नवाजुद्दीन सिद्दीकी के बारे में रोचक तथ्य

नवाजुद्दीन सिद्दीकी के बारे में रोचक तथ्य

इस पोस्ट में एक कोर महान अभिनेता के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें और रोचक तथ्य बताऊंगा. मैं आज आपको इस पोस्ट में नवाजुद्दीन सिद्दीकी के बारे में आपको रोचक तथ्य इस पोस्ट में बताऊंगा क्योंकि नवाजुद्दीन सिद्दीकी बहुत थोड़े समय में ही लोगों के दिलों में इतनी जगह बना ली है कि वह हर किसी के चहेते हो गए हैं नवाजुद्दीन सिद्दीकी कि एक्टिंग लोगों को बहुत पसंद आती है. और उनका एक्टिंग करने का तरीका बहुत अच्छा है औ.र नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने बहुत थोड़े समय में ही यह उपलब्धि हासिल कर ली है.नवाजुद्दीन सिद्दीकी बॉलीवुड इंडस्ट्री का एक जाना माना नाम है.

बॉलीवुड के इस स्टार ने बहुत सी फिल्मों में अपना रोल अदा किया है. और इन रोल अदा करने के बाद इसके आलोचकों से भी प्रशंसा मिली है. और इनके इतने बढ़िया रोल अदा करने के लिए इनको बहुत सारे अवार्ड से भी नवाजा गया है. नवाजुद्दीन सिद्दीकी का जन्म उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के बुढाना कस्बे में एक मुस्लिम परिवार में हुआ था. इनके सात भाई और दो बहने हैं. और इनके पिताजी एक किसान हुआ करते थे. तो आज आपको इस पोस्ट में नवाजुद्दीन सिद्दीकी के बारे में नीचे कुछ रोचक तथ्य बता रहा हूं कि आप ध्यान से पढ़िए.

नवाजुद्दीन सिद्दीकी के बारे में रोचक तथ्य

1.नवाजुद्दीन सिद्दीकी का असली नाम नंबरदार नवाजुद्दीन सिद्दीकी है. उन्होंने अपना नाम फिल्मों में आने से पहले ही बदल दिया था.

2.नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने अपनी ग्रेजुएशन बीएससी केमिस्ट्री में की है. और और ग्रेजुएशन के बाद उनकी जॉब एक कंपनी में एजे चीफ केमिस्ट लग गई थी. नवाज ने वहां पर 1 साल काम किया और उस समय तक उनका एक्टिंग में मन नहीं था.

3.जब रणवीर सिंह बैंड बाजा बारात फिल्म से अपना कैरियर शुरू करने वाले थे.तो नवाजुद्दीन को कहां गया था. कि वह रणवीर सिंह को एक्टिंग की क्लास दें और यह बात बहुत कम ही लोग जानते हैं. क्योंकि उस समय तक नवाजुद्दीन सिद्दीकी भी इतनी ज्यादा लोकप्रिय नहीं हुए थे.

4. आप सभी जानते हैं. कि आप सभी ने नजर नवाजुद्दीन सिद्दीकी को गैंग ऑफ वासेपुर में मुख्य अभिनेता के रूप में देखा और अभी भी सब यही सोचते हैं. कि यह नवाजुद्दीन सिद्दीकी का कैरियर का पहला मुख्य अभिनेता रोल था. लेकिन सच में उनकी पहली मुख्य अभिनेता फिल्म मिस लवली इस फिल्म को 2012 में रिलीज होना था. पर प्रोडक्शन में दिक्कत आने के कारण इस फिल्म को 2014 में रिलीज किया गया.

5. लंच बॉक्स फिल्म में जो रोल नवाजुद्दीन ने किया है. उसकी धारणा उनको अपने दोस्त  से मिली जो उनको हमेशा मिलते हुए कहते थे. हेलो सर कैसे हैं आप नवाज ने बताया कि उनका दोस्त हैं. किसी भी दिक्कत में हो लेकिन वह दूसरों को हमेशा खुश रखता था और इसी चीज को देखते हुए नवाज को लंच बॉक्स में अपना रोल निभाने में बहुत मदद मिली.

6. नवाजुद्दीन सिद्दीकी दिलीप कुमार के एक्टिंग रोल से बहुत इंप्रेस हैं. और उनका कहना है कि यदि उनको कभी मौका मिला तो mughal-e-azam में वह दिलीप कुमार का रोल निभाना चाहेंगे.

7. बहुत सारे लोग नवाजुद्दीन सिद्दीकी को गरीब परिवार से बताते हैं. लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. उनका कहना है. कि मैं एक किसान का बेटा जरूर हूं. लेकिन हम जमीदार थे. और उनकी पुरानी पीढ़ी भी खेती बाड़ी का काम करती हुई आ रही है.और उनकी यह सोच थी कि वह अपने खुद के दम पर एक एक्टर बने इसलिए वह अपनी अपने परिवार से कम मदद मांगा करते थे.

8. दिल्ली में एक थिएटर प्ले देखने के बाद उन्होंने मन बनाया कि अब वह एक्टिंग ही करेंगे इसी कारण वह दिल्ली में रहने लगे और एक लोकल थिएटर के साथ जुड़ गए पर दिल्ली में उनको रहने के लिए एक सुरक्षाकर्मी की नौकरी करनी पड़ी जिसका जिक्र भी कई इंटरव्यू में करते हैं. लेकिन कभी भी यह नहीं बताया कि किस तरह उनको वह जॉब मिली थी. लेकिन हम आपको बताते हैं. कि नवाज ने एक बार टॉयलेट में एक पेपर देखा था. जिसमें लिखा हुआ था. सुरक्षाकर्मी की जरूरत और  पोस्टर से नंबर लेकर नोएडा की फैक्ट्री में कॉल किया और वहां से उनको एक सुरक्षाकर्मी की जॉब मिली.

9. नवाज जब वहां पर सुरक्षाकर्मी की नौकरी के लिए गए तो वहां पर कुछ पैसे सिक्योरिटी के लिए जमा करवाने थे. और उन पैसों के लिए वह अपने गांव गए और अपनी मां को बिना बताए गहने गिरवी रख दिए

10. फिर उन्होंने 1 साल तक सुरक्षाकर्मी के रूप में नौकरी की और हर महीने उनको ₹500 मिला करते थे. नवाज ने एक इंटरव्यू में बताया कि सुरक्षा कर्मी की नौकरी करते हुए उन्हें पूरा दिन धूप में खड़ा रहना पड़ता था. फिर थक जाने के बाद कुछ समय के लिए वह छाया में बैठ जाते थे. और उसी वक्त कंपनी के मालिक भी आ जाते हैं. और ऐसा उनके साथ कई बार हुआ और यही देखते हुए उनको सुरक्षा करने की जॉब से निकाल दिया गया. जब अपने सिक्योरिटी के पैसे वापस लेने गए तो वह भी उनको वापस नहीं मिले क्योंकि कंपनी वालों ने कहा कि आपने नौकरी अपनी गलती की वजह से छोड़ी है. इसलिए आपको पैसे वापस नहीं मिलेंगे.

11. कबीर खान की फिल्म न्यूयॉर्क में नवाज एक छोटा सा रोल किया था. जिसमें उनका रोल पुलिस क्रूरता पीड़ित होता है. उस रोल के ऑडिशन के समय उन्होंने वही रोल किया जिसमें वह कैटरीना कैफ कैमरे पर अपनी कहानी बनाते हैं. और उनके एक ऑडिशन को देख कर ही उनको सिलेक्ट कर लिया गया. और जब यह बात इरफान खान को पता चली जो नवाज के साथ पहले भी काम कर चुके थे. तो इरफान ने प्रोडक्शन टीम को कहा कि मुझे भी वह सीन देखना है.उसी सीन में नवाज की एक्टिंग देखकर इरफान खान की आंखों से आंसू आ गए.

12. बजरंगी भाईजान फिल्म में चांद नवाब के रोल के लिए उन्होंने असली पाकिस्तानी जनलिस्ट चांद नवाब से दोस्ती की शूटिंग के समय दोनों एक दूसरे से हर रोज बात करते थे.

13. फिल्म मिस लवली में नवाज पहली बार Kiss करते हुए नजर आते हैं. लेकिन हैरानी की बात यह है. कि उनकी लाइफ का यह पहला kiss था. उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया कि इससे पहले उन्होंने कभी भी किसी लड़की को किस नहीं किया.

14. नवाज की पहली फिल्म सरफरोश थी. उसमें उनका लगभग सिर्फ 40 सेकंड का सीन था. दिलचस्प बात यह है. कि उस सीन के लिए नवाज के दोस्त को सिलेक्ट किया गया था. लेकिन वह शूटिंग के समय आए नहीं थे. इसलिए नवाज को उस सीन के लिए चुना गया और यह नवाज के कैरियर का पहला सीन बना.

15. मुंबई में आने के बाद उन्होंने अपने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के सीनियर के साथ रहना शुरू किया नवाज के पास किराए के पैसे देने के लिए नहीं थे तो उनको खाना बनाने की जिम्मेदारी दी हुई थी और धीरे-धीरे उनको झाड़ू ,पोछा ,डिनर सब करना आ गया.

16.जब नवाज को एक नौकर की तरह रखा जा रहा था तो उन्होंने तंग आकर उस घर को छोड़ दिया. उस समय में राजपाल यादव ने उनकी बहुत मदद की नवाज को अपने घर में जगह दी उस समय राजपाल यादव भी मुश्किल में थे.

17. नवाजुद्दीन अपने मुश्किल के समय में अपनी मां को पत्र लिखा करते थे और उनकी मां ने ही उनको सबसे ज्यादा योगदान दिया है.

18. सरफरोश फिल्म में नवाज का सीन देखने के बाद अनुराग कश्यप ने उनसे वादा किया था. कि वह उनको अपनी फिल्म में जरूर काम देंगे और ब्लैक फ्राइडे में नवाज को तीन महत्वपूर्ण सीन मिले और उन सीन के लिए उनको बहुत अच्छे पैसे भी मिले और इन पैसों से उन्होंने अपनी मां की गिरवी रखे हुए गहनों भी छुड़वा लिये.

19. नवाज की अनुराग कश्यप से पहली मुलाकात मुंबई के रेलवे स्टेशन पर हुई थी जहां वो और राजपाल यादव और उनके कुछ दोस्तों के साथ बात बारिश से बचने के लिए बैठे हुए थे. उसी समय वहां से अनुराग कश्यप गुजरे जो अपना बॉलीवुड कैरियर एक लेखक के रूप में शुरू कर चुके थे अनुराग ने उनको शूल फिल्म के ऑडिशन के बारे में बताया था.

20. पैसों की कमी के कारण नवाज शूल फिल्म में एक वेटर का रोल किया था. मनोज वाजपेई ने नवाज को सुझाव दिया था. कि यह रोल उनके लेवल का नहीं है. लेकिन मजबूरी के कारण उन्होंने यह रोल किया.

21. शूल फिल्म में उनके सीन के लिए उनको ₹1500 देने का वादा किया गया था लेकिन जब भी नवाज पैसे मांगने जाते थे. तो उनको पैसे नहीं मिलते थे. लेकिन नवाज फिर उनको कहा करते थे कि अगर पैसे नहीं है तो खाना ही खिला दो इस तरह उन्होंने बिना पैसे बहुत दिन बिताए और खाना खाकर वापस आ जाते थे.

22. फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर जो एक सीन है. जिसमें नवाज हिमा कुरेशी के हाथ पर अपना हाथ रखते हैं. वह नवाज की रियल जिंदगी का सीन है. वह सीन सच में नवाज की लाइफ से जुड़ा हुआ है. जब नवाज दिल्ली में थिएटर किया करते थे. उस समय उसे उन्होंने अपनी दोस्त की हाथ पर हाथ रख दिया था. और उनकी दोस्त ने उनको कह दिया था. कि ऐसे तुम कैसे मेरा हाथ पकड़ सकते हो. आपको परमिशन लेनी चाहिए और उसके बाद नमाज को अपनी गलती का एहसास हुआ वह वहीं पर रोने लग गए.

23. वरुण धवन नवाज के बहुत बड़े फैन हैं. उन्होंने गैंग्स ऑफ वासेपुर देखने के बाद अपना मन नवाज के साथ काम करने का बना लिया. फिर वह उनको Main Tera Hero में एक स्पेशल रोल के लिए बुलाया. लेकिन नवाज को वह रोल पसंद नहीं आया. लेकिन फिर भी मैंने उनको कहा कि मैं आपके साथ एक दिन जरूर काम करूंगा और उसके बाद वही हुआ फिल्म Badlapur में दोनों एक साथ है. नजर आए और यह फिल्म कामयाब भी रही.

24. फिल्म रमन राघव की शूटिंग के समय नवाजुद्दीन सिद्दीकी की तबीयत खराब हो गई थी. और इतनी ज्यादा खराब हो गई थी. कि उनको 4 दिन तक हॉस्पिटल में दाखिल करवाया गया. और जब हॉस्पिटल में उनको दाखिल कराया गया था. तो  उनकी पत्नी उनको देखने गई तो उनकी हालत बिल्कुल खराब थी. और फिर भी उनकी जुबान पर रमन राघव डायलॉग थे.

25. 2012 में नवाज ने लैक्मे फैशन वीक में रैंप वॉक किया यह उनकी जिंदगी का पहला रैंप वॉक था रैंप वॉक फैशन डिजाइनर ट्रॉय कोस्टा ने  बताया कि उनकी स्टोरी भी मेरे जैसी है. उनके पास भी कभी सिलाई मशीन खरीदने के भी पैसे नहीं थे.

26. नवाजुद्दीन सिद्दीकी ऐसे एक्टर है. जो कि पैसो के पीछे  कभी नहीं भागते एक दिन उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया कि एक बार उन्होंने एक दिन में दो फिल्म साइन की थी. एक के लिए सिर्फ उन्होंने ₹100000 लिए थे और दूसरी के लिए एक करोड़ से भी ज्यादा उनका मानना है. कि पैसा ही सब कुछ नहीं होता है. कभी-कभी मैं उस Character के लिए फिल्म साइन कर देता हूं. जिसमें मैं रहना चाहता हूं.

27.World Film Critic Roger Ebert नवाज उनके साथ 1 सप्ताह से भी ज्यादा रहे हैं Roger Ebert नवाज की फिल्म पतंग को रोज अवार्ड फिल्म फेस्टिवल के लिए चुना था. और वहीं पर दोनों की बहुत अच्छी दोस्ती हो गई.

28. 2012 की फिल्म कहानी में नवाज ने एक एक इंटेलिजेंस ब्यूरो के इंस्पेक्टर का रोल निभाया था. नवाज बहुत हैरान हो गए थे. जब फिल्म डायरेक्टर ने उनको यह रोल दिया. क्योंकि इससे पहले उन्होंने कभी भी इस तरह का कोई भी रोल नहीं किया था. फिल्म का अंतिम सीन देखने के बाद नवाज बहुत ज्यादा खुश हुए और उन्होंने फिल्म डायरेक्टर को अपने गले से लगाया और थैंक्यू कहा.

29. नवाज से कई इंटरव्यू में पूछा गया कि ऐसी कौन सी फिल्म उनको पसंद आई है. जिनमें वह खुद एक्टिंग करना चाहते थे. तब उन्होंने बताया है. हैदर ,शाहिद ,कोर्ट और PK यह फिल्में उनको बहुत पसंद है. और वह इन फिल्मों में एक्टिंग करना चाहते थे.

30.नवाज अपनी शुरुआत टीवी सीरियल से करना चाहते थे. लेकिन कॉमेडी रोल करने के लिए अपना मन बना लिया लेकिन वह काम ढूंढने के लिए जाते थे. तो उनके रंग रूप को देखकर उनको हर बार रिजेक्ट कर दिया जाता था. एक बार असिस्टेंट डायरेक्टर ने तो यह भी कह दिया था. कि अगर तुम्हें शो में ले लिया तो दो लाइट तो आपके ऊपर ही लगानी पड़ेगी क्योंकि आप इतने काले हो.

31. Talaash फिल्म की शूटिंग के दौरान आमिर खान और नवाज एक साथ थे तो नवाज ने आमिर को बताया कि मैं आपके साथ पहले भी काम कर सकता हूं चुका हूं सरफरोश फिल्म में आमिर खान को यह बात बिल्कुल भी याद नहीं थी. लेकिन नवाज को आने तक नहीं सिलेक्ट किया था.और उस समय नवाज ने आमिर को यह बात नहीं बताई नवाज को सॉन्ग सुनने से ज्यादा उनके बैकग्राउंड को सुनना बहुत पसंद है. वह वर्ल्ड सिनेमा के बहुत बड़े फैन है. इसलिए जल्दी उठता है बैकग्राउंड म्यूजिक को सुनते हैं.

32. नवाज प्रसिद्ध आदमी बनने के बाद भी अपने नियमों को नहीं भूले हैं. उनके बच्चे आज भी लोग कल जगहों को साफ करने में मदद करते हैं.

33. फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप का कहना है. कि जब भी वह फिल्म की कहानी लिखने के लिए बैठते हैं. तो नवाज को ध्यान में रखकर और उनके कैरेक्टर को ध्यान में रखकर अपनी फिल्म की स्टोरी लिखते हैं. और नवाज भी चाहे कितने भी व्यस्त हो लेकिन अनुराग की फिल्म कभी भी रिजेक्ट नहीं करते हैं.

34. हमेशा से नवाद श्रीदेवी के फैन रहे हैं. जब उन्हें मोम फिल्म के लिए रोल दिया गया तो उन्हें उन्हें झट से एक पल में ही फिल्म के लिए हां कर दी क्योंकि उस फिल्म के लिए श्रीदेवी पहले से ही सिलेक्ट की जा चुकी थी. नवाज का कहना है. कि श्रीदेवी के साथ एक्टिंग करके उन्होंने एक्टिंग के बारे में कोई नई चीज सीखी.

35. कहानी फिल्में नवाज के अकरमक पुलिस इंस्पेक्टर के रूप को देखकर उनकी महिलाएं फैन बहुत ज्यादा बढ़ गई थी.और एक महिला ने तो उनको आई लव यू भी बोल दिया और उनसे एक बार मिलने के लिए भी बोला लेकिन नवाज जब उनसे मिलने पहुंचे तो वह महिलाओं को पहचान भी नहीं पाई नवाज का कहना है. कि वह उनके कैरेक्टर से प्यार कर बैठी थी. और असली रूप में उनको वह पसंद नहीं कर पाई.

36. फिल्म लंच बॉक्स एक सीन है. जहां पर नवाज एक Activa चलाते हुए नजर आते हैं. और उससे पहले उनको एक्टिवा स्कूटर नहीं चलाना आता था. और शूटिंग के उसी दिन नाजनीन के लिए एक्टिवा चलाना सिखा था.

37. सबका बदला लेगा रे तेरा फैजल यह डायलॉग बहुत फेमस है. लेकिन नवाज को उनके इस सीन में एक्टिंग बिल्कुल भी पसंद नहीं आई उनका कहना है. यह सीन उनके करैक्टर के हिसाब से उनको सही लगा.

38. गैंग्स ऑफ वासेपुर 2 में एक सीन है. जहां पर नवाज छत छलांग लगानी होती है. नवाज का कहना है. कि यह सीन जब उन्होंने किया तो वह सच में नशे में थे.उनका कहना है. कि उस समय उन्हें यह लग रहा था. कि वह कहीं से भी छलांग लगा सकते हैं. और उन्होंने यह सीन एक ही बार में पूरा कर दिया.

39. नवाज इतने बड़े और फेमस एक्टर बनने के बाद भी अपनी जेब में 20 या ₹50 से ज्यादा नहीं रखते. वह ऐसा इसलिए करते हैं. क्योंकि उनको साधारण आदमी की तरह रहना पसंद है. और वह अपने पुराने दिनों की तरह ही रहना पसंद करते हैं. उनका मानना है कि उनको अपनी महानता का घमंड नहीं है.

40. श्रीराम राघवन की फिल्म Badlapur को नवाज सिर्फ एक लाइन सुनकर ही हां कर दी थी. श्रीराम ने नवाज को बोला था कि दो करैक्टर हैं एक अच्छा और एक बुरा समय के साथ दोनों बदल जाते हैं और यही बात सुनकर नवाज ने इस फिल्म में रोल करने का मन बना लिया.

41. मोम फिल्म में नवाज एक बहुत ही अलग रूप में दिखें. उन्होंने उसे को  कैरेक्टर हबीब तनवीर और पीयूष मिश्रा की एक्टिंग को देखकर तैयार किया था. नवाज का कहना है कि उनको एक्टर बनने की मनोज वाजपेई ओम पुरी नसीरुद्दीन शाह जैसे एक्टर से मिली है क्योंकि यह एक साधारण आदमी होते हुए भी उन्होंने बॉलीवुड में अपना नाम बनाया और इसी को देखते हुए नवाज हमेशा अपने काम पर ध्यान देते हैं.

42. रईस फिल्म में शाहरुख खान और नवाज पहली बार एक साथ दिखाई दिए नवाज बहुत बेचैन थे. इतने बड़े अभिनेता के साथ काम कर रहे हैं. क्योंकि वो इतने बड़े एक्टर के साथ पहली बार फिल्म मैं काम कर रहे थे. और वह डर रहे थे. कि कहीं शाहरुख खान उन्हें कुछ कह ना दे लेकिन शाहरुख खान ने फिल्म की शुरुआत में ही उनको यह बात कह दी कि कि मैं एक बड़ा एक्टर जरूर हूं लेकिन मैं आपको और आपके करैक्टर को ध्यान में रखकर काम करूंगा मैं अपनी सीमा से बाहर कभी नहीं जाऊंगा.

43.एक बार नवाज से पूछा गया कि आपकी लाइफ का सबसे खुशी का पल कौन सा रहा तो उन्होंने बताया कि मेरी लाइफ का सबसे खुशी का पल वह था. जब गैंग्स ऑफ वासेपुर फिल्म में फैजल खान रामाधीर सिंह को गोलियों से मार देते हैं. वह जिंदगी का सबसे खुशी का पल रहा और वह सीन गैंग्स ऑफ वासेपुर फिल्म का आखरी सीन था. उनका मानना है कि उनकी जिंदगी की सारी मुश्किलें सीन के साथ खत्म होने जा रही थी.  उनका का कहना है. कि जब वे गोलियां चला रहे तो वह अपने कैरियर ने चले गए थे और अपने भविष्य के बारे में सोचने लगे शायद इसीलिए उनके चेहरे पर एक मासूमियत देखी जा सकती है.

44. एक बार नवाज से उनके इंटरव्यू में पूछा गया. कि आपको अपनी एक्टिंग किस मूवी में ज्यादा अच्छी लगती है. तो उन्होंने बताया कि मुझे अभी तक किसी भी मूवी में मेरी एक्टिंग अच्छी नहीं लगी है. क्योंकि मैं हमेशा जब भी अपने आपको एक्टिंग करते हुए देखता हूं तो मुझे लगता है कि मैं बहुत ही बेकार और गंदी एक्टिंग कर रहा हूं इसलिए मैं कभी नहीं मानता कि मैंने कभी अच्छी एक्टिंग की है.

तो आज मैंने आपको एक बहुत ही अच्छी और बढ़िया जानकारी इस पोस्ट में बताई है. मैंने आपको इस पोस्ट में नवाजुद्दीन सिद्दीकी के जीवन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य बताए हैं. किस तरह से नवाजुद्दीन सिद्दीकी का बचपन से लेकर आज तक का जीवन रहा. तो यदि हमारे द्वारा बताई गई यह जानकारी आपको पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+