5G तकनीक क्या है और कैसे काम करता है

5G तकनीक क्या है और कैसे काम करता है

5g technology in hindi  – अभी 4G इंटरनेट को आए भारत में 5 साल भी नहीं हुए, और आजकल हमें 5G network सुनने को मिल रहा है। जी हां क्या आप जानते हैं कि दुनिया के कुछ देशों में इस समय 5G इंटरनेट का लोग इस्तेमाल कर रहे हैं! औऱ भारत में भी जल्द 5G इंटरनेट आने की तैयारी हो चुकी है।

4G की सबसे बड़ी खासियत Speed है,जिस वजह से लोग अपने स्मार्टफोन, कंप्यूटर में किसी भी जानकारी को तेजी से Access कर पाते हैं! परंतु सोचिए क्या होगा जब भारत में 5G लॉन्च होगा! जी हां अब वह दिन दूर नहीं जब भारत में 5G लॉन्च होगा।

तो यदि आप एक Smart इंटरनेट user हैं तो आपको आने वाले समय में 5G इंटरनेट के बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए। इसलिए आज का यह लेख उन सभी उपयोगकर्ताओं के लिए है जो जानना चाहते हैं कि 5G क्या है? 5G भारत में कब लांच होगा? इसके क्या क्या फायदे होंगे! और सबसे बड़ी बात कि इसकी स्पीड कितनी होगी।

अतः 5G के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त पाने के लिए आज के इस लेख को Last तक अवश्य पढ़ें! चलिए सबसे पहले जान देते हैं ।

5G क्या है?

5G अर्थात Cellular Communication technology की पाँचवी पीढ़ी (Generation). इस जनरेशन की speed काफी अधिक होगी! जिस वजह से यूज़र्स को आसानी से बड़े Data को Upload करने तथा उसे Share करने में आसानी होगी।

5G नेटवर्क में न सिर्फ Fast Downloading एवं fast इंटरनेट Speed बल्कि इसमें Lower Latency भी शामिल होगी जो कि आने वाले समय में टेक्नोलॉजी युक्त Devices जैसे कि IOT device, Self Driving Car इत्यादि के लिए जरूरी होगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 5G नेटवर्क Radio टेक्नोलॉजी का उपयोग करेगा! जिसे 5G NR (New Radio) से भी जाना जाता है! यदि हम तुलना करें 4G नेटवर्क के Frequency की तो यह 5G की तुलना में काफी कम होती है।

5G इंटरनेट की speed कितनी होगी?

यदि हम 5G इंटरनेट स्पीड की बात करें! तो यह speed 20Gbs से अधिक होगी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्तमान समय में 4G इंटरनेट की स्पीड अधिकतम 45Mbps है! इस हिसाब से आप अंदाजा लगा सकते हैं की 4G इंटरनेट के मुकाबले 5G नेटवर्क स्पीड काफी अधिक होने वाली है।

तो 5G तकनीक भारत मे 5G कब आएगी!

सीधे तौर पर कहें तो भारत में 5G इंटरनेट आने की कोई निश्चित Date फिक्स नहीं है। क्योंकि 5G नेटवर्क को पूरे देश में स्थापित करने के लिए टेलीकॉम कंपनियों को भारी निवेश करना पड़ेगा! इसके साथ ही सभी Telecom कंपनी इस बात पर विचार करेंगी कि क्या भारतीय लोग सस्ते fast 4G डेटा के स्थान पर 5G इंटरनेट के दाम को अपनाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं?

तो इस प्रकार आप समझ चुके होंगे कि 5G इंटरनेट आने की संभावना है! और इस पर उचित कार्यवाही हो रही है! सरकार द्वारा 5G स्पेक्ट्रम ऑक्शन पर कार्य किया जा रहा है। अतः निश्चित समय fix न होने की वजह से अभी आपको 5G इंटरनेट के लिए इंतजार करना होगा! तब तक 4G Internet Enjoy कीजिये और सीखते रहिए।

आइए अब हम 5G नेटवर्क की गई कुछ फीचर्स के बारे में जानते हैं

अधिक Bandwidth

सबसे पहले Bandwidth का अर्थ समझें तो यह एक Storage/ Space होता है! जो किसी यूज़र को इंटरनेट Access करने के दौरान ब्राउजिंग करने, फाइल डाउनलोड इत्यादि कार्यों के लिए उपलब्ध किया जाता है। तो जितनी Bandwidth में कमी होगी उतना वह डिवाइस Slow कार्य करता है।

परंतु यदि हम 5G नेटवर्क को देखें तो यहां आपको अधिक बैंडविथ मिलेगी! जिस कारण आप Fast ब्राउजिंग करने के साथ ही Files को काफी गुना तेजी से डाउनलोड कर पाएंगे। इसके साथ ही अधिक बैंडविथ का फायदा है कि जब कई सारे users internet से कनेक्टेड हो तब भी Speed में कोई समस्या नहीं आती।

5G नेटवर्क में Low Energy की आवश्यकता पड़ती है, तथा सामान्य नेटवर्क की तुलना में यह लगभग 90% कम नेटवर्क Usage का इस्तेमाल करता है।

5G तकनीक आने से अनेक शहरों को इस तकनीक के माध्यम से Smart city बनाया जाएगा।

ऑनलाइन स्ट्रीमिंग service जैसे- Youtube, नेटफ्लिक्स इत्यादि पर आप High-क्वालिटी और 4K वीडियोस को बिना Buffering के देख पाएंगे।

टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट्स का मानना है कि इससे Network के पुराने जनरेशन को आसानी से मैनेज किया जा सकता है।

एक सवाल जो काफी यूजर्स के मन में आ रहा होगा कि जिस प्रकार 4G इंटरनेट आने के बाद हमें अपने 4G डिवाइस का Change करना पड़ा था! क्या ठीक उसी प्रकार 5G इंटरनेट के लिए 5G फोन लेना होगा?

टेक्नोलॉजी में परिवर्तन अनुसार device में 5G compatibility होनी चाहिए! तो इसके लिए 5G device खरीदने की की जरूरत पड़ सकती है।

5G तकनीक कैसे काम करती है।

5G नेटवर्क आने से इंटरनेट स्पीड काफी अधिक बढ़ जाएगी! तो यह कैसे काम करती है यह जानना भी हमारे लिए जरूरी हो जाता है! तो यदि हम बात करें 4G की तो यहां पर जो signals हैं! उन्हें लंबी दूरी में Radiate (किरणें फैलाना) करने के लिए High-पावर Tower Cell की आवश्यकता पड़ती है।

और यही वजह है कि आपने जिस तरह 2G, 3G में ऊंचे टावर्स को देखा होगा उसी प्रकार 4G नेटवर्क में भी काफी बड़े-बड़े टावर ऊंचाई में स्थित होते हैं।

परन्तु 5G की बात करें तो 5G तकनीक में 5G वायरलेस Signals को Transmit करने के लिए के लिये अलग तरह से tower स्थापित किए जाते हैं। जिनका साइज काफी छोटा होता है, इन Towers को बिजली के खंभों या घर के छतों पर स्थापित किया जा सकता है।

यहां पर आपका जाना जरूरी है कि 5G में High स्पीड इंटरनेट प्रदान करता है तो इसमें Signal केवल Short Distance में ही ट्रांसमिट हो सकते हैं।

पहली जनरेशन की टेक्नोलॉजी में स्पेक्ट्रम की Lower फ्रिकवेंसी बैंड का उपयोग होता था।

जो कि कम Distance कवर कर सकती है लेकिन इसमें Millimetre-wave( 5G तकनीक मैं इस्तेमाल होने वाले फ्रीक्वेंसी Range) की तुलना में कम स्पीड एवं Capacity भी कम होती है।

तो इस प्रकार आपने आज के इस लेख में 5G की टेक्नोलॉजी के बारे में जाना! उम्मीद है यह जानकारी उपयोगी सिद्ध होगी। यदि आपका इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है तो कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं।

साथ ही जानकारी पसंद आई है तो सोशल मीडिया पर शेयर अवश्य करें।

Author Name: FutureTricks
Author Bio: FutureTricks – A Hindi Tech Blog! here you can learn about Ethical Hacking, Social Media Tricks, Tech Hacks, Blogging, Make Money & More…
Site URL: Https://Www.Futuretricks.Org

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+