चेचक के कारण लक्षण और इसके घरेलू उपाय

चेचक के कारण लक्षण और इसके घरेलू उपाय

चेचक को छोटी माता के नाम से भी जाना जाता है यह एक संक्रमित रोग है जो वेरिसेला जोस्टर वायरस (VZV) से पैदा होती है छोटी चेचक दुनिया भर में पाया जाता है और यह एक ऐसी बीमारी है जिसका होने के बाद कोई इलाज नही है इसलिए इस बीमारी का बचपन में टिका लगया जाता है और इस बीमारी को वैश्विक टीकाकरण अभियान के कारण, 1980 तक स्वाभाविक रूप से खत्म कर दिया गया था लेकिन उसके बाद भी यह बीमारी होती है

ऐसे नही कह सकते की एक बार नियमित रूप से टीकाकरण करवा कर चेचक के वायरस को जड़ से खत्म कर सकते है क्योकि यह रोग टीकाकरण के बाद भी होने लगरी है और बहुत दर्दनाक बीमारी है क्योकि एक बार हो जाये कम से कम 15 दिन से एक महीने तक रहता है इसलिए इस बीमारी से बचके रहना पड़ता है आज हम आपको यंहा चेचक बीमारी के बारे में बतायेंगे और बतायेंगे की इस बीमारी के लक्षण क्या क्या है और इसके कारण क्या है और इस बीमारी के घरेलू उपाय क्या क्या है |

चेचक के प्रकार – Types of Smallpox in Hindi

चेचक दो प्रकार का होता है: वेरियोला माइनर (Variola minor) और वेरियोला मेजर (Variola major)।

वेरियोला माइनर :-यह वेरियोला माइनर कम खतरनाक होता है क्योकि इसमें रोगी को ज्यादा तकलीफ नही होती है    और यह जल्दी ठीक हो जाता है|

वेरियोला मेजर:- वेरियोला मेजर ज्यादा खतरनाक है क्योकि  सीडीसी का अनुमान है कि 90 प्रतिशत चेचक के मामले वेरियोला मेजर के थे। ऐतिहासिक रूप से, इस प्रकार के चेचक से संक्रमित लोगों में से 30 प्रतिशत की मौत हुई  |

चेचक के लक्षण – Smallpox Symptoms in Hindi

चेचक के लक्षण आमतौर चेचक होने के एक दो दिन के अन्दर ही दिखाई देने लगते है चेचक के पहले लक्षण के रूप में चकत्ते आने से कुछ दिन पहले बुखार और थकावट लगती है और धीरे- धीरे  खुजली वाले चकत्ते से उभरता है, जो सिर पर दिखाई पड़ते हैं और फिर ये धड़ और शरीर के अन्य हिस्सों में फैलने लगते हैं। ये चकत्ते अधिक उभर आते हैं और फोड़े में बदल जाते हैं और भी लक्षण दिखाई देने लगते है जैसेः-

  • गंभीर थकान होने लगती है |
  • बेचैनी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है |
  • गंभीर पीठ दर्द होने लगता है |
  • बुखार बार बार आती है |
  • उल्टी आती रहती है |
  • सिरदर्द बहुत ज्यादा होता है |

चेचक के कारण – Smallpox Causes in Hindi

चेचक का सबसे बड़ा कारण वेरियोला (Variola) वायरस है इसी कारण से चेचक होता है और एक रोगी से दुसरे रोगी बड़ी जल्दी से यह बीमारी दुसरे व्यक्ति तक पहुंचती है और बहुत से अलग कारण होते है ध्यान रहे यदि घर में किसी एक व्यक्ति को यह बीमारी हो जाये तो उसका ध्यान रखे क्योकि इस बीमारी के संक्रमण में बहुत जल्दी आते है |

दूषित वस्तुओं के माध्यम से:-यदि घर में रोगी है तो उसके दूषित कपड़ों और बिस्तर के संपर्क में आने यह बीमारी हो सकती है |

रोगी व्यक्ति से व्यक्ति तक:-  यदि रोगी व्यक्ति के सम्पर्क में आते है क्योकि संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या बात करते समय हवा में वायरस हवा में मौजूद बूंदों के माध्यम से फैलकर दुसरे किसी व्यक्ति को लग सकता है |

चेचक से बचाव – Prevention Of Smallpox In Hindi

चेचक एक ऐसी बीमारी है जिसका वैसे तो कोई इलाज नही है क्योकि यह अपने आप ठीक होती है लेकिन यदि कुछ बातो का ध्यान रखा जाये तो इस बीमारी से बचा जा सकता है लेकिन यदि इस बीमारी से बचाव के लिए वेरियोला वायरस का टीका बचपन में लगाया जाता है और कहते है की इस टिके का असर जीवनभर के लिए होता है लेकिन कुछ डॉक्टर का माना है की इस टिके का असर 5 साल तक रहता है और समय के साथ खत्म हो जाता है लेकिन बचपन में टिका जरुर लगवाना चाहिए

और यदि घर में कोई भी चेचक का रोगी है तो उसका ध्यान रखना चाहिए उसको अलग रूम में रहना चाहिए उसके कपड़े अलग से धोएं और उसके खाने पीने के बर्तन को अच्छे से साफ़ करना चाहिए और उसके टॉयलेट में जाने के बाद उसको अच्छे से साफ़ करना चाहिए और जब तक वह अच्छे से ठीक ना हो जाये तब तक उसका अच्छे से ध्यान रखे |

चेचक के घरेलू उपाय

तुलसी और अजवाइन- यदि चेचक हुआ है और ज्यादा दिन नही हुए है तो 10 से 15 तुसली के पत्ते ले और इसमें आधा चम्मच अजवाइन मिलाकाएं और दोनों को साथ में पीसकर दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करे बहुत जल्दी आराम मिलेगा |

गाजर और धनिया पत्ती- चेचक के दाग पर आराम के लिए एक गाजर और धनिया की कुछ पत्ती मिक्स करके उसका पेस्ट बना ले अब इस पेस्ट को एक गिलास पानी में उबाल ले और उसको इनको छान ले और उसको हल्का गर्म होने के बाद पी ले |

नीम की पतियाँ- चेचक में सबसे ज्यादा नीम का इस्तेमाल किया जाता है नीम की पत्तियों को हलके से पानी में पीसकर इसका पेस्ट बना ले और इसे दाग वाली जगह में लगायें जिससे दाग दूर होगे | इसके अलावा नीम की पत्तियों को पानी में में भिगो दे और एक घंटे बाद उसी पानी से नहायें जिससे इन्फेक्शन दूर होगा |

जई का आटा-  यदि चेचक के दाग हुए ज्यादा दिन ना हुए तो एक काम करे एक कटोरी जई का आटा ले और इसे बात टब में पानी के साथ घोल दे और बीस मिनट तक इसी पानी में में पड़े रहे जिससे आपको चेचक में आराम मिलेगा और दर्द दूर होने के साथ साथ आपके शरीर में दाग भी दूर होगे|

चन्दन का तेल की मालिस करे- चेचक के दाग की जलन को दूर करने के लिए  जिस जगह दाग है वहां चन्दन का तेल लगायें जिससे आपको आराम मिलेगा|

इस पोस्ट में चेचक के उपचार माता निकलने के लक्षण चेचक में परहेज चेचक में क्या खाएं चेचक संपर्क के बाद संक्रमण की रोकथाम माता से खुजली के उपाय माता कैसे निकलती है चेचक बीमारी के लक्षण chechak ke lakshan chechak ki dua difference between chickenpox and smallpox in hindi chechak me kya khaye chechak ki devi chicken pox in hindi से सबंधित जानकारी दी है इसके बारे में कोई भी सवाल या सुझाव होतो कमेंट करे और इस ब्लॉग को शेयर जरूर करे|

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+