परमाणु बम एटम बम का आविष्कार किसने किया

परमाणु बम एटम बम का आविष्कार किसने किया

एटम बम, जिसे परमाणु बम भी कहा जाता है,एक विस्फोटक शक्ति के साथ सबसे खतरनाक हथियार है इसके अन्दर उर्जा प्लूटोनियम या यूरेनियम जैसे भारी तत्व के नाभिक के विखंडन से उत्पन्न होती है यह नाभिकीय संलयन या नाभिकीय विखण्डन या इन दोनो प्रकार की नाभिकीय अभिक्रियों के सम्मिलन से बनते है और इन दोनो ही प्रकार की अभिक्रिया से थोड़े ही सामग्री से भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है यानि की आज का एक हजार किलो से थोड़ा बड़ा नाभिकीय हथियार इतनी ऊर्जा उत्पन्न कर सकता है जितनी कई अरब किलो के परम्परागत विस्फोटकों से ही उत्पन्न हो सकती है.

परमाणु बम में यूरेनियम या प्लूटोनियम से विस्फोटक होता है परमाणु बम यूरेनियम या प्लुटोनियम के परमाणु विखंडन से उर्जा उत्पन्न होती है इसके लिए परमाणु के केंद्रक में न्यूट्रॉन से चोट किया जाता है इस से ही बहुत बड़ी मात्रा में ऊर्जा प्राप्त होती है इस प्रक्रिया को भौतिक विज्ञानी नाभिकीय विखंडन कहते हैं परमाणु बम इतना ज्यादा खतरनाक है कि कि यदि कहीं गिरा दिया जाए तो आने वाले कई दशकों तक मैं जन जीवन का तो नाम निशान नहीं रहेगा और पेड़ पौधे भी नहीं मिलेंगे आपने सुना होगा कि जापान के दो शहर हिरोशिमा और नागासाकी के ऊपर अमेरिका ने परमाणु बम गिराए थे वह आज भी इंसान अजीब तरह के इंसान होते हैं क्योंकि बचपन से ही उनके अंदर कोई न कोई बीमारी हो जाती है और वहां की जमीन आज भी उपजाऊ नही है

उसके बाद कभी परमाणु बम का इस्तेमाल नही किया गया आज बहुत से देश परमाणु शक्ति रखते है लेकिन उनका इस्तेमाल करना मना है कहा जाता है यदि अबकी बार विश्वयुद्ध हुआ तो सायेद परमाणु बम का इस्तेमाल हो क्योकि आज दुनिया की बहुत सी ऐसी शक्ति है जो इनका परीक्षण करती रहती है लेकिन अभी तक उनको इस्तेमाल की छुट नही है

परमाणु बम एटम बम का आविष्कार किसने किया

सबसे पहले सन , 1934 में, एक इटालियन वैज्ञानिक एनरिको फर्मी में न्यूटन के साथ यूरेनियम पर बमबारी की ओर कुछ ऐसे नए तत्वों का निर्माण किया जो हलकी बमबारी के लिए उपयोग किये जा सकते थे लेकिन सन ,1938 में, जर्मनी में ओट्टो हैन और डॉ फ्रिट्ज स्ट्रैसमैन ने न्यूट्रॉन बमबारी द्वारा यूरेनियम न्यूक्लियस के विखंडन की खोज की गयी और उसी टाइम परमाणु बम बनाने की कोसिस की गयी

25 जनवरी, 1939 अमेरिका में संयुक्त राज्य , पिल्लिन हॉल के तहखाने में पहला परमाणु विखंडन प्रयोग किया और सफलता पाई जिस से परमाणु बम तेयार किया गया और फिर जून 1940 में, राष्ट्रपति रूजवेल्ट ने राष्ट्रीय रक्षा शोध समिति का आयोजन किया और फिर डॉ बुश और राष्ट्रीय रक्षा अनुसंधान समिति ने परमाणु बम को बनाने के सभी प्रयास किए।

16 जुलाई 1945 को, न्यू मैक्सिको के अलामोगोर्डो रेगिस्तान के बीच पहले परमाणु बम का परीक्षण किया था उस समय अलामोगोर्डो परीक्षण के समय, जर्मनी पहले ही आत्मसमर्पण कर चुका था लेकिन जापान हर माने को तेयार नही था इसलिए जापान के उपर अब परमाणु बम खतरा था और और संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति हैरी एस ट्रूमैन ने परमाणु बम का इस्तेमाल करने का फैसला किया

6 अगस्त 1945 की सुबह अमेरिकी वायु सेना ने जापान के हिरोशिमा पर परमाणु बम “लिटिल बॉय” गिराया था जिसके अन्दर टीएनटी (ट्राइनिट्रोटोलीयिन) के 12.5 किलोटन के बराबर एक विस्फोटक था इस हमले में करीब 80 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे. शहर के 30 फीसदी लोगों की तुरंत मौत हो गई थी और तीन दिनों बाद अमरीका ने नागासाकी शहर पर “फ़ैट मैन” परमाणु बम गिराया।

हिरोशिमा और नागासाकी परमाणु बम के बारे में रोचक जानकारी

1. हिरोशिमा के उपर पहला परमाणु बम 6 अगस्त, 1945 को सुबह सवा आठ बजे और दूसरा इसके ठीक तीन दिन बाद, 9 अगस्त को नागासाकी पर गिराया गया था. इसके बाद से आज तक हमले के लिए दोबारा परमाणु हथियार का इस्तेमाल नही हुआ|

2.जो बम नागासाकी पर गिराए गए उस बम का नाम “Fat Man” था. इसका वजन करीब 4500 किलो और लंबाई 11.5 फीट थी. इसमें 6.4 किलो प्लूटोनियम का प्रयोग किया गया था जो यूरेनियम से कही ज्यादा शक्तिशाली था|

3. और जो बम हिरोशिमा पर गिराए गए उसका बम का नाम “Little Boy” था. इसका वजन करीब 4000 किलो और लंबाई 10 फीट थी. इसमें यूरेनियिम की मात्रा 65 किलो थी, लेकिन जो विस्फोट हुआ वह सिर्फ 0.7g यूरेनियम की वजह से हुआ. यानि जिस पदार्थ की वजह से विस्फोट हुआ उसका वजन एक आलपिन या डाॅलर के नोट के बराबर भी नही था|.

4. or बम गिरने की वजह से हिरोशिमा और नागासाकी के करीब 2,46,000 लोग मारे गए थे. लगभग 1 लाख लोग तो बम गिरते ही मारे गए थे और बाकी के अगले कुछ सालों में कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से मर गए|

5.जब हिरोशिमा में बम फटने वाली जगह का तापमान 3,00,000°C और उसके नीचे जमीन का तापमान लगभग 4,000 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था, जो स्टील को पिघलाने के लिए काफी होता है. इस हमले से 1005 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चली थी और 10 वर्ग किलोमीटर में गहरे गढ्ढे बन गए थे और 500 मीटर तक 19 tons per square inch का प्रेशर create हुआ था. यह किसी भी विशाल बिल्डिंग को हवा में उड़ाने के लिए काफी था|

5. नागासाकी पर गिराए जाने वाला बम पहले जापान के कोकुरा शहर पर गिराया जाना था लेकिन उस समय कोकुरा शहर का मौसम साफ नही था और बादल भी घने थे इसलिए अमेरिकी सेना ने बम नागासाकी पर ही गिरा दिया. यही बम क्योटो शहर पर गिराने का भी प्लान बनाया गया था. लेकिन युद्ध के सेक्रेट्री हेनरी स्टिमसन ने इसे बदलवा दिया क्यूंकि उन्होंने अपनी पत्नी के साथ यहाँ पर हनीमून मनाया था और उनकी कई यादें इस शहर से जुडी हुई थी.

6. हिरोशिमा पर जो बम गिराया गया उसे ले जाने वाले विमान का नाम “Enola Gay” था. इस विमान में साइनाइड की 12 गोलियाँ भी रखी गई थी, ताकि यदि मिशन फेल हो जाता है तो सारे ऑफिसर उन्हें खा लें. जिस विमान से दूसरा बम गिराया गया उसका नाम “Bockscar” था|

7. दोनो परमाणु बम जमीन से कुछ सौ फीट की ऊंचाई पर हवा में फटे इसलिए आज नागासाकी और हिरोशिमा रेडियोएक्टिव फ्री है |

8. एक पुलिसवाला हिरोशिमा पर हमले के बाद नागासाकी गया था और वहाँ की पुलिस को हमले के लिए सचेत कर दिया इसका रिजल्ट ये रहा, कि नागासाकी परमाणु हमला में एक भी पुलिस वाले की मौत नही हुई|

9. हिरोशिमा परमाणु बम हमले में एक दर्जन से भी ज्यादा अमेरिकी लोगों की मौत हुई थी यह बात अमेरिका को सन 1970 में पता चली थी|

10. हिरोशिमा बम हमले के करीब1 महीने के बाद हिरोशिमा के अंदर एक बहुत बड़ा चक्रवात आया था जिसके कारण वहां करीब 2000 लोगों की मौत हो गई|

11. नागासाकी परमाणु हमले के छः दिन बाद जापान के राजा हिरोहित्तो (Hirohito) ने अमेरिकी सेना के सामने आत्म समर्पण कर दिया. यह घोषणा रेडियों पर की गई थी और ज्यादातर जापानियों ने उसकी आवाज पहली बार सुनी थी. अगर जापान सरेंडर नही करता तो अमेरिका ने 19 अगस्‍त को एक और शहर पर परमाणु बम गिराने की योजना बनाई थी.

एक ऐसे व्यक्ति हैदोनो बम हमलों से पीड़ित व्यक्ति था और दोनों हमले से बच गए जब हिरोशिमा में परमाणु हमला हुआ तो नागासाकी चले गए और जब नागासाकी के अंदर परमाणु बम हमला हुआ तब भी वह बच गए इसकी मौत 2010 में पेट के कैंसर से हुई|

इस पोस्ट में आपको बताया गया की जो एटम बम का आविष्कारक एटम बम का आविष्कार किसने किया परमाणु बम की खोज किसने की थी परमाणु बम का आविष्कार , हाइड्रोजन बम का आविष्कार किसने किया , परमाणु बम की खोज ,परमाणु बम की खोज किसने की थी , परमाणु बम भारत , परमाणु बम के आविष्कारक एटम बम का आविष्कारक परमाणु बम क्या है . अगर ये जानकारी आपको पसंद आये तो शेयर करे .

Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. Vishal kushwah says

    Hame Dr apj Abdul kalam par garv hai or Indian Army and since doctors hame garv hai
    Jai hind

Leave A Reply

Your email address will not be published.