तलाक कैसे ले और तलाक लेने के नियम

तलाक कैसे ले और तलाक लेने के नियम

How to get divorced In Hindi :आज हम आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी बता रहे हैं यह जानकारी संबंधित कुछ बातें हमने पिछली पोस्ट में बताई थी लेकिन उसके अलावा हम आपको इस पोस्ट में कुछ और बातें बताएंगे पिछली पोस्ट में हमने आपको बताया था कि तलाक क्या होता है. और तलाक से बचने के क्या उपाय हैं. तो यदि आप तलाक से नहीं बच पा रहे हैं. और आपको लगता है कि अब तो शायद तलाक लेना ही ठीक है. तो आप तलाक किस तरह से ले सकते हैं.

उसके बारे में आज हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे वैसे तो आप सभी जानते हैं. कि भारत में तलाक लेना कोई आसान काम नहीं है. शादी के बंधन को तोड़ना बहुत मुश्किल है. तलाक से संबंधित भारत में बहुत कानून बनाए गए हैं.तलाक लेना एक बहुत ही लंबी प्रक्रिया है.और कितने प्रकार के होते हैं. और तलाक लेने के लिए क्या करना पड़ता है.तो नीचे हम आपको यह सारी जानकारी विस्तार से बता रहे हैं आप इस जानकारी को ध्यान से पढ़े.

तलाक कितने प्रकार के होते हैं

Rules of divorce In Hindi : हमारे देश में तलाक दो तरह से लिया जा सकता है. एक तो आपसी सहमति से और दूसरा तरीका संघर्ष पूर्वक होता है .यानी कि इस तलाक में एक पक्ष  तलाक लेना चाहते हैं. और दूसरे पक्ष  नहीं लेना चाहता है. और अगर हम बात करें इन दोनों तलाक में आसान कौन सा है. तो भारत में आपसी सहमति से तलाक लेने मैं बहुत ही आसानी होती है.अगर दोनों पक्ष सहमत है. तो बहुत ही आसानी से तलाक ले सकते हैं इसके लिए दोनों पक्ष जैसे पति और पत्नी दोनों इस बात के लिए सहमत होने चाहिए. कि हम दोनों अलग हो रहे हैं. और हमें तलाक चाहिए और जब भी तलाक होता है तो उसमें दो चीजें जरूर सामने आती है. गुजारा भत्ता या और बच्चों की देखरेख यह दोनों बातें बहुत ज्यादा देखी जाती है. और आपने किसी भी फिल्म TV सीरियल या किसी दूसरी चीज में देखा भी होगा कि जब कोर्ट में किसी का तलाक होता है. तो सुनवाई के दौरान गुजारे भत्ते और बच्चों की देखरेख की जिम्मेदारी माता पिता में से किसी एक को दी जाती है लेकिन गुजारा भत्ता सिर्फ पति को ही देना पड़ता है.

गुजारा भत्ता

हमारे देश में गुजारे भत्ते की कोई सीमा तय नहीं की गई है और गुजारे भत्ते के लिए दोनों पक्ष पति और पत्नी एक साथ बैठकर फैसला कर सकते हैं कि उनको कितना गुजारा भत्ता चाहिए या उसको कितना गुजारा भत्ता वह पति दे सकता है.लेकिन कोर्ट पति की आर्थिक स्थिति और आए या उसकी कमाई को देखकर गुजारे भत्ते का फैसला करता है. पति की आर्थिक स्थिति यानी उसकी कमाई जितनी भी ज्यादा होगी उतनी ही ज्यादा उतना ही ज्यादा गुजारा भत्ता उसको अपनी पत्नी को देना होगा.फिल्म या TV सीरियल में भी देखा होगा कि जब कोर्ट में केस चलता है तो जिन लोगों का तलाक होता है उसमें पति को अपनी पत्नी के गुजारे के लिए पैसे देने होते हैं और वह कोर्ट तय करता है. कि कितने पैसे पति को हर महीने पत्नी को देने होंगे लेकिन कोर्ट यह भी ध्यान में रखता है कि पति की मासिक आय कितनी है.

बच्चों की जिम्मेदारी

और दूसरी सबसे बड़ी समस्या यह सामने आती है कि जब आप का तलाक हो रहा है और उसमें आपकी कोई एक या दो बच्चे हैं तो उन बच्चों की जिम्मेदारी कौन लेगा और यह एक गंभीर समस्या होती है. लेकिन यदि दोनों पक्ष माता और पिता दोनों उन बच्चों की देखरेख करना चाहते हैं. तो यह उन दोनों की मानसिक सोच के ऊपर निर्भर होता है. इसके लिए उनको कोर्ट के द्वारा जॉइंट कस्टडी दे दी जाती है. शेयर चाइल्ड कस्टडी चाहते हैं. या फिर उन दोनों में से कोई एक इस जिम्मेदारी को लेना चाहता है.

और वैसे अगर देखा जाए तो 7 साल के कम उम्र के बच्चों की देखरेख कोर्ट मां को सौंपता है. और 7 साल से ऊपर की आयु के बच्चों को उनकी देखरेख के लिए पिता के पास भेजा जाता है. लेकिन कई बार दोनों ही पक्ष इस बात के लिए राजी नहीं होते और दोनों ही पक्ष अपने बच्चों को अपने पास रखना चाहते हैं. लेकिन यदि मां को बच्चे की देखरेख की जिम्मेदारी कोर्ट द्वारा दी गई है. और यदि उन बच्चों का बाप यह साबित कर दे कि मां बच्चों की सही देखरेख नहीं कर रही है. तो 7 साल के कम उम्र के बच्चों की देखरेख के लिए भी कोर्ट बच्चों को उसके पिता को सौंप देगा.

आपसी सहमति से तलाक के लिए कैसे फाइल दाखिल करें

जैसे कि मैंने आपको ऊपर बताया है. हमारे देश में आपसी सहमति से तलाक लेना बहुत ही आसान है. सबसे पहले आप के लिए यह जरूरी होता है कि आप अगर तलाक लेना चाहते हैं. तो उससे पहले 1 साल पहले दोनों अलग रहते हो उसके बाद आप केस दायर कर सकते हैं तो इसके लिए फिर आपको कुछ जरूरी चीजें करनी होती है. जैसे

1.सबसे पहले आप दोनों पक्षों को पति और पत्नी को कोर्ट में एक याचिका दायर करनी पड़ती है. जिसमें लिखना होता है हम दोनों आपसी सहमति से तलाक लेना चाहते हैं.

2.फिर उसके बाद दोनों पक्षों के बयान जैसे पति और पत्नी दोनों के बयान कोर्ट में रिकॉर्ड किए जाते हैं. और पेपर पर साइन भी कराए जाते हैं उसके बाद आप का तलाक मान्य होता है.

3.जब आप कोर्ट में याचिका दायर करते हैं तो उसके बाद आपको कोर्ट 6 महीने का समय देती है. कि आप दोनों के पास अभी समय है और आप आपसी सहमति से अपने साथी के साथ रह सकते हैं. और आप सोच समझकर फैसला करें कि आपको दोनों को अलग होना है. और कोर्ट चाहती है. कि वह अपने रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए समय दें ताकि उनका तलाक ना हो

4.फिर कोर्ट के द्वारा दिया गया हुआ समय समाप्त हो जाता है. फिर कोर्ट दोनों पक्षों को बुलाता है. और इस दौरान अंतिम सुनवाई होती है.और फिर भी अगर आप दोनों पक्ष अपनी सहमति से तलाक लेना चाहते हैं तो उसके बाद कोर्ट अंतिम सुनवाई में अपना फैसला सुना देता है.

यह तरीका था दोनों पक्षों की सहमति से तलाक लेने का जिसमें दोनों पक्षों को 6 महीने के अंदर ही तलाक मिल जाता है. तो अब हम आपको नीचे बताएंगे कि यदि संघर्ष की स्थिति में तलाक लिया जाता है तो क्या-क्या करना पड़ता है.

बिना सहमति के तलाक

अगर तलाक लेने के लिए दोनों पक्ष सहमत ना हो तो क्या होता है. यानी कि अगर दोनों पक्ष में से एक पक्ष तलाक लेना चाहता हो और एक पक्ष तलाक नहीं लेना चाहता हो तो उसके लिए एक पक्ष को दूसरे पक्ष से बहस करनी पड़ेगी और यह तलाक भारत में आप तभी लड़ सकते हैं. जब आपके साथी के साथ आपके साथ झगड़ा करता हो आप को प्रताड़ित करता हो या आपका साथी आपको छोड़ देता है. या आपको किसी तरह की शारीरिक या मानसिक तरह से प्रताड़ित किया जाता है. या आपके साथी की मानसिक स्थिति खराब हो या नपुंसक जैसी स्थिति फोन तो यानी कि उसके साथ जिस भी बात के कारण साथ रहना मुश्किल हो जाएगा साथ नहीं रह पाना तो उस स्थिति में आप संघर्ष चला कर सकते हैं.इस केस को लड़ने के लिए सबसे पहले जो पक्ष तलाक चाहता हो उसे कोर्ट में एक याचिका दायर करनी होती है. और साथ में यह सबूत भी दिखाने होते हैं. कि वह सच में तलाक का हकदार है. यानी  उसको अपने साथी के द्वारा प्रताड़ित जाने या उसके साथ मारपीट किए जाने या उसके साथ कुछ दूसरी घटनाएं किए जाने का सबूत है उसको कोर्ट में दिखाना होता है.

किस लड़ के तलाक कैसे लें

1.सबसे पहले आपको यह सुनिश्चित करना होता है कि आप किस आधार पर तलाक लेना चाहते हैं. और उसके बाद आप जिस भी आधार पर तलाक लेना चाहते हैं. उसके लिए सबूत इकट्ठा करने शुरू करें या अगर आपके पास सबूत है तो उसको अपने पास रखें.

2.और संघर्ष तलाक में सबसे महत्वपूर्ण चीज आपके लिए यही है. कि आप अपने साथी के खिलाफ कड़े से कड़े सबूत जुटाए और इकट्ठा करके कोर्ट को दिखाएं ताकि आपका पक्ष मजबूत हो.

3.जब आप कोर्ट में याचिका दायर करते हैं तो उसके साथी आपको अपने सभी सबूत सबूत भी कोर्ट में दायर करने चाहिए. आप की याचिका दायर होने के बाद कोर्ट आपके दूसरे पक्ष के खिलाफ नोटिस भेजेगी और इसके बाद यदि दूसरा पक्ष कोर्ट में नहीं पहुंचता है. तो यह मामला एक पक्ष का हो जाता है. और तलाक एक पक्ष द्वारा दायर किए गए सबूतों के आधार पर दे दिया जाता है.

4.यदि कोर्ट द्वारा भेजे गए नोटिस को आप पढ़कर कोर्ट में अपनी सुनवाई के समय नहीं पहुंचते हैं. तो चाहे आप का पक्ष मजबूत हो और आपके साथी का पक्ष बिल्कुल कमजोर हो और आपके पास आपके साथी से ज्यादा सबूत हो तो भी आप को तलाक दे दिया जाता है और अगर आप कोर्ट नहीं पहुंचते हैं तो आप को तलाक दे दिया जाता है. चाहे आपका पक्ष कितना भी मजबूत हो.

5.और यदि आप कोर्ट के भेजे गए नोटिस के बाद आप कोर्ट में हाजिर हो जाते हैं. तो यह मामला दोनों पक्षों का हो जाता है. और उस दौरान कोर्ट में दोनों पक्षों की बातें सुनी जाती है. और कोर्ट इस मामले को समझाने की कोशिश करेगा.

6.अगर दोनों पक्षों की सहमति नहीं हो पाती है. तो किस करने वाला पक्षी लिखित में दूसरे के खिलाफ याचिका दायर करेगा और जो आप लिखित बयान देते हैं. वह 30 से 90 दिन के अंदर देना होता है.

7. यदि एक बार आप के बयान का काम पूरा हो जाता है तो उसके बाद कोर्ट आगे फैसला कोर्ट को क्या करना है. फिर उसके बाद कोर्ट दोनों पक्षों द्वारा पेश किए गए सबूतों गवाहों और बयानों को दोबारा से पढ़ती है.सारे सबूतों को दोबारा से देखने और जानने के बाद कोर्ट अपना फैसला सुनाती है.

लेकिन संघर्ष तलाक मैं आपको 1 साल 2 साल या कई बार 5 या 6 साल भी लग जाते हैं. इसलिए अगर आप तलाक लेना चाहते हैं. तो दोनों पक्षों की सहमति के बाद ही तलाक लेने के लिए याचिका दायर करें ताकि आपको 6 या 7 महीने में ही तलाक मिल जाए. अगर आप तलाक लेना चाहते हैं और आपके साथ ही तलाक नहीं लेना चाहते हैं तो इस स्थिति में आपको तलाक लेने में बहुत समय लग सकता है. कानून ने भी इसमें कुछ कमियां महसूस की है. जिसके लिए एक बिल अभी भी संसद में लंबित है.और यदि यह बिल संसद द्वारा पास कर दिया जाता है.  तो उसके बाद आप बिना किसी आधार के भी तलाक ले सकते हैं इस तरह से उन लोगों को फायदा होगा जो कानूनी तौर पर अपने रिश्ते को खत्म नहीं कर पा रहे हैं.

तो यदि आप भी तलाक लेना चाहते हैं.और उसके लिए आप ने याचिका दायर की है वह आपको कई बहुत समय से तलाक नहीं मिल रहा है तो आप हमारे द्वारा बताई गई जानकारी को अच्छी तरह से पढ़ कर और इस में बताए गए तरीकों के आधार पर तलाक ले सकते हैं. इससे आपको तलाक लेने में आसानी होगी तो अब आपको पता चल गया होगा कि तलाक कितने प्रकार का होता है. और तलाक का केस किस तरह से लड़ा जाता है.

आज हमने आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी बताई है. हमने आपको इस पोस्ट में तलाक कैसे ले और तलाक लेने के नियम तलाक लेने के नियम 2018 तलाक के नये नियम 2018  तलाक के कागजात  तलाक कैसे ले  तलाक का मुआवजा  तलाक की जानकारी  तलाक के कानून  तलाक लेने के आधार  तलाक के आधार  तलाक लेने के नियम तलाक केस किस तरह से लड़ा जाता है. और तलाक का केस कितने प्रकार का होता है. और तलाक लेने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है. तो यह सब बातें हमने आपको इस पोस्ट में आज विस्तार से बताई है. तो यह भी हमारे द्वारा बताई कि यह जानकारी आपको पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

42 Comments
  1. घनश्याम मेनारिया says

    अगर पति के पास कोई सबूत नहीं हो बस कुछ मौखिक बाते हो और पत्नी का बुरा व्यवहार परिवार और पति के लिए हो तो क्या करना चाहिए की जल्दी तलाक मिल जाये

  2. Laxman says

    मेरी पत्नी मुझसे तलाक लेना चाहती है पर में तलाक नही देना चाहता हूँ कुछ सुझाव बताये

  3. Laxman says

    मेरी पत्नी मुझ से तलाक लेना चाहती है पर मैं तलाक नहीं देना चाहता हूं कुछ सुझाव बताएं

  4. Brundabana Thethuar says

    मेरी पत्नी हमेशा मेरे माता-पिता के साथ खराब व्यवहार करती है । जब मै मना करता हूं तो मेरे साथ भी झगड़ा करती है । हमारी शादी को 4•5 साल हो गए है । हमारा 3•3 साल का एक पुत्र भी है । मै एक राज्य सरकारी हाईस्कूल शिक्षक हूं । मेरी पत्नी अभी मेरे साथ है । लेकिन हर दूसरे दिन झगडा करती है । मुझ से मेरे माता – पिता को अलग करना चाहती है । मेरे विरोध करने पर झगड़ा करती है । मै अपने माता-पिता को कैसे छोड दूं जिन्होंने खूद भूखा रह कर मुझे पढाया लिखाया है ।इस लिए मै अपने पत्नी को तलाक देना चाहता हूं ।कृपया मुझे सलाह दे । नहीं मुझे डिप्रेशन से कोई गलत कदम न उठ जाये । इसमे मेरे सास-ससुर भी मुझे मेरे पत्नी के माध्यम से परेशान करते है । मेरे ई-मेल पर शीघ्र जानकारी दें । धन्यवाद ।।

    1. Kaushal kishor yadav says

      Kya kru mrera bat smgna ni chahti

  5. Poonam Rawat says

    Mere husband mujhse talak Lena chahte h kyuki Mai unhe talak nai Dena chahti kyuki hmm chote se ghar Se h unhke stands ke nai h hamare se jyda vo kisi or ko like krte h hme mentally physically tourchar krte h vo doctors h hmm unko dahej nai paye isliye paresan krte h hm KY kre sbhi bhut paresan krte h aise me KY keep kuch smjh nai aa rha plz ..hme solution dijiye hme KY krna chahiye

  6. Ashish tripathi says

    Muje talak chahiye par meri patni muje talak ni de rahi hai kya karu mai jisse jaldi talak mil jaye

  7. लाला दास मानिकपुरी says

    हमारे शादी 14,15साल हो रहे हैं मेरे बातों को नकारते रहते हैं इसी के कारण झगड़ा होता रहता है,सत्य बात को नहीं मानते, अपने मायके जबरजस्ती चलें जातें हैं, कम से कम 6,7बार जा चुकि है तब भी मैं बहुत सीखने बताने लगा लेकिन वो नहीं मानते,पता किया तो पता चला कि उनके घर की माहौल बहुत ही खराब है वह शहर के है , मैं गांव क्षेत्र के, मैं गरीब किसान हूं, मैं अकेला हूं हमारे 4बेटियां है मेरे दाई हैं,कानून और धर्म के हिसाब से जीवन जीना चाह रहा हूं लेकिन वह इनसे अलग है, अभी दो दिन पहले फिर चल दिए हैं, क्या करु , तुरंत समाधान करने की दया करें,

  8. Reena Chaure says

    Mera Pati mujhase shadi ke bad bat nahi karta Tha, jisse Mai pareshan the Ghar wale bhi mere bete ko mat sata kahte the, Maine Tanstion me apne sasural jane ke liye nikali lekin ghar walo ko laga Mai jaan dene ja rahi hoo, our Mera Pati jhagde hone lage mere Pati ko Maine bahut samjhai lekin who nahi samjhe, our hamari arrange marriage Hai Mai unse umar me 2saal badi bhi hoo, Maine apne Pati ko shadi ke pahle bataya Tha hamari date of birth Galt dali gai Hai, Us time thik Hai kaha lekin aj kahte Hai tune mujhe nahi batai, Hamari shadi ko sirf 3 mahine hue Hai, Mera Pati mujhe talak dena chahte Hai ap bataye Mai kya karu, Mai apne Pati se bahut pyar Karti hoo, our chodna nahi chahti.

  9. Gunjan says

    Mere pati mansik roop se h.mar pet bhi krte h.koi kam bhi nhi krte h.8year ka beta h.jis ko hum hi dekte h.hum kya kre.abhi kuch din phle hi mar peet ki to heme poolis ko bulana pda.but vha se bhi chod deya gya ki vo to pagal h

  10. gopal kumar says

    meri sadi ko karib 2 saal hua hai or meri wife sadi k kuch dino bad se hi mere or mere ghar walo ke sath nahi jamta hai wo hames thodi thodi bat me chid jati hai or samjhane par nahi manti use lagta hai ko wo hamesa sahi hai par kya karu muje hi uska ye behave dek kar chup rahna padta hai. meri wife pregnanat hai or uske pet me 5 month ka baccha hai fir bhi uska nature aise hi hai kuch bolo to hamesa bolti hai mere sath nahi rahna hai or muje hamesa mere ghar walo ds khilaf bhadkati hai , wo sadi k kuch dino ke bad se hi kuch bhi bat ho bolti hai ki muje talak de do or abi wo pregnanat hai fir bhi bolthi ha ki talak de do mai nahi rahna chahti is ghar me or mere sath bolti hai. plz kuch rasta batao mai bahut deprasation me jaa rha hu plz…

    1. hindigyanbook says

      Agar aap Talak nahi dena chahte to Rasta yahi hai ki Aap use samjhao . Agar nahi mane to Aap sirf Talak le sakte hai.

  11. Kamal Singh says

    तलाक के लिए हमें कहा जाना है ओर क्या करना होगा

  12. संदीप says

    क्पा हम साथ साथ रहते हुए भी आपसी सहमति से तलाक ले सकते है।

    1. hindigyanbook says

      Yes

  13. Dharmendra says

    मेरी शादी को 13 साल हो गए है जो कि लव मैरिज है। अभी वर्तमान में मैं कुछ आर्थिक परेशानियों में उलझ गया हूँ जिससे कि निकट भविष्य में मैं धारा 38,420 और सिविल सेवा अधिनियम वर्गीकरण में शासकीय राशि गबन जैसे आरोपो में फंस जाऊंगा। इन्ही सब के चलते मैं मानसिक तनाव के दौर से गुजर रहा हूँ जिससे अपने कार्य पर भी ध्यान नहीं दे पा रहा हूँ। मैं चाहता हूं कि मेरे ऊपर लगने वाले आरोपो से मैं मेरी पत्नी मेरे बेटे को अलग रखना चाहता हूँ क्या मेरा तलाक लेकर अलग हो जाना ठीक रहेगा?? और क्या मैं उपरोक्त सभी आरोप लगने के पहले तलाक की अर्जी दी सकता हूँ??

  14. Gita says

    Mere pati k dusre ldki s smbandh h main talak lena chahti hu

  15. Dnyaneshwar says

    Meri wife 3 sal se apne ma bap ke ghar chali gai hai our o log ane nhi de rahe hai talak ke liye paiso ki mang kar rahe hai muje kya karna chahiye .Ansar sir

  16. Sundar says

    13b का केस लड़की की तरफ से फ़ाइल हुआ गुजारा भत्ता भी तय हुआ पहला Sighn हुआ उसके बाद लड़की नहीं आ रही सामान पैसा और गुजारा भत्ता भी दे दिया गया अब फ़ाइनल date बची है अब आगे क्या होगा मुझे भी रहना नहीं

Leave A Reply

Your email address will not be published.