जापान के लोगों की उम्र लंबी क्यों होती हैं जापान का खान पान

जापान के लोगों की उम्र लंबी क्यों होती हैं जापान का खान पान

हमारे जीवन में टेक्नोलॉजी का बहुत बड़ा महत्व है. एक और जहां पर टेक्नोलॉजी हमारे लिए बहुत ही ज्यादा सुविधाजनक है. वहीं दूसरी तरफ यह टेक्नोलॉजी हमें बहुत हानि भी पहुंचा रही हैं क्योंकि आज की आधुनिक टेक्नोलॉजी के कारण हमारे शरीर की एक्टिविटी बहुत कम होती है. इसलिए हमारे शरीर में अनेक प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो जाती है. और जिससे हमारी मृत्यु होती है.और यदि हमारा शरीर लगातार एक्टिविटी करता रहता है. तो इससे हमारे शरीर में बहुत कम बीमारियां उत्पन्न होती हैं.

यानी टेक्नोलॉजी हमारे लिए फायदेमंद भी है. और नुकसानदायक भी लेकिन आप सभी को पता होगा. कि टेक्नोलॉजी के मामले में जापान लगभग दुनिया में सबसे आगे हैं. लेकिन फिर भी यहां के लोगों को बहुत कम बीमारियां होती है और यहां के लोग बहुत ज्यादा समय तक जिंदा रहते हैं जापान में लगभग 50000 से ज्यादा लोग ऐसे हैं जिनकी आयु 100 वर्ष या उससे अधिक है. तो आज की पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि किस तरह से जापान के लोग अपने आप को फिट रखते हैं. और वे अपने आप को फिट रखने के लिए किस-किस तरह की चीजें खाने-पीने में इस्तेमाल करते हैं. और इससे जुड़ी और भी कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं तो आप इस पोस्ट को पूरा अंत तक जरूर देखें तो देखिए

जापान के लोग क्यों सेहतमंद रहते हैं

जैसा कि आप सभी जानते हैं जो लोग एक जगह पर बैठकर काम करते हैं या जिन लोगों का काम इतना स्ट्रांग नहीं है. उन लोगों को अक्सर मोटापा डायबिटीज कैंसर हार्ट अटैक डिप्रेशन जैसी समस्याएं मिलना आम बात है. क्योंकि हमारे शरीर की एक्टिविटी होना बहुत ही जरूरी है. लेकिन आज की आधुनिक तकनीक के कारण हमारी एक्टिविटी का लगभग 70% हिस्सा रोबोट रिमोट या मशीनों आदि ने ले लिया है.

और खुले में घूमना, खेलना और सुबह की सैर आदि का लगभग 80% से भी ज्यादा भाग मोबाइल फोन ने छीन लिया है. और इसी कारण आज के समय में दुनियाभर के लोग डायबिटीज, कैंसर, हार्टअटैक और न जाने कौन-कौन सी बीमारियों से परेशान है. लेकिन दुनिया भर में जापान टेक्नोलॉजी के मामले में सबसे आगे है. लेकिन इसके साथ-साथ यह देश सेहतमंद लोगों में भी सबसे आगे है यानी जापान के अंदर सबसे ज्यादा सेहतमंद और हष्टपुष्ट लोग रहते हैं. और जापान के लोगों में मोटापा ना के बराबर है और साथ ही यहां के लोगों की आयु बहुत लंबी होती है.

हालांकि जापान में आपको चलने-फिरने से लेकर खाने पीने में भी इस्तेमाल की जाने वाली मशीनें मिल जाएगी. यानी आपको जापान में हर चीज की मशीन मिल जाएगी लेकिन फिर भी यहां के लोग बहुत ही ज्यादा सेहतमंद रहते हैं. क्योंकि खान-पान से लेकर डेली रूटीन और लाइफ स्टाइल में जापान के लोग दूसरे देशो के लोगों से अलग हैं. और अगर उनके नियमों और अगर इनके खान-पान को हम भी अपनाते हैं तो हम भी इनकी तरह लंबी उम्र तक सेहतमंद रह सकेंगे. तो नीचे हम आपको जापान के लोगों के सेहतमंद होने के कुछ नियम और उनके खानपान के बारे में बताएंगे तो देखिए

जापान का खान पान

चाय पीने का चलन

चाय जापान की सबसे मनपसंद ड्रिंक में से एक है चाय जापान में सुबह से लेकर शाम तक और हर त्यौहार पर अलग-अलग तरह की चाय पी जाती है. जापान में लगभग 100 से भी ज्यादा प्रकार की चाय का उत्पादन किया जाता है. और यहां पर सबसे ज्यादा ग्रीन टी पी जाती है. जापान की चाय हमारे यहां की चाय से कई गुना ज्यादा बढ़िया और सेहतमंद होती हैं. क्योंकि यह लोग चाय में चीनी और दूध जैसी चीजों का इस्तेमाल नहीं करते और कई प्रकार की अलग अलग बीमारियों में भी यहां पर चाय का ही इस्तेमाल किया जाता है.

और हर चाय को पीने का और बनाने का तरीका अलग होता है और यहां पर लगभग 28 से भी ज्यादा अलग अलग तरह की ग्रीन टी पी जाती है. जिसमें Sencha Gyokuro Matcha Hoji-cha सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है. यहां पर पी जाने वाली अलग-अलग प्रकार की चाय हड्डियों, बाल, त्वचा जैसी चीजों को लंबी उम्र तक सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण योगदान देती है.और इसके साथ साथ इस चाय में एंटीऑक्सीडेंट होता है. जिससे यह चाय इनके शरीर को लगातार एक्टिव रखती है जिनसे यह थका देने वाले हालातों में भी काम करते रहते हैं.

पैदल चलना

जापान में लोग अपने ज्यादातर कामों को करने के लिए पैदल चलना बहुत ज्यादा पसंद करते हैं और यह उनकी लाइफस्टाइल का एक बहुत ही खास और महत्वपूर्ण हिस्सा है वैसे तो तकनीकी विकास के कारण आज के समय में जापान के पास किसी भी चीज की कमी नहीं है. और फिर भी यहां के लोग अपने निजी वाहनों से सफर करने से ज्यादा पब्लिक प्लेस ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं क्योंकि उनका यह मानना है कि इस तरह से अपने आलस्य को दूर कर करके अपने आप को सेहतमंद और फिट रखते हैं और इनको बस या रेल से सफर करने के लिए बहुत ज्यादा समय तक पैदल चलना पड़ता है और ट्रेन में भी कई बार खड़े रहकर ही सफर करना पड़ता है. जिससे भोजन का भी पाचन जल्दी हो जाता है और शरीर का वजन भी बहुत कम बढ़ता है.

जापानी खान पान

अपने लोगों पर उनके खानपान का सबसे ज्यादा असर होता है उनके भोजन में कैलोरी है और शुगर बहुत ही कम होती है और इसी कारण इनका वजन भी नहीं बढ़ता इसके साथ-साथ यह लोग डायबिटीज कोलेस्ट्रोल और मोटापे जैसी बीमारियों से बचे रहते हैं तो चलिए जानते हैं जापान के लोग अपनी डाइट में क्या क्या शामिल करते हैं जिससे वह अपने आप को सेहतमंद रखते हैं.

  • Seaweed And Seafood – चाहे वेज है या नॉनवेज जापान के लोग ज्यादातर समुद्र में पाई जाने वाली चीजों को खाने के शौकीन होते हैं.  चाहे वह समुद्री जीव को जा समुंदरी सब्जियां जापान के लोग समुद्री जीव को खाना बहुत पसंद करते हैं. और सुंदरी सब्जियां जमीन पर उगने वाली सब्जियों से 10 गुना ज्यादा ताकतवर होती है. और साथ ही मछलियों के मांस में चिकन से कई गुना ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते हैं.
  • अकेला जापान हर साल दुनिया की लगभग 10% सप्लाई होने वाली मछलियों को खा लेता है. इसके साथ-साथ हर साल जापान के लोग एक लाख टन Seaweed का सेवन कर लेते हैं. मात्र एक एक कप Seaweed में 5 से 10 तरह के प्रोटीन होते हैं. और इसके साथ-साथ इन में आयोडीन और पोटेशियम की मात्रा भी बहुत होती है और इसमें विटामिन बी विटामिन सी ओमेगा 3 और इसके अलावा आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और जिंक जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होती है.
  • इसके साथ साथ कहा जाता है कि समुंदरी चीजों का सेवन करने वाले लोग हमेशा जवान रहते हैं और उनकी त्वचा चिकनी रहती है और इसके साथ-साथ बाल भी लंबी उम्र तक काले और घने रहते हैं. और जापानी लोग दूध और दूध की बनी चीजों का बहुत ही कम सेवन करते हैं क्योंकि समुद्री चीजों का सेवन करने के कारण इन लोगों को दूध ज्यादा अच्छा नहीं लगता और ज्यादातर खाई जाने वाली चीजों में मैदे और आटे से बनी चीजें बिल्कुल बहुत ही कम होती है और सब्जियों  का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. इसी कारण यहां के लोगों को पेट संबंधी बीमारियां बहुत कम होती है.
  • रोटी और ब्रेड की जगह पर जापान में चावल अधिक खाए जाते हैं और जापान के चावल हमारे यहां के चावल से कई गुना बेहतर होते हैं सफेद चावल के अलावा यहां पर ब्राउन और ग्रीन चावल का भी सेवन किया जाता है और यह सभी चावल मुक्त होते हैं.

खाना खाने और बनाने का तरीका

जापान में तली हुई चीजें बहुत कम खाई जाती है. यहां के ज्यादातर घरों में भोजन उबालकर या भूनकर बनाया जाता है. भाप से पकने पर भोजन में पोषक तत्व तो रहते ही हैं इसके साथ साथ खाने का स्वाद भी बना रहता है. यहां पर धीमी आंच के ऊपर खाना बनाया जाता है. यहां पर ज्यादातर पकवान सूप वाले होते हैं. यहां पर यहां के खाना खाने वाले बर्तन बहुत छोटे होते हैं. क्योंकि छोटे बर्तन एकदम खाना आता है और इसीलिए यह लोग छोटे बर्तन का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि कम खाना खाने वाला व्यक्ति ज्यादा देर तक एक्टिव रहता है और भूख भी शांत होती है जिससे ऐसे व्यक्ति को कभी भी दिल की बीमारियां नहीं होती.

साफ सफाई

जापान के लोग सफाई पर बहुत ज्यादा ध्यान देते हैं. इसीलिए जापान दुनिया के सबसे साफ सुथरे देशों में से एक है और यहां के लोग जब दूसरे देश में जाते हैं. तो वहां भी साफ सफाई का पूरा ध्यान रखते हैं. इनका मानना है कि साफ सफाई से बीमारियां कम फैलती है. और दिमागी संतुलन बना रहता है. जिससे बिना वजह होने वाली छोटी-छोटी बीमारियों से आसानी से बचा जा सकता है.

Universal Healthcare

जापान के लोग जहां पर अपने खानपान का बहुत ज्यादा ध्यान रखते हैं. वहीं पर यह लोग अपनी सेहत का ध्यान रखने के लिए समय-समय पर हेल्थ चेकअप कराते रहते हैं. यहां के लोग महीने में 1 बार और साल में 12 बार अपना हेल्थ चेकअप कराने के लिए डॉक्टर के पास जाते रहते हैं. और हमारा शरीर सही काम कर रहा है. या नहीं और किस बीमारी के किस तरह के लक्षण होते हैं इन सभी बातों का ध्यान रखना इन लोगों की आदत बन चुकी है.

तो आज हमने आपको इस पोस्ट में जापान के लोगों का रहन सहन जापान की संस्कृति जापान का खान पान जापान का धर्म जापान का इतिहास जापान का रहन सहन जापान का आधुनिकीकरण जापान की जानकारी  से संबंधित  जानकारी बताई है. आज हमने आपको इस पोस्ट में बताया कि किस तरह से जापान के लोग अपनी सेहत का ध्यान रखते हैं. वह किस तरह से वह लंबे समय तक सेहतमंद रहते हैं और किस तरह का खानपान का सेवन करते हैं. इन सभी बातों के बारे में विस्तार से बताया तो यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं.

1 Comment
  1. Puran Mal Meena says

    बहुत ही बढ़िया पोस्ट लिखा है आपने

Leave A Reply

Your email address will not be published.