अवसाद या डिप्रेशन क्या होता है इस से कैसे बचे

अवसाद या डिप्रेशन क्या होता है इस से कैसे बचे

 अवसाद यानी डिप्रेशन यह एक आम वर्ड है. और यह लगभग आज के समय में बहुत ज्यादा लोगों को होता है. क्योंकि इसका मुख्य  जो कारण है. वह मेरे हिसाब से जब हम किसी बात को लेकर बहुत गहराई से सोचने लगते हैं. या कोई टेंशन अपने दिमाग में रखते हैं. या वह किसी भी तरह की टेंशन हमारे दिमाग में लंबे समय तक रह जाती है. वह डिप्रेशन कहलाता है. लेकिन इसका एक कारण तो है. उम्मीद इसका सबसे ज्यादा कारण उम्मीद होती है. जब हम किसी भी आदमी या किसी दूसरी चीज से उम्मीद रखते हैं. या किसी से बहुत ज्यादा उम्मीद रखते हैं. और जब उम्मीद हमारी पूरी नहीं हो पाती है.तो उस चीज के कारण हमारे दिमाग में जो टेंशन होती है. और वो टेंशन अगर लंबे समय तक रहती है वही एक डिप्रेशन बन जाता है.

तो यदि आपको डिप्रेशन से दूर रहना है. तो अपनी उम्मीदें ज्यादा नहीं रखनी चाहिए चाहे कितना भी अच्छा या करीबी हो उससे बहुत ज्यादा उम्मीद कभी नहीं रखनी चाहिए अगर उम्मीद रखनी है. तो आप खुद से रखिए कि मैं कितना अच्छा बन सकता हूं. मैं कितना अच्छा काम कर सकता हूं. मैं कितना पढ़ सकता हूं. मैं कितना खेल सकता हूं. या मैं कितना पैसा कमा सकता हूं. मैं कितना हंस सकता हूं. यह सभी चीजें आप अपने खुद के ऊपर रखिए आप खुद से उम्मीद रखिए और यदि आप दूसरों से उम्मीद रखेंगे तो आपको दिक्कत होगी आप सोचते हैं. कि वह मेरे लिए ऐसा करेगा वह मेरे लिए वैसा करेगा. यह सभी चीजें आप गहराई से मत सोचें.

अवसाद या डिप्रेशन का कारण

आज के समय में सबसे ज्यादा रिलेशनशिप में यह चीजें होती है. बहुत सारे लड़का और लड़की का प्यार में झगडा हो जाता हैं. एक दूसरे को छोड़कर चले जाते हैं. जिसके कारण लड़का या लड़की बहुत ज्यादा दुखी हो जाते हैं. उनको इस बात की बहुत ज्यादा टेंशन रहने लगती है.लेकिन आज के समय में लोगों के पास टाइम कम है और काम ज्यादा है जिसके कारण वह मनोरंजन के लिए अपना टाइम नहीं निकाल पाते हैं और उसके कारण भी हमें ज्यादा डिप्रेशन होने लगती है और कई बार खानपान का भी हमारे दिमाग पर ज्यादा असर पड़ता है क्योंकि पहले फास्ट फूड कम होते थे लेकिन अब फास्ट फूड ज्यादा होते हैं फल फ्रूट खाना कम कर दिया है

कई बार आपने सुना भी होगा कि कोई लड़का या लड़की इस तरह की टेंशन के कारण अपनी जान भी दे देता है. या किसी भी तरह के एग्जाम का रिजल्ट आता है. जब भी इस तरह की टेंशन हो जाती है एग्जाम होता है.उसमें फेल हो जाता है. या बहुत कम नंबर आते हैं. तो भी यह सभी चीजें दिमाग पर बहुत असर डालती .है जिसके कारण लंबे समय तक है. टेंशन होती रहती है. कई लोग बिजनेस में हुए नुकसान के कारण भी बहुत ज्यादा टेंशन रखते हैं. वे चाहते हैं कि यह बात किसी दूसरे को पता नहीं चलनी चाहिए लेकिन इन सभी का मतलब यह नहीं होता है. कि आप अपनी जान दे दें यह सभी चीजें आपकी जान की कीमत से बहुत छोटी होती है.  हम सोचते हैं कि अगर यह बात बाहर में जाएगी तो लोग क्या सोचेंगे लेकिन आप ऐसा मत सोचो क्योंकि आज के समय में कोई भी किसी से कुछ भी बोले लेकिन किसी का किसी से लेना देना नहीं होता है. 

अवसाद या डिप्रेशन बचने के उपाय

अगर कोई कुछ बोलता है. तो आप उसकी तरफ ध्यान ना दें. आप उन चीजों के बारे में सोचें जो आपके लिए अच्छी है. उन लोगों के साथ साथ रहे जिनके साथ आपको रहना अच्छा लगता है. कई बार बहुत कठिन समय आ जाता है तो उसमें लोग सोचने लगते हैं कि अब हमारे पास कुछ नहीं है लेकिन उस समय में आप अपने अच्छे दोस्तों के साथ अपना टाइम बिताएं और ज्यादा से ज्यादा उनके साथ रहे और आप जिस बात से टेंशन ले रहे हैं उनके बारे में अपने दोस्तों को बतानी चाहिए ताकि वह आपको अच्छे से अच्छे सुझाव दे सकें और आपको इसे टेंशन से दूर ले जा सके और उस दौरान आप अपनी पत्नी और बच्चों के साथ भी ज्यादा से ज्यादा टाइम बिताएं और सुबह उठते हैं.

  • आप मॉर्निंग वॉक पर जाएं और योगासन प्रणायाम जैसी चीजें करें. जिससे कि आपका मन खुश रहेगा और आप ज्यादा से ज्यादा खुली हवा में रहे ताकि आपको घुटन महसूस ना हो .
  • यदि आप किसी चीज के बारे में भूलना चाहते हैं और भूल नहीं पा रहे हैं तो आपको उस बात के बारे में अपने दोस्तों से राय जरूर लेनी चाहिए .उसका सलूशन ढूंढना चाहिए .
  • अगर आपको किसी एग्जाम की टेंशन है. तो आप उसके बारे में अपने दोस्तों से राय ले जिसने पहले इस तरह का एग्जाम दिया है. ताकि वह आपको अच्छी तरह से समझा सके और यदि आप के एग्जाम में नंबर कम आते हैं. तो आप टेंशन ना लें क्योंकि आप उस एग्जाम को दोबारा भी दे सकते हैं. इसलिए आप उसकी ज्यादा टेंशन ना लें क्योंकि जिंदगी एक ही बार मौका देती है. लेकिन हम एग्जाम को बार बार दे सकते हैं.
  • आप अपनी लाइफ के साथ कभी कुछ करने की ना सोचे बल्कि .आप उससे टेंशन से लड़ने की कोशिश करें आपको कभी हार नहीं माननी चाहिए.
  • अगर आपको किसी बात की टेंशन रहती है. तो आपको ज्यादा से ज्यादा सोना चाहिए क्योंकि जब आप सोते हैं तो आप उस चीज के बारे में भूल जाते हैं. और उसे दूर चले जाते हैं. इसलिए आपको ज्यादा से ज्यादा नींद की आवश्यकता होती है.
  • डिप्रेशन जैसी समस्या बस कुछ समय पहले ही देखने को मिली है इससे पहले यह समस्या नहीं होती थी.

लेकिन आज के समय में लोगों के पास टाइम कम है. और काम ज्यादा है. जिसके कारण वह मनोरंजन के लिए अपना टाइम नहीं निकाल पाते हैं. और उसके कारण भी हमें ज्यादा डिप्रेशन होने लगती है. और कई बार खानपान का भी हमारे दिमाग पर ज्यादा असर पड़ता है. क्योंकि पहले फास्ट फूड कम होते थे.लेकिन अब फास्ट फूड ज्यादा होते हैं. फल फ्रूट खाना कम कर दिया है. इसलिए.तो आपको इन चीजों से छुटकारा पाने के लिए हर रोज सुबह उठते ही प्राणायाम योगासन है. मॉर्निंग वॉक करनी चाहिए और फास्ट फूड से परहेज करना चाहिए फल सब्जियां खानी चाहिए. और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ टाइम बिताना चाहिए जो कि आपको पसंद हो और आपके अच्छे दोस्त हो.

हमने आपको इस पोस्ट में अवसाद या डिप्रेशन अवसाद या डिप्रेशन क्या होता है इस से कैसे बचे डिप्रेशन का रामबाण इलाज डिप्रेशन मीनिंग डिप्रेशन की दवा डिप्रेशन ट्रीटमेंट डिप्रेशन के लक्षण डिप्रेशन का आयुर्वेदिक इलाज डिप्रेशन की मेडिसिन डिप्रेशन का घरेलू इलाज डिप्रेशन की आयुर्वेदिक दवा डिप्रेशन से छुटकारा के बारे में बताया है . तो यदि आपको यह पोस्ट पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

+