आग की खोज किसने की और कब की

आग की खोज किसने की और कब की

आग की खोज इतिहास की कुछ महान खोज में से एक है क्योकि आग के बिना तो इन्सान खाना भी कच्चा खाता था और आग इंतनी उपयोगी है की इसके बिना मानव जीवन इतना आसान नही होता क्योकि आग की खोज ने मानव जीवन में क्रांति आगी क्योकि इंसानी जीवन आग के बहुत उपयोग है  आग  की बड़ी उपयोगिता है जाड़े में हाथ-पैर सेंकने से लेकर परमाणु बम द्वारा नगर का नगर भस्म कर देना, सब आग का ही काम है। इसी से हमारा भोजन पकता है,

और आग के द्वारा खनिज पदार्थों से धातुएँ निकाली जाती हैं और इसी से शक्ति उत्पादक इंजन चलते हैं भूमि में दबे अवशेषों से पता चलता है और आग के जितने फायदे है यह उतनी   ही खतरनाक है क्योकि यदि इसे कण्ट्रोल नही किया जाता तो यह बहुत नुकसान कर सकती है क्योकि अगर आग एकबार जल जाती है तो जब तक ऑक्सीजन और दहनशील पदार्थ की उपस्थिति रहती है तब तक वह जलती और फैलती रहती है।  आग को ऑक्सीजन और ईंधन में से किसी एक को अलग कर बुझाया जा सकता है

आग की खोज

आग की खोज आदिमानव काल में ही हो गयी थी क्योकि जंगलो में रहने वाले आदिमानव जंगली जानवरों से बचने के लिए आग का उपयोग करते थे और कहा जाता है की आदिमानव ने आग की खोज पत्थर को रगड़ के की थी जब वो पत्थर को एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले    जा रहे थे  तो गलती से पत्थर एक दुसरे के उपर गिरे और आदिमानव  ने पत्थरों के टकराने से उत्पन्न चिनगारियाँ को देखा होगा

उस समय आदिमानव इसे डरता था लेकिन धीरे धीरे उनको इसका उपयोग करना सिखा और शुरु में आदिमानव यदि कहीं गुफाएँ होतीं तो मनुष्य उन्हीं में रहने लगते थे। अन्यथा वे बड़े पेड़ो की पत्तों वाली शाखाओं के बीच अपने लिए शरण-स्थान बना लेते थे। उन्हे दो चीजों का भय रहता था-मोसम और जंगली जानवरों का। आदि मानव नहीं जानता था कि बादल क्यों गरजते हैं या बिजली क्यों चमकती है। और, जब किसी चीज का कारण समझ में नहीं आता, तो आदमी उससे भयभीत रहता है। बाघ, शेर, चीता, हाथी और गैंडे जैसे खूँखार जानवर जंगलो में घूमते-फिरते रहते थे।

 इन जानवरों की तुलना में मनुष्य कमजोर थे, इसलिए उन्हें या तो गुफाओं और पैड़ो में छिपकर अपनी रक्षा करनी पड़ती थी या फिर अपने अनगढ़ हथियारो से उन्हें मार डालना पड़ता था। परन्तुं इन जानवरो से रक्षा का सर्वोत्तम् उपाय था आग रात के समय जब सभी प्राणी गुफा में जमां हो जाते, तो गुफा के मुहँ पर आग जलाई जाती थी। आग के डर से जानवर गुफा के भीतर नहीं आते थे। शीतकाल में तूफानी रातों में आग ही उन्हें आराम तथा सुरक्षा प्रदान करती थी।

लेकिन जब तक आदिमानव ने इसको नियंत्रण करना नही सिखा तब तक इसका उपयोग नही हुआ आग का  प्रयोग लगभग 125,000 साल पहले पता चला

और उत्पन्न करने की एक और विधि थी घर्षणविधि से आग उत्पन्न करने की सबसे सरल और प्रचलित विधि लकड़ी के पटरे पर लकड़ी की छड़ रगड़ने की है और प्राचीन भारत में भी इस विधि का प्रचलन था। इस यंत्र को अरणी भी कहते थे  इस विधि से आग उत्पन्न करना भारत के अतिरिक्त श्रीलंका , सुमात्रा, आस्ट्रेलिया और दक्षिणी अफ्रीका में भी प्रचलित था।

और सन्‌ 1830 के बाद से दियासलाई का आविष्कार हो जाने के कारण आग प्रज्वलित रखने की विधि  आई थी और आज मानव जीवन में   आग के बहुत उपयोग है यदि आग नही होती तो मानव जीवन इतना सरल नही होता और जैसे-जैसे जनसंख्या बढ़ी, लोग आग के  सहारे ही अधिकाधिक ठंडे देशों में रहने लगे |

यह भी देखें

इस पोस्ट में आपको आग की खोज किस काल में हुआ था आग की खोज कब हुयी आग की खोज किस काल मे हुई पहिये की खोज अग्नि की खोज कब हुई आग का आविष्कार किस युग में हुआ आग का आविष्कार किस काल में हुआ था मानव समाज के विकास में आग की खोज  के बारे में बताया गया है अगर इसके अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें. और इस पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि दूसरे भी इस जानकारी को जान सकें.

9 Comments
  1. Gaurav says

    Aapne ye to btaye nhi Ki aag Ki khoj kis kaal me hui

    1. Madan Verma says

      पुरापाषाण काल :- युग में इस युग के अंतर्गत निम्न पाषाण कॉल में अग्नि का आविष्कार हुआ था मध्य पाषण काल में अग्नि का प्रयोग व्यापक पैमाने पर किया गया

  2. Shivmohan Yadav says

    Bahut kub

  3. Shivmohanyadav says

    Very nice ah Kis KO ka lay

  4. Shivmohanyadav says

    Very nice ag ki koj

  5. hemrajkalma says

    vary nice sindhu sabhayta

  6. mannatbrar says

    aapne ye too btaya nhi ki aag ki khoz sab se pehle huyi kahan pe thi,mtlb koi jagah or sathan ,plzzzz answer dijiye.

  7. Kamil zafar says

    आग की खोज किस देश मे हुआ था

  8. Ramdev says

    और सर पहिए का आविष्कार किस काल में हुआ ?

Leave A Reply

Your email address will not be published.