आयुर्वेदिक दवाई Liv 52 के फायदे और इसके उपयोग

आयुर्वेदिक दवाई Liv 52 के फायदे और इसके उपयोग

हिमालया के बहुत सारे प्रोडक्ट आते हैं। यह कंपनी 1930 में M Manal ने बनाई थी। जिनका लक्ष्य था कि वह मार्केट में हथकड़ी सीन हर्बल मेडिसिन गाइड करवाएंगे प्रोवाइड कर आएंगेLiv नाम से ही पता चलता है की यह दवाई लीवर से सबंध रखी होगी।   जी हाँ Liv 52 लीवर की जानी मानी आयुर्वेदिक दवाई है। यह लीवर की बीमारी दूर करने के साथ साथ जहरीले तत्वों से भी रक्षा करता है। इसमें मुख्य रूप से हिम्सरा,कासनी, मन्दुर, अर्जुना इत्यादि इस्तेमाल होते है।

प्राकृतिक जड़ी बूटियों से बनी यह दवा हमारे लीवर को मजबूत बनाने के साथ साथ पाचन तंत्र को भी मजबूत बनाता है. बुख बढाता है जिससे स्वास्थ्य में सुधार आता है. इस दवाई को हेल्थ सप्लीमेंट के तोर पर भी इस्तेमाल किया जाता है। यह हमारे लिवर में होने वाले कई तरह की बीमारियों से बचाता है। और हमारे से सेल्यूलर ग्रौथ को बढ़ाता है। यह हमारी सेल मेंब्रेन को बचाता है। इसके अलावा यह लिवर में एंजाइम्स को मेंटेन करता है और टॉक्सिंस और लीवर इंफेक्शन से बचने मदद करता है। Liv 52 टेबलेट,सिरप, और ड्राप तीनो प्रकार में उपलब्ध है. इसके इस्तेमाल से हेल्थ ठीक रहती है। यह पेट की समस्या, गैस,सुस्ती,उल्टी, और बुख की कमी को दूर करता है।

आयुर्वेदिक दवाई Liv 52 के फायदे

  • यह लीवर की की ताकत बढाता है। लीवर की कमजोरी दूर करने में मदद करता है। जिससे कि हम ज्यादा से ज्यादा टोक्सिन अपनी बॉडी से बाहर निकाल सकते हैं।
  • लीवर की नई कोशिकायो को बनाने में सहायता करता है।  हमें सेल्यूलर ग्रौथ में मदद करता है। जिससे कि हम ज्यादा से ज्यादा कोशिकाएं बना सकते हैं।
  • वजन बढाने के मदद करता है। इसके सेवन से हमारी भूख बढ़ जाती है। जिससे की हम ज्यादा खाना खा सकते हैं। अगर आप ज्यादा खाना खाएंगे तो नॉर्मल सी बात है हमारी हर रोज की कैलोरी इनटेक बढ़ जाएगी। जिससे हमारा वजन बढ़ने लगता है।
  • शरीर में हिमोग्लोबिन के स्तर को ठीक करने में सहायता करता है। जिन लोगों को खून की कमी का सामना करना पड़ रहा है वह इसका सेवन कर सकते हैं। जिससे कि उनका हिमोग्लोबिन लेवल ठीक हो जाएगा।
  • शराब से होने वाले लीवर डैमेज से बचाता है। जो लोग रोज शराब पीते हैं या लिमिट से ज्यादा शराब पीते हैं। उनको इसका सेवन जरूर करना चाहिए। क्योंकि शराब पीने से हमारे शरीर में टॉक्सिन की मात्रा बढ़ जाती है जो कि हमारे लिवर के लिए बहुत ही खतरनाक है। यह दवा हमारे लिवर से ज्यादा से ज्यादा टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करती है।
  • फैटी लीवर ठीक करने में मदद करता है और कोलेस्ट्रोल कम करने में मदद करता है।

आयुर्वेदिक दवाई Liv 52 का उपयोग 

आमतोर पर इस टेबलेट को 1-1 सुबह श्याम ली जाती है. अगर लीवर की प्रॉब्लम है तो 2-2 टेबलेट 3 टाइम लेने की सलाह दी जाती है. रोग के अनुसार इसकी डोज दी जाती है. यह एक आयुर्वेदिक दवाई है अभी तक इसका कोई साइड इफ़ेक्ट सामने नही आये है. भारत में यह शुगर कोटेड टेबलेट के तौर पर मिलती है. यह दवाई भारत में ही नही बल्कि पूरी दुनिया में परचलित है.

यह भी देखे:-

इस पोस्ट में आपको लिव ५२ साइड इफेक्ट्स , लिव 52 के नुकसान , liv.52.ds ,  लिव 52 का उपयोग करता है के बारे में बताया गया है . आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी होगी . अगर आपको कोई सवाल या कोई हेल्थ से रिलेटेड कोई प्रॉब्लम है तो आप हमारी साइट या हमारे फेसबुक पेज  पर कमेंट करके पूछ सकते है.

46 Comments
  1. Santosh kumar says

    Isko khali pet le ya khana kha ke

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+