़ा चिकनी सतह पर लगता है और वंही से दांत खराब होने स्टार्ट होते है
  • पिट और फिशर कैविटी-  इसमें कीड़ा दांत के गहरे खांचे  में लगता है।
  • रुट सरफेस कैविटी –  इसके अन्दर दांत जड़ में कीड़ा लगता है |

सेकेंडरी या रिकरंट कैविटी

यदि एक बार दांत खराब हो जाये और डॉक्टर के पास जाके आप एक बार दांतों की भराई करवा लेते है उसके बाद भी जब कीड़ा लगता हैं, उसे सेकेंडरी कैविटी कहते हैं।

कैविटी फैलने की दिशा के अनुसार

  • बैकवर्ड कैविटी – जब कीड़े  दांत की भीतरी सतह से बाहरी सतह तक लगते है
  • फॉरवर्ड कैविटी – जब कीड़ा बाहरी सतह से भीतरी सतह तक लगते है |

कैविटी चरण के अनुसार

  • इन्सिपिएंट कैविटी
  • कवितातेड़ कैविटी

कैविटी के गति अनुसार

  • एक्यूट (रेम्पेंट) कैविटी
  • क्रोनिक (स्लो/ अरेस्टेड)

दांतों में कैविटी के लक्षण – Cavities Symptoms in Hindi

कैविटी के लक्षण भिन-भिन प्रकार के होते हैं क्योकि कैविटी भी कई प्रकार की होती है उसी के हिसाब से इसके लक्ष्ण भी अलग अलग होते है |

  1. दांतों में दर्द, स्वाभाविक दर्द या ऐसा दर्द होता है जो रुला देता है क्योकि  दांतों का दर्द बहुत रुला देता है |
  2. मीठा, गरम या ठंडा खाते या कुछ भी पीते है तो दांत में बहुत ज्यादा दर्द होता  है |
  3. यदि दांतों में कैविटी हो जाती है तो दांतों में छेद और गड्ढे दिखाई  देने लगते है |
  4. जिस साइड के दांत में कैविटी होती है उसी साइड सोजन आ जाती है |
  5. यदि दांतों में कैविटी हो जाती है तो दांतों में झनझनाहट होती है |

दांतों में कैविटी के कारण-

कैविटी होने के कारण हमारा खाना पीना होता है और कुछ यदि हम अपने दांतों का ध्यान नही रखते है तो भी दांतों में कैविटी हो सकती है यदि  कुछ खाने पीने का ध्यान रखे और दांतों का थोड़ा ध्यान रखे तो ऐसी बीमारी कभी नही होगी और दांत के बिना जिन्दगी अधूरी लगती है कुछ कारण होते  है जैसे:-

  • कुछ ऐसा खाने और पेय वस्तु पीने से जो लबे समय तक दांतों में चिपका रहे जैसे कि – दूध, आइस-क्रीम, शहद, चीनी, पेप्सी या कोक आदि कोल्डड्रिंक्स, सूखे मेवे, केक, बिस्किट, टॉफ़ी और चिप्स
  • यदि आप  खाने और पीने के बाद आपने दांतों को अच्छे साफ नहीं करते तो आपके दांतों पर प्लाक बन जाता है जिससे कि दांतों की सड़न शुरू हो जाती है और धीरे धीरे कैविटी बन जाती है |
  • यदि ज्यादा मीठा खाते है तो ज्यादा अम्ल बनता है जिस से दांत में कीड़े हो जाते है
  • यदि मुँह में लार की कमी हो जाती है तो कैविटी हो सकती है क्योकि लार में कुछ ऐसे बैक्टीरिया होते है जो दांतों को कैविटी से बचाती है
  • यदि
  • तेज मसालेदार और फास्ट फूड का अधिक सेवन करते है तो दांतों पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है  क्योकि बहुत से मसाले ऐसे होते है दांतों के अन्दर रह जाते है तो बहुत ज्यादा अम्ल बनाते है जिस से दांतों ,में कैविटी हो सकती है |

दांतों में कीड़े (कैविटी) से बचाव – Prevention of Cavities (Dental Caries) in Hindi

यदि कुछ बातो का ध्यान रखे और कुछ खाने पीने का ध्यान रखे तो अपने दांतों को जिन्दगी भर के लिए अच्छे रख सकते है |

  • कम से कम मीठा खाने की कोसिस करे क्योकि मीठा खाने से हमारे मुँह में कम अम्ल बनता है और अम्ल से बहुत ज्यादा कैविटी होती है |
  • रोज़ाना खाना खाने के बाद  ब्रश और दांतों की सफाई करने से हमारे मुंह में पैदा होने वाले प्लाक और बैक्टीरिया की संख्या कम होती है और कम से कम कैविटी होती है |
  • पेस्ट ऐसा होना चाहिए जिसमे फ्लोराइड की मात्रा अच्छी हो क्योकि फ्लोराइड दांतों को मज़बूती देता है और फ्लोराइड ट्रीटमेंट डेंटिस्ट द्वारा भी दिया जाता है
  • दिन में कुछ देर च्युइंग गम चबाना चाहिए क्योंकि इसमें क्सीलिटोल (xylitol) होता है जो कि बैक्टीरिया के विकास को कम करता है और दांतों को कैविटी से बचाता है |
  • एक टाइम नीम की दातुन करनी चाहिए ताकि दांतों में कीड़ा कम से कम लागे
  • रात का खाना खा कर अच्छे से ब्रुश करे और उसके बाद कुछ न खाये

दांतों में कीड़े (कैविटी) होने पर क्या क्या नही खाना चाहिए

  •  यदि दांतों में कैविटी हो जाये टॉफ़ी या मिठाई का कम से कम सेवन करे
  •  यदि दांतों में कैविटी है तो कार्बोनेटेड सॉफ्ट ड्रिंक्स  का सेवन न करे क्योकि पेप्सी या कोक में भी फॉस्फोरस और कार्बोनेशन होता है जो कि दांतों की इनेमल को ख़राब कर देता है और दांत ज्यादा से ज्यादा खराब हो जायेंगे|
  • कैविटी होने पर फ्रूट जूस का कम से कम इस्तेमाल करे क्योकि यह सीधे दांत के अन्दर जाते है और इनमे अम्ल भी हो सकता है |
  • निम्बू, का कम से कम इस्तेमाल करे.

दांतों में कीड़े (कैविटी) होने पर क्या क्या  खाना चाहिए

  • कैविटी होने पर ज्यादा से ज्यादा कैल्शियम युक्त चीजो का सेवन करे क्योकि दांतों को सड़ने से बचाने के लिए कैल्शियम बहुत अच्छी चीज है |
  • खाना खाने के बाद थोड़ी देर सुगरफ्री च्युइंग चबाये जिस से दांतों से अम्ल की परत हट जाएगी |
  • और दिन में कम से कम दो से तीन बार काली चाय और हरी चाय का सेवन करे क्योकि यह बैक्टीरिया को रोक देती है
  • साबुत अनाज का सेवन करे क्योकि इनमे विटामिन बी और आयरन होता है जो मसूड़ों को स्वस्थ रखता है जिस से दांत मजबूत रहते है |

दांत में कीड़े से बाचने के घरेलू उपाय

  •  दांतो से कीड़ा हटाने के लिए 2 से 3 लौंग पीस कर इसका पाउडर दांत में कीड़े वाली जगह पर लगाए और 5 मिनट मुंह बंद रखे। दांत दर्द में तुरंत आराम पाने के लिए भी लौंग एक दवा का काम करती है।
  • दांतो से कीड़ा हटाने के लिए लहसुन की 1 से 2 कलियां हर रोज कीड़े वाले दांत से चबाये और दिन में दो से तीन बार करे आपको बहुत आराम मिलेगा |
  • आप सरसों का तेल और नमक मिला कर इससे दांतों को ब्रश करे. आपके दांतों को कीड़ा नही लगेगा|
  • दांत का कीड़ा मारने के लिए जायफल का इस्तेमाल कर सकते है जायफल के तेल में रुई भिगो कर 5 से 10 मिनट के लिए कीड़े वाले दांत पर रखे फिर गुनगुने पानी से कुल्ला कर ले। दांतों में से कीड़ा निकल जायेगा|

हमने इस पोस्ट में दांतों में सड़न दांत का कीड़ा कैसे निकाले दांत का कीड़ा निकालने कैविटी से सुरक्षा दांतों के रोग 2 दिनों में कैविटी से छुटकारा पाने के लिए कैसे दांतों में कीड़ा लगने की दवा दांत टोपी दांतों से कैविटी कैसे हटाये दांतों में कैविटी 2 दिनों में कैविटी से छुटकारा पाने के लिए कैसे दांतों में सड़न दांत का कीड़ा कैसा होता है दांत का कीड़ा कैसे निकाले दांत का कीड़ा निकालने दांत में कीड़ा लगने की दवा से सबंधित जानकारी दी है  इसके बारे में कोई भी सवाल या सुझाव होतो कमेंट करे और इस ब्लॉग को शेयर जरूर करे

Leave A Reply

Your email address will not be published.